Wednesday, November 9, 2022

भारत की पहली फार्मूला ई रेस का काउंटडाउन शुरू हो चूका है

09 नवंबर 2022, दिल्ली: भारत में पहली एबीबी फार्मूला ई वर्ल्ड चैंपियनशिप हैदराबाद में आयोजित की जाएगी। विश्व की अग्रणी एनर्जी ट्रांज़िशन और डिकार्बनाइज़ेशन समाधान प्रदाता कंपनी ग्रीनको ने इस चैंपियनशिप को समर्थन दिया है।

इस चैंपियनशिप को लेकर फैंस काफी उत्साही हैं, उनकी खुशियों और रोमांच को और अधिक बढ़ाने के लिए 2023 ऐस हैदराबाद ई-प्रिक्स ने आज नई दिल्ली में एक फॉर्मूला ई शो कार का अनावरण करके, 11 फरवरी 2023 तक 100 दिनों का काउंटडाउन शुरू किया है। वर्ष 2023 में भारत पहली बार विश्व चैंपियनशिप का मेज़बान देश बनने जा रहा है, जो 2026 तक जारी रहेगा।

इस अवसर पर भारत के माननीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री, श्री हरदीप पुरी, नीति आयोग के पूर्व सीईओ, श्री अमिताभ कांत, फार्मूला ई के सह-संस्थापक और मुख्य चैम्पियनशिप अधिकारी, श्री अल्बर्टो लोंगो, ऐस नेक्स्ट जनरल के संस्थापक, ग्रीनको ग्रुप के सीईओ और एमडी, श्री अनिल कुमार चलमालसेट्टी और तेलंगाना सरकार के प्रतिनिधि के रूप में स्पेशल चीफ सेक्रेटरी, श्री. अरविंद कुमार आई.ए.एस., एमएएंडयुडी उपस्थित थे।

पिछले आठ सीज़न्स (सालों) में एबीबी फार्मूला ई वर्ल्ड चैंपियनशिप ने दुनिया भर के फैंस को रोमांचित किया है। आज तक दुनिया के 21 शहरों में 100 रेसेस हुए हैं। दुनिया भर में इलेक्ट्रिक वाहनों के विकास, उनके प्रति जागरूकता और उनकी लोकप्रियता को बढ़ावा देने पर इस चैंपियनशिप ने अपना ध्यान केंद्रित किया है। आने वाले सीज़न में फार्मूला ई फैंस को 11 टीमों और 22 ड्राइवर्स को दुनिया के सबसे नाचीं शहरों में नयी जेन3 को रेस करते हुए देखने का मौका मिलेगा, जिनमें भारत में स्थित महिंद्रा समूह की महिंद्रा रेसिंग फार्मूला ई टीम भी शामिल होगी।

मेज़बान शहरों में से एक हैदराबाद में सीज़न 9 की कुल 17 रेसेस में से राउंड 4 जनवरी और जुलाई 2023 में संपन्न होगा। प्रसिद्ध हुसैन सागर झील के आसपास सिटी सर्किट पर इलेक्ट्रिक जेन3 फार्मूला ई कारों को रेस करते हुए देखना अपने आप में एक बहुत बड़ा, रोमांचित कर देने वाला अनुभव होगा।

तेलंगाना सरकार के सूचना प्रौद्योगिकी, नगरपालिका प्रशासन और नगरीय विकास विभाग के माननीय मंत्री श्री. के. टी रामाराव ने हैदराबाद से कहा, "शहर में संपन्न होने जा रही फार्मूला ई चैंपियनशिप के लिए दुनिया भर के रेसिंग फैंस का स्वागत करना हमारे लिए सम्मान की बात होगी। दुनिया के 13 शहरों में यह रेसेस जहां होने जा रही हैं और उनमें से एक हैदराबाद है, इसका हमें गर्व है। हमें ख़ुशी है कि पर्यावरणपूरक प्रथाओं को अपनाकर जागरूकता और क्षेत्र में ज़्यादा से ज़्यादा इलेक्ट्रिक वेहिकल्स अपनाए जाने को बढ़ावा देना भी इस चैंपियनशिप का एक उद्देश्य है।"       

फार्मूला ई के सह-संस्थापक और चीफ चैंपियनशिप ऑफिसर श्री. अल्बर्टो लोंगो ने कहा, "भारत में पहली बार एबीबी एफआईए फार्मूला ई वर्ल्ड चैंपियनशिप का आयोजन होने जा रहा है और इसके उपलक्ष्य में हम हमारी यहां के नए फैंस के लिए नयी जेन3 कार प्रस्तुत कर रहे हैं, इस बात से हम बहुत खुश हैं। हम काफी समय से यहां आना चाह रहे थे और अब 11 फरवरी को हैदराबाद में रेसिंग की शुरूआत को लेकर हम काफी ज़्यादा उत्सुक हैं।

भारत में फार्मूला ई फैन बेस काफी बड़ा हैजो लगातार बढ़ रहा है, और यह सभी फैंस फार्मूला ई को लेकर काफी ज़्यादा रोमांचित हैं। महिंद्रा रेसिंग इसमें शामिल हो रही हैअपनी स्थानीय टीम को समर्थन देने की ख़ुशी यहां के फैंस को मिलेगी। भारत के प्रमुख टेक्नोलॉजिकल हब हैदराबाद इस रेसिंग के लिए परफेक्ट लोकेशन रहेगा, हाई-परफॉर्मेंस रेसिंग और आधुनिकतम इनोवेशन के लिए ही नहीं बल्कि जलवायु परिवर्तन के बुरे परिणामों के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए भी हैदराबाद सही स्थान साबित होगा। साथ ही जलवायु की समस्याओं के एक समाधान के रूप में इलेक्ट्रिक वेहिकल्स का विकास और स्वीकार महत्वपूर्ण है इस बात को ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंचाने की दृष्टि से भी हैदराबाद एक सही स्थान साबित होगा।"

एस नेक्स्ट जेन के संस्थापक और ग्रीनको के सीईओ और एमडी, श्री. अनिल कुमार चालमलासेट्टी ने कहा,हम तेलंगाना सरकार के साथ साझेदारी और भारत सरकार के समर्थन के साथ, दुनिया भर में पसंदीदा खेल और भारत की पहली फॉर्मूला ई रेस की मेजबानी करने को लेकर उत्साहित हैं। हम जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने और दुनिया भर में डीकार्बोनाइजेशन को बढ़ावा देने के लिए प्रौद्योगिकियों के एक विश्वसनीय, टिकाऊ स्रोत के रूप में देश को सक्षम बनाने के माननीय प्रधान मंत्री श्री मोदी जी के  साहसी दृष्टिकोण का समर्थन करते हैं। एक हैदराबादी होने के नाते, मुझे खुशी है कि दुनिया के सबसे हरे भरे शहरों में से एक, मेरा शहर, माननीय मंत्री श्री. के टी रामाराव के गतिशील नेतृत्व में इस हरित दौड़ की मेज़बानी करेगा। पहली नेट ज़ीरो कार्बन रेस के लिए अब सिर्फ 100 दिन बचे हैं, हम पूरा प्रयास करेंगे कि भारत स्थिरता और डीकार्बोनाइजेशन के भविष्य का नेतृत्व करता रहें।”

"वर्ल्ड ग्रीन सिटी अवार्ड 2022" पुरस्कार से सम्मानित शहर हैदराबाद, भारत में सबसे बड़ा टेक हब बनने के अपने प्रयासों में नवाचार पर सबसे ज़्यादा ध्यान केंद्रित करता है। फॉर्मूला ई शुरुआत से ही दुनिया का एकमात्र प्रमाणित नेट ज़ीरो कार्बन खेल है, और हैदराबाद ई-प्रिक्स भारत की पहली नेट ज़ीरो मोटरस्पोर्ट चैंपियनशिप है। खेल के ज़रिए, फॉर्मूला ई एक शक्तिशाली और सार्थक संदेश देता है, जो धारणाओं को बदलने में मदद करता है और इलेक्ट्रिक, कम कार्बन भविष्य के लिए आवश्यक नई प्रौद्योगिकियों के विकास को आगे बढ़ाने के लिए इलेक्ट्रिक मोबिलिटी को अपनाने की प्रक्रिया को तेज़ करता है। एस नेक्स्ट जेन अपने मूल दृष्टिकोण के एक हिस्से के रूप में जलवायु परिवर्तन को रोकने प्रयासों को सफल बनाने और अभिनव समाधानों के माध्यम से नेट जीरो लक्ष्यों को प्राप्त करने के अपने प्रयासों को तेज़ कर रहा है। दुनिया का पसंदीदा खेल फॉर्मूला ई तेलंगाना सरकार के साथ साझेदारी में, ग्रीनको के समर्थन के साथ, भारत में आ रहा है।

No comments:

Post a Comment

मंगलयान और चंद्रयान ने दिखाए बच्चों को अंतरिक्ष तक पहुंचने के सपने

-जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में हुआ तीन दिवसीय इसरो एग्जिबिशन का समापन - प्रिंसिपल मीट का हुआ आयोजन  जयपुर। जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में तीन दिवसीय ...