Sunday, November 20, 2022

इकिगाई, जेईसीआरसी, के दूसरे संस्करण की शुरुआत


 "जीतने की इच्छा से अधिक शक्तिशाली आरंभ करने का साहस है" - डा० पदमा बंधोपाध्याय/ हम सक्षम हैं क्यों मानें काम है।

जयपुर। " इकिगाई से जुड़ने से पहले मैं लोगों से बात करने से पहले दस बार सोचती थीं पर इकिगाई ने मुझे इस काबिल बनाया हैं की आज मैं आप सब के बीच पूरे आत्मविश्वास से बात कर पा रही हूं " यह कहना था इकिगाई की पहली संस्करण से जुड़ी एमबीए की छात्रा नेहा का, और इकिगाई ने अपने एक साल के इस सफर में नेहा जैसे कई युवाओं को आत्मविश्वास और अंतर्मन की खुशी से जुड़े जीवन के विभिन्न पहलुओं से अवगत कराया है।

इकिगाई : बेसिक्स ऑफ बीइंग ए स्मार्ट ह्यूमन, जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी की एक पहल हैं जो छात्रों के विकास के बीच आने वाली मनोवैज्ञानिक, शारीरिक और भावनात्मक बाधाओं को दूर करने और उनकी समग्र व्यक्तिगत जरूरतों को पूरा करने की दिशा में काम करती है। यह छात्रों के व्यक्तित्व पर ध्यान केंद्रित करता है ताकि उन्हें न केवल अपने पेशेवर बल्कि व्यक्तिगत जीवन में अपने परिवेश को अपनाने और स्वीकार करने के लिए आवश्यक एक्सपोजर दिया जा सके।

इकिगाई के दूसरे संस्करण के ओरियंटेशन के दौरान मुख्य अतिथि और वक्ता रही भारत की पहली महिला एयर मार्शल और पदमश्री डा० पदमा बंधोपाध्याय।

अपने संबोधन में उन्होंने अपने जीवन के संघर्ष और अनुभवों से छात्रों को रूबरू कराया l उन्होंने बताया की कैसे उन्होंने आर्टिक की रूह जमा देने वाली ठंड में भी पूरे जोश और जुनून के साथ एयरोस्पेस मेडिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया के लिए अपनी रिसर्च पूरी की। कार्यक्रम के अंतिम भाग में छात्रों को डा० पदमा बंधोपाध्याय से सवाल पूछने का अवसर भी प्राप्त हुआ। कार्यक्रम के दौरान विक्टर गंभीर, प्रेसीडेंट,जेईसीआरसी युनिवर्सिटी के साथ धीमांत अग्रवाल, डिजिटल स्ट्रेटेजिक हेड, जेईसीआरसी और अमित अग्रवाल, वाइस चेयरपर्सन, जेईसीआरसी भी मौजूद रहे।

छात्रों के लिए ऐसी बहुआयामी और महान व्यक्तित्व के सानिध्य में प्रेरित और प्रोत्साहित होना एक स्वर्णिम अनुभव रहा।

No comments:

Post a Comment

मंगलयान और चंद्रयान ने दिखाए बच्चों को अंतरिक्ष तक पहुंचने के सपने

-जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में हुआ तीन दिवसीय इसरो एग्जिबिशन का समापन - प्रिंसिपल मीट का हुआ आयोजन  जयपुर। जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में तीन दिवसीय ...