Wednesday, November 30, 2022

भारतीय फूड-टेक वेंचर प्लक ने अक्टूबर 2022 में अर्जित किया 5 मिलियन अमेरिकी डॉलर का रेवेन्यू

मुंबई, 30 नवंबर, 2022- फ्रुवेगी टेक प्राइवेट लिमिटेड के स्वामित्व वाला एक फ्रेश प्रोड्यूस फूड -टेक वेंचर प्लक ने जनवरी 2022 में लॉन्च होने के बाद से बहुत कम समय में 5 मिलियन अमेरिकी डॉलर का रिकॉर्ड राजस्व अर्जित किया है, जिससे यह फलों और सब्जियों की श्रेणी में सबसे तेजी से बढ़ने वाली डी2सी कंपनियों में से एक बन गया है। हालिया राजस्व वृद्धि अप्रैल में प्लक ऐप के लॉन्च के बाद दर्ज की गई, जिसने केवल 3 महीनों में एक लाख डाउनलोड के साथ इसकी शानदार वृद्धि में योगदान दिया।

कंपनी ने दिल्ली एनसीआर में अपने विस्तार की भी घोषणा की, जहां गुरुग्राम में पायलट प्रोजेक्ट पहले ही शुरू हो चुका है। कंपनी की भविष्य की योजनाओं में वित्त वर्ष 23-24 के अंत तक पुणे और हैदराबाद में विस्तार करना भी शामिल है।

इस नए स्टार्ट-अप ने एमेजॉन, ड्यून्जो, रिलायंस, स्विगी और जेप्टो जैसे प्रमुख ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के साथ भी टाई-अप किया है और इस तरह विकास की राह पर तेजी से अपने कदम बढ़ाए।

प्लक वर्तमान में 1 लाख से अधिक ग्राहकों की संख्या को पार कर चुका है। यह 1000 से अधिक किसानों के नेटवर्क के साथ काम करता है और 250 से ज्यादा उत्पादों के तैयार भोजन किट प्रदान करता है। कंपनी की अगले 12 से 18 महीनों में धन जुटाने और नए भौगोलिक क्षेत्रों में प्रवेश करने की योजना है।

प्लक के सीईओ और को-फाउंडर श्री प्रतीक गुप्ता कहते हैं, ‘‘शहरी भारतीय मोबाइल उपभोक्ता आज जो कुछ भी उपभोग करते हैं उसमें वे स्वास्थ्य और जीवन शैली से जुड़े फायदों पर भी नजर रखते  हैं। ऑनलाइन ताजा उत्पाद का लगभग एक तिहाई बाजार अगले 5 वर्षों में जीवन शैली से संबंधित ब्रांडों द्वारा संचालित होने वाला है। प्लक में हमने इस तेजी से बढ़ते स्पेस को पहचाना और ग्राहकों को उच्चतम गुणवत्ता वाले ताजा भोजन से संबंधित विकल्प प्रदान करने का लक्ष्य रखा है। ये ऐसे विकल्प हैं जो उनकी जीवन शैली की जरूरतों को पूरा करेंगे। हम अपने संचालन के केवल नौ महीनों में 1 मिलियन अमेरिकी डॉलर से शुरुआत करते हुए 5 मिलियन तक पहुंच गए हैं और इस शानदार कामयाबी को देखकर हम बेहद खुश हैं।’’

प्लक की सबसे बड़ी विशेषताओं में शामिल हैं- ग्राहकों को उच्चतम गुणवत्ता - सुरक्षित, स्वच्छ, ओजोन से धोए गए, ट्रेस करने योग्य, साफ-सुथरे रूप से उगाए गए फार्म के ऐसे ताजा भोजन विकल्प प्रदान करना, जो जीवन शैली की जरूरतों को पूरा करते हैं।

कंपनी ने हाल ही में एक्सपोनेंटिया वेंचर्स से 5 मिलियन अमेरिकी डॉलर की सीड कैपिटल फंडिंग जुटाई है। फलों और सब्जियों की श्रेणी में वन-स्टॉप विशिष्ट ब्रांड के रूप में खुद को स्थापित करके कंपनी ने इस पूंजी का अच्छा उपयोग किया है।

प्लक ऐसे भोजन विकल्प पेश कर रहा है, जिन्हें दुनियाभर में लोग पसंद कर रहे हैं और जो वर्तमान में चलन में हैं। इनमें वीगन से लेकर कार्ब अल्टरनेटिव और समग्र स्वास्थ्य को और बेहतर बनाने वाली सामग्री शामिल है। यह प्लेटफॉर्म नई और अनूठी श्रेणियों की पेशकश करता है, जो इसे फल और सब्जियों के लिए सबसे विश्वसनीय गंतव्य बनाता है, जिसमें मील किट, लो कार्ब मील रिप्लेसमेंट, कट्स, सलाद, हाइड्रोपोनिक, ऑर्गेनिक, स्टफ्ड आदि शामिल हैं।

'सिबिल फॉर एवरीवन इंडियन' रिपोर्ट: भारतीय उपभोक्ताओं के बीच बेहतर क्रेडिट जागरूकता का संकेत देती है

मुंबई, 30 नवंबर, 2022- ट्रांसयूनियन सिबिल की आज जारी की गई "सिबिल फॉर एवरी इंडियन" टाइटल से प्रकाशित एक नई रिपोर्ट भारतीय उपभोक्ताओं की स्व-निगरानी द्वारा क्रेडिट व्यवहार को ले कर एक व्यापक अंतर्दृष्टि प्रदान करती है, जिसमें यह भी शामिल है कि कितने उपभोक्ता अपने क्रेडिट प्रोफाइल की निगरानी कर रहे हैं. अक्टूबर 2021 और सितंबर 2022 के बीच, पहली बार 83% की वृद्धि हुई है. चूंकि ट्रांसयूनियन सिबिल ने 2009 में अपनी डायरेक्ट-टू-कंज्यूमर सेवा शुरू की थी, तब से अब तक 61.1 मिलियन उपभोक्ताओं ने अपनी स्वयं की क्रेडिट प्रोफ़ाइल की स्व-निगरानी की है. इससे यह भी पता चलता है कि 23.8 मिलियन उपभोक्ता स्व-निगरानी के लिए पंजीकृत हैं. अक्टूबर 2021 और सितंबर 2022 के बीच पहली बार, और इस वृद्धि का 71% (16.8 मिलियन उपभोक्ताओं का प्रतिनिधित्व) पहली बार पंजीकरण कराने वाले गैर-मेट्रो शहरों से आया है.  

रिपोर्ट के निष्कर्षों पर टिप्पणी करते हुए, ट्रांसयूनियन सिबिल के प्रबंध निदेशक और सीईओ, श्री राजेश कुमार ने कहा, "61.1 मिलियन से अधिक स्व-निगरानी1 करने वाले उपभोक्ताओं के साथ, हम देख सकते हैं कि भारतीय अपने स्वयं की निगरानी में अधिक सक्रिय भूमिका निभाने लगे हैं. क्रेडिट जानकारी और उनके क्रेडिट स्वास्थ्य को समझना उनके लिए महत्वपूर्ण होता जा रहा है. डिजिटलीकरण, स्मार्टफोन और अर्ध-शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में इंटरनेट की पैठ ने ऋण तक पहुंच में तेजी से सुधार किया है.

श्री कुमार ने आगे बताया कि "अंतिम उपभोक्ता इस विकास का सबसे बड़ा लाभार्थी है क्योंकि शक्ति उनके पास स्थानांतरित हो रही है. अब वित्तीय पारिस्थितिकी तंत्र में प्रतिस्पर्धी शर्तों पर कई वित्तीय अवसरों का उपयोग करने में सक्षम हैं. उपभोक्ता जागरूकता में सुधार बाजार के लिए अच्छा है क्योंकि यह उधारदाताओं द्वारा ऋण उत्पादों और सेवाओं के प्रतिस्पर्धी मूल्य निर्धारण को उत्प्रेरित करता है, अंतिम उपभोक्ताओं के लिए किफायती ऋण अवसरों तक पहुंच और अर्थव्यवस्था में वित्तीय समावेशन लाता है. 

रिपोर्ट से पता चलता है कि भारतीयों द्वारा अपने क्रेडिट की निगरानी करने के तरीकों में उल्लेखनीय सुधार हुआ है, विशेष रूप से गैर-मेट्रो शहरों  में जो अक्टूबर 2021 और सितंबर 2022 के बीच न्यू-टू-क्रेडिट4 उपभोक्ताओं की कुल संख्या का 76% से अधिक के लिए जिम्मेदार हैं.

ट्रांसयूनियन सिबिल डेटा युवा उपभोक्ताओं द्वारा संचालित सकारात्मक परिणाम भी दिखाता है. पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में अक्टूबर 2021 और सितंबर 2022 के बीच अपने क्रेडिट की निगरानी करने वाले जेन जेड उपभोक्ताओं में 2.9गुना वृद्धि हुई है. यह एक संकेत है कि अधिक भारतीय न केवल समझ रहे हैं क्रेडिट प्रबंधन करना बेहतर है, बल्कि वे कम उम्र में इसका उपयोग कर रहे हैं.

क्रेडिट जागरूकता सीधे क्रेडिट अनुशासन के समानुपाती होती है

रिपोर्ट में पाया गया है कि उपभोक्ता अधिक क्रेडिट जागरूक हो रहे हैं. परिणाम दिखाते हैं कि लगभग 47% ने अपने सिबिल स्कोर और रिपोर्ट की जांच के छह महीने के भीतर अपने क्रेडिट प्रोफाइल (सिबिल स्कोर) में सुधार किया है. निगरानी न करने वाले उपभोक्ताओं के केवल 6.2% की तुलना में पैंतीस प्रतिशत स्व-निगरानी उपभोक्ताओं ने निगरानी के तीन महीने के भीतर एक नई क्रेडिट लाइन खोली.

रिपोर्ट यह भी बताती है कि अपने स्कोर की जांच के तीन महीने के भीतर, 46% उपभोक्ताओं ने नए क्रेडिट के लिए आवेदन किया और 36% ने एक नई क्रेडिट लाइन खोली. इससे पता चलता है कि उपभोक्ताओं द्वारा अपने स्कोर की निगरानी और खरीदारी करने के इरादे के बीच एक संबंध है, उन उपभोक्ताओं के साथ जो अपने स्कोर का उपयोग कम ब्याज दरों, बेहतर ऑफ़र या उच्च क्रेडिट राशि का लाभ उठाने के लिए करते हैं. निगरानी के तीन महीनों के भीतर खोले गए नए खातों में से 49% व्यक्तिगत ऋण थे, 14% उपभोक्ता ऋण थे, 9% स्वर्ण ऋण थे और 9% क्रेडिट कार्ड थे.

2022 में 71% की साल-दर-साल उपभोक्ता वृद्धि के साथ गैर-महानगर बढ़ते क्रेडिट-सक्रिय बाजारों के रूप में उभर रहे हैं.

बढ़ी हुई क्रेडिट-सचेतता की प्रवृत्ति को प्रदर्शित करते हुए, रिपोर्ट में कहा गया है कि अक्टूबर 2021 और सितंबर 2022 के बीच 730+ के सिबिल स्कोर 5 (प्राइम और ऊपर माना जाता है) के साथ नए पंजीकृत स्व-निगरानी उपभोक्ताओं में से 69% गैर-महानगरों से थे. रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि भारत में पिछले चार वर्षों में अधिकांश न्यू-टू-क्रेडिट उपभोक्ता गैर-महानगरों से आए हैं. अक्टूबर 2021 और सितंबर 2022 के बीच कुल स्व-निगरानी वाले न्यू-टू-क्रेडिट उपभोक्ताओं के 76% से अधिक इन क्षेत्रों में हैं.

गैर-मेट्रो शहरों की महिला उधारकर्ताओं की स्व-निगरानी भारतीय ऋण परिदृश्य को तेजी से प्रभावित कर रही है.

भारत में उपभोक्ता ऋण बाजार विकसित हो रहा है क्योंकि अधिक से अधिक महिला उधारकर्ता अपने ऋण स्वास्थ्य पर ध्यान दे रही है. अक्टूबर 2021 और सितंबर 2022 के बीच, पिछले 12 महीनों की तुलना में स्व-निगरानी करने वाली महिलाओं की संख्या में 88% की वृद्धि देखी गई. अक्टूबर 2020से सितंबर 2021 की तुलना में रिपोर्ट में अक्टूबर 2021 और सितंबर 2022 के बीच 730+ के स्कोर के साथ स्वयं-निगरानी करने वाली महिला उपभोक्ताओं की संख्या में 2.2 गुना वृद्धि पर प्रकाश डाला गया है:

  • अक्टूबर2021 और सितंबर 2022 के बीच जिन महिला उपभोक्ताओं ने अपनी खुद की प्रोफ़ाइल की निगरानी शुरू की, उनमें से 62% गैर-मेट्रो शहरों से थीं.
  • अक्टूबर2021 और सितंबर 2022 के बीच जेन जेड सेल्फ-मॉनिटरिंग महिलाओं ने 3.4 गुना वृद्धि के साथ पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में भारी वृद्धि दिखाई है.

युवा भारतीय सतर्क कर्जदार के रूप में उभर रहे हैं

जेन जेड उपभोक्ताओं ने पिछले कुछ वर्षों में अपने स्व-निगरानी व्यवहार में महत्वपूर्ण वृद्धि दिखाई है, जो अक्टूबर 2021 और सितंबर 2022 के बीच 29% नए स्व-निगरानी उपभोक्ता का प्रतिनिधित्व करते हैं. रिपोर्ट से पता चलता है कि लगभग 23.8 मिलियन मिलेनियल्स3 ने इस अवधि में अपने क्रेडिट प्रोफाइल की निगरानी करना शुरू किया, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 83% की वृद्धि:

  • अक्टूबर2021 और सितंबर 2022 के बीच सक्रिय रूप से अपने क्रेडिट प्रोफाइल की निगरानी करने वाले जेन जेड उपभोक्ताओं में 2.9 गुना वृद्धि हुई
  • अक्टूबर2021 और सितंबर 2022 के बीच, मिलेनियल्स2 और जेन जेड3 मिलकर 94% नए-टू-क्रेडिट उपभोक्ताओं का गठन करते हैं.

श्री कुमार ने निष्कर्ष निकाला कि, "हमारी रिपोर्ट की अंतर्दृष्टि से पता चलता है कि गैर-मेट्रो भौगोलिक क्षेत्रों से उभरते युवा और महिला उपभोक्ता क्रेडिट जागरूकता में वृद्धि का प्रदर्शन कर रहे हैं. इस उपभोक्ता खंड के लिए ऋण के अवसरों तक पहुंच प्रदान करना भारत की अर्थव्यवस्था के उपभोग आधारित विकास को आगे बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण होगा,"

1 स्व-निगरानी करने वाले उपभोक्ता वे उपयोगकर्ता होते हैं जिन्होंने ट्रांसयूनियन सिबिल के साथ कम से कम एक बार अपने सिबिल स्कोर और रिपोर्ट की सक्रिय रूप से जांच की है.

2जेन जेड 1997 से 2012 के बीच पैदा हुए उपभोक्ता हैं.

3 मिलेनियल 1981 से 1996 के बीच पैदा हुए उपभोक्ता हैं.

4 न्यू-टू-क्रेडिट - क्रेडिट विंटेज 6 महीने तक

5सिबिल स्कोर 300-900 के बीच होता है. स्कोर स्तर हैं: सबप्राइम = 300-680, प्राइम के पास = 681-730, प्राइम = 731-770, प्राइम प्लस = 771-790, और सुपर प्राइम = 791-900

मलेरिया के खिलाफ युद्ध जीतने के लिए केंद्रित रणनीतियां आवश्यक

भारत ने मलेरिया के खिलाफ अपनी लड़ाई में सहयोगपूर्ण साझेदारी और समर्पित प्रयासों के माध्यम से जमीनी स्तर से शुरुआत करते हुए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के आंकड़ों से पता चलता है कि पूरे भारत में मलेरिया से होने वाली मौतों में उल्लेखनीय कमी आई है, जो 2001 में 1,005 से घटकर 2017 में 194 और अंत में 2021 में 80 हो गई है।

यद्यपि इस दिशा में कई सफलताएं हासिल हुई हैं और इसके मामलों की संख्या एवं मृत्यु दर में भारी गिरावट आई है, लेकिन अभी भी ऐसे कई कारक बने हुए हैं जिनको लेकर तेजी कदम उठाए जाने आवश्यक हैं ताकि हम इस बीमारी को जड़ से मिटा सकें।

उदाहरण के तौर पर, विश्व मलेरिया रिपोर्ट 2021 के आंकड़ों को लेते हैं। रिपोर्ट बताती है कि कोविड-19 महामारी की शुरुआत के बाद मलेरिया के मामलों में गिरावट की दर धीमी हो गई। इसके अलावा, हमने इस बीमारी से निपटने में स्पष्ट प्रगति की है, इसके बावजूद दक्षिण पूर्व एशिया के मलेरिया के बोझ का 80 प्रतिशत से अधिक अभी भी भारत के हिस्से में है।

शोध ने मलेरिया में 10 प्रतिशत की कमी को सकल घरेलू उत्पाद में 0.3 प्रतिशत की वृद्धि के साथ जोड़ा है, जबकि इसने भारत की अर्थव्यवस्था पर 1.9 अरब डॉलर का बोझ डाला है। इसमें से अधिकांश के लिए कमाई का जरिया समाप्त हो जाना (75 प्रतिशत) और उपचार का खर्च (24 प्रतिशत) जिम्मेदार है।

एक ऐसा क्षेत्र है जिस पर हमारे लिए ध्यान देना आवश्यक है और वो है - स्थानीय जरूरतों और सांस्कृतिक मानदंडों के अनुरूप हमारी मलेरिया रोकथाम प्रतिक्रिया को तैयार करना।

उदाहरण के लिए, लॉन्ग लास्टिंग इंसेक्टाइडल नेट्स (एलएलआईएन) के वितरण को लें। एलएलआईएन उत्कृष्ट निवारक उपाय है जो सस्ता और उपयोग में आसान है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी आमतौर पर पांच लोगों के औसत परिवार के लिए दो - तीन नेट्स वितरित करते हैं।

हालांकि, ज्यादातर घरों में, मर्द बिस्तर पर अक्सर अकेले सोते हैं (अगर बिस्तर उपलब्ध हो)। महिलाएं प्रायः सबसे छोटे बच्चे को पास लेकर सोती हैं और अन्य बच्चे एक साथ सोते हैं - किशोर उम्र के भाई बहन इसके अपवाद हैं जो साथ नहीं सोते। यदि आप इन मामूली लेकिन महत्वपूर्ण बातों पर विचार करते हैं, तो इस तरह के वातावरण में पांच लोगों के परिवार के लिए आवश्यक एलएलआईएन की संख्या कम से कम चार से पांच होगी, जबकि प्रचलित रूप से दो या तीन नेट वितरित किए गए थे।

राज्य प्रशासन के लिए एक और समस्या मुख्य रूप से मलेरिया और अन्य वेक्टर - जनित बीमारियों के खिलाफ काम करने वाले कार्मिकों के विनिर्दिष्ट दल की कमी है। मलेरिया के मामलों पर नज़र रखने और संबंधित परिवारों को प्राथमिक दवाएं एवं मार्गदर्शन प्रदान करने की जिम्मेदारी आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं पर है जो प्रायः सामाजिक-आर्थिक दबावों के कारण बार-बार आने वाले बुखार और अन्य लक्षणों से निपटने के लिए सुप्रशिक्षित नहीं हैं।

यह जगजाहिर है कि आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं पर जितना कार्यों का दबाव है उन्हें मिलने वाला पारिश्रमिक उसके अनुरूप नगण्य है। मलेरिया जागरूकता और रोकथाम के अलावा, आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पोषण अभियान, मिशन इंद्रधनुष आदि जैसे अन्य कार्यक्रमों को भी निष्पादित कर रही हैं। इसलिए, मलेरिया और अन्य वेक्टर रोगों के खिलाफ मुख्य रूप से काम करने वाले चिकित्सा अधिकारियों/प्रतिक्रियादाताओं की एक पंक्ति महत्वपूर्ण है। प्रतिनियुक्त बिहैवरल चेंज कम्यूनिकेशन फैसिलिटेटर्स ने आशा कार्यकर्ताओं के बोझ को कम करने में मदद की और यहां तक कि उन्हें मामलों के लिए जागरूकता बढ़ाने और जाँच करने के लिए कौशल प्रदान किया।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मलेरिया की रोकथाम जागरूकता के साथ शुरू होती है। मलेरिया के जोखिम से बचने के लिए न केवल सावधानियों के बारे में अधिक जागरूकता की आवश्यकता है, बल्कि इसके प्रमुख लक्षण और इसका इलाज कैसे करें, यह जानना भी ज़रूरी होता है। जबकि सरकार काफी समय से विभिन्न प्लेटफार्मों के माध्यम से जागरूकता पैदा करने की कोशिश कर रही है, लेकिन इसमें अन्य उपायों को शामिल करने की आवश्यकता है। गोदरेज जैसी कुछ कंपनियों ने भारत के राज्य स्वास्थ्य विभागों द्वारा वर्तमान में उपयोग किए जाने वाले मलेरिया उपचार के लिए ऐप तैयार किया है। ये ऐप एंड्रॉयड और आईओएस पर स्थानीय भाषाओं में भी उपलब्ध हैं।

उदाहरण के लिए, गोदरेज ऐप मलेरिया के विभिन्न प्रकारों, अर्थात् प्लाज्मोडियम फाल्सीपेरम, प्लाज्मोडियम विवैक्स, या दोनों का हाइब्रिड संयोजन के बारे में जानकारी प्रदान करता है। आगे, यह पंक्ति और शक्ति निर्धारित करने के लिए रोगी की उम्र के अनुसार उपचार को वर्गीकृत करता है।

फैमिली हेल्थ इंडिया जैसे कुछ गैर सरकारी संगठनों ने मलेरिया - इसके प्रकार, लक्षण, रोकथाम, उपचार और स्वच्छता युक्तियाँ के बारे में लिखित सामग्रियों का विशाल, विस्तृत संग्रह संकलित किया है - जो हिंदी और गोंडी एवं हलबी जैसी स्थानीय भाषाओं में भी उपलब्ध है। हमारे सभी स्रोत व्यापक रूप से जनता और नागरिक अधिकारियों द्वारा उपयोग के लिए नि: शुल्क हैं।

राज्य के स्वास्थ्य विभाग, जिला कलेक्टर, मुख्य चिकित्सा अधिकारी और पंचायत के लोग अपने - अपने क्षेत्र में मलेरिया उन्मूलन के लिए काम कर रहे हैं।

कुछ सफल आरंभिक परिणामों ने छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश के राज्य विभागों को कॉर्पोरेट क्षेत्र के साथ साझेदारी में अपने राज्यों में मॉडल को दोहराने के लिए जुड़ने हेतु प्रेरित किया। गोदरेज जैसे बड़े समूह ने चार शहरों - भोपाल, ग्वालियर, लखनऊ और कानपुर में डेंगू जैसी वेक्टर जनित बीमारियों से निपटने पर केंद्रित समर्पित कार्यक्रम शुरू करने के लिए अपने दायरे का विस्तार किया है। वेक्टर जनित रोगों और उनके उपचार के तकनीकी ज्ञान को बढ़ावा देने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं।

2030 तक पूर्ण मलेरिया उन्मूलन के इस अभियान में अन्य कंपनियों और व्यवसायों को शामिल होने की आवश्यकता है।

स्वास्थ्य मापदंडों में सुधार, और स्वास्थ्य सेवाओं की सुलभता एक साझा जिम्मेदारी है। किसी भी सामाजिक मुद्दे की तरह – राजनीतिक इच्छाशक्ति और सफलता के लिए हर किसी को साथ लेने का का संकल्प महत्वपूर्ण है।

साथ मिलकर, हम इसे वास्तविक रूप देने के लिए कार्यक्रम की पहुंच और प्रभाव को बढ़ा सकते हैं।

द्वारा गायत्री दिवेचा, हेड - गुड एंड ग्रीन, गोदरेज इंडस्ट्रीज लिमिटेड एंड एसोसिएट कंपनीज

स्टार हेल्थ ने नई स्टार आउट पेशेंट केयर इंश्योरेंस पॉलिसी लॉन्च की

भारत, 30 नवंबर, 2022: भारत की पहली स्टैंडअलोन स्वास्थ्य बीमा कंपनी, स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड ने हाल ही में नई स्टार आउट पेशेंट केयर इंश्योरेंस पॉलिसी लॉन्च की है। इस पॉलिसी का उद्देश्य पूरी तरह से डिजिटल क्लेम प्रोसेसिंग प्रक्रिया के साथ ग्राहकों को किफायती कीमत पर संपूर्ण स्वास्थ्य और कल्याण लाभ प्रदान करना है।

आज भारत में स्वास्थ्य देखभाल से जुड़े सभी खर्चों का 60% से अधिक आउट पेशेंट पर चला जाता है जिसमें डॉक्टर परामर्श शुल्क, दवाओं के बिल और लैब टेस्ट शामिल हैं। लेकिन अधिकांश स्वास्थ्य बीमा उत्पाद केवल रोगी के अस्पताल में भर्ती होने से संबंधित खर्चों को कवर करते हैं, जिससे ग्राहक और उसके परिवार को उनके दैनिक स्वास्थ्य देखभाल खर्च का वहन स्वयं करना पड़ जाता है। हेल्थ कवर के इसी अंतर को दूर करने के लिए स्टार आउट पेशेंट केयर इंश्योरेंस पॉलिसी शुरू की गई।

स्टार आउट पेशेंट केयर इंश्योरेंस पॉलिसी एक स्टैंडअलोन कवर है जिसका उद्देश्य पूरे भारत में सर्वश्रेष्ठ डॉक्टर, क्लीनिक और डायग्नोस्टिक केंद्रों की सुविधा उपलब्ध कराकर ग्राहकों के स्वास्थ्य का संपूर्ण रूप से ख्याल रखना है। इसे खरीद लेने के बाद, ग्राहक नेटवर्क में शामिल किसी भी फैसिलिटी में कैशलेस आधार पर असीमित वर्चुअल टेली-कंसल्टेशन, असीमित इन-क्लिनिक परामर्श, फार्मेसी खर्च और नैदानिक परीक्षण का लाभ उठा सकते हैं।

ग्राहक व्यक्तिगत या फ्लोटर आधार पर पॉलिसी खरीद सकते हैं जिसमें परिवार के अधिकतम 6 सदस्य कवर हो सकते हैं। वयस्कों के लिए न्यूनतम प्रवेश आयु 18 वर्ष से 50 वर्ष के बीच और आश्रित बच्चों के लिए 31 दिन से 25 वर्ष तक है।

पॉलिसी के बारे में बताते हुए, स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक, श्री विकास शर्मा ने कहा, चिकित्सा मुद्रास्फीति ने सभी उपचारों की लागत बढ़ा दी है। आज, परामर्श शुल्क, दवा बिल और डायग्नोस्टिक टेस्ट जैसे आउट पेशेंट देखभाल के खर्चे बहुत अधिक बढ़ गये हैं। ज्यादातर मामलों में, ये आवश्यक उपचार होते हैं जिन्हें कोई भी व्यक्ति नजरंदाज नहीं कर सकता है। एक समय के बाद, ये खर्चे लोगों के लिए भारी बोझ बन जाते हैं। स्टार आउट पेशेंट केयर इंश्योरेंस पॉलिसी का उद्देश्य आउट पेशेंट खर्चों के लिए बहुत जरूरी स्वास्थ्य कवर प्रदान करके समाज के हर वर्ग की आवश्यकताएं पूरी करना है।"

ग्राहक 1 वर्ष की पॉलिसी अवधि के लिए 25,000/- रुपये 50,000/- रुपये, 75,000 रुपये और 1,00,000/- रुपये का कवर प्रदान करने वाले किसी भी उपलब्ध बीमा राशि (एसआई) विकल्प का चुनाव कर सकते हैं।

यह पॉलिसी प्लेटिनम, गोल्ड और सिल्वर प्लान में क्रमश: 1, 2 और 4 साल की प्रतीक्षा अवधि के बाद पहले से मौजूद बीमारियों को भी कवर करती है।

रिन्यूअल के समय, ग्राहक लगातार दो दावा मुक्त वर्षों के प्रत्येक ब्लॉक के बाद प्रीमियम पर 25% की छूट के पात्र होते हैं।

प्लान विकल्प और पॉलिसी विवरण सहित स्टार आउट पेशेंट केयर इंश्योरेंस पॉलिसी के बारे में अधिक जानकारी के लिए, www.starhealth.in/star-outpatient-care-insurance-policy पर जाएं।

Tuesday, November 29, 2022

यूटीआई निफ्टी 50 इंडेक्स फंड- बाजार के साथ आगे बढ़ें

 

निफ्टी 50 निवेश के क्षेत्र में सबसे अधिक सुना जाने वाला शब्द है और आपमें से हर किसी ने मीडिया में निफ्टी 50 का उल्लेख सुना होगा. समाचार पत्र और टीवी चैनल लगभग हर दिन निफ्टी 50 चार्ट और मूवमेंट को फ्लैश करते हैं, और निवेश एक्सपर्ट शेयर बाजार की दिशा की भविष्यवाणी करते हुए लगातार 'निफ्टी 50' शब्द का उपयोग करते हैं. लेकिन यह निफ्टी 50 है क्या?

इस लेख में, हम आपको निफ्टी 50 के बारे आवश्यक सभी चीजों के बारे में बताएंगे और यह भी बताएंगे कि लंबे समय में धन सृजन के लिए आप इसमें कैसे निवेश कर सकते हैं.

निफ्टी 50 बाजार पूंजीकरण द्वारा देश की शीर्ष 50 कंपनियों का एक सूचकांक है जो नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) में सूचीबद्ध हैं. यह निवेशकों द्वारा उपयोग किए जाने वाले दो सबसे संदर्भित बैरोमीटर में से एक है. एक तो यह ट्रैक करता है कि "शेयर बाजार कैसे परफोर्म कर रहा है". दूसरा सेंसेक्स है, जो बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) द्वारा प्रबंधित 30 शेयरों जैसा एक सूचकांक है.

एनएसई के साथ 1,300 से अधिक स्टॉक सूचीबद्ध हैं. लेकिन जब कोई कहता है कि "आज बाजार ऊपर था", तो आमतौर पर इसका मतलब होता है कि आज निफ्टी 50 इंडेक्स ऊपर था. इसका मतलब है कि उन 50 शेयरों का औसत प्रदर्शन ऊपर गया था. भारतीय बाजारों पर नज़र रखने वाले विदेशी निवेशकों के लिए, उनका पहला संदर्भ बिंदु निफ्टी मूवमेंट ही होता है और भारत में उनका पहला निवेश आमतौर पर निफ्टी शेयरों में होता है.

निफ्टी 50 इंडेक्स के घटकों में ब्लू-चिप कंपनियां शामिल हैं. ये कंपनियां आम तौर पर मजबूत बैलेंस शीट, मजबूत ग्रोथ नंबर और एक विस्तृत वैश्विक पदचिह्न प्रदर्शित करती हैं. निफ्टी 50 इंडेक्स में इंफोसिस, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक, आईटीसी, एशियन पेंट्स आदि शामिल हैं जो हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न अंग हैं और इसलिए यह ऐसी कंपनियों में निवेश कर रही हैं और उनके साथ बढ़ रही हैं.

निफ्टी 50 इंडेक्स में 50 स्टॉक एनएसई में सूचीबद्ध सभी कंपनियों के कुल बाजार पूंजीकरण का ~ 65% हैं.  दूसरे शब्दों में, यह कहा जा सकता है कि एनएसई की सभी 1,300 कंपनियों के कुल मार्केट कैप के भीतर - 50 निफ्टी कंपनियां इस कुल का 65% और शेष 1250 कंपनियों का कुल 35% तक है. इसका अनिवार्य रूप से यह अर्थ हुआ कि केवल निफ्टी 50 इंडेक्स में एक्सपोजर लेने के साथ, निवेशक समग्र सूचीबद्ध प्रतिभूतियों में ~ 65% जोखिम लेंगे.

सेंसेक्स अर्थव्यवस्था के 14 विभिन्न प्रमुख क्षेत्रों में एक्सपोजर प्रदान करता है, जबकि निफ्टी 50 इंडेक्स में सभी क्षेत्रों में समान भार नहीं होता है. सेंसेक्स वित्तीय सेवाओं और आईटी जैसे कुछ क्षेत्रों की ओर बहुत अधिक झुका हुआ है, शीर्ष 4 से योगदान के साथ अकेले यह सेक्टर लगभग 78 फीसदी के लिए जिम्मेदार हैं.

निफ्टी 50 शेयरों में निवेश उन शेयरों की सीधी खरीद के माध्यम से किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए दैनिक आधार पर एक पेशेवर प्रबंधन की आवश्यकता होगी. क्योंकि प्रत्येक शेयर की सटीक अनुपात में आवश्यकता होती है और जो कॉर्पोरेट एक्शन के साथ-साथ समय-समय पर पुनर्संतुलन से गुजरती है. वैकल्पिक रूप से, निवेशकों के लिए निफ्टी 50 इंडेक्स पर आधारित इंडेक्स फंड्स/ईटीएफ की तुलना में निफ्टी 50 कंपनियों में एक्सपोजर लेना एक आसान तरीका है. उद्योग में कई इंडेक्स फंड हैं जो निफ्टी 50 इंडेक्स प्रदर्शन को दोहराने का प्रयास करते हैं.

यूटीआई निफ्टी 50 इंडेक्स फंड एक ऐसा फंड है जो निवेशकों को निफ्टी 50 कंपनियों में एक्सपोजर लेने का एक सरल, सुविधाजनक और लागत प्रभावी तरीका प्रदान करता है. यूटीआई निफ्टी 50 इंडेक्स फंड एक निष्क्रिय रूप से प्रबंधित इंडेक्स फंड है जो समान कंपनियों में हर समय समान अनुपात में निवेश करके निफ्टी 50 इंडेक्स के प्रदर्शन को दोहराने का प्रयास करता है.

इंडेक्स फंड निवेश का सबसे सरल रूप है. अधिकांश इंडेक्स फंड बिना किसी उत्पाद संरचना भेदभाव के संबंधित श्रेणियों में समान अंतर्निहित इंडेक्स को दोहराते हैं. हालांकि दिए गए श्रेणी के भीतर भी इंडेक्स फंड का चयन करना कोई आसान काम नहीं है. फंड का चयन करते समय विवेकपूर्ण निवेशक कुछ मापदंडों, जैसे अनुभव, ट्रैक रिकॉर्ड, संपत्ति का आकार, लागत संरचना आदि पर विचार करते हैं. 

यूटीनिफ्टी 50 इंडेक्स फंड वर्ष 2000 में लॉन्च किया गया था और 22 वर्षों से अधिक के प्रदर्शन के ट्रैक रिकॉर्ड के साथ यह काम कर रहा है. यह इस उद्योग में सबसे पुराने में से एक है और इसका एएमयू 8,900 करोड़ रूपये से अधिक का है. ट्रैकिंग त्रुटि और ट्रैकिंग अंतर के प्रबंधन के ट्रैक रिकॉर्ड के संदर्भ में, यूटीआई निफ्टी 50 इंडेक्स फंड सबसे कम ट्रैकिंग त्रुटि और ट्रैकिंग अंतर में से एक को बनाए रखता है और अपेक्षाकृत कम लागत संरचना पर उपलब्ध है (प्रत्यक्ष योजना के तहत 0.20% का टी आई आर प्रति वर्ष और नियमित योजना के तहत 0.30% का टीईआर). (विवरण 31 अक्टूबर, 2022 तक, स्रोत: एमएफआई)

यूटीआई निफ्टी 50 इंडेक्स फंड उन इक्विटी निवेशकों के लिए उपयुक्त हो सकता है जो लार्ज कैप और स्थापित व्यवसायों के साथ अपने इक्विटी पोर्टफोलियो का निर्माण करना चाहते हैं और दीर्घकालिक पूंजी विकास चाहते हैं. यह फंड उच्च जोखिम वाले निवेशकों के लिए भी उपयुक्त है, जो बाजार स्थितियों के अधीन मध्यम से लंबी अवधि में उचित रिटर्न की तलाश में हैं.

Monday, November 28, 2022

टेडएक्स आईआईएम उदयपुर ने पूरे भारत से 8 चेंजमेकर्स की मेजबानी की

उदयपुर, राजस्थान, 28 नवंबर 2022: टेडएक्स आईआईएम उदयपुर एक स्वतंत्र रूप से आयोजित टेड इवेंट का तीसरा संस्करण आईआईएम उदयपुर परिसर में आयोजित हुआ। टेडएक्स इवेंट का विषय चेंज इज़ दी ओनली कॉन्स्टेंट था। टेडएक्स न्यूयॉर्क और वैंकूवर में स्थित एक गैर.लाभकारी संगठन है जो दूरदर्शी और बदलाव लाने वालों के प्रभावशाली भाषणों के माध्यम से विचारों के प्रचार के लिए समर्पित है। टेडएक्स की शुरुआत 1984 में हुई जिसमें प्रौद्योगिकी, मनोरंजन और डिज़ाइन के विषय शामिल थे। आज यह दुनिया भर में 100 से अधिक भाषाओं में लगभग सभी विषयों को समाहित करता है।


टेडएक्स आईआईएम उदयपुर पहली बार आईआईएम उदयपुर के नए परिसर में आयोजित किया गया क्योंकि यह एमएलएसयू में अपने पुराने परिसर से बलीचा में स्थानांतरित हो चुका है ।   इस कार्यक्रम ने भारत के विभिन्न हिस्सों से आठ वक्ताओं की मेजबानी की जिन्होंने कई लोगों के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव डाला है। वक्ताओं और बदलाव लाने वालों में भारतीय मूल की ब्रिटिश पेशेवर फुटबॉलर सुश्री तन्वी हंस शामिल थीं जो कर्नाटक महिला फुटबॉल टीम के लिए और पहले अंग्रेजी क्लब टोटेनहम हॉटस्पर्स और फुलहम के लिए खेलती थीं।

दूसरी वक्ता सुश्री शिवानी सिंघल थीं जो धरोहर में काम करती हैं, यह एक सामाजिक उद्यम है जो सीखने और विकास पर केंद्रित संरचित कॉर्पोरेट स्वयंसेवा प्रदान करता है । यह समुदाय व्यक्ति और व्यवसाय को अधिकतम लाभ देता है।

तीसरी वक्ता जैस्मिना खन्ना थीं जिन्हें जन्म के समय सेरेब्रल पाल्सी का पता चला था। वह केवल एक उंगली से टाइप कर सकती है लेकिन उन्होंने सॉफ्टवेयर टेस्टर के रूप में सभी बाधाओं के बावजूद एक सफल करियर बनाया है। वह एक्सेस टू होप की उपाध्यक्ष भी हैं। उन्होंने सेरेब्रल पाल्सी के साथ पैदा हुए बच्चे से लेकर भारत के बेहतरीन कॉलेजों में से एक से स्नातक होनेए एक सॉफ्टवेयर टेस्टर के रूप में काम करने और एक्सेस टू होप की स्थापना करने तक की अपनी यात्रा को साझा किया।

चौथे वक्ता अशोक देशमाने थे जो स्नेहवन नाम के एक एनजीओ के संस्थापक थे| जो सीमांत और सूखा प्रभावित किसानों के बच्चों के लिए एक घर है। मिस्टर देशमाने ने ज़ी टीवी रियल हीरो अवार्ड और सोशल इनोवेटर वाशिंगटन विश्वविद्यालय सहित कई पुरस्कार जीते हैं।
 
टेडएक्स आईआईएम उदयपुर के पांचवें वक्ता थे उदयपुर के महाराज कुमार साहिब लक्ष्यराज सिंह जी मेवाड़, उदयपुर के राजकुमार जो एक परोपकारीए शिक्षाविद खेल संरक्षक बिजनेस लीडर और छह बार के  गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर हैं। उन्होंने समय के मूल्य और धारणा पर अपने विचार साझा किए।

छठी वक्ता सहेली चटर्जी थीं जो एंबिफेम नामक एक एजेंसी की संस्थापक हैं जो सोशल मीडिया पर ब्रांड की उपस्थिति बढ़ाने के लिए समर्पित है। उसका एक समर्पित यूट्यूब चैनल है जहां वह अपने कौशल पुस्तक समीक्षा और अपने अनुभवों और फ्रीलांसिंग से सीख पर वीडियो पोस्ट करती है।

सातवें वक्ता एनोबल इनोवेशन के संस्थापक और सीईओ चिराग भंडारी थे। वह एक उद्यमी और रणनीति सलाहकार भी हैं। उन्होंने ग्रामीण स्कूली छात्रों की चुनौतियों की पहचान की और उनके साथ सहानुभूति व्यक्त की और 2018 में मिशन येलोग्रीन की शुरुआत की जिससे छात्रों को पर्यावरण के अनुकूल और रिसाइकिल करने योग्य डेस्क, मैट और अन्य आवश्यकताएं प्रदान की गईं।

टेडएक्स आईआईएम उदयपुर के अंतिम वक्ता कमोडोर वरुण सिंह थे जो भारतीय नौसेना अधिकारी और वीरता पुरस्कार विजेता हैं वह केंद्रीय विद्यालय कोच्चि और राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के पूर्व छात्र हैं और 1 जुलाई 1993 को कमीशन पाए थे| अपने पिता और चाचाओं के अधूरे सपनों को आगे बढ़ाते हुएए उन्होंने सशस्त्र बलों के सबसे अधिक मांग वाले और सबसे लंबे शारीरिक पाठ्यक्रमों में से एक क्लीयरेंस डाइविंग और मरीन कमांडो कोर्स को पूरा किया।

वक्ताओं ने अपने जीवन के किस्सों को साझा किया और बताया कि कैसे उन्होंने जीवन में बदलाव को अपनाया या अपने आसपास के लोगों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाए| आईआईएमयू समुदाय को नम आंखों से प्रेरित किया। परिवर्तन निर्माताओं की कहानियों ने टेडएक्स आईआईएम उदयपुर में श्रोताओं के जीवन को प्रभावित किया।

टेडएक्स आईआईएम उदयपुर को सिक्योर मीटर्स सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, इंस्पेक्शन डेवलपमेंट सर्विसेज कोटा बिग ऍफ़ एम् 92.7 रेडियो पार्टनर के रूप में हरिदान लाइफस्टाइल और पेंडोरा ग्रैंड द्वारा आवास भागीदार के रूप में प्रायोजित किया गया है।

Saturday, November 26, 2022

डब्लयूटीपी पर स्टूडेंटस का ऊर्जावान फ्लैश मॉब


जयपुर। जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, जयपुर का 16वां राष्ट्रीय युवा उत्सवअभ्युदय-2022’ आगामी 9-10 दिसंबर को होगा। इस वार्षिकोत्सव को प्रमोट करने के लिए गौरव टॉवर और वर्ल्ड ट्रेड पार्क में शनिवार को 70 से अधिक स्टूडेंटस ने फ्लैश मॉब का आयोजन किया। जोश एवं उत्साह से लबरेज स्टूडेंटस की इस रंगारंग प्रस्तुति देख दर्शक झूम उठे। फलैश मॉब को जयपुरिया के स्टूडेंट छवि प्रकाश सक्सेना और यश खुटेटा की मदद से कोरियोग्राफ किया गया था। यह फ्लैश मॉब छात्र मामलों के डीन डॉ. दानेश्वर शर्मा की मदद से आयोजित किया गया। कॉलेज के डायरेक्टर डॉ. प्रभात पंकज ने बताया किअभ्युदय-2022’ में 32 इवेंटस होंगी। इसके लिए देशभर से 2000 से अधिक प्रतिभागियों ने पंजीकरण करवाया है। इसका मुख्य आकर्षण बॉलीवुड सिंगर स्टेबिन बेन होंगे, जो फेस्ट में परफॉर्म करेंगे।

 

छह राज्यों के किसानों ने किया जैविक कृषि को बुलन्द


जयपुर। श्री पिंजरापोल गोशाला परिसर में स्थित सनराइज ऑर्गेनिक पार्क में दो दिवसीय ऑर्गेनिक कमर्शियल कल्टीवेशन का प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस एग्रीकल्चर स्किल डवलपमेंट (आईआईएएएसडी) के सौजन्य में आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम में पंजाब, हरियाणा, ओडिसा, मध्यप्रदेश, राजस्थान सहित छह राज्यों के दर्जनों किसानों ने हिस्सा लिया। संस्था के फाउंडर डॉ. अतुल गुप्ता ने बताया कि अब लोग लगातार जैविक पद्धति से औषधीय पादपों की खेती करने लगे हैं। कार्यशाला में किसानों ने स्टीविया काली हल्दी की खेती में रुचि दर्शायी है। उन्होंने कहा कि खासकर स्टीविया की पतियां डायबिटीज के मरीजों के लिए रामबाण औषधि हैं। इसकी खेती बेहद लाभकारी है, इसलिए किसान स्टीविया की खेती पर बहुत अधिक फोकस कर रहे हैं। डॉ. गुप्ता ने कहा कि काली हल्दी भी कैंसर जैसी घातक जानलेवा बीमारी में बेहद उपयोगी है इसलिए इसकी खेती को लेकर भी किसानों में रूझान लगातार बढता जा रहा है। काली हल्दी की खेती के लिए नंवबर दिसंबर माह का समय उचित है। इस दौरान किसानों को प्रशिक्षण उपरांत प्रश्स्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

एल एंड टी ने 2022 इंफ्रास्ट्रक्चर एंड गोइंग डिजिटल अवार्ड्स में अंतर्राष्ट्रीय सम्मान हासिल किया

बेंगलुरु, 26 नवंबर, 2022: लार्सन एंड टुब्रो के वाटर एंड एफ्लुएंट ट्रीटमेंट (डब्ल्यूईटी) बिजनेस ने कर्नाटक में अपने जल और अपशिष्ट जल परियोजना के लिए 2022 इंफ्रास्ट्रक्चर एंड गोइंग डिजिटल अवार्ड्स, लंदन में वैश्विक सम्मान हासिल किया है। यह प्रतिष्ठित वार्षिक पुरस्कार अभिनव डिजिटल टेक्नोलॉजी को उपयोग में लाने वाली बुनियादी अवसंरचनात्मक परियोजनाओं को दिया जाता है।

बेंगलुरु में नादप्रभु केम्पेगौड़ा लेआउट टाउनशिप के लिए एल एंड टी की परियोजना ने 'जल और अपशिष्ट जल' श्रेणी में फाइनल में जगह बनाई, जिसकी घोषणा 11-सदस्यीय स्वतंत्र जूरी पैनल द्वारा की गई। नैस्डैक-सूचीबद्ध और वैश्विक इंफ्रास्ट्रक्चर इंजीनियरिंग सॉफ्टवेयर कंपनी, बेंटले सिस्टम्स ने इसका आयोजन किया था। यह परियोजना बेंगलुरु में एनपीकेएल टाउनशिप क्षेत्र में पीने योग्य पानी वितरित करेगी, सीवरेज एकत्र करेगी और पाइप प्रणाली के माध्यम से एक पुनर्नवीनीकरण जल नेटवर्क बिछाएगी।

 

प्रोजेक्ट टीम ने डिजिटल तकनीक की मदद से इंजीनियरिंग उत्पादकता में 25% तक की वृद्धि की है और मानकीकृत डिजिटल मॉडल के साथ 50% इंजीनियरिंग मानव घंटे की बचत की है। अकेले सीवर और पानी के नेटवर्क के लिए, प्रौद्योगिकी समाधानों का उपयोग करने से परियोजना के 80% इंजीनियरिंग श्रम घंटे बच गए और टीम को रिकॉर्ड छह महीने में इंजीनियरिंग कार्य पूरा करने में मदद मिली।

 

पुरस्कार जीतने पर वाटर एंड एफ्लुएंट ट्रीटमेंट के एक्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट और हेड, श्री के. अशोक कुमार ने कहा, "एल एंड टी के डिजिटल परिवर्तन की यात्रा लगभग 3-4 साल पहले शुरू हुई थी, और हम उत्पादकता में सुधार, बर्बादी को कम करने, लागत में कटौती, निष्पादन के समय को कम करने और हमारी समग्र परिचालन क्षमता को बढ़ाने के लिए विभिन्न डिजिटल समाधान अपना रहे हैं। यह पुरस्कार भारत में पानी के बुनियादी ढांचे को परिभाषित करने और डिजिटलीकरण पर हमारे निरंतर जोर देने के क्षेत्र में हमारे नेतृत्व की उचित मान्यता है।"

 

डब्ल्यू ई टी प्रोजेक्ट ने शीर्ष तीन में जगह बनाई। जूरी पैनल द्वारा 12 पुरस्कार श्रेणियों में से विजेता परियोजनाओं का चयन किया। पुरस्कारों के लिए 47 देशों के 180 संगठनों से 300 नामांकन प्राप्त हुए थे।

 

एल एंड टी का डब्ल्यू ई टी व्यवसाय शहरी और ग्रामीण जल आपूर्ति, जल उपचार संयंत्रों, औद्योगिक जल आपूर्ति और पुनर्चक्रण और पुन: उपयोग के लिए उपचार संयंत्रों, अपशिष्ट जल उपचार और नेटवर्क, गाद प्रबंधन, सिंचाई परियोजनाओं, अलवणीकरण संयंत्रों, ग्रीनफील्ड और ब्राउनफील्ड क्षेत्रों के विकास के लिए उपयोगिता बुनियादी ढांचा, और रिसाव का पता लगाने के साथ निर्बाध अनुकूलित जल आपूर्ति को कवर करने वाले महत्वपूर्ण जल बुनियादी ढांचे के निर्माण के क्षेत्र में अग्रणी है।

 

लावा ने लॉन्च किया Blaze NXT, प्रीमियम ग्लास बैक और ऑक्टा-कोर मीडिया टेक हेलियो जी37 चिपसेट से युक्त बजट स्मार्टफोन

नई दिल्ली, 26 नवम्बर, 2022: भारत में स्थित आधुनिक मोबाइल हैण्डसेट एवं मोबाइल सोल्युशन कंपनी लावा इंटरनेशनल लिमिटेड ने आज BLAZE NXTस्मार्टफोन के लॉन्च की घोषणा की है। इसी साल लॉन्च किए गए ओरिजिनल ब्लेज़ स्मार्टफोन के बाद रु 9299 की कीमत पर BLAZE NXTका लॉन्च किया गया है।

प्रोडक्ट के बारे में बात करते हुए तेजिन्दर सिंह, प्रोडक्ट हैड, लावा इंटरनेशनल लिमिटेड ने कहा, ''उपभोक्ताओं से मिले फीडबैक को ध्यान में रखते हुए अपने उपभोक्ताओं को किफ़ायती दामों पर हाई-टेक स्मार्टफोन उपलब्ध कराने के दृष्टिकोण के साथ लावा BLAZE NXTलेकर आई है। किफ़ायती कीमत पर उपलब्ध इस नए स्मार्टफोन के साथ हम उपभोक्ताओं को बेहतर अनुभव प्रदान करेंगे। BLAZE NXTग्लास बैक के साथ आता है और एंट्री लैवल के स्मार्टफोन में सबसे क्लासी स्मार्टफोन है, जो नई पीढ़ी के उपभोक्ताओं की सभी ज़रूरतों को पूरा करेगा।'

BLAZE NXT16.55 सेंटीमीटर (6.5 इंच) डिस्प्ले, ऑक्टा-कोर मीडियाटेक हेलियो जी37चिपसेट और 2.3 Ghz तक की क्लॉकस्पीड के साथ आता है। यह 4 जीबी रैम के साथ आता है जिसे 3 जीबी और एक्सपेंड किया जा सकता है, जिससे यूज़र आसानी से मल्टी-टास्किंग कर सकता है। यह बजट फोन 64 जीबी की इंटरनल स्टोज कैपेसिटी के साथ आता है।

BLAZE NXT13एमपी एआई ट्रिपल रियल कैमरा और सेल्फी के लिए 8 एमपी फ्रंट कैमरा के साथ आता है। कैमरा के ढेरों फीचर्स के साथ आप यादगार तस्वीरों, स्लो मोशन वीडियोज़, जीआईएफ को कैमरे में कैद कर सकते हैं और यहां तक कि डॉक्युमेन्ट्स की इंटेलीजेन्ट स्कैनिंग भी कर सकते हैं। स्मार्टफोन कई ब्यूटी मोड फीचर्स जैसे स्मूदनिंग, स्लिमिंग, व्हाइटनिंग और आई एनलार्जर के साथ आता है।

उपभोक्ताओं को आफ्टर-सेल का उत्कृष्ट अनुभव प्रदान करने के लिए 'फ्री सर्विस एट होम' भी उपलब्ध कराई जाएगी, जिसमें उपभोक्ता वारंटी अवधि के भीतर अपने घर पर फ्री सर्विस का लाभ उठा सकते हैं।

स्मार्टफोन 5000mAh बैटरी के साथ आता है। यह तीन कलर वेरिएशन्सः ग्लास ब्लू, ग्लास रैड और ग्लास ग्रीन में उपलब्ध है। अपने ग्लास बैक एवं रियल फिंगरप्रिन्ट सेंसर के साथ प्रीमियम अपीयरन्स देता है। डिवाइस कॉल रिकॉर्डिंग को भी सपोर्ट करता है।

BLAZE NXTआज से लावा के रीटेल नेटवर्क पर उपलब्ध है। स्मार्टफोन 2 दिसम्बर 2022 से एमज़ॉन डॉट इन और लावा के ई-स्टोर पर सेल के लिए उपलब्ध होगा। अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें     Link

यूनिपार्ट्स इंडिया लिमिटेड - आईपीओ 30 नवंबर, 2022 को खुलेगा

राष्ट्रीय, 26 नवंबर, 2022: यूनिपार्ट्स इंडिया लिमिटेड ("यूआईएल" या "कंपनी") के ₹10 अंकित मूल्य वाले 14,481,942 इक्विटी शेयर्स ("इक्विटी शेयर्स") का आईपीओ बुधवार, 30 नवंबर, 2022 को खुलेगा। इसमें करण सोनी 2018 सीजी-एनजी नेवादा ट्रस्ट के 1,100,000 इक्विटी शेयर; मेहर सोनी 2018 सीजी-एनजी नेवादा ट्रस्ट के 1,100,000 इक्विटी शेयर और पामेला सोनी (सामूहिक रूप से "प्रोमोटर ग्रुप सेलिंग शेयरहोल्डर") के 2,200,000 इक्विटी शेयर; अशोका इन्वेस्टमेंट होल्डिंग्स लिमिटेड ("अशोका") के 7,180,642 इक्विटी शेयर एवं अम्बादेवी मॉरिशस होल्डिंग लिमिटेड ("अम्बादेवी") ("अशोका" और "अम्बादेवी" को एक साथ "निवेशक विक्रेता शेयरधारक" कहा गया है) और एंड्र्युवारेन कोड के 177,378 इक्विटी शेयर; जेम्स नॉर्मन हेलेन के 177,378 इक्विटी शेयर; केल्विन जॉन कोड के 177,378 इक्विटी शेयर; डेनिस फ्रांसिस डेडेकर के 57,420 इक्विटी शेयर; मेल्विन किथ गिब्स के 41,730 इक्विटी शेयर; वॉल्टर जेम्स ग्रुबर के 24,706 इक्विटी शेयर; वेंडी रिचर्ड हैम्मेन के 21,556 इक्विटी शेयर; मार्क लुई डॉसन के 20,870 इक्विटी शेयर; ब्रैड्ली लॉरेंज मिलर के 16,366 इक्विटी शेयर; मैरी लुई अर्प के 10,440 इक्विटी शेयर; डायना लिन क्रैग के 8,340 इक्विटी शेयर; मार्क क्रिस्टोफर डोराउ के 7,710 इक्विटी शेयर; क्रैग ए. जॉन्सन के 5,010 इक्विटी शेयर; और मिस्टी मैरी ग्रेशिया के 826 इक्विटी शेयर शामिल हैं (एक साथ, "व्यक्तिगत विक्रेता शेयरधारक", और प्रोमोटर ग्रुप सेलिंग शेयरहोल्डर्स एवं निवेशक विक्रेता शेयरधारक को सामूहिक रूप से "विक्रेता शेयरधारक" कहा गया है) ("ऑफर फॉर सेल" या "ऑफर")। यह ऑफर 32.09% पोस्ट-ऑफर चुकता इक्विटी शेयर पूंजी का निर्माण करेगा। ऑफर शुक्रवार, 02 दिसंबर, 2022 को बंद होगा।          

ऑफर का प्राइस बैंड ₹548 से ₹577 प्रति इक्विटी शेयर तय किया गया है। न्यूनतम 25 इक्विटी शेयर और उसके बाद 25 इक्विटी शेयर के गुणकों में बोलियां लगाई जा सकती हैं।

यह ऑफर सेबी आईसीडीआर विनियमन के विनियम 6(1) के अनुसार बुक बिल्डिंग प्रक्रिया के जरिए उपलब्ध कराया जा रहा है जिसमें 50% से अनधिक ऑफर आनुपातिक आधार पर पात्र संस्थागत खरीदारों ("क्यूआईबी") ("क्यूआईबी हिस्सा") को आवंटित किए जाने के लिए उपलब्ध होगा, हालांकि कंपनी और निवेशक विक्रेता शेयरधारक, बीआरएलएम के परामर्श से एंकर निवेशकों को क्यूआईबी हिस्से का 60% तक आवंटित कर सकते हैं और इस तरह का आवंटन सेबी आईसीडीआर विनियमन के अनुसार कंपनी, निवेशक विक्रेता शेयरधारक के विवेकाधीन एवं बीआरएलएम के परामर्श से होगा ("एंकर निवेशक हिस्सा"), जिसका एक-तिहाई घरेलू म्यूचुअल फंड्स के लिए आरक्षित होगा, बशर्ते घरेलू म्यूचुअल फंड्स से उस कीमत पर या उससे ऊपर वैध बोलियां प्राप्त हों जिस पर एंकर निवेशकों को आवंटन किया जाता है। आगे, क्यूआईबी का 5% हिस्सा (एंकर निवेशक हिस्सा को छोड़कर) आनुपातिक आधार पर केवल म्यूचुअल फंड्स को आवंटित किए जाने के लिए उपलब्ध होगा, बशर्ते ऑफर मूल्य या इससे ऊपर वैध बोलियां प्राप्त हों, क्यूआईबी का शेष हिस्सा आनुपातिक आधार पर म्यूचुअल फंड्स सहित सभी क्यूआईबी (एंकर निवेशकों को छोड़कर) को आवंटित किए जाने के लिए उपलब्ध होगा, बशर्ते ऑफर मूल्य या इससे ऊपर वैध बोलियां प्राप्त हों। इसके अलावा, ऑफर का न्यूनतम 15% गैर-संस्थागत निवेशकों ("गैर-संस्थागत श्रेणी") को आवंटित किए जाने हेतु उपलब्ध होगा जिसमें से गैर-संस्थागत श्रेणी का एक-तिहाई 200,000 से अधिक और 1,000,000 तक के आवेदन आकार वाले बोलीदाताओं के लिए उपलब्ध होगा और गैर-संस्थागत श्रेणी का दो-तिहाई ₹ 1,000,000 से अधिक के आवेदन आकार वाले बोलीदाताओं को आवंटन के लिए उपलब्ध होगा और गैर-संस्थागत श्रेणी के अंतर्गत इनमें से किसी भी उप-श्रेणी में कम-सब्सक्रिप्शन होने पर सेबी आईसीडीआर विनियमनों के अनुसार उसे गैर-संस्थागत श्रेणी की अन्य उप-श्रेणी के बोलीदाताओं को आवंटित कर दिया जाएगा, बशर्ते ऑफर मूल्य पर या इससे ऊपर वैध बोलियां प्राप्त हों। आगे, ऑफर का कम-से-कम 35% सेबी आईसीडीआर विनियमनों के अनुसार खुदरा व्यक्तिगत निवेशकों ("खुदरा श्रेणी") को आवंटित किए जाने के लिए उपलब्ध होगा, बशर्ते ऑफर मूल्य पर या इससे ऊपर वैध बोलियां प्राप्त हों।     

सभी बोलीदाता (एंकर निवेशकों को छोड़कर) अनिवार्य रूप से केवल एप्लिकेशन सपोर्टेड बाय ब्लॉक्ड एमाउंट ("एएसबीए") प्रक्रिया के माध्यम से इस ऑफर में भाग लेंगे और अपने-अपने बैंक खाते (यूपीआई बोलीदाता (एतद द्वारा परिभाषित) की स्थिति में यूपीआई आईडी (एतद द्वारा परिभाषित) सहित का विवरण देंगे जिसमें सेल्फ़ सर्टिफाइड सिंडिकेट बैंक्स ("एससीएसबी") द्वारा बोली राशि अवरुद्ध कर दी जाएगी। एंकर निवेशकों को एएसबीए प्रक्रिया के माध्यम से एंकर निवेशक हिस्से में भाग लेने की अनुमति नहीं है।

इक्विटी शेयरों की पेशकश 22 नवंबर, 2022 को कंपनी के रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस के माध्यम से की जा रही है, जिसे रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज, दिल्ली और हरियाणा में दिल्ली ("आरएचपी") में दाखिल किया गया है और इसे बीएसई लिमिटेड ("बीएसई") और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड ("एनएसई") पर सूचीबद्ध किए जाने का प्रस्ताव है।

एक्सिस कैपिटल लिमिटेड, डीएएम कैपिटल एडवाइजर्स लिमिटेड और जेएम फाइनेंशियल लिमिटेड, ऑफर के बुक रनिंग लीड मैनेजर हैं।

यहां उपयोग किए गए लेकिन परिभाषित नहीं किए गए सभी बड़े अक्षरों वाकले शब्दों का वही अर्थ होगा जो उन्हें आरएचपी में बताया गया है।

वी ने विश्व कप के लिए कतर आने वाले फुटबॉल प्रशंसकों के लिए पेश की आईआर पैक्स की सर्वश्रेष्ठ रेंज

मुंबई, 26 नवम्बर, 2022: देश और दुनिया भर में फुटबाल का जोश अपने चरम पर है। कतर में विश्व कप की शुरूआत के साथ कई भारतीय फुटबॉल के रोमांच का लुत्फ़ उठाने के लिए कतर जा रहे हैं। ये यात्री तकरीबन 7  दिनों के लिए देश में ही रूकेंगे।

भारत से कतर जाने वाले इन सभी यात्रियों के लिए जाना-माना टेलीकॉम ब्राण्ड वी इंटरनेशनल रोमिंग (आईआर) पैक्स की सर्वश्रेष्ठ और व्यापक रेंज लकर आया है, 7 दिनों से 28 दिनों की वैलिडिटी वाले इन पैक्स में से उपभोक्ता कतर में अपने स्टे की अवधि के अनुसार अपना पैक चुन सकते हैं। इसके अलावा वी 7 दिन की वैलिडिटी वाले आईआर पैक पेश करने वाला एक मात्र ऑपरेटर भी है, जो उपभोक्ताओं को किफ़ायती और अनुकूल विकल्प उपलब्ध कराता है।

वी के आईआर पैक्स के साथ डेटा के फायदे भी मिलते हैं, जिससे यूज़र आसानी से रोमिंग कर सकते हैं, और मैच के दौरान ज़्यादा डेटा का लाभ उठा कर लाईव स्ट्रीमिंग का लुत्फ़ उठा सकते हैं और सोशल मीडिया पर पोस्ट कर सकते हैं।

कलर के लिए वी की ओर से पेश किए गए आईआर पैक्स का विवरण नीचे दिया गया हैः 

 

Rs 2999

2 GB*

200 Min*

Rs 35 / min

FREE

25 sms*

7

Rs 3999

3 GB*

300 Min*

Rs 35 / min

FREE

50 sms*

10

Rs 4499

5 GB*

500 Min*

Rs 35 / min

FREE

100 sms*

14

Rs 5999

5 GB*

500 Min*

Rs 35 / min

FREE

100 sms*

28

 

More details on www.myvi.in

Friday, November 25, 2022

जयपुर स्थित सेलेबल टेक्नोलॉजीज ने नॉर्वेस्ट वेंचर पार्टनर्स से 32 मिलियन डॉलर के निवेश की घोषणा की

पालो ऑल्टो, ह्यूस्टन और जयपुर, 25 नवंबर, 2022 - आर्टिफिशल इंटेलिजेंस, बिग डेटा, डेटा साइंस और एंटरप्राइज़ क्लाउड जैसी अत्याधुनिक तकनीकों में दक्ष एक प्रमुख सॉफ्टवेयर कंसल्टिंग और डिलीवरी संस्था सेलेबल टेक्नोलॉजीज ने आज घोषणा की कि इन्होने अमेरिका के प्रमुख इन्वेस्टमेंट फर्म नॉर्वेस्ट वेंचर पार्टनर्स से 32 मिलियन माइनॉरिटी ग्रोथ इनवेस्टमेंट हासिल किया है। नॉर्वेस्ट के कुछ प्रमुख इन्वस्टमेंट मे उबेर एंड स्विग्गी शामिल है। यह सेलेबल टेक्नोलॉजीज का पहला संस्थागत निवेश है और कंपनी के विकास की कहानी में एक नए अध्याय की शुरुआत का प्रतीक है। यह निवेश उत्तरी अमेरिका, भारत और एशिया प्रशांत के मौजूदा बाजारों में अपनी पकड़ मजबूत करेगा और साथ ही यूरोप, मध्य पूर्व और जापान में नए क्षेत्रों में इसके विस्तार को बढ़ावा देगा। कुछ धनराशि का उपयोग वितरण क्षमता बढ़ाने और उद्योग केंद्रित सॉल्यूशन एक्सेलरेटर बनाने के लिए किया जाएगा।

तकनीकी विशेषज्ञ और आईआईटी के पूर्व छात्र अनुपम गुप्ता और अनिरुद्ध काला द्वारा स्थापित सेलेबल टेक्नोलॉजीज तेजी से आगे बढ़ने वाली एक ऐसी फर्म है जो वैश्विक स्तर पर 100 से अधिक ग्राहकों को नए दौर के टैक्नोलॉजी समाधान उपलब्ध कराती है। कंपनी ने 1,600 से ज्यादा सॉफ़्टवेयर इंजीनियरों को नियुक्ति दे रखी है। कंपनी की अनूठी विशेषज्ञता पारंपरिक उद्यमऔर आधुनिक क्लाउड इनोवेशनके बीच है। सेलेबल टेक्नोलॉजीज माइक्रोसॉफ्ट और डाटाब्रिक्स की प्रीमियर ग्लोबल पार्टनर है। यह मैन्यूफेक्चरिंग, फाइनेंशियल सर्विसेज, एनर्जी, सीपीजी, रिटेल और हेल्थकेयर जैसे विभिन्न उद्योगों में डिजिटल परिवर्तन यात्रा में निरंतर इनोवेशन लाने और उद्यमों को सशक्त बनाने के लिए माइक्रोसॉफ्ट एज़्योर और डेटाब्रिक्स प्लेटफॉर्म पर अलग-अलग सेवाएं और एक्सेलरेटर प्रदान करता है। सेलेबल टेक्नोलॉजीज को लगातार दूसरे वर्ष 2022 माइक्रोसॉफ्ट इंडिया पार्टनर ऑफ द ईयर और एशिया पैसिफिक और जापान के लिए 2022 डाटाब्रिक्स पार्टनर ऑफ द ईयर का विजेता भी घोषित किया गया।

सेलेबल टेक्नोलॉजीज के को-फाउंडर अनुपम गुप्ता ने कहा, ‘‘नॉर्वेस्ट वेंचर पार्टनर्स के साथ अपनी साझेदारी को लेकर कंपनी में उत्साह का माहौल है। यह एक ऐसी कंपनी है, जिसके पास विश्व स्तर पर नए युग की टैक्नोलॉजी कंपनियों के निर्माण का एक उल्लेखनीय ट्रैक रिकॉर्ड है। वे हमारे कारोबार को समझते हैं और अगली पीढ़ी के क्लाउड, एनालिटिक्स और एआई सर्विस सेगमेंट की कंपनियों को लेकर जुनूनी हैं। जहां तक बाजार की क्षमता का मामला है, हमें लगता है कि हमने अभी शुरुआती तौर पर ही काम किया है। इस साझेदारी के माध्यम से हमें माइक्रोसॉफ्ट और डाटाब्रिक्स में विकास के नए अवसरों का लाभ उठाने का मौका मिलेगा।’’

नॉर्वेस्ट वेंचर पार्टनर्स के मैनेजिंग डायरेक्टर शिव चौधरी ने कहा, ‘‘नॉर्वेस्ट परिवार में सेलेबल टेक्नोलॉजीज का स्वागत करते हुए हमें खुशी हो रही है। सेलेबल टेक्नोलॉजीज ने मजबूत, दूसरों से अलग कार्य निष्पादन और टीम संस्कृति का प्रदर्शन जारी रखा है। कंपनी आगे के पैमाने की नींव रख रही है और बहुत बड़े वैश्विक बाजार के अवसर पर कब्जा कर रही है।’’

सेलेबल टेक्नोलॉजीज के को-फाउंडर और सीईओ अनिरुद्ध काला ने कहा, ‘‘डिजिटल टैक्नोलॉजी सर्विसेज के क्षेत्र में और ऑफशोर डिलीवरी को लेकर इधर विकास की जो रफ्तार नजर आ रही है, उसे लेकर हम बेहद उत्साहित हैं। इनोवेशन से जुड़ी संस्कृति और ग्राहक को केंद्र में रखने के माहौल के साथ माइक्रोसॉफ्ट और डाटाब्रिक्स से मजबूत साझेदारी के माध्यम से हम नए अवसरों को भुनाने और ग्राहकों के तेजी से बढ़ते रोस्टर की सेवा करने के लिए अच्छी स्थिति में हैं। व्यापार और टैक्नोलॉजी सर्विसेज क्षेत्र की नार्वेस्ट  की गहरी विशेषज्ञता और इसके वैश्विक पोर्टफोलियो के साथ, सेलेबल टेक्नोलॉजीज की ताकत और प्रमुख बाजारों में सस्टेनेबिलिटी जैसे नए डोमेन में व्यवसाय को विकसित करने की क्षमता से निश्चित तौर पर अच्छे परिणाम मिलेंगे।’’

निवेश की इस प्रक्रिया के लिए एवेंडस कैपिटल ने विशेष वित्तीय सलाहकार के रूप में काम किया और शार्दुल अमरचंद मंगलदास एंड कंपनी ने सेलेबल टेक्नोलॉजीज के कानूनी सलाहकार का दायित्व संभाला। शार्दुल अमरचंद मंगलदास एंड कंपनी ने नॉर्वेस्ट वेंचर पार्टनर्स के कानूनी सलाहकार के रूप में भी काम किया।

 

 

एफआईएफएस ने स्टार्टअप सदस्यों के रूप में च्वाइस11 और कुबेरा फैंटेसी एप्स को जोड़े जाने की घोषणा की

भारत, 25 नवंबर, 2022: भारत के एकमात्र फैंटेसी स्पोर्ट्स स्व-नियामक उद्योग निकाय, फेडरेशन ऑफ इंडियन फैंटेसी स्पोर्ट्स (एफआईएफएस) को अपनी स्टार्टअप श्रेणी में उभरते फैंटेसी स्पोर्ट्स प्लेटफॉर्म - च्वाइस11 और कुबेर फैंटेसी का स्वागत करने की बेहद खुशी है। दोनों ही प्लेटफॉर्म शानदार उपयोगकर्ता अनुभव प्रदान करने वाले हैं।

च्वाइस11 अपने प्लेटफॉर्म पर क्रिकेट, फुटबॉल, बास्केटबॉल और कबड्डी की पेशकश करता है। च्वाइस11 फैंटेसी स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा लॉन्च किया गया, यह प्लेटफॉर्म जल्द ही एप्प पर और अधिक खेलों की पेशकश करेगा। जिम्मेदारीपूर्ण गेमिंग के प्रति अपने सक्रिय उपायों पर इसे गर्व है। च्वाइस11 के पास किसी भी संभावित धोखाधड़ी गतिविधियों का पता लगाने के लिए इसके प्लेटफॉर्म पर गेम के लिए सुपर-मोबाइल सर्विलांस प्रक्रिया है। अतिरिक्त सुरक्षा और उपयोगकर्ताओं के डेटा की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए इसमें एन्क्रिप्शन तकनीकों का प्रयोग किया गया है।

2019 में स्थापित, कुबेर फैंटेसी अपने उपयोगकर्ताओं को इंटरैक्टिव और लाभप्रद गेम्स का अपना विशाल संग्रह उपलब्ध कराता है। यह अपने उपयोगकर्ताओं को फंतासी क्रिकेट और कबड्डी के खेल उपलब्ध कराता है। यह डुओ, गेम चेंजर और क्विंटो जैसी अवधारणाओं के साथ विशिष्ट फंतासी खेल अनुभव भी प्रदान करता है।

इस अवसर पर बोलते हुए, एफआईएफएस के डाइरेक्टर-जनरल, जॉय भट्टाचार्य ने कहा, एफआईएफएस में च्वाइस11 और कुबेर का स्वागत करते हुए मुझे खुशी हो रही है। उनके साथ, हमने अपनी स्टार्टअप श्रेणी को और मजबूत किया है और हम उनके साथ सकारात्मक सहयोग की उम्मीद करते हैं। मुझे यकीन है कि इस सदस्यता से दोनों पक्षों को लाभ होगा और भारत में फैंटेसी स्पोर्ट्स समुदाय समृद्ध होगा। हमारा मानना है कि फैंटेसी स्पोर्ट्स राष्ट्रीय आर्थिक विकास के लिए प्रेरक बने रहेंगे।

सदस्यों के रूप में, च्वाइस11 और कुबेर फैंटेसी भारत के शीर्ष ऑपरेटरों के साथ जुड़कर सहयोग करेंगे, उनके लिए धन जुटाने एवं निवेश हेतु सर्वोत्तम कोटि के अवसर उपलब्ध हो सकेंगे, और उद्योग रिपोर्ट, अनुसंधान एवं विशेषज्ञ अंतर्दृष्टि के विशाल ज्ञान भंडार का लाभ उठा सकेंगे। सदस्यता योजना के अंतर्गत दोनों प्लेटफार्म एफआईएफएस चार्टर का पालन करेंगे।

च्वाइस11 के संस्थापक और निदेशक, विकास सिंह ने बताया, "फैंटेसी खेल बाजार में अपार संभावनाएं हैं। अब हम बड़े फैंटेसी स्पोर्ट्स समुदाय का हिस्सा बनकर खुश हैं।"

कुबेर फैंटेसी के संस्थापक, कुबेर नागा जगदेश्वर ने कहा, "हम फैंटेसी स्पोर्ट्स उद्योग को आगे बढ़ाने के लिए एफआईएफएस और अन्य सदस्यों के साथ अपने सहयोग की उम्मीद कर रहे हैं।"

फंतासी खेल उद्योग के लिए जिम्मेदारीपूर्ण विकास के साथ नवाचार को बढ़ावा देने के लिए एफआईएफएस ने हाल ही में अपने चार्टर को संशोधित और मजबूत किया है। नया चार्टर फैंटेसी स्पोर्ट्स रेगुलेटरी अथॉरिटी (एफएसआरए) की भूमिका पर जोर देता है, जो एक स्वतंत्र स्व-नियामक निकाय है और फंतासी खेलों में मानकीकृत सर्वोत्तम पद्धतियों को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है। एफएसआरए में तीन प्रतिष्ठित पूर्व न्यायाधीश शामिल हैं - न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) मुकुल मुद्गल, पूर्व मुख्य न्यायाधीश, पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय और न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) जी.एस. सिस्तानी, पूर्व न्यायाधीश, दिल्ली उच्च न्यायालय फैंटेसी स्पोर्ट्स रेगुलेटरी अथॉरिटी (एफएसआरए) के पैनल सदस्य हैं। भारत के उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश, प्रख्यात न्यायविद, न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) ए.के. सीकरी एफएसआरए के अध्यक्ष हैं।

सीओपी27 के अनुरूप, गोदरेज इंटरियो ने वित्त वर्ष 23 में हरे उत्पादों से 47% राजस्व का खुलासा किया

मुंबई, 25 नवंबर 2022गोदरेज समूह की प्रमुख कंपनी गोदरेज एंड बॉयस ने घोषणा की कि घर और संस्थागत क्षेत्रों में भारत के अग्रणी फर्नीचर समाधान ब्रांडगोदरेज इंटरियो ने वित्त वर्ष 23 (वर्तमान वित्तीय वर्षमें गुड एंड ग्रीन उत्पादों से 47% राजस्व के साथ पर्यारणीय रूप से टिकाऊ उत्पादों की मांग में वृद्धि का अनुभव किया है। पिछले वित्तीय वर्ष मेंगोदरेज इंटरियो ने गुड एंड ग्रीन उत्पादों से अपने राजस्व का 41% हासिल किया। गोदरेज एंड बॉयस गुड एंड ग्रीन उत्पादों के माध्यम से अपनी वर्ष-दर-वर्ष आय का एक तिहाई प्राप्त करना चाहता है।

गोदरेज इंटरियो ने 2030 तक अपनी ऊर्जा उत्पादकता को दोगुना करने और 2030 की कॉर्पोरेट प्रतिबद्धता की समयसीमा से पहले 2024 तक अपने सभी विनिर्माण संयंत्रों में ऊर्जा प्रबंधन प्रणाली (ईएमएसको लागू करने की प्रतिबद्धता व्यक्त की है। इसके अलावागोदरेज इंटरियो ने खालापुर में एक नई सुविधा जोड़ने के बाद भी वित्त वर्ष 2010 -11 के गुड एंड ग्रीन विजन बेसलाइन के आधार पर अपनी विशिष्ट ऊर्जा खपत में 37% की कमी की है। कंपनी 2030 तक अक्षय ऊर्जा पहलों में 50 करोड़ रुपये का निवेश करने की योजना बना रही है।

इसके अलावागोदरेज इंटरियो ने ग्रह पर प्रभाव को कम करने के लिए सभी विनिर्माण स्थानों पर विभिन्न तकनीकों को अपनाया है। इन प्रौद्योगिकियों में पंप और ब्लोअर पर वीएफडी (वेरिएबल फ्रीक्वेंसी ड्राइवका उपयोगअपशिष्ट वसूली प्रौद्योगिकियों का उपयोग जैसे गर्मी पाइपगर्मी पंप का उपयोगऊर्जा कुशल मशीनों की स्थापना और ऊर्जा कुशल प्रकाश व्यवस्था आदि शामिल हैं।

गोदरेज इंटरियो ने 2030 तक अपनी ऊर्जा उत्पादकता को दोगुना करने और 2030 की कॉर्पोरेट प्रतिबद्धता की समयसीमा से पहले 2024 तक अपने सभी विनिर्माण संयंत्रों में ऊर्जा प्रबंधन प्रणाली (ईएमएसको लागू करने की प्रतिबद्धता व्यक्त की है। इसके अलावागोदरेज इंटरियो ने खालापुर में एक नई सुविधा जोड़ने के बाद भी वित्त वर्ष 2010 -11 के गुड एंड ग्रीन विजन बेसलाइन के आधार पर अपनी विशिष्ट ऊर्जा खपत में 37% की कमी की है। कंपनी 2030 तक अक्षय ऊर्जा पहलों में 50 करोड़ रुपये का निवेश करने की योजना बना रही है।

इसके अलावागोदरेज इंटरियो ने ग्रह पर प्रभाव को कम करने के लिए सभी विनिर्माण स्थानों पर विभिन्न तकनीकों को अपनाया है। इन प्रौद्योगिकियों में पंप और ब्लोअर पर वीएफडी (वेरिएबल फ्रीक्वेंसी ड्राइवका उपयोगअपशिष्ट वसूली प्रौद्योगिकियों का उपयोग जैसे गर्मी पाइपगर्मी पंप का उपयोगऊर्जा कुशल मशीनों की स्थापना और ऊर्जा कुशल प्रकाश व्यवस्था आदि शामिल हैं।

मंगलयान और चंद्रयान ने दिखाए बच्चों को अंतरिक्ष तक पहुंचने के सपने

-जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में हुआ तीन दिवसीय इसरो एग्जिबिशन का समापन - प्रिंसिपल मीट का हुआ आयोजन  जयपुर। जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में तीन दिवसीय ...