Thursday, October 27, 2022

सूर्य उपासना के महापर्व डाला छठ शुरू

चार दिवसीय महापर्व आज नहाय खाए से शुरू

जयपुर । बिहार समाज संगठन का डाला छठ महापर्व पर आज से लेकर 31 अक्टूबर तक छठ पूजा का धूम रहेगा । चार दिनों तक चलने वाला यह व्रत , नहाय खाय से शुरू होगी । यह व्रत बिहार का सबसे बड़ा व्रत है ‌ यह बहुत ही कठिन साधना के साथ की जाती है । इस व्रत की तैयारी भाई दूज के पूजा के बाद शूरू होती है ‌। भाई दूज के दिन मिट्टी के चूल्हे बनाए जाते हैं , उसी दिन गेहूं भी धोए जाते हैं । पवित्रता इतनी रखनी पड़ती है जो किसी बच्चे का हाथ नहीं लगे या कोई जानवर नहीं आ जाए या खा नही जाए ।

बिहार समाज संगठन के महासचिव सुरेश पंडित ने बताया कि यह व्रत एक ऐसा व्रत जिसमें अमीर- गरीब का कोई भेद -भाव नहीं है । किसी को किसी तरह की बड़ी परेशानी होती है तो यह कहते हैं , परेशानी खत्म हो जाएगी तब पांच साल तक घर-घर जाकर भीख मांग कर हम यह व्रत करेंगे । आस्था इतनी होती है जैसे ही मनोकामना पूरी हुई वैसे ही नहाए - खाए के दिन सुबह - सुबह पांच घरों में जाकर छठ माता के लिए मांग कर लाते है । देने वाले भी बिना कुछ पूछे दे देते हैं । आपसी प्रेम को भी दर्शाता हुआ यह बहुत बड़ा व्रत है । गांव में व्रत में उपयोग में आने वाले जो भी समान किसी एक के पास है वह अपने आसपास के लोगों को भी दे देते हैं और यदि किसी कारणवश भूल गए तो वह खुद मांग कर ले जाते हैं । अब समय के बदलाव ने बहुत कुछ चेंज कर दिया है । पहले गरीबों को नई साड़ी और धोती व्रती को दुकान वाले भी देते थे लेकिन अब समय के अनुसार यह सब बदल गया है । शहर में जिसे कपड़ों का सेल बोलते हैं गांव के दुकान में कम पैसों में व्रत करने वाले तक पहुंचाने का एक जरिया बोलते हैं । अब कुछ लोग कहते हैं सेवा करने वाले को यह व्रत का फल मिलेगा , इस लिए पैसे से सामान लेने चाहिए ‌। तब देने वाले अच्छे हैं तो इसकी कीमत ना के बराबर कर देते हैं । नहाए - खाए के दिन लौकी में सेंधा नमक का प्रयोग किया जाता है बिहार समाज संगठन के तत्वावधान में डाला छठ पूजा महापर्व का आयोजन जयपुर के विभिन्न क्षेत्रो में किया जा रहा है । समाज के प्रवक्ता संजीव कुमार सिंह ने बताया कि समाज की ओर से मुख्य आयोजन हसनपुरा रोड एनबीसी कम्पनी के पीछे दुर्गा विस्तार कॉलोनी के सामने कृत्रिम जलाशय में खड़े होकर करेंगे । जयपुर शहर के विभिन्न कॉलोनीयो में रह रहे बिहार समाज के लोगो ने कानोता बांध , मुरलीपुरा, विश्वकर्मा, प्रताप नगर, करतारपुरा, राॅयल सिटी माचवा, बाईस गोदाम, गुर्जर की थड़ी, रामनगर, बड़ोदिया बस्ती, सैन कालोनी, बनीपार्क , सूतमिल कॉलोनी , संजय कालोनी पानी पेच, विधाधर नगर, हीरापुरा, गिरधारीपुरा 200 फीट बाई पास, गोपालपुरा, सांगानेर, हरीनगर सोडाला,बिहारी कालोनी, जमुना नगर विस्तार, पंचवटी कालोनी, किशनबाग, शास्त्री नगर, आदर्श नगर, बीस दुकान, तिलक नगर, जवाहर नगर, ट्रांसपोर्ट नगर, एवं जैतापुर आदि जगह पर बिहार समाज के बैनर तले बड़ी धूमधाम से इस महापर्व को मनाया जाएगा । यह पर्व आज से शुरू होगा । शनिवार को खरना का व्रत होगा । रविवार को अस्ताचलगामि सूर्य को पहला अर्घ्य अर्पित करेंगे ।



No comments:

Post a Comment

जेके सीमेंट लिमिटेड ने मध्य भारत में अपनी उत्पादन क्षमता का किया विस्तार - उज्जैन, मध्य प्रदेश में आगामी ग्राइंडिंग यूनिट की आधारशिला रखी

उज्जैन, 05 दिसम्बर 2022: जेके सीमेंट लिमिटेड भारत में ग्रे सीमेंट के अग्रणी निर्माताओं और दुनिया के सबसे बड़े व्हाइट सीमेंट निर्माताओं में स...