Wednesday, October 26, 2022

जगतपुरा जयपुर में स्थित श्री कृष्ण बलराम मंदिर में गोवर्धन पूजा व अन्नकूट महोत्सव मनाया गया


जयपुर | जगतपुरा स्थित श्री कृष्ण बलराम मंदिर में भव्य गोवर्धन पूजा व अन्नकूट महोत्सव मनाया गया | मंदिर के वृन्दावन उद्यान में गोवर्धन पूजा महोत्सव के अवसर पर विशाल गोवेर्धन पर्वत बनाया गया एवं भव्य रूप से सजाया गया एवं छप्पन भोग लगाया गया भगवान की गोवर्धन की लीला की झांकी सजाई गई, गो पूजा के लिए मंदिर की गोशाला की गायों को सजाया, संध्या में हरिनाम संकीर्तन के साथ दीपोत्सव एवं पालकी उत्सव मनाया गया | पौराणिक प्रथा के अनुसार विशेष अन्नकूट का भी आयोजन किया गया जहा मंदिर में आये हज़ारों भक्तो ने अन्नकूट प्रसादम लिया |

गोवर्धन की लीला

जब भगवान श्रीकृष्ण ने वृंदावन के निवासियों को इंद्र-यज्ञ की तैयारी करते देखा, तो उन्होंने सुझाव दिया कि उन्हें इंद्र की पूजा को त्याग देना चाहिए और इसके बजाय गोवर्धन की पूजा करनी चाहिए। इस पर, इंद्र क्रोधित हो गए और वृंदावन पर विनाशकारी वर्षा की । भगवान श्री कृष्ण ने अपनी छोटी उंगली से गोवर्धन पर्वत को उठाया और वृंदावन के सभी निवासियों को आश्रय दिया। 

हरे कृष्ण मूवमेंट जयपुर के अध्यक्ष श्री अमितासन दास ने बताया - दिवाली के त्योहार के अगले दिन गोवर्धन की पूजा की परंपरा द्वापर काल से चली आ रही है। आज यह त्यौहार पूरे विश्व में धूमधाम से मनाया जाता है | भगवान कृष्ण ने इंद्र के प्रकोप से हुई भारी वर्षा से ब्रजवासियों को उंगली पर गोवर्धन पर्वत को उठा कर उनकी रक्षा की थी। वही भगवान श्री कृष्ण इस कलियुग में हम सबकी रक्षा करने के लिए और हमारा उद्धार करने के लिए उनके नाम के रूप में अवतरित हुए हैं। अतः आप सभी से निवेदन है कि भगवान के पवित्र नाम हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे, हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे को प्रतिदिन कम से कम 108 बार जाप करें।जिस प्रकार दीपावली से पहले आप सभी ने घर की सफाई की , उसी प्रकार ये मंत्र हमारे हृदय के अंदर की सफाई करने में हमारी सहायता करेगा।

No comments:

Post a Comment

मंगलयान और चंद्रयान ने दिखाए बच्चों को अंतरिक्ष तक पहुंचने के सपने

-जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में हुआ तीन दिवसीय इसरो एग्जिबिशन का समापन - प्रिंसिपल मीट का हुआ आयोजन  जयपुर। जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में तीन दिवसीय ...