Thursday, October 20, 2022

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस ने वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में किया मजबूत प्रदर्शन

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस ने वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में वैल्यू ऑफ न्यू बिजनेस (वीएनबी) में 25.1फीसदी की मजबूत वृद्धि दर्ज की। लाभप्रदता का एक प्रमुख उपाय वीएनबी मार्जिन 31.0 फीसदी पर रहा वहीं पूर्ण वीएनबी  वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में करीब 10.92 अरब था।

वित्त वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही की समाप्ति पर वार्षिक प्रीमियम समतुल्य (एपीई) में क्रमिक रूप से 32 फीसदी की वृद्धि हुई, वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में 35.19 अरब रुपए का एपीई और 73.59 अरब का नया बिजनेस प्रीमियम था। वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में, प्रोटेक्शन बिजनेस सेगमेंट एपीई में साल-दर-साल 29.1 फीसदी की वृद्धि हुई, जिसके परिणामस्वरूप समग्र एपीई में 20.2 फीसदी प्रोटेक्शन मिक्स रहा। एक प्रमुख फोकस क्षेत्र एन्युइटी बिजनेस सेगमेंट से एपीई में साल-दर-साल 68.8 फीसदी की वृद्धि हुई। कम प्रवेश के कारण ये दोनों खंड विकास के महत्वपूर्ण अवसर प्रदान करते हैं। उत्पाद और वितरण मिश्रण के विविधीकरण ने कंपनी को बाहरी विकास के प्रभाव का प्रबंधन करने और उपभोक्ता की बदलती प्राथमिकताओं का एक चुस्त तरीके से जवाब देने में सक्षम बनाया है।

वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में कंपनी का न्यू बिजनेस सम एश्योर्ड 4.8 ट्रिलियन रुपए था, जो साल-दर-साल 42.3 फीसदी की वृद्धि थी, जिससे यह 15.7 फीसदी की बाजार हिस्सेदारी के साथ अपनी निजी बाजार नेतृत्व की स्थिति को बनाए रखने में सक्षम हो गया।

सभी समूहों में परसिस्टेंसी रेशो या निरंतरता अनुपात में सुधार हुआ है। 13वें महीने का अनुपात, जो व्यवसाय की गुणवत्ता का प्रतिनिधि है, वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही के लिए 85.9 फीसदी था, जो पिछले वर्ष की पहली छमाही की तुलना में 80 बीपीएस का सुधार है।

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस के एमडी और सीईओ श्री एन एस कन्नन ने कहा, ‘हमने वैल्यू ऑफ न्यू बिजनेस (वीएनबी) में 25.1 फीसदी की मजबूत साल-दर-साल वृद्धि हासिल की, जो वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही पर 10.92 अरब पर क्लोज हो रहा है। यह एपीई में वृद्धि के साथ-साथ 31 फीसदी के उद्योग के अग्रणी स्तरों के लिए मार्जिन विस्तार से प्रेरित था। इस मजबूत वीएनबी वृद्धि और आने वाले महीनों के लिए अनुकूल प्रीमियम आधार के साथ, हमें विश्वास है कि हम इस वित्तीय वर्ष के अंत तक अपने वित्त वर्ष 2019 वीएनबी को दोगुना करने के अपने उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए ट्रैक पर हैं।

एन्युइटी और प्रोटेक्शन के हमारे दो फोकस क्षेत्र ने भी इस अवधि में अच्छा प्रदर्शन किया है। एन्युइटी सेगमेंट ने वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में 69 फीसदी की साल-दर-साल वृद्धि का प्रभावशाली प्रदर्शन दिया है और इस अवधि में प्रोटेक्शन सेगमेंट ने एपीई में 20 फीसदी का योगदान दिया है। नियामक आवश्यकता से काफी ऊपर 200 फीसदी से अधिक के सॉल्वेंसी रेशो के साथ हम इस अवसर को भुनाने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं।

मजबूत प्रदर्शन ने हमें न्यू बिजनेस सम एश्योर्ड के आधार पर निजी क्षेत्र के मार्केट लीडर के रूप में अपनी स्थिति बनाए रखने में सक्षम बनाया है, जो कि सालाना आधार पर 42.3 फीसदी की वृद्धि के साथ 15.7 फीसदी की बाजार हिस्सेदारी के साथ बढ़ा है।

 

कंपनी का प्रदर्शन

वैल्यू ऑफ न्यू बिजनेस (वीएनबी)

वित्त वर्ष 2022 की पहली छमाही के 8.95 अरब से 25.1 फीसदी बढ़कर वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में वीएनबी 10.92 अरब हो गया। वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही के लिए वीएनबी मार्जिन 31.0 फीसदी हो गया जो कि वित्त वर्ष 2022 की पहली छमाही में 27.3 फीसदी था।

हमारी 4पी रणनीति पर प्रगति

प्रीमियम

न्यू बिजनेस प्रीमियम में साल-दर-साल 13.9 फीसदी की वृद्धि देखी गई, जो वित्त वर्ष 2022 की पहली छमाही के 64.61 अरब से बढ़कर वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में 73.59 अरब हो गई। एनुअल एपीई भी वित्त वर्ष 2022 की पहली छमाही के 1.38 अरब से वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में 2.33 अरब तक 68.8 फीसदी की मजबूत वृद्धि दर्ज की। कंपनी के पास अच्छी तरह से विविधतापूर्ण उत्पाद मिश्रण है जिसमें लिंक्ड सेविंग 40.8 फीसदी, पारंपरिक बचत 28.3 फीसदी, प्रोटेक्शन 20.2 फीसदी, वार्षिकी 6.6 फीसदी और शेष 4.1 फीसदी सेविंग प्रोडक्ट के लिए है।

प्रोटेक्शन

प्रोटेक्शन एपीई साल-दर-साल 29.1 फीसदी बढ़कर वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में 7.10 अरब हो गया। प्रोटेक्शन के साथ एपीई अब वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही के लिए कुल एपीई का 20.2 फीसदी है, जबकि वित्त वर्ष 2022 की पहली छमाही में यह 17.2 फीसदी था। एपीई में प्रोटेक्शन बिजनेस की हिस्सेदारी में लगातार वृद्धि देखी गई है।

 

परसिस्टेंसी

व्यापार की गुणवत्ता और ग्राहक प्रतिधारण में सुधार पर ध्यान केंद्रित करने के कारण परसिस्टेंसी रेशो या निरंतरता अनुपात में महत्वपूर्ण सुधार देखा गया है। विशेष रूप से, 13वें महीने और 49वें महीने का निरंतरता अनुपात वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही के लिए क्रमशः 85.9 फीसदी और 65.4 फीसदी था। प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियां (एयूएम) 30 सितंबर, 2021 को 2,370.87 अरब से बढ़कर 30 सितंबर, 2022 तक 2,442.79 अरब हो गई।

 

प्रोडेक्टिविटी

सेविंग बिजनेस के लिए कोस्ट/टीडब्ल्यूआरपी वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही के लिए 14.4 फीसदी थी, जबकि वित्त वर्ष 2022 की पहली छमाही में यह 11.8 फीसदी थी। वहीं वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में ओवरऑल कोस्ट रेशो 21.6þ था।

 

एंबेडेड वैल्यू (ईवी)

वर्ष के दौरान 8.1 फीसदी की वृद्धि दर्ज करते हुए, 30 सितंबर, 2022 तक ईवी 326.48 अरब रुपए था। इनफोर्स बिजनेस का मूल्य साल-दर-साल 16.4 फीसदी बढ़ा और 30 सितंबर, 2022 तक 247.97 अरब रुपए रहा।

 

No comments:

Post a Comment

मंगलयान और चंद्रयान ने दिखाए बच्चों को अंतरिक्ष तक पहुंचने के सपने

-जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में हुआ तीन दिवसीय इसरो एग्जिबिशन का समापन - प्रिंसिपल मीट का हुआ आयोजन  जयपुर। जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में तीन दिवसीय ...