Tuesday, September 20, 2022

पच्चीस हजार रुपए प्रति परिवार मुआवजा घोषित


मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश के बाद जयपुर कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित दे रहे रावण पुतला बनाने वाले कारीगरों को राहत

जयपुर। राजस्थान की सबसे बड़ी रावण मंडी में रावण के भाव बढ़ते जा रहे हैं और रावण की मांग भी बढ़ती जा रही है। तेजी से फैलते नफरत के बीच में अब राम का नाम अधिकतर लोग सिर्फ राजनीति के लिए ले रहे हैं वहीं दशहरे के दिन लोग चर्चा भी अधिक से अधिक रावण की ही करते हैं ,राम गौण हो जाता है। 

यह कहना है राजस्थान रावण पुतला निर्माता संघ के प्रदेश अध्यक्ष जगदीश महाराज का। पिछले तीन वर्ष से कोरोना काल के चलते दशहरा नहीं मना पाने की वजह से पहले से ही तंगहाली में जी रहे एकमात्र रावण मंडी बस्ती को पिछले वर्ष भू माफियाओं ने जला दिया जलकर खाक हुई इस बस्ती ने बमुश्किल चलना सीखा है और आज जब आसपास के प्रदेशों में दशहरा नहीं मनाया जा रहा है तब इस बस्ती पर अधिक से अधिक रावण के पुतले बनाकर देने की जिम्मेदारी है लेकिन इस बस्ती के पास रावण बनाने की सामग्री खरीदने के भी पैसे नहीं है ऐसे में अखबार की रद्दी तथा बांस आदि खरीद नहीं पाने के कारण इस बार रावण भी कम ही उपलब्ध हो पाएंगे। वही बढ़ती महंगाई ने भी रावण के पुतले को अब महंगे दामों में बिकने के लिए मजबूर कर लिया है अर्थात एक और जहां राम की मूल्य में गिरावट हो रही है वहीं लोगों के दिमाग में रावण ही छाया हुआ है और लोग अभी से मानसरोवर मेट्रो स्टेशन स्थित रावण मंडी में आकर रावण के पुतले के ऑर्डर देने लगे हैं।

राजस्थान सरकार ने इस बस्ती के प्रत्येक परिवार को पच्चीस हजार रुपए मुआवजा राशि देने की घोषणा की है लेकिन घुमंतु अर्ध घुमंतु तथा विमुक्त जाति परिषद के प्रदेश अध्यक्ष रतन नाथ कालबेलिया का कहना है कि यह पैसा दशहरे से पहले मिल जाता तो रावण का पुतला बनाने के कच्चे माल खरीदने में इन गरीब लोगों के काम आ जाता।

लंबे समय से सरकारी भूमि पर बसे इस जमीन को मुख्यमंत्री द्वारा पट्टे देने की घोषणा के बावजूद जयपुर विकास प्राधिकरण के लोग भू माफियाओं के साथ मिलीभगत कर गलत तथ्य पेश कर अदालत को गुमराह कर इनकी बस्ती की बेशकीमती भूमि हड़पने की साजिश कर रहे हैं जिसे जयपुर जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित की सजगता ने बचाया हुआ हैं यही नहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देशानुसार जयपुर जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित जयपुर जिले में खानाबदोश रह रही घुमंतू जातियों को पुनर्वास करने के कार्य में जोर शोर से लगे हुए हैं इस दिशा में हर सप्ताह जयपुर जिला कलेक्ट्रेट में घुमंतु जातियों के नेताओं तथा जयपुर विकास प्राधिकरण, नगर निगम तथा जयपुर कलेक्ट्रेट के एडीएम बीरबल सिंह के नेतृत्व में किए जाने वाले कार्यों की समीक्षा कर प्रगति रिपोर्ट मुख्यमंत्री को भिजवाई जा रही है।

No comments:

Post a Comment

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वी 5 जी डिजिटल ट्विन पर दिल्ली मेट्रो टनल साईट के मजदूरों से की बातचीत; इस डिजिटल ट्विन को भारत में मजदूरों की सुरक्षा के लिए डिज़ाइन किया गया है

03   अक्टूबर ,2022:   भविष्य   की   ओर   कदम   बढ़ाते   हुए   वोडाफ़ोन   आइडिया   लिमिटेड   ने   आज   देश   की   राजधानी   में   इंडिया   मोबा...