Wednesday, September 28, 2022

यूटीआई निफ़्टी नेक्स्ट 50 इंडेक्स फंड-एक फंड जो बड़े कैप के भीतर अवसरों की तलाश करता है और जिसमें अच्छी संभावनाएं होती हैं

दुनिया भर में आम तौर पर यहो प्रचलित है कि इक्विटी बेंचमार्क इंडेक्स को देश के फाइनेंसियल हेल्थ के इंडिकेटर के रूप में देखा जाता है। हमारे घरेलू बाजार के मामले में, निफ्टी 50 इंडेक्स को तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था की ताकत को मापने के लिए बैरोमीटर माना जाता है. निफ्टी 50 इंडेक्स बाजार पूंजीकरण (market capitalization) द्वारा टॉप 50 कंपनियों के वेटेज एवरेज को दर्शाता है जो नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) में लिस्टेड है। हालांकि, इन टॉप 50 कंपनियों के अलावा, कई अन्य लार्ज-कैप स्टॉक (बाजार पूंजीकरण के नजरिये से 100 स्टॉक तक) हैं, जिनमें अपार विकास क्षमता है और जो संभवतः निफ्टी 50 इंडेक्स के संभावित कैंडिडेट हो सकते हैं।

निफ्टी नेक्स्ट 50 इंडेक्स का लक्ष्य टॉप 100 कंपनियों की लार्ज-कैप कंपनियों की लिस्ट में अगले 50 के प्रदर्शन को मापना है, जो फ्री-फ्लोट ,मार्केट कैपिटलाइजेशन के आधार पर टॉप 50 कंपनियों के बाद आती हैं। वित्तीय मामलों के जानकार अक्सर सलाह देते हैं कि निवेशकों को उन फंडों में, दूसरे शब्दों में अच्छी तरह से डाइवर्सिफाइड फंड में निवेश करना चाहिए जो बाजारों के पूरे स्पेक्ट्रम पर कब्जा कर लेते हैं। कोई भी लार्ज कैप फंडों की ओर आकर्षित होता है क्योंकि वे वैकल्पिक रूप से बाजार पूंजीकरण के 80-85% से कहीं भी कवर कर लेते हैं। हालांकि लार्ज कैप बड़े बाजारों/सूचकांकों का प्रतिनिधित्व करते हैं, पर निवेशकों को यह समझना चाहिए कि ये फंड हमेशा स्पेक्ट्रम में अवसरों को प्रतिबिंबित या कैप्चर नहीं करते हैं। पूरे स्पेक्ट्रम में विभिन्न बाजार पूंजीकरण, विभिन्न निवेश दृष्टिकोण (ग्रोथ vs वैल्यू) या यहां तक कि ओवरआल मार्केट्स के कुछ क्षेत्रों में चक्रीयता (cyclicality) समाहित हो सकती हैं। यह विसंगति या बल्कि विविध बाजार की गतिशीलता फंड मैनेजरों को बाजार पूंजीकरण स्पेक्ट्रम और निवेश शैलियों में अद्वितीय अवसरों के लिए अच्छे अवसर प्रदान करती है और साथ ही यह सुनिश्चित करती है कि पोर्टफोलियो रिस्क कम से कम हो।

यूटीआई वैल्यू अपॉर्चुनिटीज फंड एक ऐसा फंड है जो ऐसे अवसरों की तलाश करता है जो किसी दिए गए स्टॉक के सापेक्ष आंतरिक मूल्य ( relative intrinsic value) के संदर्भ में व्यक्त किए जाते हैं। इसका मतलब है कि इन्वेस्टमेंट के वैल्यू स्टाइल का पालन करना और बाजार पूंजीकरण में, जहां "वैल्यू" चीजों को उनके आंतरिक मूल्य से कम पर खरीद रहा है। आंतरिक मूल्य केवल कैश फ्लो का वर्तमान मूल्य है जो कंपनी अपने शेयरधारकों के लिए एक समय में जनरेट करती है। अंडरवैल्यूड बिजनेस के पहलू होते हैं। एक तरफ, मार्केट प्रतिस्पर्धी लाभों (competitive advantages) की स्थिरता या कंपनी के लिए ग्रोथ रनवे को कम आंक सकता है। ये कंपनियां चक्रीयता (cyclicality) और उलटने (reversion) के मानदंड को धता बताती हैं। स्पेक्ट्रम के दूसरे छोर पर ऐसी कंपनियां हैं जो साइक्लीकल फैक्टर्स, वातावरण में बदलाव या अपने स्वयं के पिछले कार्यों के कारण चुनौतियों का सामना कर रही हैं। लेकिन अगर मुख्य व्यवसाय स्वस्थ है और बेहतर भविष्य (कैश फ्लो, रिटर्न रेश्यो) का रास्ता दिखाई दे रहा है, तो उनका कम वैल्यूएशन एक आकर्षक एंट्री पॉइंट प्रदान करता है। दोनों ही मामलों में अवसर उम्मीदों के अनुरूप कुछ सस्ता खरीदने का होता है।

यूटीआई निफ्टी नेक्स्ट 50 इंडेक्स फंड को वर्ष 2018 में लॉन्च किया गया था। फंड का एयूएम 30 जून, 2022 तक 2,000 करोड़ रूपये है और इससे 4.73 लाख यूनिट धारक जुड़े हैं। हालाँकि पोर्टफोलियो एक्सपोजर इसे केवल लार्ज कैप तक सीमित करता है, पर फंड दिए गए यूनिवर्स के भीतर कई विषयों के साथ अलग-अलग बिजनेस के लिए एक्सपोजर प्रदान करता है। 31 अगस्त, 2022 को निफ्टी 50 इंडेक्स में उक्त सेक्टर के 37% एक्सपोजर के मुकाबले फंड का वित्तीय सेवाओं में लगभग 20% एक्सपोजर है, हालांकि अगर हम सेक्टर के भीतर एक्सपोजर देखते हैं तो पाते हैं की वित्तीय सेवाओं में निफ्टी 50 एक्सपोजर काफी हद तक प्रतिबंधित है बैंकों और एनबीएफसी, निफ्टी नेक्स्ट 50 में व्यवसायों का एक्सपोजर एनबीएफसी, हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों, एसेट मैनेजमेंट कंपनियों और जीवन और सामान्य बीमा कंपनियों के लिए भिन्न भिन्न है। स्कीम जो निफ्टी नेक्स्ट 50 इंडेक्स पर आधारित एक इंडेक्स फंड है, स्टॉक के साथ-साथ सेक्टोरल दोनों स्तरों पर एक डाइवर्सिफाइड पोर्टफोलियो प्रदान करता है, जहां टॉप होल्डिंग का वेट 6% है और टॉप सेक्टर में 20% है जो कि निफ्टी 50 में 11% और 37% (स्टॉक और सेक्टर) एक्सपोजर है।

यूटीआई निफ़्टी नेक्स्ट इंडेक्स फंड उन इक्विटी निवेशकों के लिए उपयुक्त हो सकता है जो लार्जकैप यूनिवर्स के भीतर अलग-अलग बिजनेस के साथ अपने इक्विटी पोर्टफोलियो का निर्माण करना चाहते हैं और लॉन्ग टर्म में कैपिटल अप्प्रीसियेशन चाहते हैं। यह फंड हाई रिस्क वाले निवेशकों के लिए भी उपयुक्त है, जो बाजार की स्थितियों के अधीन मध्यम से लंबी अवधि में उचित रिटर्न की तलाश में हैं।

No comments:

Post a Comment

जेके सीमेंट लिमिटेड ने मध्य भारत में अपनी उत्पादन क्षमता का किया विस्तार - उज्जैन, मध्य प्रदेश में आगामी ग्राइंडिंग यूनिट की आधारशिला रखी

उज्जैन, 05 दिसम्बर 2022: जेके सीमेंट लिमिटेड भारत में ग्रे सीमेंट के अग्रणी निर्माताओं और दुनिया के सबसे बड़े व्हाइट सीमेंट निर्माताओं में स...