Thursday, August 18, 2022

CASE India ने भारत में 50,000वें लोडर बैकहो के उत्पादन के साथ महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की

CNH Industrial के ब्रांड, CASE कंस्ट्रक्शन इक्विपमेंट ने मध्य प्रदेश के पीथमपुर स्थित अपने उत्कृष्ट संयंत्र से 50,000वें लोडर बैकहो के उत्पादन को पार करके महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है। CASE लोडर बैकहो को उनकी बहुपयोगिता, विश्वसनीयता, उत्पादनशीलता, लचीलेपन, सुरक्षा और ऑपरेटर आराम के लिए जाना जाता है।

वर्ष 1989 में इंदौर के पास पीथपुर में निर्मित, यह संयंत्र लोडर बैकहो, कॉम्पेक्टर्स और क्रॉलर-एक्सकेवेटर सहित उन्नत कंस्ट्रक्शन उपकरणों की पूरी श्रृंखला का निर्माण करता रहा है। अभी, यह संयंत्र भारत और अफ्रीका और मध्य पूर्व, एशिया प्रशांत क्षेत्र और लैटिन अमेरिका के बाजारों के 75 से अधिक देशों के लिए निर्माण उपकरण की आवश्यकता को पूरा करता है।

इस महत्वपूर्ण उपलब्धि पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, श्री फैब्रिजियो सेपोलिना, वाइस प्रेसिडेंट, अफ्रीका, मध्य पूर्व और एशिया प्रशांत - इंडस्ट्रियल कंस्ट्रक्शन सेगमेंट, CNH Industrial ने कहा, "CASE 1957 से लोडर बैकहो का निर्माण कर रहा है, जब उद्योग के पहले फैक्ट्री एकीकृत लोडर बैकहो का उत्पादन CASE द्वारा किया गया था। आज, TLB की हमारी नवीनतम रेंज उत्कृष्टता को नई सीमाओं तक ले जाती है। CASE विश्व स्तर पर अपनी बेहतरीन गुणवत्ता वाली मशीनों के लिए जाना जाता है, जो हमें निर्माण उपकरण उद्योग में अग्रणी ब्रांडों में से एक बनाती हैं। यह हमारे लिए गर्व का क्षण है, और हम अपने सुसज्जित पीथमपुर संयंत्र को CASE उत्पादों के लिए एक वैश्विक विनिर्माण केंद्र बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं। यह संयंत्र पहले से ही भारत सहित करीब 80 देशों की मांग को पूरा कर रहा है। यहां से हमारा लक्ष्य अतिरिक्त बाजारों में निर्यात की मात्रा को और अधिक बढ़ाना है।"

इस अवसर पर बोलते हुए, CNH कंस्ट्रक्शन इक्विपमेंट इंडिया के प्रबंध निदेशक, श्री सुनील पुरी ने कहा, “30 से अधिक वर्षों से, CASE India पीथमपुर में निर्मित विश्वस्तरीय गुणवत्ता वाली मशीनों को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय बाजारों में उपलब्ध करा रहा है। भारत में, हम सरकार की मेक-इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत जैसी पहलों के साथ पूरी तरह से जुड़े हुए हैं, हमारे लोडर बैकहो 90% स्वदेशी हैं। 50,000वें लोडर बैकहो रोल-आउट की यह उल्लेखनीय उपलब्धि ब्रांड और हमारे उत्पादों में हमारे ग्राहकों के विश्वास का प्रमाण है। हम हमारे सम्मानित ग्राहकों, डीलरों एवं वेंडर पार्टनर्स को धन्यवाद देते हैं जिन्होंने हमें समर्थन दिया और हम भविष्य में ऐसे कई मील के पत्थर हासिल करने की आशा करते हैं।"

श्री सतेंद्र तिवारी, प्लांट हेड - CASE कंस्ट्रक्शन, इंडिया ने कहा, "CASE India उत्कृष्ट मशीनें प्रदान करने के लिए लगातार काम कर रहा है और इसने समय के साथ विकसित होने की हमारी क्षमता को साबित किया है। ब्रॉन्ज़ प्रमाणित वर्ल्ड क्लास मैन्युफैक्चरिंग (डब्ल्यूसीएम) हाई-टेक संयंत्र, घरेलू और निर्यात मांग दोनों को कुशलतापूर्वक पूरा करने के लिए कर्मचारी सुरक्षा के साथ-साथ उत्पाद की गुणवत्ता और सटीकता पर ध्यान देने हेतु अच्छी तरह से स्वचालित है। हम देश में अपने एकमात्र संयंत्र से सर्वोत्तम पद्धतियों का पालन करने और गुणवत्तापूर्ण उत्पाद प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। 50,000वां लोडर बैकहो रोलआउट CASE India में हमारे लिए गर्व का क्षण है, और यह हमारी क्षमता की पुष्टि करता है और हमें हमारे ग्राहकों के लिए बहुपयोगी मशीनों का उत्पादन जारी रखने के लिए प्रोत्साहित करता है।"

CASE कंस्ट्रक्शन का पीथमपुर में एक बड़ा अनुसंधान और विकास संयंत्र है। CASE के इंजीनियर यह सुनिश्चित करने के लिए लगातार काम करते हैं कि मशीनें नियमित रूप से अपग्रेड हों और भविष्य के लिए तैयार हों। CASE की विचारधारा में व्यक्ति, प्रक्रिया और ग्रह सभी एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। कार्बन उत्सर्जन को कम करने में योगदान देने वाले हमारे स्थिरता लक्ष्यों के हिस्से के रूप में, कंपनी ने अपने पीथमपुर संयंत्र में सौर पैनल स्थापित किए हैं जो प्राकृतिक स्रोत के माध्यम से संयंत्र की ऊर्जा की 25% आवश्यकता पूरी करने में मदद करेंगे।

CASE, संबंधित श्रेणी में अग्रणी BS-IV अनुपालक लोडर बैकहो प्रदान करता है जो तकनीकी रूप से श्रेष्ठ हैं। CASE कंस्ट्रक्शन ने हाल ही में विश्व स्तर पर 180वीं वर्षगांठ मनाई और इस अवसर पर, ब्रांड ने शीघ्र संपन्न एक्सकॉन 2021 व्यापार मेला में उत्पादों की रेंज लॉन्च की। उत्पादों की रेंज में बिल्कुल नया, अत्यधिक बहुपयोगी, 49.5 hp 770NXe लोडर बैकहो शामिल है। इसके अलावा, कंपनी ने वित्तीय संसाधन के अभाव से जूझ रहे उत्साही युवाओं के लिए लोडर बैकहो परिचालन पर निःशुल्क प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए हाल ही में कौशल विकास केंद्र का उद्घाटन किया। यह पहल हर साल 240 पेशेवरों को प्रशिक्षण देकर केंद्र सरकार के कौशल भारत मिशन में योगदान कर रही है। 1200 वर्ग फुट के संयंत्र में सिद्धांत वर्ग और परामर्श के लिए समर्पित दो कक्षाएं शामिल हैं। यह केंद्र पीथमपुर के पास सोनवई, राऊ में स्थित है। छात्रों का पहला बैच अभी-अभी स्नातक हुआ है और रोजगार के लिए तैयार है।

No comments:

Post a Comment

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वी 5 जी डिजिटल ट्विन पर दिल्ली मेट्रो टनल साईट के मजदूरों से की बातचीत; इस डिजिटल ट्विन को भारत में मजदूरों की सुरक्षा के लिए डिज़ाइन किया गया है

03   अक्टूबर ,2022:   भविष्य   की   ओर   कदम   बढ़ाते   हुए   वोडाफ़ोन   आइडिया   लिमिटेड   ने   आज   देश   की   राजधानी   में   इंडिया   मोबा...