Saturday, August 20, 2022

एमएसएमई कर्ज डिसबर्समेंट में आई तेजी, जबकि कर्ज गुणवत्ता रही स्थिर

मुंबई, 20 अगस्त, 2022- ट्रांसयूनियन सिबिल-सिडबी एमएसएमई पल्स रिपोर्ट के नवीनतम संस्करण से पता चलता है कि एमएसएमई क्षेत्र में ऋण डिसबर्समेंट महामारी से पहले के स्तरों की तुलना में दोगुना हो गया है, यह दर्शाता है कि ऋणदाता बढ़ती ऋण मांग का समर्थन करने की स्थिति में हैं। कुल मिलाकर, एमएसएमई क्रेडिट एक्सपोजर मार्च’22 तक 23.12 लाख करोड़ रुपए था, जो साल-दर-साल 6.3 फीसदी की वृद्धि दर को दर्शाता है। मार्च 2022 में लाइव एमएसएमई उधारकर्ताओं की कुल संख्या में सालाना 6 फीसदी की वृद्धि हुई।

 

ऋण मांग और आपूर्ति में तेजी जारी रही

विश्लेषण से पता चलता है कि महामारी की दूसरी लहर के बाद एमएसएमई ऋण की मांग उत्तरोत्तर बढ़ रही है, वर्तमान मांग के साथ पूर्व-कोरोना ​​​​चरण की तुलना में 1.6 गुना मांग बढ़ी है। आर्थिक और व्यावसायिक गतिविधियों में सुधार के कारण पिछले वर्ष वाणिज्यिक ऋण पूछताछ में तेजी आई है। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (पीएसबी) ने पूछताछ में 1.6 गुना वृद्धि देखी है जबकि निजी बैंकों (प्राइवेट) ने पूर्व-कोरोना चरण की तुलना में 1.7 गुना की वृद्धि देखी है। वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही में दूसरी महामारी की लहर के बाद गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) ने रिकवरी के रुझान दिखाए। एनबीएफसी ने प्री-कोविड चरण की तुलना में पूछताछ में 1.4 गुना वृद्धि दिखाई।

एमएसएमई पल्स के इस संस्करण के निष्कर्षों पर बोलते हुए सिडबी चैयरमैन और मैनेंजंग डायरेक्टर श्री शिवसुब्रमण्यम रमन ने कहाः ‘एमएसएमई पल्स के इस संस्करण में कर्ज की मांग और आपूर्ति पर अंतर्दृष्टि कहती है कि ईसीएलजीएस के माध्यम से समय पर नगदी पोषण ने एमएसएमई क्षेत्र को पुनरुत्थान की दिशा में मजबूत किया है। उधारदाताओं ने ईसीएलजीएस को सफलतापूर्वक निष्पादित किया है और सभी एमएसएमई क्षेत्रों को समय पर सहायता प्रदान की है। इस निवेश के साथ, एमएसएमई व्यापार विकास को तेजी से बढ़ा सकते हैं।’

इसी निष्कर्ष को आगे बढ़ाते हुए ट्रांसयूनियन सिबिल के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ श्री राजेश कुमार ने कहाः ‘सभी क्षेत्रों में एमएसएमई क्रेडिट की मांग में वृद्धि आर्थिक पुनरुत्थान के लिए अच्छा संकेत देती है। इस मांग को चतुराई से पूरा करके ऋणदाता वित्तीय समावेशन के साथ-साथ सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि में योगदान करते हुए अपने पोर्टफोलियो का विकास कर सकते हैं। एमएसएमई सही एंगल के साथ सूचना के कई स्रोतों का सहारा लेते हुए अपने पुनरुत्थान को और मजबूत कर सकते हैं। एमएसएमई के बारे में एक समृद्ध दृष्टिकोण प्रदान करने वाली मजबूत सूचना अवसंरचना भारत के एमएसएमई क्षेत्र के सतत और दीर्घकालिक विकास को बढ़ाने के लिए आवश्यक आधारशिला का निर्माण कर सकती है।’

 

Exhibit 1. Mapping India’s MSME credit through the MSME Pulse lens

Demand(Commercial Credit Inquiry Volumes)

FY 21-Q4

FY 22-Q4

YoY Growth (%)

13.2 Lakhs

16.5 Lakhs

25%

Supply(MSME Disbursement Amounts (In ₹ Lakh Crore )

FY 21-Q4

FY 22-Q4

YoY Growth (%)

2.28

3.25

43%

Growth (Balance-Sheet MSME Credit Exposure (In ₹ Lakh Crore)

FY 21

FY 22

YoY Growth (%)

21.8

23.1

6%

Performance (NPA Rate)

Mar ‘21

Mar ‘22

YoY Change (%)

12.0%

12.8%

12.6%

 

वित्त वर्ष 2022-की चौथी तिमाही में कुल एमएसएमई ऋण संवितरण में 43 फीसदी सालाना वृद्धि हुई जो उधारदाताओं द्वारा मांग में वृद्धि का अच्छी तरह से समर्थन है। कोरोना-पूर्व चरण (वित्त वर्ष 2020-चौथी तिमाही) की तुलना में, वित्त वर्ष 2022-चौथी तिमाही में सभी तीन एमएसएमई सेगमेंट में वितरण लगभग दोगुना हो गया है। वित्त वर्ष 2021 से वित्त वर्ष 2022 तक माइक्रो, स्मॉल और मीडियम सैगमेंट में वितरण क्रमशः 19 फीसदी, 33 फीसदी और 38 फीसदी की वृद्धि हुई।

एनपीए दर का विश्लेषण मार्च’22 में एमएसएमई एनपीए के समग्र स्तर 12.8 फीसदी के साथ मामूली वृद्धि का संकेत देता है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि एनपीए का स्तर ऐतिहासिक संचय के कारण उच्च प्रतिशत को दर्शाता है। एनपीए के पुराने विश्लेषण पर प्रकाश डाला गया है कि 90+ डे-पास्ट-ड्यू (डीपीडी) में कुल शेष राशि, मार्च 2017 तक उत्पन्न खातों के 70 फीसदी से संबंधित है। एमएसएमई सेगमेंट में एनपीए ने मार्च ’21 के बाद से ऊपर की ओर रुझान दिखाया है। वित्त वर्ष 21 के तीसरी तिमाही तक, माइक्रो सेगमेंट (वित्त वर्ष 20-चौथी तिमाही में लगभग 9 फीसदी) की एनपीए दर एमएसएमई के स्मॉल सेगमेंट (वित्त वर्ष 20-चौथी तिमाही में लगभग 9 फीसदी) के समान थी। हालांकि, यह प्रवृत्ति अब यह दर्शाती है कि कोरोना ने माइक्रो सेगमेंट को सबसे अधिक प्रभावित किया है। ऋणदाता प्रकार के विश्लेषण से पता चलता है कि निजी बैंकों की एनपीए दर (वित्त वर्ष 2022-चौथी तिमाही में 5.6 फीसदी) वित्त वर्ष 2021-चौथी तिमाही के बाद से स्थिर बनी हुई है। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (वित्त वर्ष 2022-चौथी तिमाही में 20.8 फीसदी और एनबीएफसी (9.6 फीसदी) ने हालांकि वित्त वर्ष 2011 की तीसरी तिमाही के बाद एनपीए दर में वृद्धि का प्रदर्शन किया है। एनबीएफसी खंड के लिए एनपीए दर पिछले 2 वर्षों में स्थिर दर से बढ़ती रही।

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने अधिकतम पुनर्रचित खातों की सूचना दी

एमएसएमई पल्स के इस संस्करण में पुनर्रचित ऋण खातों पर एक अध्ययन शामिल है, जिसे भारतीय रिजर्व बैंक की अधिसूचना’ के संदर्भ में ट्रांसयूनियन सिबिल कमर्शियल ब्यूरो को रिपोर्ट किया गया है। इस आदेश का पालन करते हुए, ऋणदाताओं ने ‘कोविड-19 के कारण पुनर्गठित’ टैग के तहत पुनर्रचित ऋणों की सूचना दी है। पुनर्रचित खातों पर आधारित अध्ययन अंतर्दृष्टि से पता चलता है कि मार्च ’22 तक, 2.7 लाख क्रेडिट खातों को एमएसएमई सेगमेंट (50 करोड़ से कम का कुल बकाया) में कोविड-19 के कारण पुनर्गठित के रूप में टैग किया गया है, जो उसी समय अवधि में रिपोर्ट किए गए कुल लाइव एकाउंट का लगभग 2.3 फीसदी है। संतुलन के नजरिए से यह 0.35 लाख करोड़ रुपये का गठन करता है जो मार्च ’22 तक कुल एमएसएमई बकाया राशि का लगभग 1.5 फीसदी है।

पुनर्गठित ऋणों के बैंक प्रकार के विश्लेषण से संकेत मिलता है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने ट्रांसयूनियन सिबिल कमर्शियल ब्यूरो को सबसे अधिक पुनर्रचित खातों की सूचना दी, उसके बाद निजी बैंकों और एनबीएफसी का स्थान है।

सिबिल रैंक (सीएमआर) आधारित विश्लेषण आगे दर्शाता है कि उच्च जोखिम वाली संस्थाएं (सीएमआर-7 से सीएमआर-10) में पुनर्रचित खातों का 57 फीसदी हिस्सा है, वहीं मध्यम जोखिम वाली संस्थाओं (सीएमआर-4 से सीएमआर-6) में 28 फीसदी और कम जोखिम वाली संस्थाओं (सीएमआर-1 से सीएमआर-3) में 16 फीसदी है। यह स्पष्ट रैंक क्रम दर्शाता है कि सिबिल एमएसएमई रैंक (सीएमआर) तनावग्रस्त पोर्टफोलियो की पहचान करने में सक्षम है और ऋणदाताओं को जोखिम प्रबंधन के दृष्टिकोण से समय पर सुधारात्मक कार्रवाई करने में सक्षम बनाता है।

ऋणों के प्रकार के संदर्भ में, यह देखा गया कि कार्यशील पूंजी ऋणों की तुलना में सावधि ऋणों का पुनर्गठन अधिक किया जाता है। यह प्रवृत्ति शुभ संकेत दे रही है और इसका मतलब है कि एमएसएमई कैश क्रेडिट (सीसी) या ओवरड्राफ्ट ऋणों के माध्यम से अपनी नगदी का विवेकपूर्ण प्रबंधन कर रहे हैं। बड़े आकार की एमएसएमई संस्थाओं की तुलना में सूक्ष्म और छोटी संस्थाओं का पुनर्गठन खातों का 76 प्रतिशत है, जो ब्यूरो में ऐसे ऋणों के उच्च अनुपात से भी प्रेरित है।

निष्कर्ष रूप में राजेश कहते हैं, ‘छोटे और मध्यम व्यवसाय भारत के आर्थिक इंजन की रीढ़ हैं और सतत आर्थिक विकास के लिए उत्प्रेरक हैं। इसलिए आसानी से और जल्दी से किफायती वित्तीय अवसरों तक पहुंचने के लिए एक अनुकूल पारिस्थितिकी तंत्र के साथ उनका समर्थन करना महत्वपूर्ण है। सार्थक अंतर्दृष्टि और डिजिटलीकरण के नेतृत्व वाले ढांचे को बनाने के लिए नियामकों, क्रेडिट संस्थानों और व्यापक उद्योग के साथ सहयोग करके, हम वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने में मदद करते हुए एमएसएमई को वित्तीय अवसरों तक अधिक पहुंच बनाने में सक्षम बनाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।’

No comments:

Post a Comment

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वी 5 जी डिजिटल ट्विन पर दिल्ली मेट्रो टनल साईट के मजदूरों से की बातचीत; इस डिजिटल ट्विन को भारत में मजदूरों की सुरक्षा के लिए डिज़ाइन किया गया है

03   अक्टूबर ,2022:   भविष्य   की   ओर   कदम   बढ़ाते   हुए   वोडाफ़ोन   आइडिया   लिमिटेड   ने   आज   देश   की   राजधानी   में   इंडिया   मोबा...