Tuesday, August 30, 2022

इसीएलजीएस भारत में एमएसएमई पुनरुद्धार में योगदान देना जारी रखेगा

मुंबई, 30 अगस्त, 2022- इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम (ईसीएलजीएस) भारतीय व्यवसायों को कोविड-19 के कारण हुए आर्थिक संकट से निपटने में मदद करने में सफल रही है. महामारी के दौरान और बाद में एमएसएमई के पुनरुद्धार को उत्प्रेरित कररही है. यह तथ्य 31 मार्च 2022 तक किए गए ईसीएलजीएस संवितरण के आधार पर ऋण प्रवाह और उधारकर्ता व्यवहार और प्रदर्शन में परिवर्तन को ले कर ट्रांसयूनियन सिबिल स्टडी के दूसरे संस्करण में सामने निकल कर आया है.

ट्रांसयूनियन सिबिल स्टडी नेशनल क्रेडिट गारंटी ट्रस्टी कंपनी लिमिटेड द्वारा प्रदान किए गए ईसीएलजीएस डेटा पर आधारित है. ईसीएलजीएस स्कीम मई 2020 में आत्मानिर्भर भारत अभियान के तहत शुरू की गई थी, और इसे 5 लाख करोड़ रूपये के साथ 31 मार्च 2023 तक विस्तारित किया गया है. अतिरिक्त 50,000 करोड़ रुपये आतिथ्य और संबंधित क्षेत्रों में उद्यमों को उपलब्ध कराया जाएगा.

इस स्कीम ने एमएसएमई** सेगमेंट में स्थायी पुनरुत्थान को उत्प्रेरित किया है

अध्ययन में इस बात पर प्रकाश डाला गया है कि ईसीएलजीएस के माध्यम से अतिरिक्त तरलता ने न केवल एमएसएमई को कोविड-19 के प्रारंभिक चरण के दौरान अपने व्यवसाय को पुनर्जीवित करने में सक्षम बनाया, बल्कि उनके उद्यमों को भी बढ़ाया क्योंकि आर्थिक गतिविधि सामान्य होने लगी थी. ईसीएलजीएस का लाभ उठाने के बाद से चार तिमाहियों के दौरान, प्रति उधारकर्ता खोले गए नए ट्रेडों की औसत संख्या में केवल 6% की तुलना में ईसीएलजीएस का लाभ उठाने वाले पात्र उधारकर्ताओं के लिए 6% की वृद्धि हुई. इसके अतिरिक्त, ईसीएलजीएस ने कपड़ा और खाद्य प्रसंस्करण जैसे श्रम गहन उद्योगों के साथ-साथ सेवाओं, व्यापारियों और निर्माण जैसे संपर्क गहन-, गतिशीलता- और उपभोग-निर्भर क्षेत्रों को पुनर्जीवित करने में महत्वपूर्ण रूप से मदद की है.

इस स्टडी के दूसरे संस्करण के निष्कर्षों पर बोलते हुए, ट्रांसयूनियन सिबिल के एमडी और सीईओ, श्री राजेश कुमार ने कहा, “महामारी के बाद पैदा हुई तरलता की कमी, इनफ्लो की कमी के कारण, जबकि अनिवार्य आउटफ्लो की निरंतरता, व्यवसायों के लिए संभावित खतरा पैदा कर सकती थी. ईसीएलजीएस के माध्यम से समय पर प्रदान किए गए इन्फ्यूजन ने भौगोलिक क्षेत्रों में व्यवसायों के पुनरुत्थान में महत्वपूर्ण रूप से मदद की है. साथ ही एमएसएमई ऋण देने से एनपीए को नियंत्रित करने में मदद मिली है. इसीएलजीएस सुविधा का लाभ उठाने वाले उधारकर्ताओं के लिए 4.8% की एन पी ए दर उन उधारकर्ताओं की तुलना में कम है जो पात्र थे लेकिन जिन्होंने सुविधा का लाभ नहीं उठाया (6.1%)”.”

एक अन्य महत्वपूर्ण अध्ययन निष्कर्ष यह है कि ईसीएलजीएस का लाभ उठाने वाले उधारकर्ताओं ने अच्छा पुनर्भुगतान व्यवहार प्रदर्शित किया है. अध्ययन से पता चला है कि सुविधा का लाभ उठाने के तीन महीने के भीतर 38% खातों में पुनर्भुगतान शुरू हो गया, और एक वर्ष में यह बढ़कर 82% हो गया. एमएसएमई बाजार (ईसीएलजीएस उधारकर्ताओं को छोड़कर) में समग्र पुनर्भुगतान प्रवृत्तियों की तुलना में ईसीएलजीएस का लाभ उठाने वाले उधारकर्ताओं के मामले में चुकौती दर में सुधार हुआ है.

सूक्ष्म उद्यमों ने आगे बढ़ाया; सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के बैंकों ने धन की आपूर्ति की

चूंकि एमएसएमई दैनिक नकदी प्रवाह पर निर्भर हैं, इसलिए वे किसी भी प्रकार के आर्थिक संकट के प्रति बहुत संवेदनशील हैं. इन उद्यमों के पास आम तौर पर संकट की स्थिति का सामना करने में मदद करने के लिए अतिरिक्त भंडार या नकद अधिशेष नहीं होता है. ईसीएलजीएस को इन उद्यमों को तत्काल तरलता प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया था. ट्रांसयूनियन सिबिल के विश्लेषण से पता चलता है कि यह योजना इस उद्देश्य को पूरा करने में सक्षम है, क्योंकि मार्च 2022 तक ईसीएलजीएस का लाभ उठाने वाले 83 प्रतिशत सूक्ष्म उद्यम थे. इस श्रेणी के भीतर, 54% उधारकर्ता ऐसे थे जिनका ईसीएलजीएस का लाभ उठाने के समय कुल एक्सपोजर 10 लाख रुपये तक था. चार्ट 1 देखें.

No comments:

Post a Comment

गल्फ ऑयल इंडिया ने इलेक्ट्रिक मोबिलिटी को सपोर्ट करने के लिए लॉन्च किए ‘ईवी फ्लुइड्स’

मुंबई ,  , 04  अक्टूबर , 2022 -  हिंदुजा समूह की कंपनी गल्फ ऑयल लुब्रिकेंट्स ने  ‘ ईवी फ्लुइड्स ’  की विशेष श्रेणी के लिए स्विच मोबिलिटी और ...