Saturday, August 13, 2022

रेनवाल को दूदू जिले में शामिल करने को लेकर आक्रोश

 


-- कस्बे के कबूतर चौक पर विरोध में हुई आमसभा
-- सर्व समाज ने जिला कलेक्टर एवं मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

नवीन कुमावत 
किशनगढ़-रेनवाल। रेनवाल कस्बे की जनता ने ' हक की लड़ाई ' के बैनर तले संघर्ष समिति के तत्वावधान में शुक्रवार को कबूतर चौक पर भाजपा एवं कांग्रेस पार्टी के सभी पदाधिकारी कार्यकर्ता एक जाजम पर नजर आए। दूदू को प्रस्तावित जिला बनाने के लिए रेनवाल तहसील को शामिल करने के विरोध में रेनवाल के सभी जनप्रतिनिधि एवं सभी संगठनों ने मिलकर कस्बे के कबूतर चौक पर नायब तहसीलदार को मुख्यमंत्री के नाम से ज्ञापन सौंपा। सभी की ओर से दिए गए ज्ञापन में बताया कि यदि रेनवाल कस्बे को दूदू जिले में शामिल किया जाता है, तो सरकार को बड़े आंदोलन का सामना करना पड़ेगा। जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी। जहां एक और किशनगढ़ रेनवाल कस्बा भौगोलिक, आर्थिक, व्यापारिक दृष्टि से खुद जिला बनने के लायक है। वहीं राज्य सरकार की अनदेखी के कारण क्षेत्रवासी जयपुर जिले से ही दूर किए जा रहे हैं। सरकार अपनी हटधर्मिता के कारण रेनवाल को दूसरे जिले में शामिल करने में लगी हुई है, जो रेनवाल कि जनता के साथ अन्याय है। यह अन्याय जनता कभी भी बर्दाश्त नहीं करेगी। इस दौरान धरना प्रदर्शन में स्थानीय विधायक, किशनगढ़ रेनवाल पंचायत समिति के प्रधान, पंचायत समिति सदस्य, सभी सरपंच, एवं कांग्रेस के सरपंच एवं पंचायत समिति सदस्य नगरपालिका अध्यक्ष एवं पार्षद उपस्थित रहे।
कांग्रेस का कार्ड तो नहीं :
दूदू को नए जिला बनाने की प्रस्तावित योजना में किशनगढ़ रेनवाल तहसील को शामिल किए जाने के पीछे कहीं कांग्रेस का कोई कार्ड तो नहीं है। इन बातों की चर्चा भी राजनीतिक गलियारों में सुनी जा रही है। दूदू से काफी दूर किशनगढ़ रेनवाल तहसील को दूदू जिले में कैसे शामिल किया जा सकता है। हालांकि अभी तक इस बात की स्थिति भी साफ नहीं हुई है, कि किशनगढ़ रेनवाल को दूदू में शामिल करने की कोई योजना है। फिर भी ऐसी जानकारी मिलने पर शुक्रवार को कांग्रेस भाजपा सहित विभिन्न राजनीतिक, सामाजिक एवं स्वयंसेवी संगठनों के पदाधिकारी हक की लड़ाई के बैनर के तले एकजुट नजर आए जो कि किशनगढ़ रेनवाल के विकास एवं भविष्य के लिए शुभ संकेत है।
इनका कहना है :
किशनगढ़ रेनवाल को नए जिले दूदू में शामिल करने की प्रस्तावित योजना के बारे में अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया है। जिला कलेक्टर एवं सांभर उपखंड अधिकारी ने इस बात का खंडन किया है। फिर भी यदि ऐसा कोई मामला प्रकाश में आता है तो इसका विरोध दर्ज कराएंगे। किशनगढ़ रेनवाल को जयपुर जिले में ही यथावत रखा जाएगा।
-- निर्मल कुमावत विधायक फुलेरा
इनका कहना है :
दूदू विधानसभा के विकास के लिए मैं हमेशा तत्पर रहा हूं यदि जिला बनाने की योजना में दूदू को शामिल किया जाता है, तो इसके लिए मैं प्रयास भी करूंगा। लेकिन अभी तक ऐसा कोई मामला मेरे सामने नहीं आया है। यदि सरकार की मंशा दूदू को जिला बनाने की है तो इसमें किसे शामिल किया जाएगा और किसे नहीं यह अधिकार क्षेत्र सरकार का होगा।
-- बाबूलाल नागर, विधायक दूदू

No comments:

Post a Comment

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वी 5 जी डिजिटल ट्विन पर दिल्ली मेट्रो टनल साईट के मजदूरों से की बातचीत; इस डिजिटल ट्विन को भारत में मजदूरों की सुरक्षा के लिए डिज़ाइन किया गया है

03   अक्टूबर ,2022:   भविष्य   की   ओर   कदम   बढ़ाते   हुए   वोडाफ़ोन   आइडिया   लिमिटेड   ने   आज   देश   की   राजधानी   में   इंडिया   मोबा...