Thursday, July 14, 2022

महिंद्रा ने 'द म्यूजियम ऑफ लिविंग हिस्ट्री' लॉन्च किया

मुंबई, 14 जुलाई, 2022: महिंद्रा ग्रुप ने आज महिंद्रा टावर्स, वर्ली, मुंबई में आधुनिक जगत की नई दुनिया - 'द म्यूजियम ऑफ लिविंग हिस्ट्री' के शुभारंभ की घोषणा की। अतीत के प्रदर्शन से अधिक, संग्रहालय को भविष्य के लिए एक निरंतरता के रूप में डिज़ाइन किया गया है, जो पिछले 75 वर्षों की ऐतिहासिक समृद्धि को इसके विकसित वर्तमान और अनदेखे भविष्य से जोड़ता है। यह एक अनूठी पहल है जो समूह के उद्देश्य और उसके लोगों को दर्शाती है। यह एक ऐसा स्थान है जहां #PurposeMeetsDesign.

डिजाइन और रचनात्मक सलाहकार, एल्सी नानजी और 'अनुभव' डिजाइनर, हर्ष मनराव ने इसकी परिकल्पना की है। इसमें विशेष रूप से अधिकृत कलाकृतियां हैं जो महिंद्रा के बुनियादी मूल्यों और सिद्धांतों, इसके विभिन्न व्यवसायों, इसके समृद्ध इतिहास और भविष्य के लिए इसके दृष्टिकोण की कहानी बताती हैं। इसमें आश्चर्यजनक कहानियां और आकर्षक विवरण शामिल हैं, जैसे - अलीजान शेख की नाजुक नक्काशीदार चाक मूर्तियां; सारा लोवरी का संकलन; शाहरूख ईरानी द्वारा प्रतिबिंबित और कटी हुई बतिस्ता स्थापना; जयदीप मेहरोत्रा ​​की आकर्षक मूर्तिकला, "ड्रीमकैचर"; फॉर्मूला-ई रेस कार का मूल सिम्युलेटर और अन्य के अलावा, युवा चित्रकारों द्वारा बनाई गई एनीमेशन फिल्में।

महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन, आनंद महिंद्रा ने कहा, "जिस तरह जीवन स्थिर नहीं है, वैसे ही 'म्यूजियम ऑफ लिविंग हिस्ट्री' महिंद्रा समूह की बदलती दुनिया की जीवंत, सांस लेने वाली इकाई है। यह संग्रहालय, समूह के दर्शन, डीएनए, बुनियादी मूल्यों और संस्कृति का जश्न मनाता है और इसकी अधिकांश कहानियां हमें परिभाषित करती हैमुझे समय के साथ इस बदलते स्वरूप को देखकर और अपूर्व अंदाज में ब्रांड की कहानी बयां करते हुए देखकर बेहद प्रसन्नता हो रही है।"

यह संग्रहालय एक सहयोगपूर्ण परियोजना है जिसमें कई कलाकारों और निष्पादन एजेंसियों के साथ बाहरी डिजाइन टीम के साथ मिलकर काम करने वाले चेयरमैन्स ऑफिस, कॉर्पोरेट ब्रांड, आईटी, कॉर्पोरेट इंफ्रास्ट्रक्चर सेवाओं की विविध टीमें शामिल हैं।

संग्रहालय के बारे में बताते हुए, फिगमेंट्स एक्सपीरियंस लैब के निदेशक, हर्ष मनराव ने कहा, “महिंद्रा संग्रहालय की बहुलवादी कथा को सफलता की कहानियों का जश्न मनाने के लिए परिकल्पित किया गया है। प्रत्येक खंड इतिहास, डिजाइन, कला और प्रौद्योगिकी का एक आकर्षक सौंदर्य मिश्रण प्रस्तुत करता है। कहानियों में गहराई जोड़ने के लिए भौतिक और डिजिटल इंस्टॉलेशन को क्यूरेट किया गया है और इसे लगातार अपडेट किया जा सकता है। अनुभव-केंद्रित डिजाइन का कालातीत नमूना, यह संग्रहालय ब्रांड महिंद्रा का धड़कता हुआ दिल है।

डिजाइन और रचनात्मक सलाहकार, एल्सी नानजी ने आगे कहा, "स्पेसेज के लिए काफी ध्यानपूर्वक योजना बनाई गई थी, ताकि दर्शकों का गर्मजोशी से स्वागत किया जा सके और वो एक सुखद माहौल में इसके भीतर की कला के संदेशों व विवरणों को समझ सकें। महिंद्रा समूह के पिछले 75 वर्षों की कहानियों को तैयार करने और चुनिंदा कहानियों को संक्षिप्त रूप में प्रस्तुत करने हेतु प्रत्येक कलाकार को प्रेरित करना चुनौतीपूर्ण कार्य था। इससे पहले कभी भी किसी बड़े संगठन या ब्रांड ने अपनी कहानी इतने अनोखे तरीके से नहीं कही।"

संग्रहालय का वास्तुशिल्प डिजाइन आकार में सर्पिल, नॉटिलस को दर्शाता है, जो कंपनी के विकास, विस्तार और निरंतर नवीनीकरण को दर्शाता है। इसका इंटीरियर नाजुक संतुलित बनावट और प्रकाश के साथ भविष्योन्मुखी स्थान को दर्शाता है जो निरंतर गतिशील प्रतीत होता है। एक म्यूटोस्कोप में एक दीवार पर बढ़ते बरगद के पेड़ के वीडियो को दिखाया गया है जो एक निरंतर विस्तार करने वाले समूह का संकेत देता है। इस स्पेस के भीतर वस्तुएं और हाइप-बॉक्स हैं जो स्पर्श करने पर चलते हैं और प्रतिक्रिया देते हैं। टिक-टिक चलती घड़ी की तरह, प्रकाश का एक लेजर बीम आपको वर्तमान का अनुभव लेने और भविष्य का स्वरूप देखने के लिए आमंत्रित करता है।

                       

यह संग्रहालय महिंद्रा समूह के राइज की विचारधारा का अभिनंदन है। इसमें प्रयास और विजय, मूल्य, नैतिकता और समुदाय के लिए चिंता से जुड़ी कहानियों का जीवंत समावेश है। इस संग्रहालय को एक ऐसे स्थान के रूप में परिकल्पित किया गया है जहां लोग सीखने, साझा करने और बातचीत करने के लिए एकत्रित हो सकते हैं।

No comments:

Post a Comment

सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में अंबुजा के स्कूलों ने किया शानदार प्रदर्शन

मुंबई, 19 अगस्त, 2022- सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में अंबुजा के संयंत्रों के आसपास स्थित पांच अंबुजा स्कूलों के 739 छात्रो...