Tuesday, July 12, 2022

वह सब जो आप अपने बच्चे की नींद की समस्याओं के बारे में जानना चाहते हैं

पेरेंटिंग कोच, डॉ पल्लवी राव चतुर्वेदी द्वारा

रात की अच्छी नींद आपके बच्चे के मानसिक, शारीरिक और सर्वांगीण विकास के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। कुछ बच्चे लाइट बुझते ही सो जाते हैं, लेकिन कई बच्चे दिन में टाइट शेड्यूल का पालन करने पर भी संघर्ष करते हैं। कुछ आम धारणाओं के विपरीत, संभव है कि  आपका बच्चा ऐसा अनजाने में भी कर सकता है। ऐसे कई कारक हैं जो एक बच्चे को रात की अच्छी नींद लेने से रोक सकते हैं।

यहां आपको अपने बच्चे की नींद की समस्याओं के बारे में जानने की जरूरत है और साथ ही यह जानने की जरूरत है कि बच्चे को अच्छी नींद देना क्यों जरूरी है।

आपके बच्चे को अच्छी नींद की जरूरत क्यों है?

उत्साह और अपेक्षाएं एड्रेनालाईन उत्पन्न करती हैं और सतर्कता बढ़ाती हैं। इसके कारण बच्चों को नींद कम आती है। वैज्ञानिकों का यह भी सुझाव है कि सोने से पहले आपके बच्चे के सिस्टम में शुगर का स्तर उसके सो जाने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है। बिस्तर में जाने से पहले केक या चॉकलेट खाने से उनकी नींद काफी बाधित हो सकती है। बच्चों पर आज के इलेक्ट्रॉनिक्स का प्रभाव भी बहुत समान है। यह भी ध्यान रखना जरूरी है कि जैसे-जैसे वह बड़ा होगा आपके बच्चे की नींद कम होती जाएगी। छोटे बच्चों को दिनभर में 10 से 12 घंटे की नींद चाहिए होती है लेकिन बड़े बच्चों का काम कम नींद में चल जाता है। इसके अलावा बच्चों के जागते रहने का एक कारण मच्छर और अन्य कीड़े भी हो सकते हैं। लगातार होने वाली आवाज और मच्छरों के काटने से निश्चित रूप से नींद में खलल पड़ सकता है। इससे प्रभावित बच्चे भी रातभर बेचैन रह सकते हैं। नींद संबंधी विकारों के परिणामस्वरूप नींद की कमी से वजन में उतार-चढ़ाव, भूख न लगना और यहां तक कि खराब एकाग्रता जैसी कई समस्याएं हो सकती हैं। यह बच्चे के समग्र नींद चक्र को प्रभावित करता है। सबसे खराब स्थिति में, नींद की कमी मस्तिष्क के पश्च हाइपोथैलेमस को भी नुकसान पहुंचा सकती है और इसके दीर्घकालिक परिणाम हो सकते हैं जैसे: बिगड़ा हुआ संज्ञान।

नींद की कमी के समाधान

आपका बच्चा जितने समय के लिए सोता है और वह कितनी शारीरिक गतिविधि करता है, यह भी समग्र अच्छी नींद में योगदान देता है। सोने से कम से कम दो घंटे पहले (जितनी जल्दी बेहतर हो) इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के साथ खेलने और मिठाई खाने से बच्चे को रोकें। इसके अलावा माहौल का भी बड़ा महत्व है। एक शांत, मंद कमरा आपके बच्चे को तेज रोशनी और लगातार शोर वाले कमरे की तुलना में बेहतर नींद में मदद करता है। बाजार में उपलब्ध तमाम मच्छरों से बचाने वाले घोलों की मदद से आप अपने बच्चे को मच्छरों के आतंक से भी सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं।

गुड नाइट गोल्ड फ्लैश शक्तिशाली लिक्विड वेपोराइजर है और बच्चों और परिवार के आसपास उपयोग के लिए बिल्कुल सुरक्षित है। इससे आप चारों ओर भिनभिनाते मच्छरों के कारण बच्चे की नींद में पड़ने वाले खलल को दूर कर सकते हैं। क्योंकि मच्छर का एक बार काटना भी बच्चे की नींद तोड़ सकता है। जो बच्चे अंधेरे के डर से सो नहीं पाते हैं, उनके लिए रात की रोशनी और आराम के सामान जैसे कंबल और जानवरों के स्टफ्ड टॉय उस डर को दूर करने में बहुत मददगार हो सकते हैं।

बच्चों को सोने में मदद करने के लिए माता पिता को उन्हें बिस्तर में कहानियां सुनने या पढ़ने की आदत डालनी चाहिए। बच्चों के लिए पर्याप्त नींद लेना बेहद जरूरी है, क्योंकि मस्तिष्क को समस्याओं को हल करने और नींद के दौरान रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसलिए माता-पिता को इन बातों का ध्यान रखना चाहिए और सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके बच्चे को अच्छी नींद मिल रही है।

No comments:

Post a Comment

उत्कर्ष : तिरंगा थीम पर आयोजित विशाल रक्तदान शिविर का उत्साहपूर्ण समापन

जोधपुर।  उत्कर्ष क्लासेस द्वारा शिक्षाविद एवं समाजसेवी तथा संस्था के संस्थापक व निदेशक डॉ. निर्मल गहलोत के 44वें जन्मदिवस के अवसर पर शनिवार,...