Monday, July 25, 2022

यू ग्रो कैपिटल का एयूएम हुआ 3,650 करोड़ रुपए पार,, वित्त वर्ष 2023 की पहली तिमाही में 1,350 करोड़ रुपए का अब तक का सबसे अधिक संवितरण

मुंबई,25 जुलाई 2022: यू ग्रो कैपिटल, एक सूचीबद्ध, लेंडिंग फिनटेक प्लेटफॉर्म ने 30 जून, 2022 तक (30 जून, 2021 की तुलना में $166 फीसदी) 3,656 करोड़ रुपए के एयूएम के साथ अपनी विकास गति जारी रखे हुए है और मार्च 2023 तक 7,000 करोड़ रुपए के एयूएम को हासिल करने के निशान को पार करने के लिए ट्रैक पर है।

शीर्ष सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के साथ प्रयोग करके कंपनी ने सह-ऋण की शक्ति को प्रभावी ढंग से प्रदर्शित किया है। वर्तमान ऑफ-बुक एयूएम 750 करोड़ रुपए (30 जून, 2022 तक 21 फीसदी) है। कंपनी का लक्ष्य सह-उधार साझेदारी के तहत अपनी लोन बुक को मार्च 2023 तक 3 गुना बढ़ाकर 2,000 करोड़ रुपए से अधिक करना है।

यूजीआरओ कैपिटल ने लेंडिंग एज ए सर्विस (एलएएएस)मॉडल का बीड़ा उठाया है और अपने डेटा एनालिटिक्स कौशल और मजबूत टेक्नोलॉजी आर्किटेक्चर के माध्यम से एमएसएमई को ऋण देने में क्रांतिकारी बदलाव कर रहा है। इसी के प्रमाण के रूप में, यू ग्रो के प्रॉपर्टी स्कोरिंग मॉडल (जीआरओ स्कोर) ने पिछले एक साल में 21,000$ एप्लिकेशन, 67,000$ ब्यूरो रिकॉर्ड, 45,000$ बैंक स्टेटमेंट और 14,500$ जीएसटी रिकॉर्ड को सफलतापूर्वक संसाधित किया है।

वित्त वर्ष 2023 की पहली तिमाही की परफार्मेंस पर एक नजर-

ए) ऋण पोर्टफोलियोः ऋण और आय वृद्धि, पोर्टफोलियो गुणवत्ता

  • एयूएम 3,656 करोड़ रुपए (वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही की तुलना में +166 फीसदी और वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही की तुलना में +23 फीसदी)
  • वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही में 1,359 करोड़ रुपए का ग्रोस लोन (वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही की तुलना में +311 फीसदी और वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही की तुलना में +41 फीसदी)
  • टोटल इनकम 123.8 करोड़ रुपए रही (वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही की तुलना में +141.4 फीसदी और वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही की तुलना में +8.4 फीसदी)
  • प्रॉफिट बिफॉर टैक्स (पीबीटी) बढ़कर 10.4 करोड़ रुपए हो गया (वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही की तुलना में +340.6 फीसदी और वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही की तुलना में +29.3 फीसदी)
  • प्रॉफिट ऑफ्टर टैक्स (पीएटी) बढ़कर 7.3 करोड़ रुपए हो गया (वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही की तुलना में +329.4 फीसदी और वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही की तुलना में +20.7 फीसदी)
  • जीएनपीए/एनएनपीए जून 22 की स्थिति के अनुसार 1.7 फीसदी /1.2 फीसदी (कुल एयूएम के प्रतिशत के रूप में) था।

बी) देयता और चलनिधि स्थिति 

  • कुल ऋणदाताओं की संख्या जून 22 तक बढ़कर 63 हो गई, वित्त वर्ष 2023 की पहली तिमाही के दौरान 8 नए ऋणदाताओं को जोड़ा गया
  • जून’ 22 को कुल ऋण 2,208 करोड़ रुपए था, और कुल ऋण से इक्विटी अनुपात 2.26x था।
  • 28 फीसदी सीआरएआर के साथ स्वस्थ पूंजी की स्थिति (जून 22 के अनुसार)

सी) शाखा, ग्राहक नेटवर्क और कर्मचारी शक्ति 

  • जून’ 22 को 25,000+ ग्राहक (वित्त वर्ष 2023 की पहली तिमाही में +5,000 ग्राहक)
  • 96 शाखाएं (जून’ 22 तक), तिमाही के दौरान 5 नई शाखाओं को जोड़ा गया
  • जून 22 की स्थिति के अनुसार 1,275+ कर्मचारी, वित्त वर्ष 2023 की पहली तिमाही के दौरान 165+ का नेट एम्प्लॉई एडिशन।

 

Brief financial snapshot:

 

Particulars

Q1’22

Q4’22

Q1’23

Growth (Y-o-Y)

Growth (Q-o-Q)

Total Income

51.3

114.2

123.8

141.3%

8.4%

Interest Expense

22.4

49.7

53.1

137%

6.9%

Net Total Income

28.9

64.5

70.7

144.6%

9.6%

Operating Expenses

21.6

47.3

51.0

136.1%

7.9%

Impairment on Financial Instruments

4.9

9.3

9.4

91.8%

1.0%

PBT

2.4

8.0

10.4

333.3%

29.3%

PAT

1.7

6.1

7.3

329.4%

20.7%

परिणामों पर टिप्पणी करते हुए, यू ग्रो कैपिटल के वाइस चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर श्री शचींद्र नाथ ने कहा, ‘यू ग्रो कैपिटल अंडरसर्व्ड एमएसएमई सेगमेंट की सेवा के लिए डेटा एनालिटिक्स और तकनीक का उपयोग करने में सबसे आगे है। हम को-लेंडिंग/को-ऑरिजेशन मॉडल की शक्ति का उपयोग करके और ऑफ-बैलेंस शीट एयूएम दृष्टिकोण के माध्यम से कंपनी को एक लेंडिंग प्लेटफॉर्म में की दिशा में आगे बढ़ा रहे हैं। हम लेंडिंग एज ए सर्विसके अग्रणी रहे हैं। प्रत्येक बीतती तिमाही के साथ लाभप्रदता में सुधार के साथ परिचालन क्षमता में सुधार होना शुरू हो गया है। कंपनी 2025 तक 20,000 करोड़ रुपये का एयूएम हासिल करने की राह पर है, क्योंकि हमने वित्त वर्ष 23 की पहली तिमाही में अपना अब तक का सर्वोच्च संवितरण हासिल किया है।

No comments:

Post a Comment

इंश्योरेंस में प्रोडक्ट इनोवेशनः सुकून भरे रिटायरमेंट के लिए नई जरूरत

आम तौर पर बीमा कंपनियां उभरते जोखिमों और उपभोक्ता प्रवृत्तियों को ध्यान में रखते हुए उत्पाद बनाती हैं। इस बीच, अक्सर उत्पादों की सादगी नवाचा...