Sunday, July 31, 2022

जल,जंगल और जमीन को बचाना सबकी जिम्मेदारी : देगडा

 


-- राजकीय महाविद्यालय कालाडेरा में किया पौधारोपण
द पब्लिक साइड
जयपुर ग्रामीण। राजकीय सहरिया कॉलेज कालाडेरा में शनिवार को सुबह डॉक्टर मदन लाल देगड़ा, डिप्टी कमिश्नर जीएसटी की माताजी की स्मृति में पौधरोपण किया गया। इस दौरान करीब 150 पौधे लगाए गए। इस अवसर पर डॉक्टर मदन लाल ने कहा की जल, जंगल और जमीन को बचाने की जिम्मेदारी हम सबकी है। हम सभी को मिलकर पर्यावरण को स्वच्छ बनाए रखने में सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कॉलेज परिसर की सफाई पर कॉलेज प्रशासन की प्रशंसा की। गौरतलब है कि भूगोल प्रोफेसर और नवसृजित रेनवाल सरकारी कॉलेज के नोडल अधिकारी सुरेश जाट ने कॉलेज में पौधारोपण के लिए डॉक्टर मदनलाल को प्रेरित किया था। इस अवसर पर एनसीसी प्रभारी सीताराम मीना, एनएसएस प्रभारी के. के. वर्मा, अनिल यादव, नीतू यादव, मानप्रकाश मीना, प्रोफेसर अनीता ज्यानी, अशोक मीना, प्रोफेसर स्नेह सिंह, प्राचार्य डॉक्टर आर. के. शर्मा सहित कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।

" सावन में लहराया लहरियां "

 


-- तीज पर्व आज, महिलाओं ने मनाया सिंजारा 
द पब्लिक साइड 
किशनगढ़ रेनवाल। श्रावण शुक्ल तृतीया रविवार को " सावन की आत्मा " कहे जाने वाला त्यौहार तीज पर्व है। पारंपरिक रूप से माना जाता है कि तीज त्यौहार से पर्व और त्यौहार का आगाज हो जाता है। तीज पर्व पर सुहागिन महिलाएं भगवान शिवशंकर और माता पार्वती के साथ ही रिद्धि सिद्धि और गणेश भगवान की पूजा करेंगी। सुहागिन महिलाएं व्रत रखकर अपने पति की लंबी आयु और अच्छे स्वास्थ्य की कामना करेंगी। इससे पहले शनिवार को सिंजारा का पर्व मनाया गया। महिलाओं ने हाथों में मेहंदी लगाकर और लहरियां पहनकर भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा अर्चना की। महिलाओं ने बाग बगीचे में झूला झूल सहेलियों और परिजन के साथ घेवर की मिठाई का भी आनंद लिया।

Saturday, July 30, 2022

एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस ने 30 जून, 2022 को समाप्त तिमाही के लिए 5,591 करोड़ रुपए का न्यू बिजनेस प्रीमियम कलैक्शन दर्ज किया

देश में अग्रणी जीवन बीमा कंपनियों में से एक, एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस ने 30 जून, 2022 को समाप्त तिमाही के लिए रु.5,591 करोड़ का नया बिजनेस प्रीमियम दर्ज किया, जबकि 30 जून, 2021 को समाप्त तिमाही के लिए यह राशि रु.3,345 करोड़ थी। 30 जून, 2021 को समाप्त हुई इसी तिमाही की तुलना में नियमित प्रीमियम में 83 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

पूरी तरह सुरक्षा पर अपना ध्यान केंद्रित करते हुए 30 जून, 2022 को समाप्त तिमाही के लिए एसबीआई लाइफ का प्रोटेक्शन न्यू बिजनेस प्रीमियम 695 करोड़ रुपए रहा, जो 63 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है। प्रोटेक्शन इंडिविजुअल न्यू बिजनेस प्रीमियम ने 55 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की और 30 जून, 2022 को समाप्त तिमाही के लिए यह राशि रही 203 करोड़ रुपए। इंडिविजुअल न्यू बिजनेस प्रीमियम 3,430 करोड़ रुपए है, जो 30 जून, 2021 को समाप्त इसी तिमाही की तुलना में 87 प्रतिशत अधिक है। .

30 जून, 2022 को समाप्त तिमाही में एसबीआई लाइफ का कर पश्चात लाभ रु.263 करोड़ रहा।

1.50 की नियामक आवश्यकता के मुकाबले कंपनी का सॉल्वेंसी अनुपात 30 जून, 2022 को 2.21 पर मजबूत बना हुआ है।

30 जून, 2022 को एसबीआई लाइफ का एयूएम भी 13 फीसदी की वृद्धि के साथ 2,62,349 करोड़ रुपए पर पहुंच गया, जो 30 जून, 2021 को 2,31,559 करोड़ रुपए था, जिसमें 73-27 का डेट-इक्विटी मिश्रण था। ऋण निवेश का 97 प्रतिशत से अधिक एएए और सॉवरेन इंस्ट्रूमेंट्स में है।

कंपनी के पास 2,22,957 प्रशिक्षित बीमा पेशेवरों का विविधतापूर्ण वितरण नेटवर्क है और 970 कार्यालयों के साथ कंपनी की देशभर में व्यापक उपस्थिति है। इसमें मजबूत बैंकअश्योरेंस चैनल, एजेंसी चैनल और अन्य शामिल हैं जिनमें कॉर्पोरेट एजेंट, ब्रोकर, पॉइंट ऑफ सेल पर्सन्स (पीओएस), इंश्योरेंस मार्केटिंग फर्म, वेब एग्रीगेटर और डायरेक्ट बिजनेस शामिल हैं।

30 जून, 2022 को समाप्त तिमाही के लिए प्रदर्शन

  • व्यक्तिगत एनबीपी में 87 प्रतिशत वृद्धि और 24.5 प्रतिशत की बाजार हिस्सेदारी के साथ रु.3,430 करोड़ के साथ मार्केट लीडरशिप।
  • एपीई में 80 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 2,905 करोड़ रुपए।
  • नए कारोबार के मूल्य (वीओएनबी) में 130 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 882 करोड़ रुपए।
  • वीओएनबी मार्जिन 665 बीपीएस बढ़कर 30.4 प्रतिशत हो गया।
  • प्रोटेक्शन एनबीपी में 63 प्रतिशत की मजबूत वृद्धि, 695 करोड़ रुपए पर ।
  • इंडिविजुअल न्यू बिजनेस सम एश्योर्ड में 52 प्रतिशत की वृद्धि।
  • पीएटी में 18 प्रतिशत की वृद्धि, रु.263 करोड़ पर।
  • 2.21 का मजबूत सॉल्वेंसी रेशियो।

 

Friday, July 29, 2022

उत्कर्ष की पहल : शिक्षा संतों के कर कमलों से हुआ सालावास के सरकारी स्कूल में स्मार्ट क्लासरूम का भव्य उद्घाटन।

सालावास/ जोधपुर। शुक्रवार, 29 जुलाई को जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय द्वारा गोद लिए गए सालावास गाँव की सरकारी स्कूल अचलदास बागरेचा राजकीय उ.मा. विद्यालय में उत्कर्ष क्लासेस के सह-संस्थापक तरुण गहलोत के जन्मदिवस के अवसर पर स्मार्ट क्लासरूम का भव्य उद्घाटन किया गया। 21 लाख की लागत से निर्मित इस स्मार्ट क्लासरूम एवं 04 लाख की लागत से स्थापित जनरेटर का लोकार्पण ओमप्रकाश जी गहलोत सहित संस्था के संस्थापक एवं निदेशक डॉ. निर्मल गहलोत, तरुण गहलोत और डॉ. दिनेश गहलोत की मेजबानी तथा बतौर निवेदक लूणी विधायक महेन्द्र बिश्नोई तथा जेएनवीयू के कुलपति प्रो. के. एल. श्रीवास्तव की उपस्थिति में मुख्य अतिथि रूप में आमंत्रित 13 शिक्षा संतों के कर-कमलों द्वारा किया गया। समारोह में स्कूल के विद्यार्थियों सहित गाँव के कई गणमान्य लोगों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। समारोह में मंच संचालन डॉ. दिनेश गहलोत ने किया।

राजस्थानी परंपरा अनुसार किया गया सभी 13 शिक्षा संतों का सम्मान।
अपनी तरह के पहली बार हुए इस उद्घाटन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि आमंत्रित आपणी पाठशाला के संस्थापक धर्मवीर जाखड़, समाज सेविका श्रीमति सुनीता चौधरी, प्राइड ऑफ इंडिया अवॉर्ड से सम्मानित समाज सेविका डॉ. पूनम प्रजापति (संस्थापक, पूनम फाउंडेशन), श्रेष्ठ शिक्षक के रूप में सम्मानित दीनाराम जी सुथार (प्रधानाध्यापक, रा. उ. प्रा. विद्यालय पाबनासर), सामाजिक क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने में अग्रसर तथा अध्यापक हरदेव पालीवाल, राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त श्रीमति शीला आसोपा, रा.उ.प्रा. विद्यालय, मूंडवा के प्रधानाचार्य दिनेश कुमार मुंडेल, पवन कुमार (संस्थापक, एफर्ट्स अंबेडकर फंड फॉर टैलेंटेड स्टूडेंट्स संस्था), शिक्षक डॉ. पूनम सिंह जाखड़, पूर्व सहायक लेखा अधिकारी शैतान सिंह कविया, संस्कार शैक्षिक पुनर्वास एवं अनुसंधान संस्थान के डॉ. रमेश चौधरी, एम2 प्रयास के फाउंडर मनोज मीणा तथा मुस्कान फाउंडेशन के संस्थापक दीपक जोशी का राजस्थानी परंपरा अनुसार डॉ. निर्मल गहलोत, तरुण गहलोत व कुमार गौरव द्वारा साफा एवं शॉल पहना कर तथा स्मृति चिह्न भेंट कर सम्मान किया गया। इसी कड़ी में कुलपति प्रो. श्रीवास्तव तथा लूणी विधायक महेंद्र बिश्नोई ने तरुण गहलोत का माल्यार्पण व साफा पहना कर अभिनंदन किया। गाँव के सरपंच ओमाराम पटेल एवं उप सरपंच चैनाराम देवासी तथा अणदाराम जी ने पारंपरिक तरीके से विधायक महेंद्र बिश्नोई का अभिनंदन कर उन्हें स्मृति चिह्न भेंट किया। इसी कड़ी में कुलपति प्रो. के. एल. श्रीवास्तव को स्मृति चिह्न भेंट कर समाज सेवी मदनलाल जी गहलोत, अमानाराम जी देवासी तथा दुर्गाराम जी साँखला ने अभिनंदन किया। अंत में ग्राम पंचायत द्वारा विद्यालय के लिए गहलोत परिवार की ओर से किए गए इस सरोकार हेतु आभार प्रकट करते हुए ओमप्रकाश जी गहलोत का सम्मान व अभिनंदन किया गया।
“यह स्मार्ट क्लासरूम गाँव में डिजिटल शिक्षा में भावी प्रगति की आधारशिला है” – कुलपति।
इस अवसर पर कुलपति प्रो. श्रीवास्तव ने सीधा विद्यार्थियों से संवाद करते हुए उन्हें संक्षिप्त में बताया कि गाँव के विद्यालय में स्मार्ट क्लासरूम का होना उन्हें भविष्य में कई कदम आगे ले जाने में सहयोगी है। दार्शनिक तरीके से उन्होंने जीवन के तीन महत्त्वपूर्ण ऋणों का जिक्र करते हुए ऋषि ऋण के बारे में बताया और इस ऋण को उतारने के लिए प्रेरणा स्वरूप गहलोत परिवार को एक मिसाल की संज्ञा प्रदान की।
बच्चों की शैक्षणिक प्रगति में क्या रहेगी इस स्मार्ट क्लासरूम की भूमिका?
इस अवसर पर डॉ. निर्मल गहलोत ने बताया कि डिजिटल क्लासरूम से विद्यार्थियों को न केवल आधुनिक शिक्षा से भौतिक रूप से जुड़ने का अवसर मिलेगा बल्कि त्वरित गति से उन्हें क्लास पीडीएफ, नोट्स एवं अन्य साधन उपलब्ध हो सकेंगे जो उनकी तैयारी के लिए आवश्यक हैं। इसके अलावा किसी कारणवश स्कूल में क्लास न ले पाने की स्थिति में शिक्षक वर्चुअली विद्यार्थियों से जुड़ सकेंगे जिससे विद्यार्थियों और उनका दिन व्यर्थ नहीं जाएगा। इस दौरान उन्होंने बोर्ड विद्यार्थियों के लिए उत्कर्ष क्लासेस से ऑनलाइन कोर्स नि:शुल्क उपलब्ध करवाए जाने की घोषणा की।
गहलोत ने ‘शिक्षा संतों’ का परिचय करवाते हुए कहा राज्य के इन 13 समाज सेवकों का यहाँ आना हमारे लिए गौरव की बात है। इन्होंने किसी संत की भाँति नौकरी पेशा होते हुए भी जिस तरह गरीब और जरूरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए समाज में अलख जगाई है वो सम्मान के काबिल है। नि:स्वार्थ भाव से खुद को समाज की शिक्षा प्रगति के लिए समर्पित कर सेवारत् रहना निश्चित रूप से आदरणीय है।
अंत में विधायक महेंद्र बिश्नोई सहित सभी गणमान्य नागरिकों ने गहलोत परिवार व मुख्य अतिथियों का आभार प्रकट किया।

एलएंडटी ने कायम किया एक नया बेंचमार्क, 96 फ्लैटों के साथ 12 मंजिला आवासीय टावर का निर्माण किया सिर्फ 96 दिनों में

मुंबई, 29 जुलाई, 2022- लार्सन एंड टुब्रो ने आज ‘मिशन 96’ की उपलब्धि की घोषणा की, जो उनके क्लाइंट, सिडको (सिटी एंड इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन) के लिए 12 मंजिला आवासीय टावर बनाने की योजना से संबंधित है। इस प्रोजेक्ट के तहत कंपनी ने 96 फ्लैटों के साथ 12 मंजिला आवासीय टावर का निर्माण सिर्फ 96 दिनों में पूरा किया है। इसके लिए बेहद तेज गति से सार्वजनिक आवास के  निर्माण के लिए कंपनी का प्रीकास्ट लार्ज कंक्रीट पैनल सिस्टम इस्तेमाल किया गया। यह टावर नवी मुंबई में बमडोंगरी, खरकोपर और तलोजा में पीएमएवाई के पैकेज फोर के तहत सिडको द्वारा बनाए जा रहे लगभग 23,432 ईडब्ल्यूएस और एलआईजी घरों का एक हिस्सा है।

एलएंडटी के ‘मिशन 96’ को प्रीकास्ट टेक्नोलॉजी का उपयोग करके हासिल किया गया। इस तकनीक को कारखाने के माहौल में नियंत्रित मेन्यूफेक्चरिंग के आधार पर बेहतर गुणवत्ता के साथ मशीनीकृत तेजी से तैयार किया जाता है। इस तकनीक को आवासीय टावरों के निर्माण के भविष्य के रूप में जाना जाता है। मिशन 96 में आर्किटेक्चरल फिनिश के साथ सुपरस्ट्रक्चर के 1,985 प्रीकास्ट एलिमेंट्स का उत्पादन और स्थापना करना शामिल था। 64,000 वर्ग फुट के निर्मित क्षेत्र में एमईपी का काम करना भी इसमें शामिल किया गया।

सिडको के संयुक्त प्रबंध निदेशक श्री अश्विन मुद्गल आईएएस ने टॉवर शोकेस समारोह में कहा, ‘‘एल एंड टी द्वारा रिकॉर्ड बनाने की प्रक्रिया को देखकर बहुत अच्छा लगा, जिससे भविष्य में ऐसी तकनीकों और मकान निर्माण की उत्कृष्ट प्रक्रिया के इस्तेमाल का मार्ग प्रशस्त होगा।’’

पद्म भूषण आर्किटेक्ट श्री हफीज कॉन्ट्रैक्टर ने इस अवसर पर कहा, ‘‘एल एंड टी, जिसने देश में एल्युमीनियम फॉर्मवर्क निर्माण का बीड़ा उठाया है और इस तरह जिसने आवासीय क्षेत्र का चेहरा बदल दिया है, उसने अब सस्टेनेबल मैटिरियल के साथ तेजी से कंस्ट्रक्शन करने के लिए प्रीकास्ट टेक्नोलॉजी को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।’’ उन्होंने उम्मीद जताते हुए आगे कहा, ‘‘प्रीफैब्रिकेटेड प्री-फिनिश्ड वॉल्यूमेट्रिक कंस्ट्रक्शन पर कंपनी का ध्यान भारत में आवास की बढ़ती मांग को पूरा करने में मददगार साबित होगा।’’

एल एंड टी के होल टाइम डायरेक्टर और सीनियर एक्जीक्यूटिव वाइस प्रेसीडेंट (बिल्डिंग्स) श्री एम वी सतीश ने कहा, ‘‘इमारतों और कारखानों के क्षेत्र में हमने हमेशा निर्माण की गति को तेज करने के तरीकों और साधनों की तलाश की है और यह प्रोजेक्ट निर्माण के दौरान के लगने वाले समय को सुखद आश्चर्स के साथ नाटकीय रूप से कम करने का एक और सफल प्रयास है।’’ उन्होंने एक विशेष इकाई, बी एंड एफ फास्ट के गठन के बारे में भी जानकारी दी, जो विकसित तरीकों पर ध्यान केंद्रित करने और तेज गति और बड़े पैमाने के निर्माण के लिए टैक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने पर ध्यान केंद्रित करती है। इस यूनिट ने हाल ही में डीआरडीओ के लिए सिर्फ 45 दिन में एक 7-मंजिला, अत्याधुनिक फ्लाइट कंट्रोल सिस्टम इंटीग्रेशन सेंटर का काम पूरा किया है। उन्होंने आगे कहा, ‘‘निर्माण तकनीक के अलावा, डिजिटल तकनीक ने भी निर्माण की इस तीव्र गति को हासिल करने में हमारी मदद की। इस प्रोजेक्ट के लिए विकसित बीआईएम मॉडल के साथ डिजिटल ट्विन एप्रोच का उपयोग करके हमने कंक्रीट मैच्योरिटी मैथड को अपनाया और इस तरह कंक्रीट की मजबूती को डिजिटल मीटर के साथ वास्तविक समय में भी परखा और निर्माण की निर्बाध प्रक्रिया की निगरानी की।’’

4 अप्रैल, 2022 को शुरू हुए इस प्रोजेक्ट के तहत एलएंडटी ने 36 दिनों में 12 मंजिलों की अपनी पहली उपलब्धि हासिल की और तीन दिन का फ्लोर कंस्ट्रक्शन साइकिल पूरा किया, जबकि आम तौर पर यह साइकिल 8 से 12 दिन प्रति मंजिल है। प्रीकास्ट निर्माण के कारण, तीसरी मंजिल के पूरा होते ही 10 दिनों में इंटरनल फिनिशिंग वर्क शुरू करना संभव हो पाया, जिसके बाद 96वे दिन यानी 9 जुलाई 2022 को कंपनी ने अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लिया।

Indian Tractor of the Year Awards 2022 में न्यू हॉलैंड एग्रिकल्चर को तीन पुरस्कारों से सम्मानित किया गया

नई दिल्ली, 29 जुलाई, 2022ःसीएनएच इंडस्ट्रियल के ब्रांड न्यू हॉलैंड एग्रिकल्चर ने Indian Tractor of the Year (ITOTY) 2022 के तीसरे संस्करण में तीन प्रतिष्ठित पुरस्कार हासिल किए हैं। ब्रांड को the New Holland 3600-2 All Rounder Plus के लिए 46-50 HP श्रेणी में और New Holland Square Baler BC5060 के लिए पोस्ट-हार्वेस्ट सॉल्यूशन ऑफ द ईयर में सर्वश्रेष्ठ ट्रैक्टर के सम्मान से सम्मानित किया गया है। न्यू हॉलैंड ने फसल पराली/अवशेष जलाने और पुआल प्रबंधन की रोकथाम पर अपनी अभिनव परियोजना के लिए सर्वश्रेष्ठ CSR पहल का पुरस्कार भी जीता। ये पुरस्कार देश में उपकरण और कृषि समाधानों में ब्रांड की क्षमता की पुष्टि करते हैं।

ट्रैक्टर और कृषि उपकरण निर्माताओं के नवाचार और प्रयासों को मान्यता देने के लिए 2019 से हर साल ITOTYA पुरस्कार का आयोजन किया जाता है। ये पुरस्कार, निर्माताओं के नवाचार, नए उत्पादों और विशेषताओं पर केंद्रित हैं।

श्री कुमार बिमल, निदेशक - सेल्स एंड नेटवर्क डेवलपमेंट ऑफ-हाईवे एग्रीकल्चर इंडिया और SAARC, सीएनएच इंडस्ट्रियल प्रा. लिमिटेड ने कहा कि उन्हें खुशी है कि ब्रांड के प्रयासों को अत्यंत सम्मानित जजों, कार्यक्रम आयोजकों और किसानों द्वारा सम्मानित किया गया है।

श्री बिमल ने कहा, "न्यू हॉलैंड एग्रीकल्चर में हम हमेशा किसानों को बेहतर गुणवत्ता वाले उपकरण उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम न केवल उत्पादों पर बल्कि कृषि में स्थिरता पर भी अपने संसाधनों का निवेश करने में विश्वास करते हैं।"

"किसानों की उत्पादकता बढ़ाने और उनके जीवन को आसान बनाने के लिए उन्हें कुशल समाधान प्रदान करने के लिए हमारा समर्पण पहले से कहीं अधिक मजबूत है।"


न्यू हॉलैंड एग्रीकल्चर 500 से अधिक डीलरों और अधिकृत सर्विस सेंटर्स के माध्यम से भारत में 500,000 से अधिक ग्राहकों को सेवा प्रदान करता है। यह घरेलू और विदेशी बाजारों के लिए 35-90HP ट्रैक्टरों की विस्तृत रेंज प्रदान करता है।

New Holland 3600-2 All Rounder Plus, उच्चतम उपयोगी शक्ति और टॉर्क जैसी उन्नत सुविधाओं के साथ, 50 HP सेगमेंट में सर्वोत्तम कोटि का है। भारत के पहले इनलाइन हाई-स्पीड ट्रैक्टर के रूप में भी जाने जाने वाले, इस ट्रैक्टर में रिवर्स PTO, स्वतंत्र PTO clutch, 2000 किलोग्राम भारोत्तोलन क्षमता, ROPS कैनोपी, उच्च ग्राउंड क्लीयरेंस, और बहुत कुछ जैसी उद्योग-अग्रणी विशेषताएं हैं।

ट्रैक्टर भारत की सबसे स्वीकृत फ्लैट स्टाइलिंग के साथ आता है और यह Sensomatic24 के नाम से जाने जाने वाले इंडस्ट्री के सर्वोत्तम कोटि के हाइड्रोलिक्स से सुसज्जित है। सेगमेंट में सबसे कम SFC (विशिष्ट ईंधन खपत) के साथ, यह श्रेणी में सबसे अधिक माइलेज देने वाले ट्रैक्टर के रूप में जाना जाता है।

ट्रैक्टरों के साथ, न्यू हॉलैंड कंबाइन और गन्ना हार्वेस्टर, और फसल अवशेष प्रबंधन समाधान जैसे कटाई समाधान भी प्रदान करता है। New Holland Square Baler BC 5060 प्रति घंटे उत्पादकता के मामले में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन प्रदान करता है। इसने बिजली, इथेनॉल, CBG (संपीड़ित जैव गैस), और कागज के लिए कच्चे माल के उत्पादन हेतु फसल अवशेषों (जैसे धान की भूसी, गेहूं के भूसे और गन्ना कचरे) के उपयोग को सक्षम करके फसल अवशेषों के टिकाऊ प्रबंधन में भी एक प्रमुख भूमिका निभाई है।

ब्रांड ने अपनी विभिन्न कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (CSR) पहलों के माध्यम से अपने स्थिरता प्रयासों के लिए अभिनव दृष्टिकोण का भी प्रदर्शन किया है। फसल पराली/अवशेषों को जलाने और पुआल प्रबंधन समाधान परियोजना की रोकथाम, फसल को जलाने से रोकने और किसानों को फसल अवशेष प्रबंधन के लिए एक वैकल्पिक साधन प्रदान करने के लिए तैयार की गई थी। इसे 2017 में कृषि मंत्रालय के सहयोग से पंजाब के एक अकेले गांव में लॉन्च किया गया था।

न्यू हॉलैंड ने उपकरण दान किए हैं और CSR परियोजना को चलाने के लिए सहायता प्रदान की है, जिसे तब से कुल 11 गांवों में विस्तारित किया गया है।

जनरल अटलांटिक और केदारा कैपिटल ने एएसजी आई हॉस्पिटल्स में 1,500 करोड़ रुपये का निवेश किया

राष्ट्रीय, 29 जुलाई, 2022: भारत की अग्रणी आई हॉस्पिटल चेन, एएसजी आई हॉस्पिटल्स ने आज जनरल अटलांटिक और केदारा कैपिटल के नेतृत्व में 1,500 करोड़ रुपये के निवेश की घोषणा की, जो आई केयर इंडस्ट्री में भारत का सबसे बड़ा फंडरेज है और सिंगल स्पेशियाल्टी हेल्थकेयर इंडस्ट्री में अब तक का सबसे बड़ा प्राइवेट इक्विटी ट्रांजेक्शन है। जनरल अटलांटिक और केदारा कैपिटल एशिया के प्रमुख नेत्र अस्पताल श्रृंखलाओं में से एक बनने के अपने मिशन की दिशा में एएसजी आई हॉस्पिटल्स की वृद्धि का समर्थन करने और गति देने में मौजूदा परिचालन-केंद्रित हेल्थकेयर निवेशक फाउंडेशन होल्डिंग्स में शामिल होंगे। इस लेन-देन से इन्वेस्टकॉर्प के लिए बाहर निकलने का मार्ग प्रशस्त होने की भी उम्मीद है, जिसने 2017 में कंपनी में निवेश किया था। पिछले 3 वर्षों में एएसजी ने अपने अस्पतालों की संख्या दोगुनी कर ली है और अपने राजस्व को तीन गुना कर लिया है।

डॉ अरुण सिंघवी, चेयरमैन और प्रबंध निदेशक और डॉ शिल्पी गंग, सह-संस्थापक, एएसजी अस्पताल प्राइवेट लिमिटेड ने कहा, "2005 के बाद से, एएसजी आई अस्पताल के डॉक्टर के नेतृत्व वाला मॉडल नैदानिक उत्कृष्टता और सभी के लिए गुणवत्तापूर्ण नेत्र देखभाल के लिए खड़ा है। फाउंडेशन होल्डिंग्स जैसे समान विचारधारा वाले, मूल्य - योजक निवेशकों के साथ काम करना हमारे लिए सौभाग्य की बात है जो सच्चे भागीदार रहे हैं और हमारे मॉडल को मजबूत किया है, जिससे हम भारत भर में 50 से अधिक अस्पताल स्थापित करके अपना विस्तार कर पाए हैं। हम सभी के लिए गुणवत्तापूर्ण नेत्र देखभाल सेवा उपलब्ध कराने और पूरे भारत में जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के हमारे मिशन पर जनरल अटलांटिक और केदारा कैपिटल के साथ का स्वागत करते हुए खुश और उत्साहित महसूस कर रहे हैं। यह आधारभूत निवेश हमारे व्यापार मॉडल की ताकत का प्रमाण है और प्रतिभाशाली निवेशकों को आकर्षित करने में एएसजी आई हॉस्पिटल्स की निरंतर सफलता को और मजबूत करता है। हम पिछले 5 वर्षों से हमारा रणनीतिक समर्थन करने के लिए इन्वेस्टकॉर्प टीम की ईमानदारीपूर्वक प्रशंसा करते हैं।"
फाउंडेशन होल्डिंग्स के सह-संस्थापक और प्रबंध निदेशक, आकाश सचदेव ने कहा, “ डॉ सिंघवी, डॉ गंग और टीम ने एएसजी आई हॉस्पिटल्स को विशिष्ट रूप से सक्षम मंच बनाया है जो आज भारत में आंखों की देखभाल में सबसे आगे है और इसने लाखों जीवन को प्रभावित किया है। हमने पूरे भारत में खुदरा स्वास्थ्य सेवा वितरण मॉडल को तेजी से बढ़ाने के लिए गुणवत्तापूर्ण क्षमता को बढ़ाने पर केंद्रित ऑर्गेनिक और इनॉर्गेनिक पहलों के मिश्रण के माध्यम से मजबूत विकास प्रदान करने के लिए सफलतापूर्वक काम किया है। जुटाये गये इस फंस से एएसजी आई हॉस्पिटल के एशिया के प्रमुख नेत्र देखभाल प्रदाता बनने के सपने के तेजी से सच होने की उम्मीद है। अगले 36 महीनों के भीतर 200 से अधिक अस्पतालों का नेटवर्क स्थापित करने की योजना है। दक्षिण भारत में निकट भविष्य में योजनाबद्ध अधिग्रहण और देश भर के मुख्य बाजारों में फैले क्षेत्रीय संस्थाओं की हमारी उच्च गुणवत्ता वाली एम एंड ए (M&A) पाइपलाइन के साथ, हम एएसजी आई हॉस्पिटल्स के इतिहास में इस परिवर्तनकारी मोड़ पर दो अत्यधिक सम्मानित और आगे की सोच वाले निवेशकों जैसे भागीदारों के साथ जुड़कर उत्साहित हैं।"
जनरल अटलांटिक के प्रबंध निदेशक, शांतनु रस्तोगी ने कहा, "जनरल अटलांटिक ने कई वर्षों तक एएसजी आई हॉस्पिटल्स को देखा है, और हम डॉक्टर सिंघवी और डॉक्टर गंग की गुणवत्ता के प्रति वचनबद्धता से बेहद प्रोत्साहित हैं, जो अकादमिक अनुसंधान और प्रशिक्षण पर आधारित है। एएसजी आई हॉस्पिटल्स ने पहले ही लाखों लोगों के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव डाला है और इस प्रक्रिया में, टीम ने बड़े पैमाने पर मजबूत प्रदर्शन करने की अपनी क्षमता का प्रदर्शन किया है। हम देश में नेत्र देखभाल सेवाओं के लिए न केवल एक प्रमुख राष्ट्रीय प्रदाता बनने की दिशा में एएसजी टीम का समर्थन करने के लिए उत्साहित हैं, बल्कि देश के सबसे कुशल नेत्र रोग विशेषज्ञों और चिकित्सा पेशेवरों के रूप में भागीदार मिलने से काफी आशान्वित हैं।"

केदारा कैपिटल के सीआईओ और मैनेजिंग पार्टनर, निशांत शर्मा ने कहा, "एएसजी ने नैदानिक उत्कृष्टता और उद्यमशीलता के जुनून की अपनी संस्कृति से प्रेरित होकर पूरे भारत के अल्पसेवित या सेवा-वंचित लोगों को गुणवत्ता और सस्ती नेत्रभाल सेवा प्रदान करने के लिए अद्वितीय प्रतिकृति मॉडल बनाया है। हम डॉ. सिंघवी, डॉ. गंग और एएसजी टीम के साथ जुड़कर भारत में नेत्र स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए असाधारण क्षमताएं, नवाचार, प्रौद्योगिकी आधारित दृष्टिकोण और प्रतिबद्धता लाने के लिए उत्साहित हैं। अपनी परिचालन विशेषज्ञता के साथ, केदारा, एएसजी को विकास के उनके अगले चरण को मजबूत करने और अग्रणी नेत्र देखभाल फ्रेंचाइजी बनने की सोच को पूरा करने में मदद करेगा।"

इन्वेस्टकॉर्प इंडिया के हेड ऑफ प्राइवेट इक्विटी, गौरव शर्मा ने कहा, "हमने 2017 में एएसजी आई हॉस्पिटल्स के लिए डॉ अरुण सिंघवी के विज़न का समर्थन किया था, जब यह काफी हद तक राजस्थान केंद्रित आई-केयर चेन थी। आज, मुझे यह कहते हुए प्रसन्नता हो रही है कि एएसजी ने देश भर में अपनी उपस्थिति के साथ भारत की अग्रणी आई केयर चेन में से एक बनने के लिए हमारी अपेक्षाओं को पार कर लिया है। एएसजी ने इस अवधि के दौरान लाखों लोगों को गुणवत्तापूर्ण नेत्र देखभाल सेवा उपलब्ध कराई है। हमें एएसजी के साथ अपने जुड़ाव पर अविश्वसनीय रूप से गर्व है और हम उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं देना चाहते हैं कि वो पूरी क्षमता के साथ आगे बढ़ें।"

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने लेनदेन के लिए विशेष वित्तीय सलाहकार के रूप में कार्य किया। एजेडबी एंड पार्टनर्स (AZB & Partners) ने एएसजी आई हॉस्पिटल्स के कानूनी सलाहकार के रूप में काम किया। खेतान एंड कंपनी ने फाउंडेशन होल्डिंग्स और इन्वेस्टकॉर्प के कानूनी सलाहकार के रूप में काम किया, शार्दुल अमरचंद मंगलदास एंड कंपनी ने जनरल अटलांटिक के कानूनी सलाहकार के रूप में काम किया और वेरिटास लीगल ने केदारा कैपिटल के कानूनी सलाहकार के रूप में काम किया।

Thursday, July 28, 2022

कारोबारियों की वेंडरों व भागीदारों के जीएसटीआईएन प्रमाणन में मदद के लिए कैशफ्री पेमेंट्स ने शुरू किया जीएसटीआईएन सत्यापन

बेंगलुरू, 28 जुलाई, 2022: अग्रणी भुगतान एवं एपीआई बैंकिंग समाधान कंपनी कैशफ्री पेमेंट्स ने आज अपनी सत्यापन सेवाओं के अंतर्गत जीएसटीआईएन सत्यापन शुरू करने का एलान किया है। यह सुविधा प्रमाणीकण सूट के तहत मिलन बैंक खाता, आधार, पैन, यूपीआई और आईएफएससी सत्यापन सेवाओं के अतिरिक्त है।

कैशफ्री पेमेंट्स की जीएसटीआईएन सत्यापन सुविधा से विभिन्न व्यवसायों को बिना वक्त समय बर्बाद किए उनके वेंडरों व भागीदारों का  जीएसटीआईएन सत्यापन करने में मदद मिलेगी। यह फीचर दर्ज किए गए जीएसटीआईएन नंबर को तुरंत सत्यापित करेगी और जीएसटीआईएन वैध होने पर उसकी पूरी विस्तृत जानकारी उपलब्ध करा देगी, इससे धोखाधड़ी की आशंका कम रहेगी। जीएसटीआईएन सत्यापन का उपयोग ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस, B2B रीसेलिंग कंपनियों, बिजनेस इंश्योरेंस प्रोवाइडर और लेंडिंग प्लेटफॉर्म, टैक्स प्रोसेसिंग और रिटर्न फाइलिंग प्लेटफॉर्म जैसे बीएफएसआई सेगमेंट व अन्य द्वारा किया जा सकता है।

सत्यापन सेवा के तहत एक बार सिस्टम में 15-अंकीय जीएसटीआईएन नंबर दर्ज हो जाने के बाद, सत्यापन सूट का सिंक्रोनस एपीआई इस जीएसटीआईएन नंबर को इनपुट के रूप में लेगा और वास्तविक समय में उपभोक्ता की पहचान की पुष्टि करेगा। यह व्यापारी को व्यवसाय के पंजीकरण प्रकार - नियमित, समग्र, या छूट प्राप्त करदाता, जीएसटी पंजीकरण तिथि, व्यवसाय का कानूनी नाम, पंजीकृत कार्यालय का पता और जीएसटीआईएन डेटाबेस में बनाए गए जीएसटीआईएन स्थिति को सत्यापित करने में सक्षम करेगा।

कैशफ्री पेमेंट्स के सीईओ और सह-संस्थापक आकाश सिन्हा ने कहा, हमें अपने मौजूदा सत्यापन सूट में जीएसटीआईएन सत्यापन के साथ अपनी सेवाओं का विस्तार करते हुए खुशी हो रही है। यह जीएसटीआईएन सत्यापन को सरल, त्वरित और त्रुटि मुक्त बनाएगी। हमारे सत्यापन सूट को हमारे साझेदार व्यवसायों के लिए उपयोगकर्ता केवाईसी और संबंधित सत्यापन प्रक्रियाओं को सुविधाजनक बनाने के लिए तैयार किया गया है।  जीएसटीआईएन सत्यापन के एकीकरण से उन व्यवसायों को अत्यधिक लाभ होगा जिन्हें रीयल-टाइम विक्रेता/साझेदार सत्यापन की आवश्यकता होती है। हमारे समाधानों का उद्देश्य बड़े पैमाने पर हमारे व्यापारियों की डिजिटलीकरण यात्रा को सुविधाजनक, सुरक्षित और लागत प्रभावी तरीके से प्रभावी बनाना है। इसके लिए हम अपनी सेवाओं और संचालन को लगातार उन्नत कर रहे हैं, साथ ही व्यापारियों को ग्राहकों को खुश करने में सक्षम बनाते हैं। हम अपने सभी हितधारकों को असाधारण मूल्य प्रस्ताव देने के अपने प्रयासों को जारी रखने के लिए तत्पर हैं। जीएसटी के तहत, सभी करदाताओं को अनुपालन के एक मंच पर समेकित किया जाता है और एक ही प्राधिकरण के तहत पंजीकृत किया जाता है। जीएसटीआईएन एक महत्वपूर्ण पहचान है क्योंकि यह करदाता की प्रामाणिकता को दर्शाता है। कुछ मामलों में, कर चोरी के लिए कुछ व्यवसाय जीएसटी विवरण में हेरफेर कर सकते हैं। जीएसटीआईएन का केवाईसी व्यापारियों को व्यवसाय की पारदर्शिता प्राप्त करने, जीएसटी रिटर्न की प्रामाणिकता सुनिश्चित करने, जीएसटीआईएन की रिपोर्ट करते समय किसी भी त्रुटि को सुधारने और धोखाधड़ी को कम करने में मदद करता है।

कैशफ्री पेमेंट्स आज भुगतान प्रोसेसर के बीच 50% से अधिक बाजार हिस्सेदारी के साथ, अपने उत्पाद पेआउट के साथ भारत में थोक वितरण में अग्रणी है। हाल ही में, भारत के सबसे बड़े ऋणदाता, एसबीआई ने एक मजबूत भुगतान पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण में कंपनी की भूमिका को रेखांकित करते हुए कैशफ्री भुगतान में निवेश किया। कैशफ्री पेमेंट्स कंपनी के उत्पादों को शक्ति प्रदान करने वाले मुख्य भुगतान और बैंकिंग बुनियादी ढांचे का निर्माण करने के लिए सभी प्रमुख बैंकों के साथ मिलकर काम करता है।

कैशफ्री पेमेंट्स शॉपिफाय (Shopify), विक्स (Wix), पेपैल (Paypal), अमेजन पे (Amazon Pay), पेटीएम (Paytm) और गूगल पे (Google Pay) जैसे प्रमुख प्लेटफॉर्म के साथ भी एकीकृत है। भारत के अलावा, कैशफ्री भुगतान उत्पादों का उपयोग संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएसए), कनाडा और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) समेत आठ अन्य देशों में किया जाता है।

महिंद्रा समूह के रियल एस्टेट कारोबार के साथ तीन दशक के जुड़ाव के बाद अरुण नंदा महिंद्रा लाइफस्पेस से सेवानिवृत्त हुए

मुंबई, 28 जुलाई, 2022: महिंद्रा लाइफस्पेस डेवलपर्स लिमिटेड ने लंबे समय तक अध्यक्ष रहे अरुण नंदा के बोर्ड से सेवानिवृत्त होने की घोषणा की। उनकी जगह अमीत हरियानी लेंगे, जो 2017 से बोर्ड में एक स्वतंत्र निदेशक हैं।

अरुण नंदा 1973 में महिंद्रा समूह में शामिल हुए और पिछले कुछ वर्षों में समूह के भीतर कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे हैं। उन्हें अगस्त 1992 में महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड (एमएंडएम) के बोर्ड में शामिल किया गया और सामाजिक क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करने और वरिष्ठ नागरिकों के लिए एक अनुकूल पारिस्थितिकी तंत्र बनाने के लिए मार्च 2010 में कार्यकारी निदेशक के रूप में इस्तीफा दे दिया। उन्होंने अप्रैल 2010 से अगस्त 2014 तक एमएंडएम के गैर-कार्यकारी निदेशक के रूप में कार्य किया। अरुण नंदा ने राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के निदेशक, सीआईआई पश्चिमी क्षेत्र परिषद के अध्यक्ष, कौशल विकास और आजीविका पर सीआईआई की राष्ट्रीय समिति के अध्यक्ष और सदस्य के रूप में कार्य किया। हेल्पेज इंडिया के गवर्निंग बाडी से भी वे जुड़े रहे। अरुण नंदा इंडो-फ्रेंच चैंबर ऑफ कॉमर्स के एमेरिटस चेयरमैन भी हैं। वह 2008 में फ्रांसीसी गणराज्य के राष्ट्रपति श्री निकोलस सरकोजी द्वारा सर्वोच्च सम्मान, "शेवेलियर डे ला लीजन डी'होनूर" (नाइट ऑफ द नेशनल ऑर्डर ऑफ द लीजन ऑफ ऑनर) के प्राप्तकर्ता हैं, और विभिन्न उद्योग निकायों और मीडिया द्वारा कई सारे पुरस्कार हासिल किए हैं।

अरुण को चेन्नई में और बाद में जयपुर में पीपीपी मॉडल के तहत देश का पहला एसईजेड स्थापित करने में उनके अग्रणी कार्य के लिए हमेशा याद किया जाएगा। वह महिंद्रा हॉलिडेज एंड रिसॉर्ट्स (आई) लिमिटेड और हॉलिडे क्लब रिसॉर्ट्स ओए, फिनलैंड के अध्यक्ष और महिंद्रा होल्डिंग्स लिमिटेड के निदेशक के रूप में बने रहेंगे।

महिंद्रा समूह के अध्यक्ष, आनंद महिंद्रा ने कहा, “अरुणमहिंद्रासमूहकाएकअमूल्यहिस्सारहेहैंऔरविशेषरूपसेसेवाव्यवसायमें  विकास और विस्तार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने रियल एस्टेट और हॉस्पिटैलिटी में समूह की शुरुआत की और महिंद्रा हॉलिडेज और महिंद्रा लाइफस्पेस की स्थापना की। दशकों से उनके नेतृत्व और मार्गदर्शन ने इन व्यवसायों को फलने-फूलने और समूह की विविधता में महत्वपूर्ण योगदानकर्ता बनने में सक्षम बनाया। वह समूह के भीतर कई अन्य व्यवसायों के लिए एक संरक्षक रहे हैं और सामाजिक क्षेत्र में उनका काम विशेष रूप से वरिष्ठ नागरिकों के लिए प्रशंसनीय है। अरुण एक भरोसेमंद सलाहकार और दोस्त रहे हैं।  मैं उन्हें शुभकामनाएं देता हूं क्योंकि वह समूह के भीतर और उद्योग के साथ अपना काम लगातार जारी रखेंगे।

अरुण नंदा ने कहा, "मैं लगभग 50 वर्षों तक विभिन्न क्षमताओं में महिंद्रा समूह के साथ जुड़े रहने के लिए अपने आपको धन्य महसूस करता हूं। इसने मुझे एक चार्टर्ड एकाउंटेंट और कंपनी सचिव से एक उद्यमी के रूप में अवसर दिया। यह सब मेरे ऊपर श्री केशुब महिंद्रा और आनंद के सशक्तिकरण और विश्वास के कारण संभव हुआ। जैसे-जैसे मैं 75 के करीब पहुंचा हूं, मैं वरिष्ठ नागरिकों के साथ काम करने वाले अपने फाउंडेशन और युवाओं के कौशल विकास के साथ अधिक समय बिताना चाहता हूं, खासकर आदिवासी क्षेत्रों में। महिंद्रा लाइफस्पेस मेरे दिल में एक विशेष स्थान रखता है क्योंकि मैं इसकी स्थापना के बाद से व्यवसाय से जुड़ा हुआ हूं। मुझे खुशी है कि जब कंपनी एक मजबूत प्रबंधन के नेतृत्व में एक बहुत ही मजबूत पायदान और विकास पथ पर है, तो मैं पद छोड़ रहा हूं। मैं कामना करता हूं कि कंपनी का विकास और सफलता जारी रहे।"

महिंद्रा समूह के प्रबंध निदेशक और सीईओ अनीश शाह ने कहा, "अरुण एक असाधारण लीडर हैं जिनका महिंद्रा समूह पर गहरा प्रभाव पड़ा है। उन्होंने लगभग आधी सदी में समूह की नींव बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिसमें हमारे रियल एस्टेट और हॉस्पिटालिटी क्षेत्रों की स्थापना शामिल है। हम वास्तव में महिंद्रा समूह में उनके योगदान और महिंद्रा वर्ल्ड सिटीज की स्थापना में उनके अग्रणी कार्य की सराहना करते हैं। कौशल विकास जैसे महत्वपूर्ण उद्योग क्षेत्रों में उनका योगदान महत्वपूर्ण है। वह महिंद्रा समूह का एक अभिन्न अंग बना हुए हैं और अगली पीढ़ी के लीडर्स का समर्थन जारी रखेंगे। मुझे महिंद्रा लाइफस्पेस के बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में अमीत हरियानी का स्वागत करते हुए भी बहुत खुशी हो रही है और मुझे विश्वास है कि कंपनी उनके मार्गदर्शन में विकास के अगले अध्याय को शुरू करेगी।

अमीत हरियानी देश के प्रमुख वकीलों में से एक हैं, जिनके पास कॉर्पोरेट और वाणिज्यिक कानून, विलय और अधिग्रहण, रियल एस्टेट और रियल एस्टेट वित्त लेनदेन पर ग्राहकों को सलाह देने का 35 से अधिक वर्षों का अनुभव है। वह हरियानी एंड कंपनी के संस्थापक और प्रबंध भागीदार हैं। अमीत ने अब एक वरिष्ठ कानूनी परामर्शदाता के रूप में सलाहकार अभ्यास और मध्यस्थ के रूप में कार्य करना शुरू कर दिया है। वह कई आयोजनों में वक्ता रहे हैं और अक्सर लिखते भी हैं। उन्होंने "रियल एस्टेट लॉज" पर एक किताब लिखी है। अमीत हीलिंग टच के ट्रस्टी हैं, जो बच्चों को स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से निपटने में मदद करता है। अमीत महिंद्रा लॉजिस्टिक्स लिमिटेड के बोर्ड में एक स्वतंत्र निदेशक भी हैं।

होण्डा मोटरसाइकल एण्ड स्कूटर इंडिया ने ओशिनिया क्षेत्र में किया विस्तार ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैण्ड में शुरू किया निर्यात

नई दिल्ली, 28 जुलाई, 2022ः भारत में अपनी विश्वस्तरीय निर्माण क्षमताओं का उपयोग करते हुए होण्डा मोटरसाइकल एण्ड स्कूटर इंडिया ने आज अपनी 125 सीसी मोटरसाइकल एसपी125 को ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैण्ड निर्यात करने की घोषणा की है। मोटरसाइकल को सीबीयू रूट के ज़रिए निर्यात किया जाएगा और इसे इन बाज़ारों में ‘सीबी 125एफ’ के नाम से बेचा जाएगा।

एसपी125 की तकरीबन 250 युनिट्स का शिपमेन्ट 22 जुलाई से ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैण्ड को रवाना कर दिया गया है। वर्तमान में एसपी125 का निर्माण होण्डा मोटरसाइकल एण्ड स्कूटर इंडिया के अलवर (राजस्थान) स्थित तापुकारा प्लांट में किया जाता है।

इस उपलब्धि पर बात करते हुए श्री आत्सुशी ओगाता, मैनेजिंग डायरेक्टर, प्रेेज़ीडेन्ट एवं सीईओ, होण्डा मोटरसाइकल एण्ड स्कूटर इंडिया ने कहा, ‘‘भारत में अपनी उत्पादन क्षमता को बढ़ाकर दुनिया भर को सेवाएं प्रदान करने की दीर्घकालिक योजनाओं के तहत एचएमएसआई ने यह कदम बढ़ाया है। एचएममएसआई की भरोसेमंद गुणवत्ता दुुनिया के 38 देशों के उपभोक्ताओं को संतोषजनक सेवाएं प्रदान कर रही है, हम विश्वस्तरीय बाज़ारों में निर्यात का फुटप्रिन्ट बढ़ाने की योजनाओं के अनुसार आगे बढ़ रहे हैं।’’

उल्लेखनीय है कि एसपी125 भारत में एचएमएसआई द्वारा लॉन्च की गई पहली BSVI मोटरसाइकल थी। 19 नए पेटेंट ऐप्लीकेशन्स से पावर्ड एसपी125 में ईएसपी टेक्नोलॉजी से युक्त 125 सीसी एचईटी इंजन है। एसपी 125 में ऐसे कई टेक्नोलॉजी फीचर्स हैं जो इस सेगमेन्ट में पहली बार पेश किए गए हैं जैसे फुल डिजिटल मीटर, डिस्टेन्स टू एम्प्टी, एवरेज फ्यूल एफीशिएन्सी, रियल-टाईम फ्यूल एफिशिएन्सी, एलईडी डीसी हैडलैम्प, इंजन स्टार्ट/ स्टॉप स्विच, इंटीग्रेटेड हैडलैम्प बीम/ पासिंग स्विच, ईको इंडीकेटर, गियर पॉज़िशन इंडीकेटर।

दुनिया भर में एचएमएसआई का लगातार बढ़ता फुटप्रिन्ट
होण्डा मोटरसाइकल एण्ड स्कूटर इंडिया ने अपने पहले मॉडल एक्टिवा के साथ 2001 में भारत से निर्यात शुरू किया। वर्तमान में होण्डा 19 दोपहिया मॉडलों के निर्यात पोर्टफोलियो के साथ विभिन्न निर्यात बाज़ारों में 30 लाख से अधिक उपभोक्ताओं को अपनी सेवाएं प्रदान कर रही है, जिनमें एशिया और ओशिनिया, मध्य पूर्व और लैटिन अमेरिका प्रमुख हैं। 

नोकिया ने नोकिया सी21 प्लस के साथ सी सीरीज पोर्टफोलियो को किया और मजबूत किया, नोकिया सी21 प्लस - खास तौर पर उन लोगों के लिए जो करते हैं खुद पर यकीन!

नई दिल्ली, भारत, 28 जुलाई, 2022 - नोकिया फोन का निर्माण करने वाली कंपनी एचएमडी ग्लोबल ने आज अपनी लोकप्रिय सी-सीरीज़ को और आगे बढ़ाते हुए नोकिया सी21 प्लस को लॉन्च करने का एलान किया। सिर्फ 10,299 रुपए से शुरू होने वाला यह खूबसूरत स्मार्टफोन न सिर्फ मजबूत है, बल्कि इसमें लंबे समय तक चलने वाली बैटरी दी गई है और साथ ही इसमें वे सभी फीचर्स हैं, जिनके लिए नोकिया फोन पहचाने जाते हैं।

अपनी कीमत, खूबियों और डिज़ाइन का संयोजन नोकिया सी 21 प्लस को आज तक का पसंदीदा अल्ट्रा-बजट हैंडसेट बनाता है। इसे इस तरह से तैयार किया गया है कि यह उपभोक्ताओं के लिए स्मार्टफोन के रोजमर्रा के इस्तेमाल को और बेहतर और सरल बनाता है।

नोकिया सी21 प्लस की लॉन्चिंग के अवसर पर सनमीत सिंह कोचर, वाइस प्रेसिडेंट- इंडिया और मेना एचएमडी ग्लोबल ने कहा, ‘‘एचएमडी ग्लोबल में हम अच्छी तरह यह पहचानते हैं कि मिलेनियल्स स्मार्टफोन से क्या चाहते हैं, और इसी फीडबैक के आधार पर हम लगातार अपने स्मार्टफोन को  उच्चतम गुणवत्ता, विश्वास और स्थायित्व के साथ तैयार करने की कोशिश करते हैं। नोकिया सी21 प्लस को विशेष रूप से उन युवाओं की उभरती जरूरतों को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है जो आत्मविश्वास से भरपूर हैं और जो उपयोगी इनोवेशन के साथएक ब्रांड की तलाश कर रहे हैं। इसी सोच के अनुरूप हमने नोकिया सी21 प्लस के लिए अपना कैम्पेन ‘भरोसा खुद पर’ की फिलॉस्फी के आधार पर तैयार किया है। हम इस देश के कोने-कोने में रहने वाले ऐसे युवाओं से प्रेरित हैं, जो और अधिक, और बेहतर करने की इच्छा रखते हैं। इन बाजारों में हमारे ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करते हुए नोकिया स्मार्ट डिवाइस लगातार डिलीवर किए जा रहे हैं, और हम रोमांचक, उपयोगी और भरोसेमंद डिवाइसेज के साथ ऐसा करना जारी रखेंगे।’’

नोकिया सी 21 प्लस सभी प्रमुख विशिष्टताओं का सही मिश्रण है और इसके साथ जुड़ा है सबसे अच्छी कीमत पर गुणवत्ता और स्थायित्व का नोकिया भरोसा। यह खास तौर पर उन लोगों के लिए बनाया गया है जो खुद पर विश्वास करते हैं।

स्लिम डिज़ाइन में बड़ी बैटरी

नोकिया सी21 प्लस में स्लीक लुक और फील देते हुए 5050 एमएएच की लंबी बैटरी लाइफ प्रदान की गई है, इस तरह ग्राहकों को तीन दिन तक की बैटरी लाइफ मिलती है- जिससे आप अधिक समय तक कनेक्टेड रह सकते हैं और आपको बहुत कुछ करने की सुविधा मिलती है।

मजबूत और कड़े मानकों से गुजरा गया

दुनिया में सबसे कठिन माने जाने वाले कड़े मैन्यूफेक्चरिंग स्टैंडर्ड के साथ निर्मित नोकिया सी21 प्लस के जरिये आप निश्चिंत हो सकते हैं कि इस स्मार्टफोन की बिल्ड क्वालिटी समय की कसौटी पर खरा उतरेगी। इसकी बॉडी एक इनर मेटल चेसिस और सख्त कवर ग्लास द्वारा निर्मित है - और यह आईपी52 रेटेड है - गंदगी, धूल और पानी की बूंदों से अतिरिक्त सुरक्षा के लिए। इस तरह आप निश्चिंत होकर अपने स्मार्टफोन का इस्तेमाल कर सकते हैं।

सुरक्षा का जाना-पहचाना स्तर

स्मार्टफोन अक्सर लोगों की सबसे निजी जानकारी संग्रहीत करते हैं, साथ ही मनोरंजन, बैंकिंग और महत्वपूर्ण संचार के लिए एक केंद्र के रूप में कार्य करते हैं। सी-सीरीज रेंज का हिस्सा होने के नाते, नोकिया सी21 प्लस हर चीज को सुरक्षित रखने के लिए मानक के रूप में दो साल के त्रैमासिक सुरक्षा अपडेट के साथ आता है।

अतिरिक्त गोपनीयता और सुविधा के लिए, फिंगरप्रिंट और एआई फेस अनलॉक तकनीक सुनिश्चित करती है कि आप चिंता मुक्त होकर फोन का उपयोग कर सकते हैं।

क्लीन ओएस

नोकिया सी21 प्लस एंड्रॉइड 11 (गो एडिशन) के साथ आता है, जो एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम का एक सुव्यवस्थित संस्करण है जो बैटरी पर कोई लोड लाए बिना तेज़ डाउनलोड गति की सुविधा देता है। न्यूनतम प्रीलोड यह भी सुनिश्चित करते हैं कि आपके द्वारा चुने गए ऐप्स और सामग्री के लिए अधिक स्थान है, जिससे आपको स्टोरेज से समझौता किए बिना अपने डेटा का अधिकतम लाभ उठाने में मदद मिलती है।

जीवन के सर्वाेत्तम पलों को करें कैद

एचडीआर तकनीक के साथ 13एमपी का ड्युअल कैमरा यादगार पलों को बेहतर तरीके से कैप्चर करता है, जबकि पोर्ट्रेट, पैनोरमा और ब्यूटिफिकेशन जैसे विभिन्न मोड पेशेवर दिखने वाली ऐसी तस्वीरें बनाने में सहायता करते हैं जिन्हें आप हमेशा के लिए रख सकते हैं।

शानदार 6.5” का एचडी प्लस डिस्प्ले यह सुनिश्चित करता है कि वीडियो और तस्वीरों को बेहतर डिटेल्स के साथ देखा जा सकता है, स्क्रीन की अविश्वसनीय डेफिनेशन और क्लेरिटी के कारण ऐसा संभव होता है।

मूल्य निर्धारण और उपलब्धता

नोकिया सी21 प्लस भारत में आज से डार्क सियान और वार्म ग्रे में उपलब्ध है और 3/32 जीबी और 4/64 जीबी वेरिएंट में आता है, जिनकी कीमत क्रमशः 10,299 और 11,299 है। यह डिवाइस नोकिया डॉट कॉम, रिटेल चैनलों और ईकॉमर्स साइटों पर उपलब्ध है। नोकिया डॉट कॉम से ख़रीदने पर मुफ़्त नोकिया वायर्ड बड्स की सीमित अवधि की पेशकश भी है।

Link for downloading images:

Images: https://we.tl/t-sWKjLTmq3x

Video: https://we.tl/t-8z2vtDzCdY

हरियाली तीज पर ‘सोलह श्रृंगार’ कीजिए तनिष्क के साथ

जुलाई ,28 2022 :  भारत का सबसे बड़ा ज्वेलरी ब्रांड और टाटा समूह का एक हिस्सा तनिष्क ने हरियाली तीज के पर्व पर एक विशेष ऑफर की घोषणा की है। तनिष्क में सोने के आभूषणों के मेकिंग चार्जेस और हीरों के आभूषणों के मूल्य पर 20%* तक की छूट दी जा रही है। राजस्थान, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के सभी तनिष्क स्टोर्स में 29 से 31 जुलाई 2022 तक इस आकर्षक ऑफर का लाभ उठाया जा सकता है।

शादी के पवित्र बंधन में शुभता और खुशियां हमेशा बनी रहने की कामना के साथ मनाई जाने वाली हरियाली तीज का महिलाओं के लिए एक गहरा सांस्कृतिक और पारंपरिक महत्त्व होता है और आभूषण इसका एक बहुत बड़ा हिस्सा हैं। इस पर्व को सावन तीज भी कहते हैं और यह त्यौहार देवी माँ पार्वती और भगवन शिव को समर्पित होता है। इस दिन सुहागिन महिलाएं उपवास रखती हैं और अपने पति की लंबी आयु की कामना करते हुए पूजन करती हैं। हरे वस्त्र परिधान करके सोलह श्रृंगार करना हरियाली तीज की सबसे प्रमुख बात मानी जाती है। ऐसी मान्यता है कि पत्नी के सोलह श्रृंगार उसके पति को सभी बुराइयों से बचाते हैं। सोने के आभूषण श्रृंगार का महत्वपूर्ण भाग माने जाते हैं, जो पति और पत्नी के बीच के पवित्र बंधन को और भी दृढ़ करते हैं।

इस साल तीज के पर्व पर प्रेम और स्नेह की भावनाओं को तरोताज़ा कीजिए और तनिष्क के आभूषणों के साथ खुशियों को सुनहरा और हमेशा के लिए यादगार बनाइए। नेकलेस, इयररिंग्स, कंगन से लेकर मांग टिक्का सभी तरह के, अनगिनत डिज़ाइन्स के आभूषण तनिष्क में हैं। हर ग्राहक की पसंद को पूरा करने के लिए तनिष्क में सोने के नेकलेस, चांद बालियां, मैट फिनिश की अर्धगोल चूड़ियों जैसे कई शानदार  आभूषण उपलब्ध हैं। परंपरा का प्रतीक और सोलह श्रृंगार में मांग टिक्का के साथ-साथ महत्वपूर्ण मानी जाने वाली नथनी की बहुत बड़ी रेंज भी इस ब्रांड ने प्रस्तुत की है। इन सभी डिज़ाइन्स में पारंपरिक पहलुओं का बहुत ही खूबसूरती से इस्तेमाल किया गया है। 

तीज प्यार, भक्ति और आशा का त्यौहार है। तनिष्क के अद्भुत गोल्ड कलेक्शन के साथ इस त्यौहार को शानदार और यादगार बनाइए। 

तनिष्क के सभी स्टोर्स में उन्नत 'गोल्ड स्टैंडर्ड' सुरक्षा नियमों का पालन किया जाता है। आप पूरी तरह से निश्चिन्त होकर अपने नज़दीकी तनिष्क स्टोर में खरीदारी कर सकते हैं। तनिष्क स्टोर्स के 100% स्टाफ का टीकाकरण हो चूका है। या आप अपने घर से ही पूरे आराम से ऑनलाइन खरीदारी भी  कर सकते हैं - www.Tanishq.co.in

कल्याण ज्वैलर्स ने हरियाली तीज के अवसर पर विशेष रूप से तैयार किए गए ज्वैलरी डिजाइन पेश किए

राष्ट्रीय, 28 जुलाई, 2022: हरियाली तीज भगवान शिव और माता पार्वती की आराधना और विशेष पूजन को समर्पित है। यह त्यौहार सुहागिनमहिलाओं के लिए विशेष महत्व रखता है। महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र और सुखी वैवाहिक जीवन के लिए दिनभर के उपवास की पुरानी परंपरा का पालन करती हैं। त्यौहार के लिए हरे रंग के प्रतीकात्मक महत्व को देखते हुए, महिलाएं हरे रंग के अपने सर्वोत्तम वस्त्रों को धारण करती हैं और इस शुभ अवसर पर अपने अंगों पर मेंहदी रचती हैं और सोने के आभूषण पहनती हैं।

कल्याण ज्वैलर्स ने राज्य भर के ग्राहकों के लिए सोने के आभूषणों में निवेश करने के लिए 3 तरीके पेश किए हैं। इनमें कल्याण ज्वैलर्स का डिजिटल गोल्ड, गोल्ड ओनरशिप सर्टिफिकेट इनिशिएटिव और गोल्ड कॉइन के साथ-साथ लोकप्रिय घरेलू ब्रांड्स की इनकी विस्तृत रेंज शामिल है जो कल्याण ज्वैलर्स के शोरूम में उपलब्ध है। ग्राहक, इन ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यमों के जरिए आभूषण खरीद सकते हैं और हरियाली तीज को अपने प्रियजनों के लिए सही मायने में खास बना सकते हैं।

कल्याण ज्वैलर्स के आकर्षक ज्वेलरी गिफ्टिंग विकल्पों के साथ, पति इस तीज को अपनी पत्नियों के लिए यादगार बना सकते हैं। कल्याण ज्वैलर्स के विविध कलेक्शंस ऐसे डिजाइन्स के आभूषणों की पेशकश करते हैं जो भारत की कारीगरी विरासत और शिल्प के साथ-साथ देश की विभिन्नतापूर्ण परंपराओं के अनूठे मिश्रण हैं।

51 दिव्यांग जोड़ों का सामूहिक विवाह उदयपुर में

जयपुर, 28 जुलाई। दिव्यांग एवं निर्धन युवक- युवतियों की गृहस्थी बसाने के लिए उदयपुर में नारायण सेवा संस्थान 28-29 अगस्त को 38 वां निःशुल्क सामूहिक विवाह आयोजित करेगा। इस संबंध में यहां संस्थान के प्रतिनिधि विष्णु शर्मा हितैषी और भगवान प्रसाद गौड़ ने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री टीकाराम जूली व शासन सचिव डॉ समित शर्मा से भेंट कर उन्हें आयोजन की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस सामूहिक विवाह में 51 जोड़े परिणय सूत्र में बंधेंगे। संस्थान की ओर से जोड़ों को गृहस्थी का आवश्यक सारा सामान दिया जाएगा। संस्थान समाज के सहयोग से 2150 दिव्यांग एवं निर्धन जन की गृहस्थी बसाने में योगदान दे चुका है। संस्थान प्रतिनिधियों ने सहकारिता मंत्री उदय लाल आंजना, देवस्थान मंत्री शकुंतला रावत, खेल एवं युवा मामले मंत्री अशोक चांदना तथा मुख्य सचिव उषा शर्मा को भी कार्यक्रम की जानकारी देकर आयोजन में शिरकत करने का निमंत्रण दिया।

Wednesday, July 27, 2022

पीरामल फाउंडेशन ने 15 वर्ष पूरे होने पर अपना स्थापना दिवस मनाया; 113 मिलियन भारतीयों के जीवन को कर सकारात्मक तरीके से कर चुका है प्रभावित

मुंबई, 27 जुलाई, 2022: पीरामल फाउंडेशन ने आज अपनी स्थापना के 15 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में 'स्थापना दिवस' मनाया। इसने पिछले 15 वर्षों में शिक्षा, स्वास्थ्य, जल और सामाजिक क्षेत्र के पारिस्थितिकी तंत्र में नवाचारों को आगे बढ़ाने का काम किया है। सेवाभाव की भावना से प्रेरित, इस फाउंडेशन ने पूरे भारत में सबसे अधिक वंचित लोगों तक पहुंचने की पहल को लागू किया है और 113 मिलियन लोगों के जीवन को सकारात्मक रूप में प्रभावित किया है।

फाउंडेशन ने नवाचारों को बड़े पैमाने पर ले जाने के लिए प्रोजेक्ट टू प्लेटफॉर्म एप्रोच और प्रणालीगत परिवर्तन हेतु क्षमता संवर्धन के लिए पार्टनरशिप्स एप्रोच का उपयोग करके 6 बिग बेट्स के अपने पुनर्कल्पित पोर्टफोलियो की घोषणा की। इसके माध्यम से, बिग बेट्स का लक्ष्य उन सबसे कठिन समस्याओं को हल करना है जो भारत की क्षमता को प्राप्त करने में बाधाएं हैं।

वो 6 बिग बेट्स जिसके जरिए पीरामल फाउंडेशन का उद्देश्य भारत में परिवर्तन की गति को तेज करना है:

  1. अनामया, जनजातीय स्वास्थ्य सहयोग (अनामया, द ट्राइबल हेल्थ कोलैबोरेटिव) का उद्देश्य समुदायों और सार्वजनिक वितरण प्रणालियों को समान रूप से मजबूत करके 100 मिलियन से अधिक जनजातीय लोगों के लिए स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराकर जनजातीय समुदायों में टाली जा सकने योग्य मौतों को टालने का काम किया है। साझेदारियों में जनजातीय मामला मंत्रालय, राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम, यूएसएआईडी, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन, सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च और एकजुट फाउंडेशन के साथ की गई साझेदारी शामिल हैं।
  2. महत्वाकांक्षी जिला सहयोग (एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट्स कोलैबोरेटिव) का उद्देश्य हाइपरलोकल कोलैबोरेशन और लास्ट माइल कन्वर्जेंस के माध्यम से 2030 तक 112 एस्पिरेशनल जिलों में घोर गरीबी में रहने वाले 100 मिलियन लोगों के जीवन का उत्थान करना है। इसमें प्रमुख भागीदार नीति आयोग, 112 आकांक्षी जिलों की जिला सरकारें, एडलगिव फाउंडेशन, टाटा कम्युनिकेशंस लिमिटेड और डेलॉइट शामिल हैं।
  3. डिजिटल भारत कोलैबोरेटिव का उद्देश्य डिजिटल पब्लिक हेल्थ डिलीवरी प्लेटफॉर्म को मजबूत बनाकर स्वास्थ्य प्रणाली को बदलना है। राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन, 5 राज्य सरकारें, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन, रॉकफेलर फाउंडेशन, सिस्को, जेनपैक्ट, विप्रो प्रमुख भागीदार हैं।
  4. पीरामल यूनिवर्सिटी भविष्य के लिए तैयार और 'सेवा-भाव' उन्मुख सार्वजनिक प्रणाली के नेतृत्वकर्ताओं का निर्माण करती है जिससे नवाचार और सीखने की प्रवृत्ति को बढ़ावा मिलता है। यह सरकारी समय के विलंब, अशुद्धियों और अपव्यय को रोकने के लिए संस्थागत प्रक्रियाओं, पद्धतियों और प्रबंध को मजबूत करती है। 7 राज्य सरकारों, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी, एमोरी यूनिवर्सिटी, बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप, यूनिसेफ, गूगल, जेनपैक्ट, पोर्टिकस, सोफिना और चिल्ड्रन्स इन्वेस्टमेंट फंड फाउंडेशन के साथ रणनीतिक साझेदारी है।
  5. पीरामल एकेडमी ऑफ सेवा युवाओं की शक्ति को उपयोग में लाती है और राष्ट्र निर्माण में लगे भविष्य के नेतृत्वकर्ताओं को पूर्णकालिक इमर्सिव, अनुभवात्मक फेलोशिप के माध्यम से मूल में आत्म-परिवर्तन में सक्षम बनाती है। देश भर के प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों, एडेलगिव फाउंडेशन, चिल्ड्रन इन्वेस्टमेंट फंड फाउंडेशन और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के साथ साझेदारी की गई है।
  6. पीरामल सेंटर फॉर चिल्ड्रेन विद स्पेशल नीड्स अत्याधुनिक डिजाइन और सुविधाओं, विश्व स्तर के पाठ्यक्रम, विशेष अनुप्रयोगों, तेजी से सीखने में सहायक उपकरणों, विकलांग व्यक्तियों के रोजगार हेतु कौशल निर्माण के साथ उत्कृष्टता के प्रकाशस्तंभ का निर्माण करके व्यापक संरचनात्मक अंतराल और विशेष जरूरतों वाले बच्चों के लिए पर्याप्त, गुणवत्ता देखभाल के अभाव को पूरा करता है। विकलांग व्यक्तियों के लिए पाठ्यक्रम तैयार करने हेतु विशेषज्ञों और सरकार के साथ सहयोग किया गया है।

पीरामल ग्रुप के चेयरमैन, श्री अजय पीरामल ने कहा, “स्थापना दिवस के अवसर पर पीरामल फाउंडेशन की टीम को मेरी ओर से बधाई। अब तक की यात्रा समृद्ध होने के साथ-साथ प्रेरक भी रही है। सेवाभाव से वंचित भारतीयों के जीवन को स्पर्श करने के हमारे प्रयास सेवाभाव की हमारी भावना से निर्देशित हैं। हम डूइंग वेल और डूइंग गुड में विश्वास करते हैं, जिसका अनिवार्य रूप से मतलब है कि हमारी सफलता आंतरिक रूप से समाज से भी अच्छी तरह से जुड़ी हुई है। भारत का वास्तविक परिवर्तन तब होगा जब हम लाखों भारतीयों तक पहुंचने और उन्हें भारत की विकास यात्रा के हिस्से के रूप में शामिल करने में सक्षम होंगे। हम 'किसी को पीछे नहीं छोड़ना' के अपने लक्ष्य के लिए प्रतिबद्ध हैं और हमें विश्वास है कि यह सरकार, नागरिक समाज और एनजीओ भागीदारों के बीच अधिक सहयोग के माध्यम से हासिल किया जा सकेगा।"

एशिया मनी बेस्ट बैंक अवार्ड्स-2022 में ईएसजी कैटेगरी के लिए इंडसइंड बैंक को मिला देश के सर्वश्रेष्ठ बैंक का सम्मान

मुंबई, 27 जुलाई 2022- इंडसइंड बैंक ने आज घोषणा की कि उसे हाल ही में संपन्न एशिया मनी बेस्ट बैंक अवार्ड्स-2022 के तहत देश के सर्वश्रेष्ठ बैंक का सम्मान मिला है। बैंक को यह सम्मान एन्वायर्नमेंटल, सोशल और गवर्नेंस (ईएसजी) कैटेगरी में मिला है। एशिया मनी बेस्ट बैंक अवार्ड पुरस्कार दरअसल पर्यावरण, सामाजिक और शासन (ईएसजी) सिद्धांतों को लागू करने में बैंक की असाधारण उपलब्धि को मान्यता देता है।

एशिया मनी एक ग्लोबल प्लेटफॉर्म है जिसमें कड़ी मेहनत से तैयार किए गए संपादकीय, हाई-प्रोफाइल साक्षात्कार और बाजार में प्रतिष्ठित पुरस्कारों को शामिल किया जाता है। इस संयोजन ने इसे पिछले 30 वर्षों से एशिया के वित्तीय बाजारों में अग्रणी पत्रिका बना दिया है।

बैंक अपनी डेडिकेटेड सस्टेनेबल बैंकिंग यूनिट के साथ व्यापार, जोखिम और संचालन में ईएसजी पर ध्यान केंद्रित करता है। इसमें कॉमर्शियल लेंडिंग, माइक्रोफाइनेंस, सस्टेनेबल फाइनेंस और गवर्नेंस संबंधी मामलों को समाहित किया जाता है।

इस उपलब्धि के बारे में जानकारी देते हुए इंडसइंड बैंक की हैड - पोर्टफोलियो मैनेजमेंट और सीएसआर सुश्री रूपा सतीश ने कहा, ‘‘इस प्रतिष्ठित पुरस्कार से सम्मानित होना हमारे लिए गर्व की बात है। एशिया मनी द्वारा ईएसजी के लिए सर्वश्रेष्ठ बैंक के रूप में स्वीकार किया जाना लंबी अवधि के लिए एक बैंक का निर्माण करने की हमारी प्रतिबद्धता को ही प्रमाणित करता है। इंडसइंड बैंक में हम बैंकिंग के हर पहलू में ईएसजी को अपनाते हैं - चाहे वह हमारे द्वारा किए जाने वाले विविध व्यवसायों से संबंधित मामला हो, या हमारे द्वारा लॉन्च किया जाने वाले एम्बेडेड प्रोडक्ट्स हों। साथ ही हम क्रेडिट अंडरराइटिंग में भी ईएसजी को इंटीग्रेट करते हैं और अपने बैंकिंग संबंधी समस्त कामकाज में भी ईएसजी का पालन करते हैं।’’

श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक ने अपनी ओम्नी-चैनल रिटेल श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक रिटेल पविलियन’ को लॉन्च किया

राष्‍ट्रीय, 27 जुलाई, 2022:  श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक  ने आज अपनी ओम्‍नी-चैनल रिटेल ‘श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक रिटेल पविलियनकी घोषणा की है, जो देशभर के रिटेलर्स पर लक्षित है। इस कॉन्‍सेप्‍ट के जरिये कंपनी रिटेलर्स को एनरोल करेगी, उन्‍हें बढ़ावा देगी और उनका कौशल बढ़ाएगी, और डिजिटल बदलाव के उनके सफर में साथी बनेगी। कंपनी ने अपने बी-टू-सी (B2C) बिजनेस के लिये 500 से ज्‍यादा रिटेल स्‍टोर्स को श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक रिटेल पविलियंस बनाकर भागीदारी की है और इसका लक्ष्‍य 2023 तक पूरे भारत में 2000 से ज्‍यादा श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक रिटेल पविलियंस के विस्तार की है।

इसके अंतर्गत रिटेल स्‍टोर्स में  अलग से एक श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक ज़ोन बनाया जाएगा, जहां उत्‍पादों का प्रदर्शन करने के साथ ही रिटेलर्स को मूल्‍यवर्द्धित प्रशिक्षणों, लॉयल्‍टी प्रोग्राम्‍स से सशक्‍त किया जाएगा। यह ज़ोन डिजिटल मार्केटिंग तथा सर्च ऑप्टिमाइजेशन के जरिये बाजार में रिटेलर्स की मौजूदगी बढ़ाएगा। श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक सूचीबद्ध स्‍टोर्स के साथ मिलकर काम करेगी ताकि एक सुचारू डिजिटल सूचना प्रवाह के साथ उनकी यूनिक डिजिटल आइडेंटिटी बनाई जा सकेगी और सभी वितरण चैनलों के माध्‍यम से सुगम एवं स्‍थायी अनुभव मिलेगा।

भारत के शहरी क्षेत्रों से अलग कई टियर 1, 2 और 3 शहरों में ऐसे पारंपरिक रिटेल स्‍टोर्स हैं, जिनकी कोई डिजिटल पहचान नहीं है। दुनिया के डिजिटल होने के साथ, श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक रिटेल पविलियन ऐसे रिटेलरों की डिजिटल पहचान बनाकर, ग्राहक सेवाओं में उनकी अपस्किलिंग करके और बाजार में उनकी मौजूदगी को डिजिटल तरीके से बढ़ावा देकर उनके डिजिटल समावेशन के लिये किया गया कंपनी का एक प्रयास है। इससे ब्राण्‍ड्स की ओम्‍नी-चैनल रिटेल मौजूदगी को मजबूती मिलेगी, वे पूरी तरह से डिजिटाइज होंगे और रिटेल के नए तरीकों से बाज़ार में पहुँच को बेहतर बना पायंगे।

श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक इंडिया में होम एंड डिस्ट्रिब्‍यूशन के वाइस प्रेसिडेंट श्री श्रीनिवास शानभोग ने कहा, “श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक रिटेल पविलियन को लॉन्‍च करके हम टियर 1, 2 और 3 शहरों में रिटेलर्स का डिजिटल से सशक्‍त इकोसिस्‍टम बनाना चाहते हैं। हम देश के किसी भी भाग से आने वाली उपभोक्‍ता की मांग को सक्षम तरीके से पूरा करना चाहते हैं और डिजिटल अर्थव्‍यवस्‍था बढ़ावा देना चाहते हैं। हमें रिटेलर्स के लिये अपनी जिम्‍मेदारी भी पता है और हमारा पूरा ध्‍यान उनकी रिटेलर्स के कारोबार को आगे बढ़ाने में केन्द्रित है।

इस पहल के माध्‍यम से, हमारा लक्ष्‍य परिचालन की चुनौतियों को हल करना और अपनी वृद्धि को बढ़ाना है। इसके लिये हम अपने उत्‍पादों के उद्देश्‍य और उपयोगिताओं का सही प्रचार करेंगे और इस प्रक्रिया में रिटेलर्स को सशक्‍त करेंगे।”

श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक की वृद्धि में रिटेल रणनीति की एक महत्‍वपूर्ण भूमिका है। रिटेलर्स श्‍नाइडर इलेक्ट्रिक के इकोसिस्‍टम का सबसे महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा हैं और कंपनी उन्‍हें ज्‍यादा काम करने के लिये सशक्‍त और समर्थ बनाने की दिशा में लगातार कोशिश कर रही है।

उद्योग विभाग ने उद्योग प्रतिनिधियों के साथ की सीधे संवाद

जयपुर , 27 जुलाई 2022:राजस्थान उद्योग और वाणिज्य विभाग ने राज्य के व्यापार और उद्योग प्रतिनिधियों के साथ सीधे संवाद के लिए दरवाजे खोल दिए हैं। इस तरह की पहली चर्चा पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के सहयोग से जयपुर में हुई थी और जल्द ही इस तरह की और बातचीत संभाग मुख्यालय में आयोजित की जाएगी।"एसीएस उद्योग और वाणिज्य, सुश्री वीनू गुप्ता ने कहा की  "उद्योग और विभाग के बीच सीधा संवाद विभिन्न सरकारी योजनाओं के प्रति बेहतर समझ प्रदान करने में मदद करता है, साथ ही उनमें और सुधार के लिए सुझाव लाने में भी मदद करता है। आज, हमने श्रृंखला में पहली चर्चा की और इस तरह की बातचीत को जिला स्तर पर  आयोजित करने के लिए तत्पर हैं


संवाद का उद्देश्य निवेशकों को वन स्टॉप शॉप (ओएसएस) जैसी राज्य सरकार की उद्योग अनुकूल पहलों की बेहतर समझ प्रदान करना है। चर्चा के दौरान उपस्थित उद्योगपतियों और निवेशकों को राज्य में उभरते निवेश स्थलों के बारे में भी जानकारी दी गई। सभा को संबोधित करते हुए एमडी रीको, श्री. शिव प्रसाद नाकाटे ने प्रदेश में रीको द्वारा विकसित किये जा रहे नवीन औद्योगिक नगरों एवं अन्य औद्योगिक क्षेत्रों की जानकारी दी।

इससे पहले, बीआईपी आयुक्त श्री ओम कसेरा ने निवेशकों को ओएसएस और निवेश प्रक्रिया को तेजी से ट्रैक करने में इसके प्रभाव के बारे में जानकारी दी। ओएसएस अपने पोर्टल के माध्यम से 14 विभिन्न विभागों से 100 से अधिक सेवाएं प्रदान करता है। 10 करोड़ रुपये या उससे अधिक के किसी भी निवेश प्रस्ताव को पोर्टल के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है और आवश्यक अनुमति और मंजूरी समयबद्ध प्रारूप में तय की जाएगी।

नए एमएसएमई अधिनियम ने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों को प्रारंभिक तीन वर्षों के लिए राज्य सरकार की मंजूरी की आवश्यकता से राहत दी, ओएसएस 10 करोड़ रुपये से ऊपर के सभी निवेश प्रस्तावों के लिए प्रक्रिया को आसान बना देता है ।

14 विभागों जैसे उद्योग, रीको लिमिटेड, ऊर्जा, श्रम, शहरी विकास, स्थानीय स्वशासन, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, उपभोक्ता मामले, पर्यटन, राजस्व, कारखाना और बॉयलर, लोक निर्माण, सार्वजनिक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग और स्वास्थ्य के अधिकारियों की प्रतिनियुक्ति होगी।

राजस्थान सरकार हरित क्षेत्र परियोजनाओं और एफडीआई निवेश के माध्यम से निवेश प्रोत्साहन की नीति को आक्रामक रूप से आगे बढ़ा रही है और राज्य में ईज ऑफ डूइंग बिजनेस (ईओडीबी) में सुधार के लिए विभिन्न पहल की है। विभिन्न विभागों के दरवाजे खटखटाने से लेकर 90 तरह की मंजूरी और मंजूरी लेने से लेकर उद्योग भवन स्थित ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टमेंट प्रमोशन (बीआईपी) तक निवेशकों को एक ही ऑफिस में जाने से राहत मिलेगी।

ओएसएस की सेवाओं का लाभ उठाने के लिए कृपया लॉगऑन करें::
https://rajnivesh.rajasthan.gov.in/

आईडीबीआई बैंक ने जोधपुर, राजस्थान में नए क्षेत्रीय कार्यालय का उद्घाटन किया

जोधपुर, 27 जुलाई 2022: आईडीबीआई बैंक ने आज जोधपुर में 17, कॉमर्शियल कॉम्प्लेक्स, रतनदा, जोधपुर में अपना नया क्षेत्रीय कार्यालय खोले जाने की घोषणा की। इस क्षेत्र में आईडीबीआई बैंक की शाखाएं राजस्थान के 11 जिलों में फैली हुई हैं। इसमें आईडीबीआई बैंक की परिसंपत्तियां, देनदारियां, क्रेडिट सॉल्यूशन सेंटर स्पोक लोकेशन, रिटेल एसेट सेंटर, रिकवरी, कलेक्शन और अन्य विभाग भी शामिल हैं। क्षेत्रीय कार्यालय का उद्घाटन आईडीबीआई बैंक के उप प्रबंध निदेशक, श्री सुरेश खटनहार ने मुख्य महाप्रबंधक और जोनल प्रमुख, श्री रंजन कुमार रथ और जोधपुर के क्षेत्रीय प्रमुख, श्री सिद्धार्थ कुमार की उपस्थिति में किया। यह नया क्षेत्रीय कार्यालय आईडीबीआई बैंक की विस्तार योजनाओं और जोधपुर क्षेत्र में अपने खुदरा ऋण खंड के लिए पहचान किए गए व्यापार के अवसरों को पूरा करेगा।


उद्घाटन के अवसर पर आईडीबीआई बैंक के उप प्रबंध निदेशक, श्री सुरेश खटनहार ने कहा, “इस विस्तार के साथ, हमारा उद्देश्य अपने ग्राहकों की विभिन्न बैंकिंग आवश्यकताओं के लिए खुदरा खंड में अपने उत्पाद और सेवा पेशकशों में पर्याप्त वृद्धि हासिल करना है। यह पहल 10,000 से अधिक नए ग्राहकों को जोड़ने और जोधपुर क्षेत्र के लिए चालू वित्त वर्ष में 15% से अधिक की व्यावसायिक वृद्धि प्राप्त करने के लिए बैंक की समग्र योजना के अनुरूप है।" बैंक ने ग्राहकों को खुशी प्रदान करने के लिए कई परिष्कृत डिजिटल पहल की है।

Tuesday, July 26, 2022

आईटेल आधुनिक तकनीक के साथ लोगों को सशक्त बनाने के दृष्टिकोण की ओर अग्रसर, मात्र रु 5299 की कीमत पर हाई-स्पीड 4 जी से युक्त ए23एस का किया लॉन्च

नई दिल्ली, 26 जुलाई, 2022: आम जनता के लिए तकनीक को सुलभ बनाने के अपने वादे पर खरा उतरते हुए आईटेल ने आज एक और अग्रणी स्मार्टफोन ए23एस का लॉन्च किया है। र#तरक्की का साथी के दृष्टिकोण के साथ लॉन्च किया गया ए23एस खासतौर पर फीचर फोन या एंट्री-लैवल स्मार्टफोन इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ताओं के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो मात्र रु 5299 की आकर्षक कीमत पर आधुनिक तकनीक के साथ उपलब्ध होगा। अपने सेगमेन्ट में सर्वश्रेष्ठ यह फोन मनोरंजन से लेकर, इंटरनेट बैंकिंग, ई-कॉमर्स और सोशल मीडिया तक उपभोक्ताओं की रोज़मर्रा की हर ज़रूरत को पूरा करेगा तथा कम कीमत, 4 जी इंटरनेट और आधुनिक तकनीक के साथ उनके जीवन को पूरी तरह से बदल देगा।

आईटेल ए23एस अपने ड्यूल 4 जी वोल्टे सपोर्ट फीचर के साथ हाई-स्पीड इंटरनेट और ऑल-राउण्ड कनेक्टिविटी के माध्यम से देश में डिजिटल अंतराल को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। इसके अलावा स्मार्टफोन की 2जीबी रैम और 32 जीबी इंटरनल स्टोरेज (जिसे 32 जीबी तक एक्सपेंड किया जा सकता है) के साथ यूज़र बड़ी आसानी से एक साथ कई ऐप्लीकेशन्स का इस्तेमाल कर सकता है। बड़ा और चमकदार 12.7 सेंटीमीटर (5) डिस्प्ले, 3020mAh बैटरी, आधुनिक डिज़ाइन इसे अपने सेगमेन्ट में सर्वश्रेष्ठ पेशकश बनाते हैं।

इस लॉन्च के अवसर पर सीईओ, आईटेल इंडिया, श्री अरीजीत तालपात्रा ने कहा, ‘‘भारत में 300 मिलियन से अधिक लोग आज भी फीचर फोन का इस्तेमाल करते हैं, जो स्मार्टफोन का उपयोग कर डिजिटल लहर में शामिल होना चाहते हैं, लेकिन अपनी इस महत्वाकांक्षा को पूरा करने में सक्षम नहीं हैं। आईटेल ने अपनी किफ़ायती एवं आधुनिक तकनीक वाले सशक्त प्रोडक्ट पोर्टफोलियो के साथ देश के दूर-दराज के क्षेत्रों में अपनी पहुंच को मजबूत बनाया है। ए23एस के साथ आईटेल भारत के डिजिटल विकास में योगदान देने के लिए एक कदम और आगे बढ़ा रहा है।’

उन्होंने अपनी बात को जारी रखते हुए कहा, ‘‘आईटेल इंडिया में हम एक ही प्रयोजन-यानि अपने उपभोक्ताओं के सपनों और महत्वाकांक्षाओं को पंख देकर उनके जीवन को सही बनाने के उद्देश्य- के साथ इनोवेशन्स और तकनीकों का निर्माण करते हैं।’

भारत जैसेे विविध देश में भाषा संबंधी बाधाओं को दूर करने के लिए आईटेल ए23एस 15 विभिन्न भाषाओं को सपोर्ट करता है। देश भर के उपभोक्ताओं को सुविधा का आश्वासन देते हुए स्मार्टफोन अंग्रेज़ी एवं 14 अतिरिक्त भाषाओं जैसेे हिंदी, गुजराती, तमिल, तेलुगु, पंजाबी, आसामी, बंगाली, कन्नड, मलयालम, कश्मीरी, उर्दु, नेपाली, मराठी और उड़िया को सपोर्ट करता है।

आईटल ए23एस 3 शानदार रंगों- स्काय स्यान, स्काय ब्लैक और ओशीन ब्लू में उपलब्ध है, जो भारतीय बाज़ार के यूज़र्स केे लिए स्टाइल स्टेटमेन्ट बन जाएगा। इसके अलावा स्ट्राइकिंग ग्रेडिएन्ट ग्लॉस फिनिश, आर एंगल और कैमरा डेको डिज़ाइन इसे बेहतरीन लुक देते हैं।

नया स्मार्टफोन आईटेल की ओर से स्पेशल टर्बो फीचर से लैस है, जिसमें व्हॉटसऐप कॉल रिकॉर्डिंग, पीक मोड, कॉल एलर्ट और स्टेटस सेव शामिल है।

स्मार्टफोन वन टाईम स्क्रीन रिप्लेसमेन्ट के साथ आता है, उपभोक्ता फोन की खरीद के 100 दिनों के भीतर स्क्रीन टूट जाने पर एक बार मुफ्त स्क्रीन रिप्लेसमेन्ट का लाभ उठा सकते हैं।

बीपीसीएल ने भारत में अपनी तरह का पहला स्वदेशी सुपर अब्सॉर्बेंट पॉलिमर तैयार किया

मुंबई, 26 जुलाई, 2022- भारत में पेट्रोलियम क्षेत्र की अग्रणी कंपनियों में से एक भारत पेट्रोलियम कॉर्पाेरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) ने कोच्चि में बीपीसीएल रिफाइनरी में प्रोपलीन डेरिवेटिव्स पेट्रोकेमिकल कॉम्प्लेक्स से पहला स्वदेशी सुपर एब्जॉर्बेंट पॉलिमर तैयार किया है।

सैनिटरी नैपकिन और अन्य इन्कान्टनन्स प्रोडक्ट्स के प्रमुख घटक सुपर एब्जॉर्बेंट पॉलिमर का भारत में पहली बार उत्पादन किया जा रहा है।

सुपर अब्सॉर्बेंट पॉलिमर की पहली खेप को कोच्चि रिफाइनरी के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर श्री अजीत कुमार के. ने बीपीसीएल के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में झंडी दिखाकर रवाना किया।

इस बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए कोच्चि रिफाइनरी के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर श्री अजीत कुमार के. ने कहा, ‘‘पहले स्वदेशी सुपर एब्सॉर्बेंट पॉलिमर का निर्माण बीपीसीएल के अग्रणी आरएंडडी कोशिशों का नतीजा है, जो बीपीसीएल द्वारा भारत में स्थापित विश्व स्तर के ऐक्रेलिक एसिड यूनिट द्वारा उत्पादित ऐक्रेलिक एसिड की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।’’

कंपनी ने कहा, ‘‘डिमॉन्स्ट्रेशन प्रोजेक्ट के बाद 50,000 टन प्रति वर्ष क्षमता का एक वाणिज्यिक संयंत्र स्थापित किया जाएगा, जिससे इस विशिष्ट और तेजी से बढ़ते खंड में भारत को आत्मनिर्भर बनाने के साथ-साथ ₹1,000 करोड़ की विदेशी मुद्रा की बचत होगी।’’

विशिष्ट पेट्रोकेमिकल के क्षेत्र में लाइसेंस के लिए टैक्नोलॉजी उपलब्ध नहीं है, हालांकि, बीपीसीएल आर एंड डी केंद्र ने हाइजीन एसएपी के उत्पादन के लिए एंड टू एंड प्रक्रियाओं को विकसित करने की चुनौती ली है। कोच्चि रिफाइनरी में 200 टन प्रति वर्ष का एक प्रदर्शन संयंत्र स्थापित किया गया है, जहां एसएपी का उत्पादन उनके इन-हाउस ऐक्रेलिक एसिड का उपयोग करके किया जाता है।

पैन-इंडिया हाइब्रिड एजुकेशन सिस्टम की शुरुआत करेगा एडुटेक फर्म उत्कर्ष क्लासेस।

जयपुर , 26 जुलाई, 2022: उत्कर्ष क्लासेस एंड एडुटेक प्रा. लि. ने 26 जुलाई, 2022 को अपनी हाइब्रिड शिक्षा प्रणाली में तेजी लाने हेतु बनाई योजना की घोषणा की जिसके तहत कंपनी ने हाल ही में जोधपुर में अपने 17वें ऑफलाइन सेंटर का उद्घाटन किया है। यह केंद्र सशस्त्र बलों में शामिल होने और संयुक्त रक्षा सेवा (सीडीएस) परीक्षा, वायु सेना, आम प्रवेश परीक्षा (एएफसीएटी), राष्ट्रीय रक्षा अकादमी और नौसेना अकादमी परीक्षा (एनडीए) तथा भारतीय तट रक्षा गार्ड नाविक टेस्ट (आई सी जी एन टी) जैसी परीक्षाओं में शामिल होने के इच्छुक अभ्यर्थियों की तैयारी करवाने में सक्रिय भूमिका में है।


उत्कर्ष क्लासेस के संस्थापक और निदेशक डॉ. निर्मल गहलोत ने उत्साहित होकर बताया कि “हम अपने पाठ्यक्रमों में विस्तार करने की दिशा में अग्रसर हैं तथा ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों माध्यमों से विद्यार्थियों को विविध पाठ्यक्रम प्रदान कर रहे हैं। वर्तमान में, राजस्थान के जयपुर व जोधपुर में 17 केंद्रों के साथ हमारी सशक्त ऑफ़लाइन उपस्थिति है जिसे आगे बढ़ाते हुए हम अगले चरण में मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार और हरियाणा में भी अपनी ऑफ़लाइन उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं। इस योजना के अंतर्गत इन राज्यों में डिजिटल स्टूडियो को विस्तारित करते हुए टियर II और III शहरों में 100 से अधिक ऑफलाइन कोचिंग सेंटर खोलना शामिल है जोकि वहाँ के विद्यार्थियों एवं अभिभावकों तक ऑफलाइन पहुँच में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

एडुटेक उद्योग में छंटनी के मद्देनजर, उत्कर्ष क्लासेस ने वित्त वर्ष 2023 में विशेष रूप से टियर II और III शहरों में शिक्षक भर्ती की योजना बनाई है जिसके अंतर्गत अखिल भारतीय स्तर पर श्रेष्ठ शिक्षकों के चयन हेतु यूट्यूब पर 'टीचिंग टैलेंट हंट' अभियान की शुरुआत की है। शिक्षक वर्ग के अलावा कंपनी में वरिष्ठ नेतृत्व एवं अन्य कर्मचारियों सहित 500 सदस्यों की भर्ती करने की भी योजना है।

उत्कर्ष क्लासेस में वर्ष 2018 में ऑनलाइन कोर्सेस में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों की संख्या 6000 थी परन्तु वर्तमान में लगभग 1.5 मिलियन है और लगभग 27,000 ऑफ़लाइन विद्यार्थी हैं, जो विभिन्न पाठ्यक्रमों के साथ सरकारी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में जुटे हुए हैं। कंपनी ने किफायती दरों पर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए ऑनलाइन कोर्सेस लॉन्च कर रखा है  जिनका औसत वार्षिक शुल्क 2,500 रुपये है।

डॉ. गहलोत ने कहा कि ”निकट भविष्य में एजुकेशन, हाइब्रिड मॉडल के साथ मौजूदा गति से और अधिक तेज होने की उम्मीद है क्योंकि वे विद्यार्थी और अभिभावक जो ऑफ़लाइन कोचिंग लेने में असमर्थ हैं, वे ऑनलाइन माध्यम का विकल्प चुन सकते हैं। हाइब्रिड लर्निंग मॉडल में स्टूडियो बनाकर कक्षाओं को अधिक आकर्षक, व्यावहारिक और सुलभ बनाकर विद्यार्थियों के सीखने की क्षमता को बढ़ाया सकता है। हम शिक्षा के तेजी से आगे बढ़ते युग में हैं जहाँ कक्षाओं या पाठ्यपुस्तकों से सीखने तक ही सीमित नहीं हैं और इसलिए हाइब्रिड लर्निंग एनवायरनमेंट शिक्षा का एक अभिन्न अंग बनता जा रहा है। जैसे-जैसे हम शिक्षा को सुलभ बनाने की कल्पना करते हैं तो देश भर के शिक्षक ऑनलाइन माध्यम से छात्रों से जुड़ने के सर्वोत्तम तरीकों की तलाश कर रहे हैं लेकिन पारंपरिक कक्षाओं में वापस जाने के बजाय, हम हमारे विद्यार्थियों की जरूरतों को पूरा करने के लिए विभिन्न शैक्षणिक मॉडल्स का निर्माण कर रहे हैं।”
उत्कर्ष क्लासेस एंड एडुटेक प्रा. लि. ने विभिन्न ऑफलाइन और ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स, जैसे- ऑफलाइन सेंटर, एप यूजर्स, यूट्यूब चैनल, टेलीग्राम, फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर 22 मिलियन से अधिक विद्यार्थियों को अपने साथ जोड़ा है।

साई सिल्क्स (कलामंदिर) लिमिटेड ने सेबी के पास डीआरएचपी जमा किया

दक्षिण भारत में परंपरागत परिधान, खासकर साड़ियों की प्रमुख रिटेलर, साई सिल्क्स (कलामंदिर) लिमिटेड (एसएसकेएल) ने आरंभिक सार्वजनिक निर्गम यानी आईपीओ से राशि जुटाने के लिए सेबी के पास ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (डीआरएचपी) जमा कराए हैं।

डीआरएचपी के मुताबिक, आईपीओ में 600 करोड़ रुपये मूल्य के नए शेयर जारी किए जाएंगे। इसके अलावा इस ऑफर में, कंपनी के प्रमोटर्स और प्रमोटर्स ग्रुप के 18,048,440 इक्विटी शेयर ऑफर फॉर सेल में शामिल है।
आईपीओ से जुटाई फ्रेश इशू के राशि का उपयोग 25 नए स्टोर एवं दो गोदाम खोलने, कार्यशील पूंजी जरूरतों को पूरा करने, कर्ज का पूर्ण या आंशिक रूप से पुनर्भुगतान या पूर्व भुगतान और जेनेरल कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए किया जाएगा।
मोतीलाल ओसवाल इन्वेस्टमेंट एडवाइजर्स लिमिटेड, एडलवाइस फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड और एचडीएफसी बैंक इस आईपीओ के बुक रनिंग लीड मैनेजर्स है। कंपनी के शेयरों को बीएसई और एनएसई पर सूचीबद्ध करने का प्रस्ताव है।
एसएसकेएल, नागकनका दुर्गा प्रसाद चलवाडी और झांसी रानी चलवाडी द्वारा प्रवर्तित, वित्तीय वर्ष 2019, 2020 और 2021 में राजस्व और कर पश्चात लाभ के मामले में दक्षिण भारत में जातीय परिधान, विशेष रूप से साड़ियों के सबसे बड़े खुदरा विक्रेताओं में से एक है (सोर्स: टेक्नोपैक्ट रिपोर्ट)। कंपनी अपने चार स्टोर फॉर्मेट यानी कलामंदिर, वरमहालक्ष्मी सिल्क्स, मंदिर, और केएलएम फैशन मॉल, से बाजार के विभिन्न क्षेत्रों में अपने प्रोडक्ट्स पेश करती है जिसमें प्रीमियम एथनिक फैशन, मध्यम आय के लिए एथनिक फैशन और वैल्यू-फैशन शामिल हैं। 31 मई, 2022 तक, चार प्रमुख दक्षिण भारतीय राज्यों, यानी आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक और तमिलनाडु में इसके कुल 46 स्टोर हैं।

गोदरेज प्रोसेस इक्विपमेंट दहेज इकाई का करेगा विस्तार, वित्तवर्ष 2025 तक राजस्व दोगुना करने का लक्ष्य

मुंबई, 26 जुलाई 2022:  गोदरेज समूह की प्रमुख कंपनी गोदरेज एंड बॉयस ने गुजरात के दहेज में उसकी गोदरेज प्रोसेस इक्विपमेंट इकाई में अत्याधुनिक सुविधा का विस्तार करने की घोषणा की है। उनकी योजना वित्तवर्ष 2025 तक राजस्व को दोगुना करने की है और यह विस्तार उनकी क्षमता को दोगुना करके और क्षमता को बढ़ाकर इस योजना में महत्वपूर्ण योगदान देगा। यह विस्तार उनके विनिर्माण क्षेत्र को लगभग 25,000 वर्ग मीटर तक बढ़ाएगा। वह इस विस्तार के लिए अभी करीब 300 करोड़ रुपये का अतिरिक्त निवेश कर रहे हैं। गोदरेज एंड बॉयस ने 2016 में इस अत्याधुनिक विनिमार्ण इकाई की स्थापना की थी। यह इकाई वैश्विक परियोजनाओं के लिए महत्वपूर्ण और अति-आयामी खेप (ओडीसी) के निर्माण और वितरण के लिए पूरी तरह सक्षम है। यहां जारी विस्तार का निर्माण संसाधनों के बेहतर और कुशल उपयोग के साथ-साथ स्थिरता सिद्धांतों पर ध्यान देने के साथ किया जा रहा है।

हरित पहल के लिए सौर ऊर्जा और रीसाइक्लिंग, जल संरक्षण व ईंधन की खपत को कम वाले विभिन्न उपक्रमों को इसमें शामिल किया जाएगा। उद्योग की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने और क्षेत्र में स्थानीय रोजगार के अवसरों को ध्यान में रखकर यह विस्तार किया जा रहा है। इस रणनीतिक विस्तार में परमाणु उपकरणों के लिए एक समर्पित खाड़ी और भारी उपकरण निर्माण के लिए समर्पित एक अन्य विभाग होगा। इसमें टाइटेनियम, ज़िरकोनियम आदि जैसे विदेशी धातु विज्ञान के साथ महत्वपूर्ण प्रक्रिया उपकरण बनाने के लिए एक अत्याधुनिक क्लीन रूम सुविधा होगी। साथ ही, ऊंची क्रेन सुविधा होने के कारण 16 मीटर व्यास जितने बड़े और अति आयामी उपकरणों के निर्माण में भी आसानी होगी। इस विस्तार में बड़े और ओडीसी उपकरणों के लिए 2 विस्तारित विनिर्माण यार्ड भी शामिल होंगे। इन यार्ड में बड़े उपकरणों के निर्माण को ध्यान में रखते हुए विशाल क्रेन भी लगाया गया है, यह 20 मीटर ऊंचे उपकरणों को उठाने में सक्षम है। भविष्य में इस विस्तारित यार्ड का उपयोग मॉड्यूलर फैब्रिकेशन के लिए भी किया जाएगा। क्षमता और योग्यता दोनों के संदर्भ में चल रहा विस्तार गोदरेज प्रोसेस इक्विपमेंट को तेल और गैस, रसायन और उर्वरक, और बिजली क्षेत्र में अपने मौजूदा पोर्टफोलियो के अलावा विशेष और बड़े उपकरणों के लिए हाइड्रोजन और बिजली के क्षेत्रों में अपनी उपस्थिति को मजबूत करने में मदद करेगा।

गोदरेज प्रोसेस इक्विपमेंट अपनी विनिर्माण क्षमता और उत्पादकता में सुधार पर भी ध्यान केंद्रित कर रहा है। दहेज इकाई को अल्ट्रा-मॉडर्न सुविधा में बदलने के लिए प्रोसेस फ्लो (वर्कसेंटर) कॉन्सेप्ट को धीरे-धीरे लागू किया जा रहा है। वर्कसेंटर उत्पादन का एक निर्दिष्ट क्षेत्र है जिसे विशिष्ट कार्यों को करने के लिए डिजाइन किया गया है और इसे लागू करने से विनिर्माण प्रणाली के भीतर लचीलेपन में सुधार होता है। उत्पादकता में वृद्धि और खामियों को कम करने से लीड टाइम कम हो जाता है जिसके परिणामस्वरूप एक बेहतर विशेषज्ञता प्राप्त होती है। अत्यधिक कुशल कर्मचारियों और कामगारों के आंतरिक क्षमता प्रशिक्षण की देखभाल के लिए समर्पित प्रशिक्षण केंद्र का आधुनिकीकरण भी किया जा रहा है।

वेल्डरों को एक व्यापक अनुभव प्रदान करने और इस प्रकार सिमुलेशन को वास्तविकता के करीब बनाने के लिए वीआर/एआर-आधारित वेल्डिंग सिमुलेटिंग सिस्टम को लागू करने की योजना है। उत्कृष्टता की ओर अपनी निरंतर यात्रा में, उन्होंने हाल ही में दाहेज में एक विश्व स्तरीय परीक्षण प्रयोगशाला की स्थापना की है जिसे एनएबीएल के अनुसार मान्यता प्राप्त है।

व्यवसाय भी इस सुविधा में अपने संचालन को डिजिटल रूप से बदल रहा है। IoT क्रांति मैन्युफैक्चरिंग में गेम चेंजर साबित होगी और उनकी योजना इंडस्ट्री 4.0 को लागू करने की है। ऑटोमेशन पर अधिक ध्यान, डिजिटलीकरण के हिस्से के रूप में डिजिटल डेटा कैप्चरिंग और शॉप फ्लोर पर मैन्युफैक्चरिंग एक्जीक्यूशन सिस्टम का कार्यान्वयन, दहेज निर्माण सुविधा में कार्यान्वयन के तहत विभिन्न पहल हैं।

ऑटोमेशन पर जोर ऑटोमेटेड प्लेट मार्किंग और कटिंग प्रक्रिया के साथ उपकरण के हर टुकड़े की यात्रा के साथ शुरू होता है, इसके बाद अंडर-वाटर प्लाज्मा कटिंग, वॉटरजेट कटिंग, हॉटवायर टीआईजी प्रोसेस, सबमर्ज्ड आर्क स्ट्रिप क्लैडिंग (एसएएससी), और एडवांस नॉन-डिस्ट्रक्टिव परीक्षण (एनडीटी) तकनीक होती है। इसके अतिरिक्त, ऑर्बिटल वेल्डिंग, नैरो ग्रूव टेंडेम वायर सबमर्ज्ड आर्क वेल्डिंग (एसएडब्ल्यू), और इनर बोर इंटरनल डायमीटर ओवरले सहित प्रौद्योगिकियां उपकरणों के निर्माण को सुव्यवस्थित करती हैं।

 इसके अलावा, नोजल कटिंग, नोजल वेल्डिंग, ट्यूब-टू-ट्यूब शीट वेल्डिंग आदि जैसे प्रमुख निर्माण गतिविधियों में रोबोटिक्स को पहले ही तैनात किया जा चुका है। यह ध्यान देने योग्य है कि उनकी 80% से अधिक वेल्डिंग गतिविधियां स्वचालित हैं और इस स्वचालन का मुख्य फोकस उत्पादकता, गुणवत्ता और सुरक्षा में सुधार करना है।

गोदरेज प्रोसेस इक्विपमेंट के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट और बिजनेस हेड, हुसैन शरियार ने कहा, ‘दहेज निर्माण सुविधा ने हमें महत्वपूर्ण परियोजनाओं को वितरित करने की अपनी अच्छी तरह से सुसज्जित क्षमता और योग्यता के कारण कई मील के पत्थर हासिल करने में सक्षम बनाया है। दहेज संयंत्र को न केवल आयाम में बल्कि जटिलता में भी विशेष उपकरण बनाने के इरादे से विकसित किया गया था। यह विशिष्ट रूप से हमें ऐसे उपकरणों के परिवहन के लिए अंतर्राष्ट्रीय बंदरगाहों तक आसानी से पहुंच प्रदान करता है। हमने इस सुविधा को एक स्मार्ट फैक्ट्री बनाने और ग्राहकों की खुशी को बढ़ाने के लिए दिए गए उत्पादों की उत्पादकता और गुणवत्ता बढ़ाने के लिए अपनी यात्रा शुरू की है। साथ ही, हमारा लक्ष्य इस सुविधा को उद्योग में हरित विनिर्माण सुविधाओं में से एक बनाना है।’

Monday, July 25, 2022

एक्सिस बैंक का वित्त वर्ष'23 की पहली तिमाही के परिणाम: 4,125 करोड़ रु. का मुनाफा दर्ज कराया, 91 प्रतिशत की वर्ष-दर-वर्ष वृद्धि

भारत के निजी क्षेत्र के तीसरे सबसे बड़े बैंक, एक्सिस बैंक ने वित्त वर्ष'23 की पहली तिमाही के अपने परिणामों की आज घोषणा की। बैंक ने इस तिमाही में 4,125 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज कराया, जबकि वित्त वर्ष'22 की पहली तिमाही में यह 2,160 करोड़ रु. था। बैंक की शुद्ध ब्याजीय आय (एनआईआई) 21% वर्ष-दर-वर्ष और 6% तिमाही-दर-तिमाही के आधार पर बढ़कर वित्त वर्ष'23 की पहली तिमाही में 9,384 करोड़ रुपये हो गई, जो वित्त वर्ष'22 की पहली तिमाही में 7,760 करोड़ रुपये थी। वित्त वर्ष'23 की पहली तिमाही में, इसका शुद्ध ब्याजीय मार्जिन (एनआईएम) 3.60% रहा, जिसमें वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 14 आधार अंक और तिमाही-दर-तिमाही आधार पर 11 आधार अंक की वृद्धि हुई। कासा में 16% वर्ष-दर-वर्ष और 1% तिमाही-दर-तिमाही की वृद्धि हुई, जबकि कासा अनुपात 43% रहा जिसमें वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 53 आधार अंकों का सुधार हुआ।बैंक के परिचालन राजस्व में 11% की वृद्धि दर्ज की गई, जो वित्त वर्ष'22 की पहली तिमाही के 11,119 करोड़ रुपये से बढ़कर वित्त वर्ष'23 की पहली तिमाही में 12,383 करोड़ रुपये हो गया। 30 जून 2022 को, बैंक का सकल एनपीए और शुद्ध एनपीए स्तर क्रमशः 2.76% और 0.64% रहा, जबकि 30 जून 2021 को यह क्रमशः 3.85% और 1.20% था। बैंक की शुल्क आय 34% की वर्ष-दर-वर्ष की वृद्धि के साथ 3,576 करोड़ रु. हो गई। खुदरा शुल्क में 43% वर्ष-दर-वर्ष की वृद्धि हुई और कुल शुल्क में इसने 66% का योगदान दिया। वित्त वर्ष'23 की पहली तिमाही में, लाभ सहित कुल पूंजी पर्याप्तता अनुपात (सीएआर) 17.83% रहा और सीईटी 1 अनुपात 15.16% रहा।

यू ग्रो कैपिटल का एयूएम हुआ 3,650 करोड़ रुपए पार,, वित्त वर्ष 2023 की पहली तिमाही में 1,350 करोड़ रुपए का अब तक का सबसे अधिक संवितरण

मुंबई,25 जुलाई 2022: यू ग्रो कैपिटल, एक सूचीबद्ध, लेंडिंग फिनटेक प्लेटफॉर्म ने 30 जून, 2022 तक (30 जून, 2021 की तुलना में $166 फीसदी) 3,656 करोड़ रुपए के एयूएम के साथ अपनी विकास गति जारी रखे हुए है और मार्च 2023 तक 7,000 करोड़ रुपए के एयूएम को हासिल करने के निशान को पार करने के लिए ट्रैक पर है।

शीर्ष सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के साथ प्रयोग करके कंपनी ने सह-ऋण की शक्ति को प्रभावी ढंग से प्रदर्शित किया है। वर्तमान ऑफ-बुक एयूएम 750 करोड़ रुपए (30 जून, 2022 तक 21 फीसदी) है। कंपनी का लक्ष्य सह-उधार साझेदारी के तहत अपनी लोन बुक को मार्च 2023 तक 3 गुना बढ़ाकर 2,000 करोड़ रुपए से अधिक करना है।

यूजीआरओ कैपिटल ने लेंडिंग एज ए सर्विस (एलएएएस)मॉडल का बीड़ा उठाया है और अपने डेटा एनालिटिक्स कौशल और मजबूत टेक्नोलॉजी आर्किटेक्चर के माध्यम से एमएसएमई को ऋण देने में क्रांतिकारी बदलाव कर रहा है। इसी के प्रमाण के रूप में, यू ग्रो के प्रॉपर्टी स्कोरिंग मॉडल (जीआरओ स्कोर) ने पिछले एक साल में 21,000$ एप्लिकेशन, 67,000$ ब्यूरो रिकॉर्ड, 45,000$ बैंक स्टेटमेंट और 14,500$ जीएसटी रिकॉर्ड को सफलतापूर्वक संसाधित किया है।

वित्त वर्ष 2023 की पहली तिमाही की परफार्मेंस पर एक नजर-

ए) ऋण पोर्टफोलियोः ऋण और आय वृद्धि, पोर्टफोलियो गुणवत्ता

  • एयूएम 3,656 करोड़ रुपए (वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही की तुलना में +166 फीसदी और वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही की तुलना में +23 फीसदी)
  • वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही में 1,359 करोड़ रुपए का ग्रोस लोन (वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही की तुलना में +311 फीसदी और वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही की तुलना में +41 फीसदी)
  • टोटल इनकम 123.8 करोड़ रुपए रही (वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही की तुलना में +141.4 फीसदी और वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही की तुलना में +8.4 फीसदी)
  • प्रॉफिट बिफॉर टैक्स (पीबीटी) बढ़कर 10.4 करोड़ रुपए हो गया (वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही की तुलना में +340.6 फीसदी और वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही की तुलना में +29.3 फीसदी)
  • प्रॉफिट ऑफ्टर टैक्स (पीएटी) बढ़कर 7.3 करोड़ रुपए हो गया (वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही की तुलना में +329.4 फीसदी और वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही की तुलना में +20.7 फीसदी)
  • जीएनपीए/एनएनपीए जून 22 की स्थिति के अनुसार 1.7 फीसदी /1.2 फीसदी (कुल एयूएम के प्रतिशत के रूप में) था।

बी) देयता और चलनिधि स्थिति 

  • कुल ऋणदाताओं की संख्या जून 22 तक बढ़कर 63 हो गई, वित्त वर्ष 2023 की पहली तिमाही के दौरान 8 नए ऋणदाताओं को जोड़ा गया
  • जून’ 22 को कुल ऋण 2,208 करोड़ रुपए था, और कुल ऋण से इक्विटी अनुपात 2.26x था।
  • 28 फीसदी सीआरएआर के साथ स्वस्थ पूंजी की स्थिति (जून 22 के अनुसार)

सी) शाखा, ग्राहक नेटवर्क और कर्मचारी शक्ति 

  • जून’ 22 को 25,000+ ग्राहक (वित्त वर्ष 2023 की पहली तिमाही में +5,000 ग्राहक)
  • 96 शाखाएं (जून’ 22 तक), तिमाही के दौरान 5 नई शाखाओं को जोड़ा गया
  • जून 22 की स्थिति के अनुसार 1,275+ कर्मचारी, वित्त वर्ष 2023 की पहली तिमाही के दौरान 165+ का नेट एम्प्लॉई एडिशन।

 

Brief financial snapshot:

 

Particulars

Q1’22

Q4’22

Q1’23

Growth (Y-o-Y)

Growth (Q-o-Q)

Total Income

51.3

114.2

123.8

141.3%

8.4%

Interest Expense

22.4

49.7

53.1

137%

6.9%

Net Total Income

28.9

64.5

70.7

144.6%

9.6%

Operating Expenses

21.6

47.3

51.0

136.1%

7.9%

Impairment on Financial Instruments

4.9

9.3

9.4

91.8%

1.0%

PBT

2.4

8.0

10.4

333.3%

29.3%

PAT

1.7

6.1

7.3

329.4%

20.7%

परिणामों पर टिप्पणी करते हुए, यू ग्रो कैपिटल के वाइस चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर श्री शचींद्र नाथ ने कहा, ‘यू ग्रो कैपिटल अंडरसर्व्ड एमएसएमई सेगमेंट की सेवा के लिए डेटा एनालिटिक्स और तकनीक का उपयोग करने में सबसे आगे है। हम को-लेंडिंग/को-ऑरिजेशन मॉडल की शक्ति का उपयोग करके और ऑफ-बैलेंस शीट एयूएम दृष्टिकोण के माध्यम से कंपनी को एक लेंडिंग प्लेटफॉर्म में की दिशा में आगे बढ़ा रहे हैं। हम लेंडिंग एज ए सर्विसके अग्रणी रहे हैं। प्रत्येक बीतती तिमाही के साथ लाभप्रदता में सुधार के साथ परिचालन क्षमता में सुधार होना शुरू हो गया है। कंपनी 2025 तक 20,000 करोड़ रुपये का एयूएम हासिल करने की राह पर है, क्योंकि हमने वित्त वर्ष 23 की पहली तिमाही में अपना अब तक का सर्वोच्च संवितरण हासिल किया है।

जेईसीआरसी इनक्यूबेशन सेंटर ने किया वेंचर कैटेलिस्ट के साथ एमओयू साइन

स्टार्टअप कॉन्क्लेव इवेंट का हुआ आयोजन ,40+ स्टार्टअप ने लिया हिस्सा जयपुर। जेआईसी, जेईसीआरसी ने स्टार्टअपस और उभरते एंटरप्रेन्योरस के एक्सप...