Monday, June 20, 2022

आईनॉक्स ग्रीन एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड ने सेबी के समक्ष ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (डीआरएचपी) फाइल किया

भारत में एक प्रमुख पवन ऊर्जा संचालन और रखरखाव (‘ओ एंड एम) सेवा प्रदाता आईनॉक्स ग्रीन एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड (आईजीईएसएल) ने 17 जून 2022 को सेबी के समक्ष ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (डीआरएचपी) फाइल किया है। कंपनी की इनीशियल पब्लिक ऑफरिंग (आईपीओ) के माध्यम से 740 करोड़ रुपये तक के इक्विटी शेयरों से धन जुटाने की योजना है। इसमें 370 करोड के नए इश्यू़ और बिक्री के लिए 370 करोड़ रुपए के इश्यू शामिल हैं। आईजीईएसएल का इरादा कंपनी द्वारा लिए गए कुछ उधारों के पुनर्भुगतान और/या पूर्व-भुगतान, पूर्ण या आंशिक रूप से, नॉन-कन्वर्टेबल डिबेंचर के रिडम्पेशन और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्य के लिए शेष राशि सहित शुद्ध आय का उपयोग करना है।

आईनॉक्स ग्रीन एनर्जी सर्विसेज आईनॉक्स विंड लिमिटेड (‘आईडब्ल्यूएल’) की एक सहायक कंपनी है जो नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड और बीएसई लिमिटेड में सूचीबद्ध है और आईनॉक्स जीएफएल कंपनियों के समूह (‘आईनॉक्स जीएफएल ग्रुप) का हिस्सा है।

आईजीईएसएल पवन फार्म परियोजनाओं के लिए लंबी अवधि की ओ एंड एम सेवाएं प्रदान करने के व्यवसाय में लगी हुई है, विशेष रूप से पवन टरबाइन जनरेटर (‘डब्ल्यूटीजी) के लिए ओ एंड एम सेवाओं का प्रावधान और पवन फार्म पर सामान्य आधारभूत सुविधाएं जो ऐसे डब्ल्यूटीजी से बिजली की निकासी का समर्थन करती हैं। .

कंपनी ने अपनी मूल कंपनी, आईडब्ल्यूएल (जिसने 31 मार्च, 2010 को समाप्त वित्तीय वर्ष में पवन ऊर्जा क्षेत्र में परिचालन शुरू किया था) के साथ सहक्रियात्मक संबंधों के बड़े हिस्से के कारण नौ वर्षों से अधिक समय तक पवन ऊर्जा ओ एंड एम उद्योग में एक स्थापित ट्रैक रिकॉर्ड कायम किया है)। यह आईडब्ल्यूएल की सहायक कंपनी होने के फायदे उठाती है, जो मुख्य रूप से डब्ल्यूटीजी के निर्माण और डब्ल्यूटीजी की आपूर्ति करके टर्नकी समाधान प्रदान करने के व्यवसाय में लगी हुई है। यह पवन संसाधन मूल्यांकन, साइट अधिग्रहण, बुनियादी ढांचे के विकास, डब्ल्यूटीजी के ईपीसी और इसके माध्यम से पवन ऊर्जा परियोजनाओं के लिए दीर्घकालिक ओ एंड एम सेवाएं प्रदान करने सहित कई प्रकार की सेवाएं प्रदान करती है।

आईडब्ल्यूएल और कंपनी के बीच एक विशिष्टता समझौते के अनुसरण में, यह आईडब्ल्यूएल द्वारा बेचे जाने वाले सभी डब्ल्यूटीजी के लिए डब्ल्यूटीजी खरीदार और कंपनी के बीच लंबी अवधि के ओ एंड एम अनुबंधों के प्रवेश के माध्यम से विशेष रूप से ओ एंड एम सेवाएं प्रदान करती है, जो आमतौर पर पांच से 20 वर्षों के बीच होती है। इस विशिष्टता समझौते के कारण, आईडब्ल्यूएल की ऑर्डर बुक कंपनी के भविष्य के राजस्व और विकास का एक महत्वपूर्ण संकेतक है।

31 मार्च, 2022 तक, ओ एंड एम अनुबंधों (व्यापक ओ एंड एम अनुबंधों और सामान्य बुनियादी ढांचे ओ एंड एम अनुबंधों दोनों से मिलकर) के कंपनी पोर्टफोलियो में 20 से अधिक वर्षों से औसत शेष परियोजना जीवन के साथ भारत में आठ पवन-संसाधन समृद्ध राज्यों में फैली कुल 2,750 मेगावाट पवन परियोजनाओं को कवर किया गया था। 2,750 मेगावाट क्षमता में से, 1,922 मेगावाट व्यापक ओ एंड एम सेवाओं के ओ एंड एम अनुबंधों के कारण था और 828 मेगावाट इसके सामान्य बुनियादी ढांचे ओ एंड एम अनुबंधों के कारण था। सामान्य तौर पर, इसके व्यापक ओ एंड एम अनुबंधों में पवन फार्म पर स्थापित दोनों डब्ल्यूटीजी के लिए ओ एंड एम सेवाओं के प्रावधान और बिजली के सबस्टेशन और ट्रांसमिशन लाइन जैसी सामान्य बुनियादी सुविधाएं शामिल हैं, जो विंड फार्म का समर्थन करते हैं; इसके सामान्य अवसंरचना ओ एंड एम अनुबंध केवल सामान्य बुनियादी सुविधाओं पर ओ एंड एम सेवाओं के प्रावधान से संबंधित हैं।

ओ एंड एम अनुबंधों के प्रतिपक्षों में प्रमुख स्वतंत्र बिजली उत्पादकों (‘आईपीपी’) (लगभग 71.27 फीसदी), सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (‘पीएसयू’) (लगभग 14.62 फीसदी) और कॉरपोरेट्स (लगभग 14.11 फीसदी) का मिश्रण है।

अपने विशिष्टता समझौते के कारण, आईडब्ल्यूएल की ऑर्डर बुक कंपनी के भविष्य के राजस्व और विकास का एक महत्वपूर्ण संकेतक है। 31 मार्च, 2022 तक, आईडब्ल्यूएल ने 780 मेगावाट की कुल क्षमता के साथ 2 मेगावाट क्षमता वाले डब्ल्यूटीजी की आपूर्ति के लिए बाध्यकारी अनुबंध किए थे। इसके अलावा, आईडब्ल्यूएल को भी आशय पत्र प्राप्त हुए थे, जो गैर-बाध्यकारी हैं और इसलिए 524.7 मेगावाट की कुल क्षमता वाले 3.3 मेगावाट क्षमता वाले डब्ल्यूटीजी के लिए किसी भी प्रकार के बाध्यकारी अनुबंध का निष्पादन नहीं हो सका है। आईडब्ल्यूएल की ऑर्डर बुक में 1,304.7 मेगावाट की कुल क्षमता वाले डब्ल्यूटीजी के ऑर्डर शामिल थे। ऑर्डर बुक में 780 मेगावाट की कुल क्षमता के लिए डब्ल्यूटीजी के लिए निष्पादित बाध्यकारी अनुबंध और 524.7 मेगावाट की कुल क्षमता के लिए हस्ताक्षरित आशय पत्र शामिल हैं जो गैर-बाध्यकारी हैं और इसलिए किसी भी प्रकार के बाध्यकारी अनुबंध का निष्पादन नहीं हो सकता है।

31 मार्च, 2022 तक, इसके ओ एंड एम सेवाओं के पोर्टफोलियो में कुल 2,750 मेगावाट पवन कृषि क्षमता और 1,375 डब्ल्यूटीजी शामिल थे। इसमें गुजरात के महीदाद, रोजमल, सदाला, सावरकुंडला और दयापार में विभिन्न ग्राहकों के लिए कुल 1,178 मेगावाट की क्षमता; मध्य प्रदेश में कुकरू, निपनिया, जौरा और लाहौरी में विभिन्न ग्राहकों के लिए कुल 632 मेगावाट की क्षमता; डांगरी, राजस्थान में विभिन्न ग्राहकों के लिए 560 मेगावाट की कुल क्षमता; और महाराष्ट्र में वासपेट, भेंदेवाडे और दक्षिण बुद्ध में विभिन्न ग्राहकों के लिए कुल 196 मेगावाट की क्षमता शामिल है।

No comments:

Post a Comment

ज्योतिष हमारी वैदिक परंपरा का हिस्सा : राज्यपाल

राज्यपाल ने किया अंतर्राष्ट्रीय एस्ट्रोलॉजी कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन जयपुर. यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी और पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर जोधपु...