Thursday, June 2, 2022

शहीदी दिवस - गुरू अरजन देव जी, 1750 ‘सुखमनी साहिब पाठ’ किए


जयपुर।
 सिक्ख धर्म के प्रथम शहीद और पांचवें गुरू 'अरजन देव जी' का शहीदी दिवस आज, 3 जून को है। मुगल बादशाह जहांगीर ने यातनाएं देकर गुरूजी को शहीद किया था। गुरू अरजन देव जी को शहीदों के सरताज, शांति पुंज व ब्रह्मज्ञानी भी कहा जाता है। आध्यात्मिक जगत में गुरूजी को सर्वोच्च स्थान प्राप्त है। गणना की दृष्टि से गुरूग्रंथ साहिब में सर्वाधिक बाणी गुरू अरजन देव जी की है। गुरू अरजन देव जी के शहीदी दिवस को समर्पित सुखमनी सेवा सोसायटी, बनी पार्क के सदस्यों ने 40 दिन लड़ीवार गुरूजी की बाणी 'सुखमनी साहिब' का पाठ किया। इसकी शुरूआत 24 अप्रेल को की गई थी। जयपुर के बाहर की संगत ने भी इसमें हिस्सा लिया। सभी ने मिलकर 1750 सुखमनी साहिब पाठ किए। लड़ीवार सुखमनी साहिब पाठ का समापन गुरूवार, 2 जून को किया गया। इस दिन सभी सदस्यों ने अपने घर पर काले चने और ठंडे मीठे शर्बत का प्रसाद बनाया। गुरू अरजन देव जी ने लोगों को विनम्र रहने और परमेश्वर की रजा में राजी रहने का संदेश दिया था। उनकी यह सीख आज के समय में हम सभी के लिए अति आवश्यक है। शहीदी दिवस को समर्पित, सुखमनी सेवा सोसायटी बनी पार्क की ओर से गुरू जी के शहीदी इतिहास के बारे में जानकारी देने के लिए जयपुर के विभिन्न गुरूद्वारों में पैम्फलेट वितरित किए गए।

No comments:

Post a Comment

इस्कान मंदिर में गीता जयंती हर्षोल्लास से मनाई गई

जयपुर। इस्कॉन, श्री श्री गिरिधारी दाऊजी मन्दिर, मानसरोवर, जयपुर में 3 दिसंबर को गीता जयंती का कार्यक्रम बड़े हर्सोल्लास से मनाया गया। ओम प्र...