Thursday, June 30, 2022

कैशफ्री पेमेंट्स के टोकनाइजेशन सॉल्यूशन ‘टोकन वॉल्ट’ने विभिन्न पेमेंट गेटवे पर प्रदान की इंटरऑपरेबिलिटी की सुविधा

बेंगलुरू, 30 जून, 2022- भुगतान और एपीआई बैंकिंग समाधान की दुनिया में अग्रणी कंपनी कैशफ्री पेमेंट्स ने आज घोषणा की कि कंपनी का टोकनाइजेशन सॉल्यूशन ‘टोकन वॉल्ट’ कार्ड टोकननाइजेशन में इंटरऑपरेबिलिटी की सुविधा प्रदान करेगा। टोकन वॉल्ट की इंटरऑपरेबिलिटी सुविधा उन व्यवसायों की मदद करेगी जो अपनी पसंद के किसी भी भुगतान गेटवे और कार्ड नेटवर्क पर टोकनयुक्त कार्ड लेनदेन को प्रोसेस करने के लिए कई भुगतान गेटवे का उपयोग करते हैं।

कैशफ्री पेमेंट्स का टोकन वॉल्ट इस सुविधा की पेशकश करने वाले पहले कुछ टोकन समाधान में से एक है। इसके अतिरिक्त, इंटरऑपरेबिलिटी फीचर की शुरुआत के साथ, कैशफ्री पेमेंट्स पेमेंट गेटवे का उपयोग करने वाले व्यवसाय रूपे, वीजा और मास्टरकार्ड सहित सभी प्रमुख कार्ड नेटवर्क द्वारा जारी किए गए कार्डों को सुरक्षित रूप से टोकन करने के लिए टोकन वॉल्ट के साथ एकीकृत कर सकते हैं। हालांकि कार्ड नेटवर्क में इंटरऑपरेबिलिटी पहले से ही कई टोकन सेवा प्रदाताओं द्वारा प्रदान की जाती है, लेकिन टोकन वॉल्ट द्वारा भुगतान गेटवे में इंटरऑपरेबिलिटी की सुविधा प्रदान करने से टोकनाइजेशन का तरीका बदल जाएगा और इससे व्यवसायों पर भी प्रभाव नजर आएगा।

नतीजतन अब व्यवसायों को कार्ड को टोकन करने और लेनदेन को पूरा करने के लिए कई टोकन सेवा प्रदाताओं के साथ इंटीग्रेट करने में समय बिताने की आवश्यकता नहीं होगी। कैशफ्री पेमेंट्स के टोकन वॉल्ट के साथ सिंगल इंटीग्रेशन के माध्यम से कारोबार अब चेकआउट के समय ग्राहकों के कार्ड को टोकन करके और भविष्य में किसी भी भुगतान गेटवे पार्टनर या कार्ड नेटवर्क के माध्यम से इन सहेजे गए कार्ड लेनदेन को आरबीआई के अनुरूप बना सकते हैं।

कैशफ्री पेमेंट्स इंडस्ट्री की कुछ पहली ऐसी कंपनियों में से एक है, जिसने दिसंबर 2021 में अपने टोकनाइजेशन सॉल्यूशन के साथ शुरुआत की।

कैशफ्री पेमेंट्स के सीईओ और को-फाउंडर आकाश सिन्हा ने कहा, ‘‘कैशफ्री पेमेंट्स में हमें इस बात पर गर्व है कि हमने ‘टोकन वॉल्ट’ के माध्यम से कार्ड टोकनाइजेशन में इंटरऑपरेबिलिटी फीचर लॉन्च किया था और इस तरह हम ऐसी सुविधा पेश करने वाली कुछ पहली कंपनियों में शामिल हो गए थे। टोकन वॉल्ट के इंटरऑपरेबिलिटी फीचर के साथ, हम एकल टोकन सेवा का उपयोग करके किसी भी कार्ड नेटवर्क या भुगतान गेटवे पर सहेजे गए कार्ड लेनदेन को मैनेज करने के लिए व्यवसायों और व्यापारियों को सशक्त बनाना चाहते हैं। अब वे टोकन वॉल्ट के साथ लेनदेन के लिए किसी विशेष भुगतान गेटवे पर निर्भर नहीं होंगे। हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि हमारे व्यापारियों ने पहले से ही टोकन पर लाइव होना शुरू कर दिया है। कैशफ्री पेमेंट्स में, हमारा मुख्य उद्देश्य ऐसे प्रोडक्ट्स बनाना है जो अधिक आसानी और दक्षता के लिए भुगतान के बुनियादी ढांचे के पुनर्निर्माण में मदद करेंगे।’’

आरबीआई के अनुसार, 30 सितंबर, 2022 से, व्यवसायों और भुगतान एग्रीगेटर्स को सहेजे गए कार्ड विकल्प की पेशकश करते हुए ग्राहक के कार्ड को टोकन करना आवश्यक है।

कार्ड टोकनाइजेशन कार्ड से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी जैसे कार्ड नंबर, कार्ड एक्सपायरी और सीवीवी को क्रमशः कार्ड टोकन, टोकन एक्सपायरी और क्रिप्टोग्राम से बदलने की प्रक्रिया है, जिसे मूल कार्ड विवरण में वापस नहीं खोजा जा सकता है। इस तरह यह प्रक्रिया कार्ड से भुगतान करते समय कार्ड की संवेदनशील और महत्वपूर्ण जानकारी के लीक होने और इससे होने वाले नुकसान के जोखिम को खत्म करती है।

पेमेंट प्रोसेसर्स के बीच 50 प्रतिशत से अधिक बाजार हिस्सेदारी के साथ, कैशफ्री पेमेंट्स आज अपने प्रोडक्ट पेआउट के साथ भारत में बल्क डिस्बर्सल में अग्रणी है। हाल ही में, भारत के सबसे बड़े ऋणदाता, एसबीआई ने एक मजबूत पेमेंट इकोसिस्टम के निर्माण में कंपनी की भूमिका को रेखांकित करते हुए कैशफ्री भुगतान में निवेश किया है। कैशफ्री पेमेंट्स सभी प्रमुख बैंकों के साथ मिलकर काम करता है ताकि कंपनी के उत्पादों को शक्ति प्रदान करने वाले मुख्य भुगतान और बैंकिंग बुनियादी ढांचे का निर्माण किया जा सके और यह शॉपिफाई, विक्स, पेपल, अमेजॉन पे, पेटीएम और गूगल पे जैसे प्रमुख प्लेटफार्मों के साथ भी एकीकृत हो सके। भारत के अलावा, कैशफ्री पेमेंट प्रोडक्ट्स का उपयोग अमेरिका, कनाडा और संयुक्त अरब अमीरात सहित आठ अन्य देशों में भी किया जाता है।

गोदरेज कैपिटल ने इंडस्ट्री में पहली बार 25-वर्ष की ऋण अवधि वाले उत्पाद, एलएपी 25 की पेशकश की

मुंबई, 30 जून, 2022: गोदरेज कैपिटल लिमिटेड (जीसीएल) ने अपनी सहायक कंपनियों के माध्यम से आज अपने संपत्ति पर ऋण (एलएपी) पोर्टफोलियो में एक नए उत्पाद पेशकश की घोषणा। इस उत्पाद को एलएपी 25 (LAP 25) नाम दिया गया है। यह उद्योग की ऐसी पहली उत्पाद पेशकश है जो 25 वर्षों तक की अवधि के लिए है। यह पेशकश मुख्य रूप से लघु और मध्यम उद्यमों (एसएमई) पर केंद्रित है ताकि ऋण अवधि के दौरान कम बहिर्वाह की छूट मिल सके।


अपनी लचीली पेशकशों के साथ, गोदरेज कैपिटल एसएमई सेगमेंट का पसंदीदा ऋणदाता बनने के लिए प्रयासरत है। 'डिज़ाइन योर ईएमआई' पर प्रमुखता से जोर देने के साथ, गोदरेज कैपिटल ने मौसमी और असमान नकदी प्रवाह की बारीकियों को गहराई से समझा है जो कि भारत में एसएमई के संदर्भ में देखने को मिलता है। उदाहरण के लिए, पात्र ग्राहक ऋण के शुरुआती तीन वर्षों तक केवल ब्याज का भुगतान करने के विकल्प का चुनाव कर सकते हैं; इससे वो प्राप्त वित्त पोषण का कुशलतापूर्वक उपयोग कर सकेंगे। लचीले तरीके से ऋण अदायगी का लाभ उठाने के विकल्पों को और बढ़ाने के लिए, गोदरेज कैपिटल जल्द ही त्रैमासिक या द्वि-मासिक (2 महीने में एक बार) किश्तों का भुगतान करने का विकल्प भी लॉन्च करेगा।


गोदरेज कैपिटल का लक्ष्य 2023 तक अपनी बैलेंस शीट को 6000 करोड़ रुपये और 2026 तक 30,000 करोड़ रुपये तक बढ़ाना है।


उत्पाद को लॉन्च किए जाने के बारे में बताते हुए, गोदरेज कैपिटल के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, मनीष शाह ने कहा: "हम हमसे जुड़े उपभोक्ताओं की बढ़ती विविधता और माइक्रो क्लस्टर्स की हमारी समझ के आधार पर उत्पाद पेश करते हैं। हमारा इरादा और दृष्टिकोण हमेशा निष्पक्ष, तेज और लचीली पेशकशों के माध्यम से ऋण आपूर्ति अंतर को दूर करना रहा है। हमारे विस्तार के साथ, इंडस्ट्री की पहली उत्पाद पेशकश, एलएपी 25 लचीलेपन पर हमारे बढ़ते जोर को रेखांकित करती है ताकि हम हमारे ग्राहक आधार को सशक्त बना सकें।" 


गोदरेज कैपिटल के रणनीतिक विस्तार के तहत, एलएपी 25 मुंबई, पुणे, दिल्ली एनसीआर, अहमदाबाद और बेंगलुरू के मौजूदा बाजारों के अलावा चेन्नई, इंदौर, जयपुर, चंडीगढ़, सूरत और हैदराबाद जैसी जगहों में भी उपलब्ध होगा जहाँ शीघ्र ही इसकी सहायक कंपनियां सेवा प्रदान करना शुरू करेंगी।

उत्कर्ष क्लासेस एंड एडुटेक टियर 2 और टियर 3 शहरों में भर्तियाँ बढ़ाएगा

30th जून, 2022: उत्कर्ष क्लासेस एंड एडुटेक, जो भारत के प्रीमियर ई-लर्निंग प्लेटफॉर्म्स में से एक है, ने वित्त वर्ष 2022-23 के अंत तक टियर 2 और टियर 3 शहरों में तेजी से भर्ती करने की योजनाओं की घोषणा की है। जिसके तहत कंपनी सीनियर लीडरशिप, शिक्षकों और अन्य कर्मचारियों सहित 500सदस्यों की भर्ती करने की योजना बनाई जा रही है। यह कदम इसकी उस रणनीति का एक हिस्सा है जिसके तहत युवा शिक्षार्थियों को गुणवत्तापूर्ण और किफायती शिक्षा प्रदान करना, उन्हें विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं और स्कूली शिक्षा पाठ्यक्रमों के लिए तैयार करना और अंत में उनके लिए संभावित नौकरी के अवसर पैदा करना शामिल हैं।

उत्कर्ष तेजी से राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, बिहार और मध्य प्रदेश सहित हिंदी भाषी राज्यों से भर्तियाँ करने और छोटे शहरों व कस्बों में रोजगार के अवसर पैदा करने पर जोर दे रहा है।
वर्ष 2002 में डॉ. निर्मल गहलोत द्वारा स्थापित और उद्योग में अग्रणी उत्कर्ष क्लासेस ने अपने लर्निंग एजुकेशनल एप को नवंबर,2018 में लॉन्च किया था। सतत विकास मॉडल पर निर्मित, उत्कर्ष एक लाभकारी शिक्षण संस्थान है जो अभिनव समाधान और प्रौद्योगिकी संचालित दृष्टिकोण अपनाकर अपनी प्रतिस्पर्धात्मक बढ़त शैक्षिक जगत में बनाए हुए है। वर्तमान में इसके 1,200 से अधिक कर्मचारी हैं, जिनमें विभिन्न विषय विशेषज्ञों के रूप में170 शिक्षक शामिल हैं। इसके ऑनलाइन एवं ऑफलाइनप्लेटफॉर्म्स, लर्निंग एप और यूट्यूब चैनल पर 20 मिलियन से अधिक छात्र हैं।
उत्कर्षकेंद्र और राज्य सरकार की परीक्षाओं, जैसे-आईआईटी-जेईई, नीट (NEET)वक्लैट (CLAT)के लिए ऑनलाइन तथा ऑफलाइन माध्यम से तैयारीकरवाने के साथ-साथ कक्षा 6 से 12 वींसीबीएसई तथा आठ राज्य बोर्डों की स्कूली शिक्षाके लिए भीऑनलाइनट्यूशन उपलब्धकरवाता है। इसे आईएएस, बैंकिंग, रक्षा सेवाओं, राज्य लोक सेवा आयोग तथा विभिन्न प्रवेश परीक्षाओं के लिए विशेषज्ञता हासिल है।

उत्कर्ष क्लासेस एंड एडुटेककेसंस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, डॉ. निर्मल गहलोत ने कहा, "कोविड-19 महामारी से उत्पन्न व्यवधान और अनिश्चितता के बीच, अधिकांश युवा भारतीय अब रोजगार सुरक्षा और उच्च आय के लिए सरकारी नौकरियों को पसंद करते हैं। नतीजतन, हमने पिछले दो वर्षों में ऑनलाइन कोचिंग के लिए6000 से 1.5 मिलियन भुगतान करने वाले छात्रों के नामांकन में वृद्धि देखी है।इसे देखते हुए, हम टियर 2 और टियर 3 शहरों में अपनी टीम का विस्तार कर रहे हैं। हम शैक्षिक उत्कृष्टता और समस्या-समाधान के ज़ुनून के साथ नई सोच वाले विचारकों को नियुक्त करना चाहते हैं, इस प्रकार हमारे युवा शिक्षार्थियों की उनके कॅरियर में आगे बढ़ने और जीवन में सफल होने में मदद करना चाहते हैं।"

बतौर एडटेक सेक्टर उत्कर्ष के पास कर्मचारियों को तैयार करने के लिए प्रेरणप्रशिक्षणके विभिन्न चरणों के अलावा बेहतर अनुभव एवंआधुनिक दृष्टिकोणहैं जो कर्मचारियों के भविष्य के लिए मार्ग प्रशस्त करने में सहायक है। इसके अलावा, कंपनी यह सुनिश्चित करती है कि उसका कार्यबल अपनी पहचान के अनुरूप नित नए नवाचारों के द्वारा शिक्षा जगत में विद्यार्थियों के लिए मिसाल पेश करता रहे।

Wednesday, June 29, 2022

सीत कमल को विभिन्न श्रेणी में मिले दो अवार्ड


कपड़ा मंत्री पीयूष गोयल ने सीत कमल के  गौतम नाथानी को सम्मान से नवाज़ा

नई दिल्ली। नई दिल्ली में हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद (ईपीसीएच) ने 23वें हस्तशिल्प निर्यात पुरस्कार समारोह का आयोजन अशोका होटल दिल्ली में किया। इस बहुप्रतीक्षित समारोह में वर्ष 2017-18 और 2018-19 के दौरान निर्यातकों को उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया गया। इस आयोजन में ईपीसीएच के अध्यक्ष राज.के.मल्होत्रा के साथ ही देश के कोने कोने से हस्तशिल्प निर्यातकों ने बड़ी संख्या में शिरकत की। इस मौके पर ईपीसीएच के उपाध्यक्ष–कमल सोनी, ईपीसीएच के महानिदेशक और अध्यक्ष, इंडिया एक्सपोज़िशन मार्ट लिमिटेड राकेश कुमार, और ईपीसीएच की प्रशासन समिति के सदस्य ने भी आयोजन में भागीदारी की। इस दौरान पेपर प्रोडक्ट के लिए जयपुर के सीत कमल के मैनेजिंग डायरेक्टर गौतम नाथानी को 2017-18, 2019 के लिए दो एक्सपोर्ट अवार्ड से नवाजा गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारत सरकार में केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग, उपभोक्ता मामलों, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण और वस्त्र पीयूष गोयल, विशिष्ट अतिथि केंद्रीय कपड़ा मंत्री एवं रेल राज्यमंत्री दर्शना विक्रम जरदोश ने हस्तशिल्प निर्यात पुरस्कार प्रदान किए। कार्यक्रम में केंद्रीय कपड़ा मंत्रालय में सचिव उपेंद्र प्रसाद सिंह, आईएएस मौजूद रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता भारत सरकार के कपड़ा मंत्रालय के हस्तशिल्प विकास आयुक्त शांतमनु, आईएएस ने की। पीयूष गोयल, ने पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी और उन्हें अपने उद्यमों के लिए कई गुना विकास की कल्पना करने और काम करने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने इस क्षेत्र की गतिशीलता और राकेश कुमार, महानिदेशक, ईपीसीएच की विशेष रूप से एमआईसीई – इंडिया एक्सपो सेंटर और मार्ट को चालू करने और हस्तशिल्प क्षेत्र को न केवल एक आत्मनिर्भर बल्कि लाभदायक उद्यम के रूप में चलाने के लिए बधाई दी। ईपीसीएच के महानिदेशक राकेश कुमार ने बताया कि महामारी के कारण, निर्यात पुरस्कार समारोह तीन साल के अंतराल के बाद आयोजित किया जा सका है, इसलिए लगातार दो वर्षों के लिए पुरस्कार विजेताओं को सम्मानित किया गया है। हस्तशिल्प सेक्टर से जुडे सभी हितधारकों को इस वार्षिक आयोजन का बेसब्री से इंतजार था। ईपीसीएच के चेयरमैन राजकुमार मल्होत्रा ने बताया कि वर्ष 2017-18 के 61 विजेताओं और वर्ष 2018-19 के 65 विजेताओं, यानी कुल 126 विजेताओं को पुरस्कार दिए गए। इसके अलावा एक स्पेशल कमेंडेशन अवार्ड भी प्रदान किया गया है।

 वर्ष 2017-18 और 2018-19 दोनों वर्षों के लिए पेपर मैशे उत्पाद श्रेणी में टॉप एक्सपोर्ट अवार्ड ट्रॉफी जयपुर के दिलीप इंडस्ट्रीज प्रा लि ने हासिल की। अन्य टॉप एक्सपोर्ट अवार्ड ट्राफियां वुडवेयर श्रेणी के लिए जोधपुर के लतियाल हस्तशिल्प प्रा. लि, और बसंत ;सिरेमिक आर्टवेयर के लिए जयपुर के दिलीप पॉटरी प्रा. लि ; हस्तनिर्मित कागज उत्पादों के लिए जयपुर के ए.एल.पेपर हाउस; चमड़े के हस्तशिल्प के लिए जोधपुर के महेश हस्तशिल्प, ; और विविध शिल्प और वैश्विक कला निर्यात के लिए खेमचंद हस्तशिल्प, जोधपुर ने हासिल की। जयपुर ने महिला उद्यमी के लिए उत्तर पश्चिमी क्षेत्र टॉप एक्सपोर्ट अवार्ड की ट्रॉफी भी हासिल की। इसके साथ ही जयपुर की सात कंपनियों को सात मेरिट सर्टिफिकेट, और जोधपुर की दो कंपनियों को तीन मेरिट सर्टिफिकेट प्राप्त हुए।


CNH Industrial Capital India ने किसानों के फायदे के लिए शुरू किया वित्तीय साक्षरता कार्यक्रम

दिल्ली 29 जून 2022: CNH Industrial (NYSE: CNHI / MI: CNHI) के वित्‍तीय सेवा प्रभाग, CNH Industrial Capital ने हरियाणा और उत्‍तर प्रदेश में किसानों को शिक्षित करने के लिए वित्‍तीय साक्षरता कार्यक्रम शुरू किया है। अपनी CSR (कॉर्पोरेट सामाजिक उत्‍तरदायित्‍व) पहल के तहत, कंपनी वित्‍तीय साक्षरता, कृषि यांत्रिकीकरण, बायोमास प्रबंधन और राज्‍य कृषि सब्सिडीज जैसे विषयों पर 600 किसानों को प्रशिक्षित करेगी। इन सत्रों का संचालन हरियाणा के भिवानी, महेन्‍द्रगढ़ और चरखी दादरी गांवों; और उत्‍तर प्रदेश के सोनभद्र एवं हरदोई जैसे प्रमुख कृषि क्षेत्रों में किया जाएगा।

चरखी दादरी जिले में 15 जून को लॉन्‍च हुआ यह विशिष्‍ट प्रोग्राम शुरुआत में किसानों को बैंकिंग, डिजिटल भुगतान, बीमा, निवेश, फर्जीवाड़ा से सुरक्षा और वित्‍तीय नियोजन की बुनियादी अवधारणाओं से अवगत कराने में मदद करेगा। इसके बाद होने वाले सत्र में सरकार की विभिन्‍न पहलों पर ध्‍यान दिया जाएगा जिसमें कृषि/बागबानी सब्सिडीज, कृषि यांत्रिकीकरण योजनाओं और दूसरे मूल्‍य-वर्धित दृष्टिकोण शामिल हैं। कार्यक्रम के अंतिम सत्र में फसल अवशेष प्रबंधन, कृषि उपकरणों के लिए वित्‍तीय योजनाओं और राज्‍य सरकार द्वारा पेश की जाने वाली रीजनल सब्सिडीज पर ध्‍यान केंद्रित किया जाएगा।

CNH Industrial Capital India के मैनेजिंग डायरेक्‍टर विशाल चौधरी ने कहा, “उभरती प्रौद्योगिकियों, नीतियों और दूसरी सरकारी योजनाओं के बारे में भारत के किसानों को शिक्षित करने से वित्‍तीय बोझ को कम करने तथा तेजी से आगे बढ़ने में मदद मिलेगी। यह पहल किसान समुदाय के बीच उनकी उत्‍पादकता बढ़ाने के लिए उपलब्‍ध संसाधनों को लेकर जागरुकता बढ़ाएगी। हमें पूरा भरोसा है कि इस कार्यक्रम के समापन पर, किसान अपने वित्‍त का बेहतर ढंग से प्रबंधन करने और ज्‍यादा स्‍थायी तरीके से उत्‍पादन करने में समर्थ होंगे।”

स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस और आईडीएफसी फर्स्ट बैंक ने बैंकेश्योरेंस करार की घोषणा की

भारत, 29 जून, 2022:भारत की प्रमुख स्वास्थ्य बीमा कंपनियों में से एक, स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस ने अपने स्वास्थ्य बीमा समाधानों के वितरण के लिए आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के साथ कॉर्पोरेट एजेंसी समझौते पर हस्ताक्षर किया है।

इस महत्वपूर्ण समझौते के तहत, स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के अत्याधुनिक डिजिटल प्लेटफॉर्म और इसके व्यापक वितरण नेटवर्क का उपयोग करके बैंक के ग्राहकों को अपने सर्वोत्तम कोटि के स्वास्थ्य बीमा उत्पादों को उपलब्ध कराएगा।

स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के प्रबंध निदेशक, श्री आनंद रॉयने कहा, स्टार हेल्थ का मानना है कि स्वास्थ्य बीमा प्रत्येक नागरिक के लिए आवश्यक है। आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के साथ हमारा रणनीतिक गठजोड़ स्वास्थ्य बीमा को सभी के लिए सुलभ बनाने की दिशा में एक और कदम है। यह गठजोड़ हमें आईडीएफसी फर्स्ट के ग्राहकों तक पहुंचने में मदद करेगा और उन्हें स्वास्थ्य देखभाल की बढ़ती लागत से खुद को आर्थिक रूप से सुरक्षित रखने में सक्षम बनाएगा। आईडीएफसी फर्स्ट बैंक और स्टार हेल्थ इंश्योरेंस दोनों ही बेहद नवोन्मेषी और ग्राहक केंद्रित कंपनियां हैं। हमें उम्मीद है कि यह साझेदारी दोनों संगठनों के लिए पारस्परिक रूप से फायदेमंद होगी।"

आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के हेड- वेल्थ मैनेजमेंट एंड प्राइवेट बैंकिंग, श्री विकास शर्माने कहा, हम अपने ग्राहकों के लिए अधिक मूल्य वर्धित उत्पादों और सेवाओं को लाने के लिए स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस के साथ जुड़कर खुश हैं। हम वास्तव में ग्राहकों को सर्वोपरि प्राथमिकता देने वाले बैंक हैं और इसलिए हमारा प्रयास हमेशा अपने ग्राहकों के लिए कम लागत और उच्च मूल्य वाले उत्पादों की पेशकश करना है। यह साझेदारी सही समय पर हुई है जब महामारी के बाद की दुनिया में स्वास्थ्य बीमा के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ रही है।

आईडीएफसी फर्स्ट बैंक का डिजिटल फर्स्ट दृष्टिकोण है और यह अपने अत्याधुनिक नेटबैंकिंग प्लेटफॉर्म और एक सहज, उपयोगकर्ता के अनुकूल पुरस्कृत मोबाइल ऐप के माध्यम से ग्राहकों की सेवा करता है, जो इसकी राष्ट्रव्यापी शाखाओं, एटीएमएस और ऋण केंद्रों का पूरक है।

 

पिरामल फार्मा लिमिटेड के कंज्यूमर प्रोडक्ट्स डिवीजन ने लिटिल बेबी कॉम्फी पैंट्स की प्रोडक्ट रेंज का किया विस्तार, लोगों के लिए पेश किया सिंगल पैक

मुंबई, भारत, 29 जून, 2022- पिरामल फार्मा लिमिटेड के कंज्यूमर प्रोडक्ट्स डिवीजन ने आज अपने बेबी केयर ब्रांड लिटिल - कॉम्फी बेबी पैंट्स के लिए सेलिब्रिटी ब्रांड एंबेसडर करीना कपूर और सैफ अली खान के साथ अपना नया कैम्पेन ‘पकड़ा-पकड़ी’ शुरू करने की घोषणा की। इस अभियान का उद्देश्य लिटिल के आरामदायक बेबी पैंट के एकल पैक के लॉन्च के साथ बड़े पैमाने पर बाजार में प्रवेश करना है। इस प्रकार कंपनी ने इसे नए माता-पिताओं के लिए किफायती और सुलभ बनाने का प्रयास किया है। एस, एम और एल आकार के लिए सिंगल्स पैक की कीमत क्रमशः 9, 10, 12 रुपए रखी गई है।

यह कैम्पेन इस फिलॉस्फी पर आधारित है कि ‘पकड़ा-पकड़ी खेलना लिटिल का काम है, और बाकी छोटी-छोटी चीज का ख्याल रखना लिटिल की आरामदायक बेबी पैंट का’। इस तरह यह कैम्पेन एक बच्चे की आराम की जरूरतों के साथ-साथ उनके सक्रिय रहने और खेलने के समय पर भी ध्यान आकर्षित करता है। लिटिल के डायपर द्वारा पेश किए गए नए उत्पाद का उद्देश्य बच्चों की देखभाल की जरूरतों को पूरा करते हुए उनके लिए एक ऐसा बेहद आरामदेह पहनावा पेश करना है, जिसमें रिसाव की कोई गंुजाइश नहीं रहती।

पिरामल कंज्यूमर प्रोडक्ट डिवीजन के सीईओ नीतीश बजाज ने कहा, ‘‘लिटिल्स - कॉम्फी बेबी पैंट की हमारी नई रेंज को बच्चों के आराम पर ध्यान केंद्रित करते हुए डिज़ाइन किया गया है। इसमें अनेक नई खूबियां हैं, जैसे 12 घंटे तक सोखने की क्षमता और गीलेपन का संकेत प्रदान करना। इन खूबियों के कारण माता-पिता को अपने बच्चों की स्वच्छता सुनिश्चित करने में मदद मिलती है। हम अपने नए कैम्पेन ‘पकड़ा-पकड़ी’ की लॉन्चिंग के साथ ही सैफ अली खान और करीना कपूर के साथ अपने मौजूदा संबंधों को जारी रखते हुए खुशी का अनुभव कर रहे हैं। उनकी मौजूदगी हाल ही माता-पिता बने लोगों के साथ अच्छे से मेल खाती है। ये ऐसे अभिभावक हैं, जो अपने बच्चे को हर समय सहज और आरामदेह स्थिति में रखने की भरसक कोशिश करते हैं।’’

इस कैम्पेन की चर्चा करते हुए अभिनेत्री करीना कपूर ने कहा, ‘‘जब बच्चे की देखभाल की बात आती है तो नए माता-पिता अक्सर हर छोटी-छोटी बात को लेकर चिंतित रहते हैं। बच्चे के लिए यह बेहद महत्वपूर्ण है कि वह उचित नींद ले और जब वह जाग रहा हो, तो उसे पूरा आराम मिले और वह आरामदेह महसूस करे। इसलिए माता-पिता के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वह ऐसा डायपर तलाश करें, जो कॉटन का सॉफ्ट कम्फर्ट प्रदान करे और लीक भी न हो। पिरामल का लिटिल ब्रांड बच्चों के आराम की इस प्रमुख जरूरत का पूरा ध्यान रखता है और जाहिर है कि मैं लिटिल ब्रांड के साथ अपने जुड़ाव को जारी रखने को लेकर बेहद उत्साहित हूं।’’

अक्टूबर 2020 में लॉन्च किए गए लिटिल कॉम्फी पैंट में 12 घंटे तक सोखने की क्षमता है और गीलेपन के संकेतक के साथ यह कॉटन सॉफ्ट है जो बच्चे को दिन के दौरान आराम से खेलने की स्वतंत्रता प्रदान करता है। पिछले तीन दशकों में, ब्रांड ने भारतीय माताओं का विश्वास अर्जित किया है और आज इसे बच्चों की सभी जरूरतों को पूरा करने के लिए जाना जाता है।

Monday, June 27, 2022

वी बिज़नेस ने एमएमएसई की डिजिटल यात्रा को आसान बनाने के लिए लॉन्च किया ‘रैडी फॉर नेक्स्ट’

मुंबई, 27 जून, 2022ः महामारी के चलते कारोबार पर पड़े प्रभावों, बहुत अधिक लिक्विडिटी और अन्य बदलावों के चलते एमएसएमई संवेदनशील हो गए हैं। इन्हीं चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए इस विश्व एमएसएमई दिवस के मौके पर भारत के अग्रणी दूरसंचार सेवा प्रदाता वोडाफ़ोन आइडिया की उद्यम शाखा वी बिज़नेस ने आज रेडी फॉर नेक्स्ट के लॉन्च की घोषणा की है। एमएसएमई की विकास यात्रा को बढ़ावा देने केे लिए इस प्रोग्राम को विशेष रूप से डिज़ाइन किया गया है।

कारोबार की नई संभावनाओं की बात करें तो डिजिटल माध्यमों को अपनाना आज बेहद ज़रूरत हो गया है। रिमोट वर्किंग के इस दौर में कारोबार को डिजिटल रूप से सुरक्षित बनाना अनिवार्य है। इसी को ध्यान में रखते हुए एमएसएमई की डिजिटल यात्रा को सुगम बनाने के लिए वी बिज़नेस रेडी फॉर नेक्स्ट प्रोग्राम का लॉन्च किया गया हैं विशेष रूप से तैयार किया गया यह प्रोग्राम एमएसएमई की सभी ज़रूरतों को पूरा करेगा, और उन्हें तेज़ी से विकसित होने में मदद करेगा।।

इस पहल के बारे में बात करते हुए अरविंद नेवातिया, चीफ़ एंटरप्राइज़ बिज़नेस ऑफिसर, वोडाफ़ोन आइडिया ने कहा, ‘‘एमएसएमई भारत की अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं, जो सकल घरेलू उत्पाद में 30 फीसदी योगदान देते हैं। हमने नए विचारों को बढ़ावा देने तथा डिजिटल भारत को सक्षम बनाने में छोटे कारोबारों की भूमिका को पहचाना है। गतिशील इनोवेशन्स के लिए विशेष समाधानों, मजबूत तकनीकी सहयोग एवं भरोसेमंद साझेदारों की जरूरत होती है जो स्थायी विकास को सुनिश्चित कर सकें। रेडी फॉर नेक्स्ट प्रोग्राम एमएसएमई को दीर्घकालिक समाधान उपलबध कराने की हमारी प्रतिबद्धता को दर्शाता है, जिससे उन्हें आगे बढ़ने और बेहतर कल के निर्माण में मदद मिलेगी। यह उनकी निर्णय लेने की क्षमता को आसान बनाता है, उन्हें अपने कारोबार के लिए उचित समाधानों को समझने, उन पर ध्यान केन्द्रित करने एवं आने वाले कल के लिए तैयार होने में मदद करता है। हमें उम्मीद है कि यह प्रोग्राम 250,000 से अधिक एमएसएमई के तीव विकास द्वारा उन्हें सक्षम बनाने मे गेम चेंजर की तरह काम करेगा।’’
वी बिज़नेस रेडी फॉर नेक्स्ट प्रोग्राम में दो अवयव शामिल हैंः डिजिटल स्व-मूल्यांकन एवं विशिष्ट एमएसएमई ऑफर्स
ऽ रेडी फॉर नेक्स्ट डिजिटल मूल्यांकनः वी बिज़नेस ने दून एण्ड ब्राडस्ट्रीट के सहयोग से एक ऐसे प्लेटफॉर्म का विकास किया है जो एमएसएमई को डिजिटल रूप से तैयार करता है, उन्हें समस्याओं को समझ कर हल करने तथा भविष्य के लिए तैयारी में मदद करता है। ‘रेडी फॉर नेक्स्ट’ मूल्यांकन प्रक्रिया के द्वारा कारोबार के मालिक तीन पहलुओं का मूल्यांकन कर सकते हैंः डिजिटल उपभोक्ता, डिजिटल कार्यस्थल एवं डिजिटल कारोबार। इससे उन्हें उपभोक्ताओं एवं सेवाओं, कार्यबल एवं बुनियादी सुविधाओं, कारोबार के आंकड़ों एवं नेटवर्क सुरक्षा जैसे सभी पहलुओं के बारे में तैयार रहने में मदद मिलती है। इसके अलावा, वे डिजिटल बदलाव की यात्रा में सोच-समझ कर अगले कदम उठा सकते हैं। उपभोक्ता https://www.myvi.in/business/enterprise-segments/smb/msme-readyfornext इस प्लेटफॉर्म को एक्सेस कर सकते हैं।

ऽ रेडी फॉर नेक्स्ट एमएसएमई ऑफर्सः यह प्रोग्राम तीन स्तंभों पर आधारित है- सक्रियता, विकास एवं सुरक्षा। यह प्रोग्राम उपभोक्ताओं की ज़रूरतों के अनुसार उनके कारोबार को बढ़ाने तथा डिजिटल रूप से सुरक्षित कारोबार का वातावरण बनाने के लिए विशेष समाधान उपलब्ध कराता है। साझेदारियों के लिए अनुकूल माहौल बनाकर कर वी बिज़नेस, एमएसएमई को डिजिटल समाधान अपनाने के लिए रु 20,000 तक के फायदे देगा।
सुरक्षित इंटरनेट के साथ सुरक्षित कारोबार ’ उपभोक्ताओं को क्लाउड टेलीफोनी के साथ जोड़ना ’ वी बिज़नेस प्लस प्लान्स के साथ उपभोक्ताओं को लक्ष्य बनाना ’ वी बिज़नेस प्लस प्लान्स के साथ कॉर्पोरेट कॉलरट्यून्स ’
सुरक्षित इंटरनेट- इंटरनेट लीज़्ड लाईन और मैनेज्ड फायरवॉल का बंडल्ड प्रपोज़िशन जो बिज़नेस ऐप्लीकेशन्स को भरोसेमंद तरीके से कनेक्ट करता है और कारोबार से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी एवं ऐप्लीकेशन्स को सुरक्षित रखता है।
ऽ इसकी मदद से कारोबार सुरक्षित रूप से सुगमता के साथ अपना संचालन कर सकते हैं।
ऽ बैण्डविड्थ के आधार पर रु 10,000 या अधिक के फायदे देता है।
ण्
अब 24/7 कोई भी कॉल ऐसी नहीं रहेगी, जिसे सुना न जाए क्योंकि क्लाउड टेलीफोनी सर्विस, ऑटो रिसेप्शनिस्ट और लीड मैनेजमेन्ट समाधान उपलब्ध कराती है।
ऽ ऑटो रिसेप्शनिस्ट के लिए रु 1500 के प्लान पर तथा लीड मैनेजमेन्ट के लिए रु 1000 के प्लान पर हर उपभोक्ता के लिए वैद्य
ऽ पहले 3 बिल सायकल्स में हर बार रु 500 की छूट के साथ रु 1500 तक के फायदे वी बिज़नेस 20,000 एसएमएस के निःशुुल्क अभियान के साथ उपभोक्ताओं को उनके ब्राण्ड का विज्ञापन करने में मदद करता है।
ऽ रु 4000 तक के फायदे
ऽ 10 या अधिक सक्रिय कनेक्शन वाले उपभोक्ताओं के लिए वैद्य जिनके पास 399, 499, 799 के वी बिज़नेस प्लस प्लान हों।
ऽ वी बिज़नेस प्लस प्लान्स पर निःशुल्क अनलिमिटेड डेटा के फायदे

कस्टमाइज़ड कॉलरट्यून के द्वारा संगठन अपने कारोबार का विज्ञापन कर सकते हैं। इस तरह वे 6 महीने तक कॉलर्स को ब्राण्ड का विज्ञापन सुना सकते हैं।
ऽ वी बिज़नेस के यूज़र जिसके पास 10 या अधिक कनेक्शन्स के साथ 299 या 399 का वी बिज़नेस प्लस प्लान हैं, वे इसका लाभ उठा सकते हैं।
ऽ कस्टमाइज़्ड कॉलरट्यून जिसका बिल आमतौर पर रु 49/ माह/ यूज़र के हिसाब से आता है।
ऽ वी बिज़नेस 6 महीने की निःशुल्क पेशकश देता है जिसके साथ यूज़र 20 कनेक्शन्स पर रु 588 तक के फायदे पा सकते हैं।

नियम और शर्तें उपलब्ध हैं
https://www.myvi.in/business/enterprise-segments/smb/msme-readyfornext

उपरोक्त के अलावा यह प्रोग्राम कारोबारों को भविष्य के लिए तैयार करने हेतु ‘बिज़नेस अडवाइस’ भी देता है।
एमएसएमई पार्टनर से संपर्क कर या नज़दीकी वी रीटेल स्टोर से संपर्क कर या वेबसाईट पर साईन अप सीमित अवधि के ऑफर्स का लाभ उठा सकते हैं। यह ऑफर 31 जुलाई 2022 तक वैद्य है।

वी बिज़नेस, इस रैडी फॉर नेक्स्ट प्रोग्राम को बढ़ावा देने के लिए हाई डेसिबल डिजिटल एवं सोशल मीडिया अभियान भी लेकर आया है। यह अभियान 27 जून, 2022 से लाईव होगा।

आईआईएम उदयपुर ने अपने पीजीडीबीए-डब्ल्यूई कार्यक्रम के लिए पहले वार्षिक दीक्षांत समारोह में 37 छात्रों को स्नातकोत्तर डिप्लोमा प्रदान किया

27 जून 2022, उदयपुर: भारतीय प्रबंध संस्थान उदयपुर ने अपने पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन फॉर वर्किंग एक्जीक्यूटिव्स - पीजीडीबीए-डब्ल्यूई (बैच 2020-22) के लिए पहला वार्षिक दीक्षांत समारोह शुक्रवार, 24 जून 2022 को बलीचा, उदयपुर में आयोजित किया गया। दीक्षांत समारोह का संबोधन हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड के सीईओ श्री अरुण मिश्रा ने दिया, जो दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि थे। समापन भाषण आईआईएम उदयपुर के निदेशक प्रो जनत शाह ने दिया। दीक्षांत समारोह में श्री अजय कुमार सिंहरोहा, सीएचआरओ, एचजेडएल, श्री रवि गुप्ता, प्रमुख, कॉर्पोरेट लर्निंग एंड स्किल डेवलपमेंट, एचजेडएल, प्रो राजेश अग्रवाल, चेयरपर्सन, एक वर्षीय एमबीए प्रोग्राम, आईआईएम उदयपुर के संकाय और कर्मचारी उपस्थित थे। साथ ही स्नातक बैचों के माता-पिता और रिश्तेदारों ने भी अपनी उपस्तिथि दी। 

पीजीडीबीए-डब्ल्यूई के पहले वार्षिक दीक्षांत समारोह में, 37 छात्रों को स्नातकोत्तर डिप्लोमा प्रदान किया। इसके अलावा राजीव चौधरी को शैक्षिक प्रदर्शन के लिए स्वर्ण पदक से सम्मानित किया।

हिन्दुस्तान जिंक लिमिटेड के सीईओ श्री अरुण मिश्रा ने सभी छात्रों को बधाई देते हुए कहा, “प्रबंधन शिक्षा आपको प्रबंधन की कला सिखाती है। हालाँकि, निर्णय लेने की कला औद्योगिक दृष्टिकोण से इसका अभ्यास करते हुए आती है। अपनी पुस्तकों से संपर्क न खोएं। इन वर्षों में आप महसूस करेंगे कि जैसे-जैसे आप एक उद्योग में बढ़ते हैं, आप सैद्धांतिक अनुप्रयोगों के लिए उत्सुक होते हैं। शोध पत्रों को पढ़ें और अपनी व्यावसायिक समस्याओं का समाधान खोजने का प्रयास करें। दुनिया भर में बड़े पैमाने पर पलायन हो रहा है। डिजिटल के सबसे बड़े व्यवधान के साथ बिजनेस मॉडल बदल रहे हैं। अतिरिक्त योग्यताएं हमेशा शामिल रहेंगी और आपको तेजी से बदलती दुनिया में प्रासंगिक बने रहने में मदद करेंगी।"

एचजेडएल और उसकी सहायक कंपनियों में क्रॉस डोमेन कार्यों में अपनी यात्रा और करियर के बारे में बताते हुए, जहां उन्होंने कई व्यावसायिक नेतृत्व पदों पर कार्य किया और कई तरह की जिम्मेदारियों को संभाला, उन्होंने आगे बोर्ड रूम की स्थितियों का हवाला दिया जहां निर्णय एक दृष्टिकोण के साथ लिए जाते हैं। "हम देखेंगे कि क्या होगा"। उन्होंने कोविड महामारी, यूक्रेन-रूस युद्ध आदि जैसी अनिश्चितताओं पर भी चर्चा की जिनका दुनिया वर्तमान में सामना कर रही है, और कहा कि अगले छह महीनों में दुनिया कहां होगी यह कहना संभव नहीं है। हालाँकि, अनिश्चित परिस्थितियों में व्यावसायिक रणनीतियों, निर्णय लेने की क्षमताओं की योजना बनाने में आपकी मदद करने के लिए शिक्षा हमेशा लूप में रहेगी।

कार्यक्रम का संबोधन श्री अजय कुमार सिंघरोहा, सीएचआरओ, हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड द्वारा दिया गया। वह पेशेवरों को असाधारण शिक्षा प्रदान करने के लिए आईआईएमयू के उत्कृष्ट संकाय सदस्यों के आभारी थे और कैसे उन्हें यह वीयूसीए (अस्थिरता, अनिश्चितता, जटिलता और अस्पष्टता) दुनिया में अपने करियर को आकार देने में मदद करेगा। उन्होंने स्नातक होने वाले बैच को सामान्य प्रबंधन कौशल को बढ़ाने के अवसरों की तलाश करने और अपने हर काम में जीत की स्थिति हासिल करने के लिए सीखने का उपयोग करने की सलाह दी।

स्वागत भाषण श्री रवि गुप्ता, प्रमुख, कॉर्पोरेट लर्निंग एंड स्किल डेवलपमेंट, एचजेडएल ने दिया। उन्होंने स्नातक बैच को बधाई दी और उन्हें विश्वास था कि आईआईएमयू का कार्य-एकीकृत शिक्षण कार्यक्रम काम पर प्रदर्शन करने के लिए काम करने वाले पेशेवरों के व्यावसायिक कौशल को बढ़ाएगा। उन्होंने कहा, “सभी प्रतिभागियों के लिए यह एक भावनात्मक यात्रा थी क्योंकि उन्होंने अपनी एमबीए यात्रा ऑनलाइन शुरू की थी। कोविड -19 ने पिछले दो वर्षों में हमारे जीवन के हर क्षेत्र में कुछ अभूतपूर्व चुनौतियों का सामना हमें करवाया है। हमारे अधिकारियों की कहानी अलग नहीं थी। फिर भी अपने लक्ष्य के प्रति आपकी प्रतिबद्धता ने आपको वह हासिल कराया है जो आप आज हैं। आप सभी को आपकी डिग्री के लिए बधाई देते हुए और आपके भविष्य के प्रयासों में आप सभी को शुभकामनाएं देते हुए मुझे बहुत गर्व हो रहा है।"

अपने समापन भाषण में, आईआईएम उदयपुर के निदेशक, प्रो. जनत शाह ने कहा, "यह एक महत्वपूर्ण अवसर है क्योंकि हम संस्थान के साथ पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन फॉर वर्किंग एग्जीक्यूटिव के अपने पहले बैच के दीक्षांत समारोह का जश्न मना रहे हैं। यह वर्ष आईआईएमयू समुदाय के लिए सबसे महत्वपूर्ण और उल्लेखनीय वर्ष रहा है क्योंकि हमने अपनी स्थापना का एक दशक पूरा करा है। मेरी सीमित स्मृति याद करती है कि 2022 के स्नातक बैच ने एक ऐसा अनुभव किया जिसे असाधारण भी माना जा सकता है। इस बैच ने वैश्विक महामारी के प्रकोप के कारण अपनी एमबीए यात्रा ऑनलाइन शुरू की। आपने अपने शिक्षकों और बैचमेट्स का समर्थन किया और बड़े तनाव में भी अपना समर्पण दिखाया है । यह स्नातक बैच हमारे लिए एक विशेष बैच रहेगा क्योंकि आपने समझौता किए बिना इन कठिन समय का प्रबंधन करने में हमारी मदद की है। हमें आपकी आगामी उपलब्धियों पर पहले से ही गर्व है जिससे समाज और मानव जाति को लाभ होगा।"

एसीसी ने उत्सर्जन की निगरानी और इसकी रोकथाम के लिए इस्तेमाल किए उन्नत तकनीकी समाधान

मुंबई, 27 जून 2022- भारत की अग्रणी और सबसे सस्टेनेबल सीमेंट निर्माता कंपनियों में से एक एसीसी लिमिटेड ने कार्बन उत्सर्जन को नियंत्रित करने के लिए उन्नत तकनीकी दृष्टिकोण अपनाया है। इस तरह कंपनी ने अपने कार्बन उत्सर्जन की निगरानी और उस पर अंकुश लगाने के तरीके में क्रांतिकारी बदलाव ला दिया है।

कंपनी ने वायु उत्सर्जन को कम करने के लिए देश भर में अपने विनिर्माण संयंत्रों में उपकरणों के नियमित रखरखाव के अलावा उन्नत प्राथमिक और माध्यमिक उपायों को भी लागू किया है। इस तरह एसीसी को विभिन्न नियामकों द्वारा अनिवार्य उत्सर्जन सीमा मूल्य का अनुपालन करने में मदद मिलती है।

एसीसी ने वायु उत्सर्जन की निगरानी के लिए अपने सभी 17 सीमेंट संयंत्रों में निरंतर उत्सर्जन निगरानी प्रणाली भी स्थापित की है। एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशनों के माध्यम से निरंतर वायु गुणवत्ता की निगरानी भी की जाती है। सभी संयंत्रों में सभी परिचालनों में उच्च दक्षता वाले बैग फिल्टर होते हैं, जिसमें क्लिंकर कूलर एप्लीकेशंस में नवीनतम इलेक्ट्रोस्टैटिक प्रीसिपिटेटर तैनात होते हैं। अधिकतम दक्षता के लिए सभी उपकरणों का समय-समय पर रखरखाव भी किया जाता है।

इसके अलावा, एसीसी ने कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए कई उपाय किए हैं, जैसे कि क्लिंकर फैक्टर को कम करना, थर्मल सबस्टीट्यूशन रेट में सुधार करना, थर्मल और विद्युत ऊर्जा की तीव्रता को कम करना, वेस्ट हीट रिकवरी सिस्टम को लागू करना, और नवीकरणीय ऊर्जा खपत की दर में वृद्धि करना, और नई टैक्नोलॉजी की शुरुआत करना।

एसीसी लिमिटेड के एमडी और सीईओ श्री श्रीधर बालकृष्णन ने कहा, ‘‘हमारा उद्देश्य अपने सभी हितधारकों को एक उद्देश्यपूर्ण और सस्टेनेबल तरीके से मूल्य प्रदान करना है। और यहीं से हमारा वह विजन शुरू होता है, जिसमें पर्यावरण को सर्वप्रथम रखा जाता है। हमारा मानना है कि हमारे उत्सर्जन का स्तर इतना ही हो कि इससे न केवल नियामक आवश्यकताओं को पूरा किया जा सके, बल्कि साल-दर-साल हमें खुद में भी सुधार करना चाहिए।’’

एसीसी को ग्लोबल एन्वायर्नमेंटल नॉन-प्रॉफिट सीडीपी द्वारा कॉर्पाेरेट सस्टेनेबिलिटी में अग्रणी स्थिति के लिए भी मान्यता प्रदान की गई है। कंपनी ने जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए प्रतिष्ठित ए लिस्टमें स्थान हासिल किया है। एसीसी को उत्सर्जन में कटौती, जलवायु जोखिमों को कम करने और कम कार्बन वाली अर्थव्यवस्था विकसित करने के अपने कार्यों के लिए मान्यता दी गई है।

2021 में एसीसी साइंस-बेस्ड टार्गेट्स इनिशिएटिव (एसबीटीआई) द्वारा अनुमोदित 2030 मध्यवर्ती लक्ष्यों के साथ बिजनेस एम्बिशन फॉर 1.5 डिग्री सेल्सियसपर हस्ताक्षर करने वाली पहली भारतीय सीमेंट कंपनी बन गई। इन लक्ष्यों के साथ, एसीसी सीमेंट संचालन में अपनी कार्बन तीव्रता को 2018 में 511 किलोग्राम से घटाकर 2030 तक 409 किलोग्राम कार्बन प्रति टन सीमेंटयुक्त सामग्री करने के लिए प्रतिबद्ध है। 2020 में देश में कार्बन उत्सर्जन के मामले में 493 किलोग्राम कार्बन प्रति टन सीमेंटयुक्त सामग्री के साथ एसीसी का प्रदर्शन सबसे कम विशिष्ट रहा है।

यह पर्यावरण की सुरक्षा की दिशा में एसीसी के बहुआयामी दृष्टिकोण से भी जुड़ा है।

कंपनी अपने वायु उत्सर्जन को कम करने के अलावा जैव विविधता को भी निरंतर बढ़ावा देती है और अपने एन्वायर्नमेंटल फुटप्रिंट को कम करने के लिए पानी की रीसाइकलिंग भी करती है। साथ ही कंपनी हमारे परिवेश को पोषित और हरा-भरा करने के लिए भी सक्रिय प्रयास करती है। उदाहरण के लिए, पिछले तीन वर्षों में, एसीसी ने अपने चंदा और वाडी विनिर्माण संयंत्रों में मियावाकी तकनीक का उपयोग करके वन विकसित किए हैं।

ब्राडल ने एसेन में जुटाया डेटा

मोटो जीपी, 2022

एसेन, 27 जून, 2022ः 18वें पॉज़िशन से शुरूआत करने के बाद स्टेफन ब्राडल और रेपसोल होण्डा टीम 2022 सीज़न के पहले उत्तरार्ध के और करीब आ गए हैं।
दिन भर बारिश की संभावनाओं पर बात की जा रही थी, इस बीच टीटी सर्किट एसेन प्रशंसकों के साथ फुल हाउस था। लेकिन बारिश की संभावनाओं के बावजूद दिन भर सूखे मौसम में रोमांच जारी रहा।

ग्रिड पर 18वें पॉज़िशन से शुरूआत करने के बाद स्टेफन ब्राडल ने 26 लैप की रेस में अपनी रेपसोल होण्डा टीम आरसी213वी के साथ अच्छी शुरूआत की और शुरूआती लैप्स में ही पॉइन्टस के करीब पहुंच गए। फैक्टरी सुजुक़ी जोड़ी को ध्यान में रखते हुए ब्राडल ने रेस आगे बढ़ने के साथ अपनी पॉज़िशन को बनाए रखा, जबकि कई राइडर आगे जाकर गिर गए। ब्राडल ने अपनी ज़्यादातर रेस मारिनी के साथ की, ब्राडल उन्हें समझ पा रहे थे और उन्हें एचआरसी के इंजीनियरों के महत्वपूर्ण जानकारी मिल रही थी। लाईन पर 18वें स्थान से ब्राडल ने नीदरलैण्ड के प्रतिस्पर्धी को पीछे छोड़ दिया और रविवार की रेस में शानदार परफोर्मेन्स दिया

रविवार को जापानी राइडर नाकागामी अपनी एलसीआर होण्डा मशीन पर 12 वें स्थान के साथ होण्डा के टॉप फिनिशर रहे।

रेपसोल होण्डा टीम समर ब्रेक की ओर रूख कर रही है, ऐसे में यह 2022 सीज़न की मुश्किल शुरूआत के बाद अगस्त 05-07 के बीच सिल्वरस्टोन में सकारात्मक एवं उत्पादक वापसी के लिए तेयार है। सिल्वरस्टोन की बात करें तो यह पिछले साल रेपसोल होण्डा टीम के साथ पोल एस्परगारो का पहला पोल पॉज़िशन था, रु44 पहले से ब्रिटिश जीपी के लिए फिट होने के लिए काम कर रहे हैं।

इस ब्रेक के दौरान राइडरों, मैकेनिकों और इंजीनियरों को आराम करने तथा मोटो जीपी सीज़न की सबसे मुश्किल शुरूआत के बाद सुधार लाने का अवसर मिलेगा। रेपसोल होण्डा टीम वापसी के साथ एक बार से टॉप पॉजिशन के लिए मुकाबला करने की तैयारी में है।

स्टेफन ब्राडल (18वां)
‘‘यह रेस बुरी नहीं रही, कुल मिलाकर मैं हमारे परफोर्मेन्स से खुश हूं। साफ है कि हमें मुश्किलों का सामना करना पड़ा। अभी बाईक का संतुलन ठीक नहीं है और हमें इस पर काम करना है। मैंने अच्छी शुरूआत की और मैं रेस के ज़्यादातर समय मारिनी के साथ बना रहा, एवं ज़रूरी जानकारी हासिल कर पाया। इंजीनियरों के लिए भी यह फीडबैक बड़े काम का है। अब हम समर ब्रक के लिए जा रहे हैं लेकिन जुलाई में जेरेज़ में मेरा एक और टेस्ट है, इसलिए हम अपना काम जारी रखेंगे। हम तब तक नहीं रूकेंगे, जब तक हम और सुधार न कर लें।’’

TT Assen - Race Results

Pos.

Rider

Num

Points

Team

Constructor

Time/Gap

1

BAGNAIA Francesco

62

25

Ducati Lenovo Team

Ducati

40'25.205

2

BEZZECCHI Marco

73

20

Mooney VR46 Racing Team

Ducati

0.444

3

VINALES Maverick

12

16

Aprilia Racing

Aprilia

1.209

4

ESPARGARO Aleix

41

13

Aprilia Racing

Aprilia

2.585

5

BINDER Brad

33

11

Red Bull KTM Factory Racing

KTM

2.721

6

MILLER Jack

43

10

Ducati Lenovo Team

Ducati

3.045

7

MARTIN Jorge

89

9

Pramac Racing

Ducati

4.34

8

MIR Joan

36

8

Team Suzuki Ecstar

Suzuki

8.185

9

OLIVEIRA Miguel

88

7

Red Bull KTM Factory Racing

KTM

8.325

10

RINS Alex

42

6

Team Suzuki Ecstar

Suzuki

8.596

11

BASTIANINI Enea

23

5

Team Gresini Racing MotoGP

Ducati

9.783

12

NAKAGAMI Takaaki

30

4

LCR Honda

Honda

10.617

13

ZARCO Johann

5

3

Pramac Racing

Ducati

14.405

14

DI GIANNANTONIO Fabio

49

2

Team Gresini Racing MotoGP

Ducati

17.681

15

MARQUEZ Alex

73

1

LCR Honda

Honda

25.866

16

DOVIZIOSO Andrea

4

0

WithU Yamaha RNF MotoGP Team

Yamaha

29.711

17

MARINI Luca

10

0

Mooney VR46 Racing Team

Ducati

30.296

18

BRADL Stefan

6

0

Repsol Honda Team

Honda

32.225

19

GARDNER Remy

87

0

Tech 3 KTM Factory Racing

KTM

34.947

20

SAVADORI Lorenzo

32

0

Aprilia Racing Test Team

Aprilia

35.798

21

FERNANDEZ Raul

25

0

Tech 3 KTM Factory Racing

KTM

DNF

22

QUARTARARO Fabio

20

0

Monster Energy Yamaha MotoGP

Yamaha

DNF

23

BINDER Darryn

40

0

WithU Yamaha RNF MotoGP Team

Yamaha

DNF

24

MORBIDELLI Franco

21

0

Monster Energy Yamaha MotoGP

Yamaha

DNF

गोदरेज अप्लायंसेज ने पर्यावरण के अनुकूल पैकेजिंग को अपनाकर धरती के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराई, पेटेंट के लिए आवेदन किया

मुंबई, 27 जून, 2022: गोदरेज समूह की प्रमुख कंपनी, गोदरेज एंड बॉयस की व्यावसायिक इकाई, गोदरेज अप्लायंसेज ने एक्सपैंडेड पॉलीस्टरीन फोम (ईपीएस) - जो थर्मोकोल के नाम से लोकप्रिय है - की जगह पेपर-आधारित हनीकॉम्ब (एचसी) पैकेजिंग समाधानों का उपयोग करके धरती की सुरक्षा के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराई है।

ईपीएस, पॉलीस्टरीन से बनता है जो कि पेट्रोलियम आधारित प्लास्टिक यौगिक है और यह नॉन-बायोडिग्रेडेबल है, अर्थात पर्यावरण में से पूर्णतः अपघटित होने में दशकों का समय लगता है। जबकि कागज बहुत ही नाजुक पदार्थ होता है, लेकिन सही तरीके से इसका उपचार किए जाने पर, तो यह लोड असर ताकत और कुशनिंग के मामले में ईपीएस आधारित पैकेजिंग का सबसे अच्छा विकल्प प्रदान करता है। साथ ही, एचसी रिसाइक्लेबल और पर्यावरणीय दृष्टि से सुरक्षित है क्योंकि यह प्रति उत्पाद 1 किलोग्राम से कम कार्बन डाइ-ऑक्साइड उत्पन्न करता है, जबकि ईपीएस से प्रति उत्पाद 4.2 किलोग्राम कार्बन डाइ-ऑक्साइड उत्सर्जन होता है। कागज आधारित पैकेजिंग का उपयोग करके, ईपीएस रीसाइक्लिंग और पुनरुपयोग का पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभाव की चिंता दूर हो सकती है और जबकि इससे पैकेजिंग की गुणवत्ता भी प्रभावित नहीं होगी।

दोनों पैकेजिंग सामग्री के पर्यावरणीय प्रभाव में अंतर दिखाने के लिए, गोदरेज अप्लायंसेज ने 100 रेफ्रिजरेटर के पेपर पैकेजिंग के साथ प्रयोग किया। अध्ययन से पता चला कि ईपीएस के विपरीत एचसी पेपर पैकेजिंग में ग्लोबल वार्मिंग को 81 प्रतिशत तक कम करने की क्षमता है।

इस पर टिप्पणी करते हुए, गोदरेज एंड बॉयस की घटक, गोदरेज अप्लायंसेज के बिजनेस हेड और एक्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट, कमल नंदी ने कहा, हमने थर्मोकोल के उपयोग को रोकने के लिए सरकार के नियमन से काफी पहले 2019 में ही पेपर-आधारित पैकेजिंग को लागू करने का बीड़ा उठाया। हमने हाल ही में सरल पर्यावरण अनुकूल पैकेजिंग समाधान के उपयोग के लिए एक पेटेंट के लिए आवेदन किया है। इसके उपयोग के साथ, हम 2021-22 में रेफ्रिजरेटर में 1000+ से 500+ टन तक पैकेजिंग के चलते उत्पन्न होने वाले कार्बन फुटप्रिंट में 50% तक की कमी हासिल करने में सक्षम हैं और 2023-24 तक, हमने हमारे कारखानों में तैयार हो रहे रेफ्रिजरेटर, वाशिंग मशीन और एयर कंडीशनर में लगभग 100% ग्रीन पैकेजिंग को लागू करने का लक्ष्य रखा है।"

आगे, गोदरेज अप्लायंसेज के कार्यकारी उपाध्यक्ष और हेड - इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, बुर्जिन वाडिया ने कहा, “गोदरेज अप्लायंसेज 2019 के बाद से हनीकॉम्ब स्ट्रक्चर्ड पेपर पैकेजिंग का उपयोग शुरू करने वाला व्हाइट गुड्स उद्योग में पहला ब्रांड था। हमने रेफ्रिजरेटर के बड़े आकार को देखते हुए इसके साथ इसकी शुरुआत की चूंकि इसमें प्रति इकाई ईपीएस का अधिकतम उपयोग होता है। नया समाधान मजबूत और पर्यावरण के अनुकूल दोनों पाया गया है। औसतन, ईपीएस (थर्मोकोल) पैकेजिंग द्वारा उत्पन्न कार्बन डाइ-ऑक्साइड की क्षतिपूर्ति के लिए औसतन 20 पेड़ों की आवश्यकता होती है, जबकि पेपर पैकेजिंग के चलते उत्पन्न कार्बन डाइ-ऑक्साइड की क्षतिपूर्ति के लिए केवल चार पेड़ों की आवश्यकता होती है जो इसकी पर्यावरणानुकूलता को स्थापित करता है।"

इसके अतिरिक्त, पर्यावरण के प्रति ब्रांड की दीर्घकालिक प्रतिबद्धता से प्रेरित, गोदरेज अप्लायंसेज 2001 (R600A) में 100% सीएफसी, एचसीएफसी और एचएफसी-मुक्त रेफ्रिजरेटर का निर्माण करने वाली भारत की पहली और एकमात्र कंपनी बन गया। यह ब्रांड ग्रीन गैसों के साथ एसी बनाने वाला भारत का पहला ब्रांड बन गया, जिसमें जीरो ओजोन डिप्लेशन पोटेंशियल और इंडस्ट्री में सबसे कम ग्लोबल वार्मिंग पोटेंशियल (R290, वर्ष 2012) है। उत्पादों से परे प्रतिबद्धता का विस्तार करते हुए, इसकी दोनों विनिर्माण इकाइयां (मोहाली और शिरवाल) प्रतिष्ठित सीआईआई द्वारा प्लेटिनम प्लस ग्रीन कंपनी रेटिंग प्राप्त करने वाली भारत की पहली इकाइयाँ थीं। इसके अलावा, ब्रांड अपने ग्रीनर इंडिया लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए अथक प्रयास कर रहा है, जिसमें विशिष्ट ऊर्जा उपयोग में 60 प्रतिशत की कमी, ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के लिए R290 रेफ्रिजरेंट के उपयोग का दावा, लैंडफिल में शून्य अपशिष्ट प्राप्त करना, नवीकरणीय ऊर्जा उपयोग में 30 प्रतिशत की वृद्धि इसके विनिर्माण में पॉजिटिव वाटर बैलेंस शामिल हैं।

Sunday, June 26, 2022

टैलेंट-डे कार्यक्रम में गीता कॉन्टेस्ट प्रतियोगिता का पुरस्कार वितरण समारोह हुआ आयोजित


जयपुर
| जगतपुरा स्थित श्री कृष्ण बलराम मंदिर में गीता कांटेस्ट 2022 का पुरस्कार वितरण समारोह एवं कल्चर कैंप का टैलेंट-डे आयोजित किया गया कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्रीमति सौम्या गुर्जर ( मेयर  नगर निगम ग्रेटर जयपुर)  ओम प्रकाश मोदी (निदेशकओके प्लस) संजय झाला (निदेशकराजस्थान संस्कृत अकादमीजयपुर) अनंत शेष दास (हरे कृष्ण मूवमेंट ) उपस्थित  रहे |
गीता कॉन्टेस्ट प्रतियोगिता पुरस्कार वितरण समारोह
गीता कॉन्टेस्ट प्रतियोगिता का पुरस्कार वितरण समारोह आयोजन हुआजिसमें सीनियर वर्ग में प्रथम पुरस्कार 25,000/- हिना जैनद्वितीय पुरस्कार 11,000/- कोमल शर्मा को तृतीय पुरस्कार 5,100 मुनिराज मीणा एवं इसके बाद टॉप 10 रैंक में आने वाले प्रतियोगियों को 1100/- सांत्वना पुरस्कार दिए गये जूनियर वर्ग में प्रथम पुरस्कार- रेंजर साइकिल शिवम वर्मा कोद्वितीय पुरस्कार - किनडल कृष्णा यादव को एवं तृतीय पुरस्कार - स्मार्ट वाच 1.इशान्वी जैन 2.सार्थक अवस्थी 3.शौर्य छिपा 4.तेजस्वी कुमावत एवं इसके बाद टॉप 10 रैंक में आने वाले प्रतिभागियों को VR बोर्ड सांत्वना पुरस्कार दिए एवं साथ ही विशेष आकर्षक ट्रॉफी एंड सर्टिफिकेट दिए गए |
कल्चर कैंप टैलेंट-डे कार्यक्रम
टैलेंट-डे  कार्यक्रम में व्यक्तित्व एवं चरित्र निर्माण,  भगवद गीता पर आधारित नैतिक शिक्षाओंदिमाग की एकाग्रता बढ़ानाईंधन के बिना खाना बनानाकीर्तनपेंटिंगवैदिक कुकिंगआर्ट एंड क्राफ्टथिएटर चित्रकलाश्लोक उच्चारण,  वाद्ययंत्र वैष्णव सदाचार इत्यादि को सभी बच्चों ने फन एंड गेम्स के साथ प्रस्तुत किया टैलेंट-डे कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण जयपुर के भगवान श्रीगोविन्द देवजी के चमत्कारों की  लीलाओं पर आधारित नाटक प्रस्तुति का रहा टैलेंट-डे भाग लेने वाले सभी प्रतिभागियो के अभिभावकों ने तालियों एवं हर्ष के साथ बच्चों का उत्साहवर्धन किया कार्यक्रम के अंतिम चरण में सभी प्रतिभागियो को चीफ गेस्ट द्वारा पुरस्कार वितरण कर सम्मानित किया गया श्री कृष्ण बलराम मंदिरजयपुर के अध्यक्ष  अमितासन दास ने बताया कि मंदिर के सांस्कृतिक शिक्षण विभाग द्वारा आयोजित गीता कांटेस्ट एवं कल्चर कैंप जैसे कार्यक्रम बच्चों के लिए अपनी आध्यात्मिकमानसिक एवं शारीरिक प्रतिभा को उभारने के लिए विशेष उत्तम मंच है 

Friday, June 24, 2022

जॉय ई-बाईक ने क्रिकेट के साथ अपने रिश्ते को बनाया और भी मजबूत; इंडिया टूर ऑफ आयरलैण्ड 2022 के लिए बनी ‘जॉय ई-बाईक पावर्ड बाय’ स्पॉन्सर

वड़ोदरा, 24 जून, 2022: क्रिकेट के साथ अपने लम्बे रिश्ते को और अधिक मजबूत बनाते हुए इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों के ब्राण्ड जॉय ई-बाईक की अग्रणी ऑटो-निर्माता कंपनी वार्डविज़र्ड इनोवेशन्स एण्ड मोबिलिटी लिमिटेड इंडिया टूर ऑफ आयरलैण्ड 2022 की ऑफिशियल पावर्ड बाय स्पॉन्सर बन बई है।

भारत और आयरलैण्ड 26-28 जून 2022 को डबलिन में मलाहाईड क्रिकेट क्लब ग्राउण्ड में टी20 सीरीज़ के दो मैच खेलेंगे।

इस साझेदारी के तहत जॉय ई-बाईक ‘जॉय ई-बाईक इलेक्ट्रिफाइंग पावर्ड बाय’ मैन ऑफ द सीरीज़ का अवार्ड देगी, इसके बाद दोनों मैचों के लिए जॉय ई-बाईक इलेक्ट्रिफाइंग सुपर6 अवॉर्ड दिए जाएंगे।

इसके अलावा, जॉय ई-बाईक के लोगो भी डिजिटल स्क्रीन्स, बैकड्रॉप्स एवं प्लाकार्ड्स पर दिखाई देंगे, जिससे स्पोर्टिंग स्पेस में कंपनी की स्थिति और मजबूत होगी।

जॉय ई-बाईक क्रिकेट के रोमांच का पर्याय बन चुकी है और इससे पहले भी क्रिकेट के कई आयोजनों एवं टीमों के साथ जुड़ी रही है, इसने देश भर में खेल को अभूतपूर्व समर्थन प्रदान किया है। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल 2021) सीज़न के लिए जॉय ई-बाईक चेन्नई सुपर किंग्स की ऑफिशियल ईवी पार्टनर थी।

इस उल्लेखनीय साझेदारी के बारे में बात करते हुए श्री यतिन गुप्ते, चेयरमैन एवं मैनेजिंग डायरेक्टर, वार्डविज़र्ड इनोवेशन्स एण्ड मोबिलिटी लिमिटेड ने कहा, ‘‘वार्डविज़र्ड एक ऐसा ब्राण्ड है जो हमेशा से खेल एवं क्रिकेट की भवना को समर्थन देता रहा है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि भारत में क्रिकेट सिर्फ खेल नहीं, बल्कि लाखों लोगों के साथ जुड़ी भावना है जो पूरे देश को प्रेरित करती है, एक दूसरे के साथ जोड़ती है। साथ ही, दुनिया भर में खेल के प्रशंसकों को ध्यान में रखते हुए यह बड़ी संख्या में दर्शकों के साथ जुड़ने के लिए बेहतरीन प्लेटफॉर्म है। खेल के प्रति हमारी इसी भावना के साथ, हमें खुशी है कि हमें आगामी ‘इंडिया टूर ऑफ आयरलैण्ड 2022’ के मुख्य स्पॉन्सर्स में से एक- जॉय ई-बाईक पावर्ड बाय’ स्पॉन्सरशिप के रूप में ‘आयरिश क्रिकेट युनियन कंपनी लिमिटेड’ के साथ जुड़ने का मौका मिला है। यह साझेदारी वार्डविज़र्ड की ग्लोबल ब्राण्ड बिल्डिंग के मद्देनज़र बेहद महत्वपूर्ण है जिससे सीमा पार भी ब्राण्ड की पारदर्शिता बढ़ेगी। यह साझेदारी विभिन्न बाज़ारों में ब्राण्ड की रीकॉल वैल्यू को बढ़ाएगी। टूर्नामेन्ट के तहत दो मैच खेले जाएंगे, हमें उम्मीद है कि ये मैच बेहद रोचक और मज़ेदार होने वाले हैं। हम सभी खिलाड़ियों को शुभकामनाएं देते हैं।’

इस मौके पर श्री वारेन ड्युट्रोम, चीफ़ एक्ज़क्टिव ऑफिसर, क्रिकेट आयरलैण्ड ने कहा, ‘‘हमें खुशी है कि इलेक्ट्रिक दोपहिया सेगमेन्ट में अग्रणी जॉय ई-बाईक इस मैच सीरीज़ के लिए ‘पावर्ड बाय-स्पॉन्सर’ के रूप में हमसे जुड़ा है। इससे पहले भी जॉय ई-बाईक घरेलू स्तर पर क्रिकेट आयोजनों को अपना समर्थन देता रहा है। उम्मीद करते हैं कि आने वाले समय में भी दुनिया भर में होने वाले क्रिकेट आयोजनों के लिए हमें उनका समर्थन मिलता रहेगा।’

इस सीरीज़ में दो टी20 मैच होंगे जिसमें हार्दिक पंडया और भुवनेश्वर कुमार भारतीय टीम के कप्तान एवं उप-कप्तान होंगे। एंड्रयु बलबिरनी इन मैचों में आयरलैण्ड टीम का नेतृत्व करेंगे। मैच का प्रसारण भारत में सोनी लिव पर ऑनलाईन तथा सोनी सिक्स चैनल पर लाईव किया जाएगा।

दिनांकमैच का विवरणस्थान
26 जून 2022आयरलैण्ड बनाम भारत पहला टी20मलाहाईड
28 जून 2022आयरलैण्ड बनाम भारत दूसरा टी20मलाहाईड






जयपुर की पांच कंपनियों ने टैली एमएसएमई ऑनर्स 2022 में हासिल की बड़ी जीत

जयपुर, 24 जून, 2022ःसॉफ्टवेयर प्रोडक्ट्स इंडस्ट्री में अग्रणी टैली सोल्युशन्स ने आज नोर्थ ज़ोन के लिए ‘एमएसएमई ऑनर्स’ के दूसरे संस्करण के विजेताओं की घोषणा की है। 2000 नामांकनों में से जयपुर की पांच कंपनियों अरिहन्त प्री-फैब प्राइवेट लिमिटेड, भगत मिष्ठान्न भण्डार, 121 फाइनैंस प्राइवेट लिमिटेड, एएच इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड और बिज़नेस एलर्ट इन्फोटेक प्राइवेट लिमिटेड ने बड़ी जीत हासिल की है।

टैली एमएसएमई ऑनर्स, टैली सोल्यूशन्स द्वारा शुरू की गई एक अनूठी पहल है, जिसके तहत उन एमएसएमई (लघु एवं मध्यम उद्यमों) को सम्मानित किया जाता है, जिन्होंने राष्ट्रीय आर्थिक स्तर पर अपनी सर्वश्रेष्ठ प्रथाओं के द्वारा विविधता का प्रदर्शन किया हो। ये सम्मान अन्तर्राष्ट्रीय एमएसएमई दिवस के मौके पर साल में एक बार दिए जाते हैं तथा 250 करोड़ से कम टर्नओवर वाले सभी बिज़नसेज़ जिनके पास जीएसटी रजिस्ट्रेशन है, वे इसके लिए आवेदन कर सकते हैं।
अरिहन्त प्री-फैब लिमिटेड के हैप्पी जैन को महामारी के दौरान मुफ्त इलाज, आर्थिक सहयोग एवं नौकरी के अवसर उपलब्ध कराने के प्रयासों के लिए ‘चैम्पियन ऑफ कॉज़’ कैटेगरी में सम्मानित किया गया। भगत मिष्ठान्न भण्डार से अमित भगत को ‘डिजिटल ट्रांसफॉर्मर’ कैटेगरी में सम्मानित किया गया। अमित लम्बे समय से अकाउन्टिंग एवं इन्वेंटरी मेंटेन करने के लिए पारम्परिक तरीकों का उपयोग कर रहे थे, लेकिन डिजिटल तरीकों को अपनाने से कंपनी की उत्पादकता बहुत अधिक बढ़ गई है। अब कंपनी पांच अन्य लोकेशनों में अपना विस्तार कर चुकी है।
121 फाइनैंस प्राइवेट लिमिटेड से डॉ रवि मोदानी को ‘डिजिटल ट्रांसफॉर्मर’ कैटेगरी में सम्मानित किया गया। उन्होंने एमएसएमई के लिए फाइनैंस को आसान बनाने के लिए तकनीकी समाधानों का विकास किया है, जिससे लम्बी प्रक्रियाएं जैसे फिज़िकल केवायसी, अकाउन्ट ऑनबोर्डिंग, बैंक से अनुमोदन आदि बेहद आसान हो गए हैं। इसके लिए पूरे सिस्टम में ईआरपी सोल्युशन, एपीआई, ई-सिग्नेचर और डिजिटलीकरण को शामिल किया गया। इससे जहां एक ओर बिज़नेस की उत्पादकता बढ़ी है, वहीं कस्टमर्स भी बेहतर अनुभव पा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर एएच इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड के विजय लोढा, हिमांशु लोढा, और दीपक सेथिया को हॉस्पिटेलिटी ओएस एण्ड ई के लिए सिंगल विंडो समाधान पेश करने के लिए ‘नेक्स्ट जैन आइकन’ कैटेगरी में सम्मानित किया गया है। उनकी सम्पूर्ण ऑटोमेटेड प्रक्रिया के चलते हॉस्पिटेलिटी उद्योग की पूरी प्रक्रिया सेंट्रलाइज़्ड हो गई है।
बिज़नेस एलर्ट इन्फोटेक के मुकुत मित्तल को भारत के पहले वैब एवं ऐप-आधारित प्लेटफॉर्म ब्त्म्क्प्ज्फ के लॉन्च के लिए ‘वंडर वुमेन’ कैटेगरी में सम्मानित किया गया है। यह प्लेटफॉर्म एमएसएमई को उनके क्रेडिट लेनदेनों के प्रबन्धन, बिज़नेस क्रेडिट डिफॉल्टर को रिपोर्ट करने, सीआईआर (क्रेडिट इन्फोर्मेशन रिपोर्ट) जनरेट करने में मदद करता है। ब्त्म्क्प्ज्फ डिफॉल्टर पार्टीज़ के साथ पेमेंट की वसूली/ निपटान में मदद करता है, जिससे बिज़नेस में कैश फ्लो बढ़ता है।
टैली एमएसएमई ऑनर्स ने अपने दूसरे संस्करण में डीबीएस (डेवलपमेन्ट बैंक ऑफ सिंगापुर लिमिटेड) और रीजनल टेªड एसोसिएशन्स के सहयोग से जयपुर से 5 तथा देश भर से 97 एमएसएमई को सम्मानित किया। देश के चारों ज़ोनों (पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण) को कवर करते हुए ये पुरस्कार पांच श्रेणियों में दिए गएः वंडर वुमेन, बिज़नेस मास्ट्रो, नेक्स्ट जैन आइकन, डिजिटल ट्रांसफॉर्मर, चैम्पियन ऑफ कॉज। 

भोजन का भविष्य समग्र तंदुरुस्ती की पेशकश करता है - ‘गोदरेज फूड ट्रेंड्ज रिपोर्ट 2022'

मुंबई, 24 जून 2022: उपभोक्‍ता तंदुरुस्‍ती का महत्‍व समझ चुके हैं और उन्‍हें यह बात भी अच्‍छे से पता है कि तंदुरुस्‍ती केवल शारीरिक और मानसिक कारकों का संयोजन भर नहीं है, बल्कि इसमें अच्‍छा भोजन लेना भी शामिल है। ऐसे दौर में जब पूरी दुनिया अच्‍छी तरह से कनेक्‍टेड और आपस में मिल-जुलकर रह रही है, तब लोगों का फोकस पोषण पर है ताकि वे खुद को सेहतमंद रख सकें। यह प्रचलन इम्‍युनिटी बढ़ाने वाली सामग्रियों, पारंपरिक भोजन में लोगों की रुचि आदि में बढ़ोतरी को भी दर्शाता है। पूरे भारत के 200 से ज्‍यादा शेफ्स और पाककला विशेषज्ञों के योगदान पर आधारित गोदरेज फूड्स ट्रेंड्ज रिपोर्ट 2022 के कलेक्‍टर्स एडिशन का अनुमान है कि यह चलन आने वाले साल में खाद्य उद्योग पर हावी रहेगा। उद्योग और घरेलू किचन से आने वाले इन विशेषज्ञों द्वारा दी गई जानकारियों के अनुसार, 2022 तंदुरुस्‍ती के लिये भोजन का साल रहेगा और यह सोच आने वाले वर्षों में भी बनी रहेगी।

कई विशेषज्ञों का अनुमान है कि 2022 से तंदुरुस्‍ती वाले भोजन पर केन्द्रित होने की शुरूआत हो रही है। पारंपरिक चीजों, पकाने की पद्धतियों और निजी तौर पर बेहतर डाइट्स की ज्‍यादा खोज होगी।

तंदुरुस्‍ती वाले भोजन से जुड़े कुछ अन्‍य महत्‍वपूर्ण परिणाम इस प्रकार हैं:

  • निजी तौर पर ऑप्टिमाइज्‍ड डाइट्स- पैनल के 55.4% सदस्‍यों का अनुमान है कि निजी तौर पर ऑप्टिमाइज्‍ड डाइट्स पर ज्‍यादा ध्‍यान रहेगा
  • भोजन में प्रोटीन- पैनल के 44.6% सदस्‍य कहते हैं कि लोग आहार की योजना में प्रोटीन पर ज्‍यादा ध्‍यान देंगे
  • स्‍थानीय होना- 2% पैनलिस्‍ट्स ने पाया है कि लोगों ने स्‍थानीय, मौसमी और स्‍थानिक चीजों पर ज्‍यादा ध्‍यान देना शुरू किया है और 55.4% पैनलिस्‍ट्स का अनुमान है कि स्‍थानीय और मौसमी चीजों की सोर्सिंग में बढ़त होगी
  • ऑर्गेनिक चीजें- 8% पैनलिस्‍ट्स ने कहा कि लोग अब स्‍थानीय किसानों और खाद्य उत्‍पादकों से खरीदारी कर रहे हैं
  • जीवनशैली पर आधारित मेन्‍यू- पैनल के 46.2% सदस्‍य कहते हैं कि लोग खास जीवनशैली पर आधारित भोजन के मेन्‍यू को फॉलो कर रहे हैं
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले मेन्‍यू - 6% पैनल का अनुमान है कि मेन्‍यू में स्‍वास्‍थ्‍य और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली चीजों पर ज्‍यादा ध्‍यान दिया जाएगा, जबकि 38.1% पैनलिस्‍ट्स को लगता है कि रोग प्रतिरोधक क्षमता और कार्यात्‍मक स्‍वास्‍थ्‍य बढ़ाने वाले स्‍वास्‍थ्‍यकर पेयों की मांग बढ़ेगी
  • पादप आधारित (प्‍लांट बेस्‍ड) मेन्‍यू - 40% पैनलिस्‍ट्स को पादप आधारित मेन्‍यू की मांग बढ़ने की उम्‍मीद है

तंदुरुस्‍ती वाले भोजन पर हमें अपने विचार बताते हुए सेलीब्रिटी शेफ और एफ एंड बी कंसल्‍टेन्‍ट, शेफ अजय चोपड़ा ने कहा, “शेफ्स ने अपने मेन्‍यू में उन सोची-समझी चीजों को शामिल करना शुरू किया है, जिन्‍हें हम पहले से घर में करते आ रहे हैं, जैसे मौसमी, पोषक और पारंपरिक सामग्रियां और तकनीकें, लेकिन एक आधुनिक ट्विस्‍ट के साथ। हम समझ चुके हैं कि स्‍वास्‍थ्‍यकर खाना केवल एक चलन नहीं, बल्कि जरूरत है- यह शरीर में ताकत बनाने का एकमात्र तरीका है। इसलिये मेन्‍यू ज्‍यादा असली हो रहे हैं, सामग्रियों के उपयोग और हमारी पसंद के व्‍यंजनों के बारे में दोबारा सोचा जा रहा है, ताकि वे अधिक स्‍वास्‍थ्‍यकर बन सकें। हम नये और रचनात्‍मक तरीकों में पारंपरिक सामग्रियों का उपयोग देखेंगे। उदाहरण के लिये, बाजरे के अलग-अलग रूप, नर्म नारियल और फलों जैसे ताजे सामग्रियों की स्‍मूदी की कटोरी जैसे प्रचलित और दिलचस्‍प अवतारों में आना। या सरसों का साग जैसे सर्दी के व्‍यंजनों का मस्‍टर्ड ग्रीन्‍स और बार्ले सलाद में बदल जाना।”

इस अवसर पर अपनी बात रखते हुए लिवऑल्‍टलाइफ की सह-संस्‍थापक और चीफ कलनरी ऑफिसर मोनिका मनचंदा ने कहा, “लोग समझ रहे हैं कि सेहतमंद खाने का मतलब भोजन का आनंद लेना छोड़ने से नहीं है। उनकी मांग यह है कि उन्‍हें अपने स्‍वास्‍थ्‍य के लक्ष्‍यों के अनुसार स्‍वादिष्‍ट भोजन मिले। लिवऑल्‍टलाइफ में हमने इसे लगातार डायबिटीक स्‍नैक्‍स और डेजर्ट की मांग के मामले में देखा है।”

फूड एंड ट्रेवल राइटर और रेस्‍टोरेंट क्रिटिक रोशनी बजाज संघवी ने कहा, “मुंबई और गोवा में, पुणे और वडोदरा में, पोषण पर ध्‍यान केन्द्रित हो रहा है; तंदुरूस्‍ती उद्योग उछाल पर है। अस्‍थायी तौर पर रेस्‍टोरेंट्स के दोबारा खुलने के साथ, हमने मेन्‍यू में इम्‍युनिटी और तंदुरूस्‍ती वाले भोजन देखे हैं। सलाद और स्‍मूदीज लोकप्रिय हुए हैं, पहले की तुलना में कहीं ज्‍यादा लोग वीगन डाइट को अपना रहे हैं। हाइड्रोपोनिक खेत फले-फूले हैं। 2022 में आगे बढ़ने के साथ, घर का किचन नये सम्‍मान के साथ पारंपरिक चीजें मांग रहा है। ऐसे तरीके खोजे जा रहे हैं, जिनके द्वारा हम अपने रसोईघर में पाये जाने वाले भोजन से अपने शरीर की मदद कर सकें।”

गोदरेज फूड्स ट्रेंड्ज रिपोर्ट 2022 की क्‍यूरेटिंग एडिटर रुशिना मनशॉ घिल्डियाल ने बिलकुल सही कहा कि, “साल 2020 में सुविधाजनक भोजन हावी था। 2021 में भारत के क्षेत्रीय भोजन को उसकी पौष्टिकता के लिये सराहा गया। और 2022 में भोजन की भूमिका तंदुरुस्‍ती के लिये महत्‍वपूर्ण होगी। भारत में तंदुरुस्‍ती वाले भोजन के लिये पाककला से सम्‍बंधित अपनी जड़ों को दोबारा खोजकर, अपने तेल और घी की सुगंध लेकर, स्‍थानीय किसानों और खाद्य उत्‍पादकों को सहयोग देकर और अपनी समृद्ध पाककला धरोहर को दोबारा ढूंढकर हम अपने पाककला सम्‍बंधी रिवाजों में बदलाव करते रहेंगे। भोजन की पारंपरिक व्‍यवस्‍थाओं, पाककला की पद्धतियों में अपनी स्‍वाभाविक बुद्धिमत्‍ता और अपने पारंपरिक भोजन तथा स्‍वास्‍थ्‍य के बीच जुड़ाव पर ध्‍यान दिया जाएगा।”

गोदरेज फूड ट्रेंड्ज रिपोर्ट 2022- विस्‍तृत 95-पेज का संस्‍करण डाउनलोड के लिये www.vikhrolicucina.com पर उपलब्‍ध है।

फॉक्सकॉन के चेयरमैन यंग लियू ने वेदांता ग्रुप के ग्लोबल मैनेजिंग डायरेक्टर ऑफ डिस्प्ले एंड सेमीकंडक्टर बिजनेस, आकाश हेब्बार से मुलाकात की और भारत में सेमीकंडक्टर चिप्स के निर्माण के लिए उनकी प्रस्तावित साझेदारी के अगले कदमों पर चर्चा की।

वेदांत और फॉक्सकॉन ने भारत में एक संयुक्त उद्यम कंपनी बनाने के लिए फरवरी में एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए थे। संयुक्त उद्यम में वेदांता की 60 फीसदी हिस्सेदारी होगी जबकि फॉक्सकॉन की 40 फीसदी हिस्सेदारी होगी। दोनों कंपनियों के बीच संयुक्त उद्यम भारत में इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण के लिए एक पारिस्थितिकी तंत्र बनाने के भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के दृष्टिकोण का समर्थन करेगा।

सेमीकंडक्टर्स और डिस्प्ले मैन्युफैक्चरिंग के लिए भारत सरकार की पीएलआई योजना की घोषणा के बाद इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण क्षेत्र में यह पहला संयुक्त उद्यम है। वेदांत भारत में डिस्प्ले और सेमीकंडक्टर चिप्स बनाने के लिए अगले 5-10 वर्षों में चरणबद्ध तरीके से लगभग 15 बिलियन डॉलर का निवेश करने की योजना बना रहा है। संयुक्त उद्यम अगले दो वर्षों में सेमीकंडक्टर विनिर्माण संयंत्र स्थापित करने पर विचार करेगा।

वेदांत-फॉक्सकॉन साझेदारी आने वाले वर्षों में लगभग 100 बिलियन डॉलर के इलेक्ट्रॉनिक घटक आयात बिल को रोक देगी। वेदांता और फॉक्सकॉन सेमीकंडक्टर यूनिट के स्थान को जल्द ही अंतिम रूप देने के लिए कुछ राज्य सरकारों के साथ चर्चा कर रहे हैं।

Thursday, June 23, 2022

आईसीआईसीआई बैंक ने स्टूडेंट इकोसिस्टम के लिए लॉन्च किया डिजिटल प्लेटफॉर्म ’कैंपस पावर’

मुंबई, 23 जून, 2022 : आईसीआईसीआई बैंक ने आज भारत और विदेशों में उच्च शिक्षा हासिल करने के इच्छुक छात्रों की जरूरतों को पूरा करने के लिए एक डिजिटल प्लेटफॉर्म शुरू करने की घोषणा की।कैंपस पावरके नाम से जाना जाने वाला यह वन-स्टॉप प्लेटफॉर्म छात्रों, अभिभावकों और संस्थानों सहित पूरे स्टूडेंट इकोसिस्टम की विभिन्न जरूरतों को पूरा करता है। यह एक ही स्थान पर बैंकिंग और वैल्यू एडेड समाधान,  दोनों प्रदान करता है, जिससे स्टूडेंट की कई हितधारकों के साथ संपर्क करने की आवश्यकता समाप्त हो जाती है। यह अन्य बैंकों के ग्राहकों सहित किसी के लिए भी उपलब्ध है।

अपनी तरह की अनूठी पहल, ’कैंपस पावरयूजर्स को विदेशी खातों, शिक्षा ऋण और इसके कर लाभ, विदेशी मुद्रा समाधान, भुगतान समाधान, कार्ड, अन्य ऋण और निवेश सहित बैंक खातों से लेकर उनकी जरूरतों से मेल खाने वाले वित्तीय उत्पादों को पाने में सहायता करती है। इसके अलावा, यह प्लेटफॉर्म कनाडा, यूके, जर्मनी, यूएसए और ऑस्ट्रेलिया सहित भारत और विदेशों में उच्च अध्ययन से संबंधित कई वैल्यू एडेड सेवाओं के बारे में जानकारी प्रदान करता है। पैनल में शामिल भागीदार पाठ्यक्रम/विश्वविद्यालयों, गंतव्यों, प्रवेश परामर्श, परीक्षा की तैयारी, विदेशी आवास और यात्रा सहायता पर मूल्य वर्धित सेवाएं प्रदान करते हैं।

लॉन्च पर बोलते हुए, आईसीआईसीआई बैंक के हेड-अनसिक्योर्ड एसेट श्री सुदीप्त रॉय ने कहा, ‘हम आईसीआईसीआई बैंक में ग्राहक केंद्रितता में विश्वास करते हैं और बाजार की उभरती अपेक्षाओं के साथ अपनी पेशकशों को बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास करते हैं। हमने छात्रों के जीवन के विभिन्न चरणों में उनकी विविध आवश्यकताओं को समझने के लिए शिक्षा जीवनचक्र को गहराई से देखा है। हमें अपने शोध से पता चला है कि छात्र, उनके माता-पिता और संस्थान अपने उच्च अध्ययन से संबंधित मुद्दों को हल करने के लिए कई हितधारकों के साथ संपर्क करने की चुनौती से जूझते हैं। यह भारत और विदेशों में उच्च अध्ययन के लिए छात्रों की बढ़ती संख्या के साथ महत्वपूर्ण हो जाता है। इसलिए, हमने शिक्षा संबंधी सभी सेवाओं को एक छत्र के नीचे लाने के लिएकैंपस पावरशुरू करने का निर्णय लिया है।

हम विदेशों में ऑटम सीजन और भारत में अगले शैक्षणिक वर्ष की शुरुआत से ठीक पहलेकैंपस पावरलॉन्च कर रहे हैं। यह पहल डिजिटल, व्यक्तिगत और व्यापक समाधान प्रदान करके स्टूडेंट इकोसिस्टम में आने वाली सभी जरूरतों को पूरा करती है। हमारा मानना है कि हमारे उत्पादों और सेवाओं का लाभ सभी छात्रों और उनके माता-पिता को उपलब्ध होना चाहिए, भले ही वे आईसीआईसीआई बैंक के ग्राहक हों या नहीं। इस लॉन्च के साथ, हम छात्रों और उनके माता-पिता को एक समग्र अनुभव प्रदान करना चाहते हैं और उनके सपनों को पूरा करने में उनकी सहायता करना चाहते हैं।

डिजिटल प्रयासों में आईसीआईसीआई बैंक स्टूडेंट इकोसिस्टम को समर्पित शाखाएं स्थापित कर रहा है। पहली शाखा आईआईटी कानपुर में स्थापित की गई है और देश भर के शीर्ष प्रमुख संस्थानों के परिसर में सात और जोड़ी जाएंगी। इन पूर्ण-सेवा शाखाओं में संपूर्ण छात्र पारिस्थितिकी तंत्र को कुशलतापूर्वक पूरा करने के लिए समृद्ध विशेषज्ञता वाली बहु-कार्यात्मक टीमें हैं।

कैंपस पावरछात्रों, अभिभावकों और संस्थानों को बैंकिंग के साथ-साथ निम्नलिखित वैल्यू एडेड सुविधाएं प्रदान करता हैः

  • यह उन छात्रों को 360 डिग्री क्यूरेटेड समाधान प्रदान करता है जो भारत और विदेशों में उच्च अध्ययन के लिए जाने के इच्छुक हैं। सेवाओं में शिक्षा का वित्तपोषण, पाठ्यक्रम और विश्वविद्यालय तलाशने में सहायता, छात्रों को टेस्ट के लिए खुद को तैयार करने में मदद करना, डेबिट / क्रेडिट कार्ड की पेशकश और विदेशी छात्र खाता बनाना शामिल है।
  • बच्चे की एजुकेशन-जर्नी का समर्थन करने के लिए, ’कैंपस पावरमाता-पिता को शिक्षा ऋण और रेमेट्टी सेवाएं प्रदान करता है। इसके अलावा, बचत खाते, निवेश उत्पादों, यात्रा और स्वास्थ्य बीमा के मामले में उनके पास अन्य समाधान हैं।
  • यह संस्थानों और अंतरराष्ट्रीय स्कूलों को एक छतरी के नीचे विभिन्न उत्पादों और सेवाओं के साथ वित्त पोषण, भुगतान, संग्रह, निवेश और बीमा सहित सभी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए सुविधाएं प्रदान करता है।

कैंपस पावरमूल्य वर्धित सेवाएं भी प्रदान करता है जिसके लिए बैंक ने प्रतिष्ठित कंपनियों के साथ सहयोग किया है। इन भागीदारों में आईडीपी एजुकेशन (प्रवेश परामर्श, विश्वविद्यालयों की जानकारी और ऑनलाइन परीक्षा की तैयारी के लिए), ब्रिटिश काउंसिल (आईईएलटीएस तैयारी और अंग्रेजी भाषा सुधार पाठ्यक्रम के लिए), कैसीटा (आवास समाधान के लिए) और ईजमाईट्रिप (यात्रा बुकिंग के लिए) शामिल हैं। ये सभी सेवाएंकैंपस पावरपर ही उपलब्ध हैं।

उत्कर्ष : तिरंगा थीम पर आयोजित विशाल रक्तदान शिविर का उत्साहपूर्ण समापन

जोधपुर।  उत्कर्ष क्लासेस द्वारा शिक्षाविद एवं समाजसेवी तथा संस्था के संस्थापक व निदेशक डॉ. निर्मल गहलोत के 44वें जन्मदिवस के अवसर पर शनिवार,...