Tuesday, May 17, 2022

यूपीएल ने किसान समुदाय की बेहतरी के लिए अपनी प्रतिबद्धता दोहराई

मुंबई, 17 मई, 2022: यूपीएल लिमिटेड, जो टिकाऊ कृषि उत्पादों और समाधानों का एक वैश्विक प्रदाता है, हमेशा किसान समुदाय के कल्याण और उत्थान के लिए सबसे आगे रहा है। यूपीएल गांवों में इसके अनगिनत प्रयास किसानों की बेहतरी के प्रति इसकी प्रतिबद्धता का प्रमाण रहे हैं।  8.4 लाख एकड़ भूमि में मृदा स्वास्थ्य में सुधार और टिकाऊ कृषि पद्धतियों को विकसित करने के प्रयास में, यूपीएल ने 2021 -2022 में 4046 गांवों को गोद लिया है और 2023 तक इस संख्या को 6000 तक बढ़ाने का लक्ष्य रखा है। कंपनी किसानों के कल्याण के लिए विभिन्न सामुदायिक विकास और शैक्षिक कार्यक्रम चला रही है।

प्रोन्यूटिवा के संतुलित इनपुट समाधानों के साथ, तकनीकोन्मुखी सेवाओं, उन्नत मशीनीकरण, डिजिटल डेटा सिस्टम और समयबद्ध सूचना को हर समय किसानों को उपलब्ध कराई गई, गोद लिए गए गांव का भविष्य पहले से कहीं बेहतर और हरा-भरा दिखाई देता है। प्रोन्यूटिवा कार्यक्रम रिटेल स्टोर्स के रूप में किसानों को लास्ट माइल लिंकेज भी प्रदान करता है। वर्तमान में, 16,937 स्टोर हैं जिनका उद्देश्य किसानों को उचित टिकाऊ पद्धतियों का चयन करने में सहायता करना है।

किसानों के कल्याण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता का प्रदर्शन करते हुए, यूपीएल ने किसान की सुरक्षा और कल्याण के लिए विभिन्न कार्यक्रम चलाए हैं। सांप और कुत्ते के काटने के प्रभावी प्रबंधन और इसके खिलाफ सुरक्षा के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए भारत सीरम वैक्सीन के सहयोग से पायलट कार्यक्रम आयोजित किया गया। यह पायलट कार्यक्रम 4 गांवों में आयोजित किया गया था, जिनमें से 2 गाँव राजस्थान के हैं और 2 उत्तर प्रदेश के हैं। कंपनी जल्द ही और अधिक गांवों और राज्यों में इसे ले जाने की योजना बना रही है। इसके अलावा, इन गांवों के सतत विकास के लिए, यूपीएल ने कार्बन प्रच्छादन, जल की बचत, बिजली की बचत, किफायती जीएपी और ड्रोन प्रौद्योगिकी के माध्यम से कृषि के मशीनीकरण के लिए नए-नए तरीके पेश किए हैं।

'दाना दाना कीमती है' अभियान के तहत, यूपीएल उपजाये गये अनाज के उचित भंडारण के लिए पिछले पांच वर्षों से किसानों को शिक्षित कर रहा है। किसानों को उनके दरवाजे पर लाइव डेमो के जरिए उनके अनाज के भंडारण के वैज्ञानिक तरीकों से अवगत कराया जाता है। यह अभियान भारत और अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में भी सफलतापूर्वक चल रहा है।

वर्तमान में, ऐसे 4046 सक्रिय गांव हैं जो लाभ उठा रहे हैं और 2023 तक कंपनी ने प्रोन्यूटिवा कार्यक्रम के अंतर्गत 12 लाख एकड़ भूमि के साथ 6000 गांवों की सेवा करने की योजना बनाई है। इसके अतिरिक्त यूपीएल की इस पहल से पंजीकृत किसानों की संख्या लगातार बढ़ी है जो 2019 -2020 के 1.5 लाख से बढ़कर 2021 -2022 में 2.2 लाख हो गई है और 2023 तक इसे 4 लाख तक ले जाने का लक्ष्य है।

आशीष डोभाल, निदेशक, भारत क्षेत्र - यूपीएल ने कहा, “यूपीएल में, हम अपने मुख्य हितधारकों, किसानों के हित और उनकी सफलता के प्रति वचनबद्ध हैं। किसानों के लिए जोखिम कम करके और उनकी जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाकर, हम लचीला और टिकाऊ कृषि पारिस्थितिकी तंत्र बनाने के लिए किसानों के साथ काम करने की उम्मीद करते हैं। उनकी समृद्धि और कल्याण हमारे सभी प्रयासों का मूल है। यूपीएल के गांवों में पायलट कार्यक्रमों की सफलता के बाद, हम इसे एक कदम आगे ले जाने और 2023 तक 6000 गांवों को गोद लेने की योजना बना रहे हैं, जिसका उद्देश्य आने वाले वर्षों में अधिक से अधिक किसानों को लाभान्वित करना है।

गुजरात के अमरेली के एक किसान, रंजीतभाई रुदानी ने कहा, “मैंने यूपीएल के मार्गदर्शन में प्रोन्यूटिवा पैकेज का उपयोग करके अपने खेत में मूंगफली की खेती शुरू की। फसल लगाने से लेकर फसल की कटाई तक का यह एक शानदार अनुभव रहा है। मैंने प्रोन्यूटिवा उपचारित भूमि में प्रति एकड़ दोगुनी उपज देखी है। सभी किसानों को प्रोन्यूटिवा पैकेज का उपयोग करना चाहिए।"

No comments:

Post a Comment

इंश्योरेंस में प्रोडक्ट इनोवेशनः सुकून भरे रिटायरमेंट के लिए नई जरूरत

आम तौर पर बीमा कंपनियां उभरते जोखिमों और उपभोक्ता प्रवृत्तियों को ध्यान में रखते हुए उत्पाद बनाती हैं। इस बीच, अक्सर उत्पादों की सादगी नवाचा...