Monday, May 23, 2022

जेईसीआरसी के शिक्षकों के 26 से ज़्यादा पेटेंट हुए प्रकाशित


200
से ज़्यादा शिक्षकों को मिली ट्रेनिंग 
इनोवेशन में जेईसीआरसी हर दिन रच रहा नया मकाम 
जेईसीआरसी राजस्थान में बना रहा रिसर्च इको सिस्टम 
जयपुर. सीतापुरा स्थित जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में पिछले 2 साल में 26 से ज़्यादा पेटेंट प्रकाशित किए गए हैं | यूनिवर्सिटी का इंटिलेक्चुअल प्रॉपर्टी क्यूरेट लैब लगातार इसके लिए काम कर रहा हैं जिसके माध्यम से विश्वविद्यालय में किए गए शोध कार्य से उत्पन्न होने वाले नवाचारों की पहचान और सुरक्षा सुनिश्चित की जाती हैं साथ ही जहां एक पेटेंट को एक्सपर्ट्स द्वारा प्रकाशित कराने का शुल्क लगभग 80,000 रुपय होता हैं वहीं जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में पेटेंट प्रकाशित करने का पूरा शुल्क प्रबंधन द्वारा दिया जाता है| इसका मुख्य उद्देश्य राजस्थान में इनोवेशन और रिसर्च इकोसिस्टम को बढ़ावा देना हैं |  जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी के प्रेसिडेंट प्रो. विक्टर गंभीर ने बताया की आईपी  क्यूरेट लैब का प्राथमिक फोकस इनोवेशन और क्रिएटिविटी को बढ़ावा देना है, खासकर फैकल्टी, स्टूडेंट्स और नवोदित उद्यमियों के बीच और इसके लिए जेईसीआरसी दिन रात काम करती हैं और यहीं वजह हैं की जेईसीआरसी इनोवेशन में हर रोज़ नया मकाम रच रहा हैंआईपी क्यूरेट लैब की क्यूरेटर पी शिवानी सिंह ने बताया की 6 से ज़्यादा वर्कशॉप्स में  200 से अधिक शिक्षकों को अब तक ट्रेनिंग मिल चुकी हैं जहां 100 से ज़्यादा आर्गेनिक और नॉवेल आइडियाज पर काम किया गया हैं वहीं पेटेंट को डिजाइन, उपयोगिता, इंजीनियरिंग, होटल प्रबंधन आदि विभिन्न धाराओं में प्रकाशित किया गया हैंजेईसीआरसी उच्च मानक व्यावसायिक शिक्षा इंजीनियरिंग स्किल्स, सॉफ्ट और प्रबंधकीय स्किल्स प्रदान करता है जो स्टूडेंट्स की रोज़गार क्षमता में सुधार करता है और उन्हें जयपुर और भारत भर में अन्य इंजीनियरिंग  कॉलेजों से पास होने वाले छात्रों की तुलना में बेहतर बनाता है और इसी वजह से हर बार जेईसीआरसी प्लेसमेंट के अपने उत्कृष्ट ट्रैक रिकॉर्ड में भी एक नई ऊंचाई हासिल करता हैं
डिजिटल नंबर प्लेट सिस्टम से यातायात पुलिस और वाहन मालिक को मिलेगी मदद- 
कंप्यूटर ऍप्लिकेशन्स के प्रोफेसर डॉ. दिनेश धर्मदासानी ने बताया की उन्हें खुशी हैं की उनका पेटेंट प्रकाशित हुआ हैं जिसके माध्यम से यातयात पुलिस और वाहन मालिक को मदद मिल सकेगी, डिजिटल नंबर प्लेट जिसमें एक वाहन के इंजन नियंत्रण इकाई (ईसीयू) के साथ जोड़ा गया एक एकीकृत सर्किट चिप होगा जिसमें पंजीकरण संख्या, चालक का लाइसेंस नंबर, विशिष्ट पहचान संख्या (यूआईडी), वाहन बीमा संख्या, प्रदूषण नियंत्रण (पीयूसी) प्रमाणपत्र संख्या और पंजीकरण संख्या शामिल होगा और समय समय पर वाहन मालिक को प्रमाण पत्र की समाप्ति तिथि के बारे में भी बताएगा|

No comments:

Post a Comment

कैशफ्री पेमेंट्स के टोकनाइजेशन सॉल्यूशन ‘टोकन वॉल्ट’ने विभिन्न पेमेंट गेटवे पर प्रदान की इंटरऑपरेबिलिटी की सुविधा

बेंगलुरू, 30 जून, 2022- भुगतान और एपीआई बैंकिंग समाधान की दुनिया में अग्रणी कंपनी कैशफ्री पेमेंट्स ने आज घोषणा की कि कंपनी का टोकनाइजेशन सॉल...