Monday, May 9, 2022

द्वारिकेश शुगर इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने वित्त वर्ष 22 की चौथी तिमाही और वर्ष के लिए अपने लेखा परीक्षित वित्तीय परिणामों की घोषणा की

मुंबई, 09 मई, 2022- द्वारिकेश शुगर इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने आज 31 मार्च, 2022 को समाप्त तिमाही और वर्ष के लिए अपने लेखा परीक्षित वित्तीय परिणामों की घोषणा की।

क्यू4 एफवाई22 में, कंपनी ने 85.74 करोड़ रुपये के प्रोफिट बिफोर टैक्स अर्जित किया और कंपनी का कर पश्चात लाभ (पीएटी) 59.61 करोड़ रुपये रहा। इस प्रकार पिछले वर्ष की इसी तिमाही की तुलना में इसके पीबीटी में 35 प्रतिशत और पीएटी में 24 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई।

वित्त वर्ष 22 में, कंपनी ने 218.67 करोड़ रुपये के पीबीटी की सूचना दी और पीएटी 155.22 करोड़ रुपये रहा। वित्त वर्ष 21 की तुलना में पीबीटी में 83 प्रतिशत और पीएटी में 70 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई।

31 मार्च, 2022 को कंपनी की कुल संपत्ति 673.29 करोड़ रुपये रही, जबकि 31 मार्च, 2021 तक यह राशि थी 578.91 करोड़ रुपये।


मौजूदा सीजन 2021-22 के दौरान अनुमानित घरेलू चीनी उत्पादन लगभग 35.0 मिलियन टन अनुमानित है, जबकि 3.4 मिलियन टन चीनी का उपयोग इथेनॉल के निर्माण में किया गया है। डीडी इकाई में हमारी 175 केएलपीडी डिस्टिलरी परियोजना का निष्पादन समय पर है। संयंत्र के जून, 2022 में चालू होने की संभावना है। 

 

Key Numbers of P&L statement of P&L Statement:                                                        Figures in INR crore except EPS

 

 

Q4FY22

Q4FY21

FY22

FY21

Total Income

475.48

601.31

1,977.23

1,845.94

EBIDTA

102.96

83.76

293.96

208.35

Finance cost

5.45

10.12

31.66

47.65

EBDT

97.51

73.64

262.30

160.70

PBT

85.74

63.28

218.67

119.80

Tax

26.13

15.05

63.45

28.26

PAT

59.61

48.23

155.22

91.54

Other Comprehensive Income

0.59

0.35

0.35

3.66

Total Comprehensive Income

60.20

48.58

155.57

95.20

EPS Rs. Per share

3.17

2.56

8.24

4.86

 

- वित्त वर्ष 22 की चौथी तिमाही के दौरान कंपनी का एबिटा मार्जिन (इबिटा / संचालन से राजस्व) पिछले वर्ष की इसी तिमाही के 14.0 प्रतिशत की तुलना में 21.7 प्रतिशत है।

- वित्त वर्ष 2022 के दौरान कंपनी का एबिटा मार्जिन (एबिटा/संचालन से राजस्व) 14.9 प्रतिशत है, जबकि वित्त वर्ष 21 के दौरान 11.3 प्रतिशत था।

- वित्त वर्ष 22 की चौथी तिमाही के दौरान बेची गई चीनी 10.11 लाख क्विंटल (सभी घरेलू बाजार में) रही, जबकि पिछले वर्ष की इसी तिमाही के दौरान चीनी की 15.23 लाख क्विंटल बिक्री (7.95 लाख क्विंटल निर्यात सहित) हुई थी।

- वित्त वर्ष 2022 के दौरान बेची गई चीनी 45.99 लाख क्विंटल (2.50 लाख क्विंटल के निर्यात सहित) है, जबकि वित्त वर्ष 2021 के दौरान 49.49 लाख क्विंटल (निर्यात की गई 15.99 लाख क्विंटल चीनी सहित) रही।

- 31 मार्च, 2022 तक चीनी का स्टॉक 19.63 लाख क्विंटल था, जबकि 31 मार्च 2021 को यह 26.02 लाख क्विंटल था।

- क्यू4एफवाई22 और एफवाई22 के दौरान बेची गई औद्योगिक अल्कोहल क्रमशः 16,526 केएल और 55,728 केएल है, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान 12,833 केएल और 31,732 केएल बेची गई थी।

- 31 मार्च, 2022 को, कंपनी पर 60.52 करोड़ रुपये के एसईएफएएसयू 2018 ऋण सहित 252.40 करोड़ रुपये का दीर्घकालिक ऋण बकाया था। 191.88 करोड़ रुपये की शेष राशि डिस्टलरी प्रोजेक्ट्स के लिए लिया गया ऋण है, जिसमें डीडी यूनिट (वितरण के तहत) में चल रहे डिस्टलरी प्रोजेक्ट के लिए 104.22 करोड़ का ऋण भी है। सभी बकाया दीर्घकालिक ऋण रियायती ब्याज दर पर हैं।

- आईसीआरए द्वारा दी गई दीर्घकालिक रेटिंग एक बार फिर ए-प्लस पर, हालांकि रेटिंग आउटलुक को ‘स्टेबल’ से ‘पॉजिटिव’ में संशोधित किया गया है। 300 करोड़ रुपये के सीपी कार्यक्रम के लिए आईसीआरए द्वारा कंपनी को दी गई अल्पकालिक रेटिंग की भी ए1 प्लस पर पुष्टि की गई है।

- कंपनी की डीडी यूनिट ने 20 अप्रैल, 2022 को एसएस 2021-22 के अपने पेराई कार्यों को बंद कर दिया, डीपी और डीडी इकाइयों के मई के मध्य में बंद होने की संभावना है।

- डीडी डिस्टलरी यूनिट में निष्पादन कार्य समय पर है और डिस्टलरी इकाई में जून, 2022 में उत्पादन शुरू होने की संभावना है। डिस्टलरी की स्थापना कंपनी की यात्रा में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि होगी क्योंकि डिस्टलरी की स्थापना का परिणाम होगा भविष्य के लिए अधिक व्यापक-आधारित और लाभकारी राजस्व धारा।

No comments:

Post a Comment

जेकेके में महाकाव्य महाभारत पर आधारित नाटक 'उरूभंगम' का हुआ मंचन

जयपुर।  जवाहर कला केंद्र (जेकेके) के  रंगायन  में पाक्षिक नाट्य योजना के तहत रंग साधना थिएटर ग्रुप, जयपुर द्वारा शनिवार शाम को नाटक 'उरू...