Monday, May 30, 2022

पक्षियों के लिए परिंडे लगाने का नेक कार्य किया गया


परिंडा लगाओ पक्षी बचाओ अभियान के तहत आज संपूर्ण फाउंडेशन हेल्प फाउंडेशन के संयुक्त प्रयासों से गर्मी में पक्षियों के लिए दाना और पानी की व्यवस्था हेतु परिंडे लगाने का नेक कार्य किया गया साथ ही परिंडॊ में रोज पानी भरने व्यवस्था भी की गई | कार्यक्रम संयोजक मनीष कुमार ने बताया की कार्यक्रम के दौरान संपूर्ण फाउंडेशन के संस्थापक पुनीत शर्मा एवं हेल्प फाउंडेशन के संस्थापक अमित चौधरी संयुक्त टीम मेंबर कुलदीप सिंह, सूरज सिंह, हिमांशु, पंकज,जितेश श्रीवास्तव, उमेश शर्मा उपस्थित रहे।

Friday, May 27, 2022

डिजीस्पाइस टेक्नोलॉजीज लिमिटेड की चौथी तिमाही और वित्त वर्ष 2022 के वार्षिक परिणाम

नई दिल्ली, 27 मई, 2022- फ्यूचर रेडी डिजिटल प्लेटफॉर्म का निर्माण करने वाली अगली पीढ़ी की टैक्नोलॉजी कंपनी डिजीस्पाइस टेक्नोलॉजीज लिमिटेड ने 31 मार्च 2022 को समाप्त तिमाही और वर्ष के लिए अपने परिणामों की आज घोषणा की।

डिजीस्पाइस टेक्नोलॉजीज लिमिटेड अपनी सहायक कंपनी स्पाइस मनी के माध्यम से ग्रामीण फिनटेक क्षेत्र में अपने कामकाज का संचालन करती है। स्पाइस मनी ने इस वित्तीय वर्ष में 1 मिलियन अधिकारियों (नैनोप्रिन्योर्स) की महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है। यह आंकड़ा पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में लगभग दोगुना है। अपनी तरह के पहले जीरो इनवेस्टमेंट मॉडल प्रदान करने के लिए स्पाइस मनी की रणनीति अधिकारियों की संख्या में बढ़ोतरी और रिटर्न में बढ़ोतरी करना है। यह नेटवर्क पूरे ग्रामीण भारत में फैला हुआ है, जिसमें स्पाइस मनी ऐप और वेब पोर्टल के माध्यम से 95 प्रतिशत से अधिक ग्रामीण पिनकोड, 700 से अधिक जिले शामिल हैं, जो 100 मिलियन से अधिक उपभोक्ताओं को सेवा प्रदान करते हैं।

एफवाई23 में स्पाइस मनी का लक्ष्य अन्य डिजिटल और वित्तीय सेवाओं में विस्तार करना है। कंपनी अपने एंटरप्राइज कैश मैनेजमेंट सर्विसेज (सीएमएस) कारोबार को बढ़ाते हुए अपने एटीएम, बैंकिंग और भुगतान कारोबार को मजबूत करेगी। कंपनी इसके अतिरिक्त एक वित्तीय उत्पाद और सेवा बाज़ार की शुरुआत करेगी जिसके तहत बीमा, ऋण आदि जैसे समाधान पेश किए जाएंगे। ग्रामीण अर्थव्यवस्था में कृषि की महत्वपूर्ण भूमिका को ध्यान में रखते हुए, स्पाइस मनी उद्योग के लिए डिजिटल समाधानों में भी उद्यम गठित करेगी। देश के महामारी से उभरने के साथ, स्पाइस मनी अर्ध-शहरी और ग्रामीण भारत में सभी ट्रैवल एजेंटों के लिए अपनी तरह का पहला समाधान पेश करने के लिए अपने ट्रैवल टेक प्लेटफॉर्म, ट्रैवल यूनियन का विस्तार करेगी। अपने फिजिटल सुपर ऐप के माध्यम से, कंपनी शिक्षा, ई-कॉमर्स और स्वास्थ्य सेवा सहित कई डिजिटल सेवाओं को जन-जन तक पहुंचाएगी।

स्पाइस मनी का लक्ष्य भारत के सबसे बड़े अधिकारी नेटवर्क का निर्माण करना है, जो अंतिम छोर तक अपनी सेवाएं प्रदान करेगा। यह एक तरह का ओपन नेटवर्क असिस्टेड डिजिटल डिस्ट्रीब्यूशन (ओएनएडीडी) मॉडल के माध्यम से भारत बैंकों के तरीके में क्रांतिकारी बदलाव लाने की कोशिश है।

समीक्षाधीन वर्ष के लिए कंपनी की परफॉर्मेंस पर टिप्पणी करते हुए डिजीस्पाइस टेक्नोलॉजीज के चेयरमैन और स्पाइस मनी के फाउंडर दिलीप मोदी ने कहा, ‘‘डिजीस्पाइस टेक्नोलॉजीज के लिए, वित्त वर्ष 22 में हमारे फिनटेक व्यवसाय के साथ सराहनीय वृद्धि देखी गई है। स्पाइस मनी ने पिछली आठ तिमाहियों में लगातार दो अंकों की बढ़ोतरी का प्रदर्शन किया है।

हम ग्रामीण भारत में डिजिटल सेवाओं को तेजी से अपनाने के बारे में आशावादी बने हुए हैं, क्योंकि हमारा लक्ष्य वित्त वर्ष 2023 में नए व्यापार क्षेत्रों में प्रवेश करना है। स्पाइस मनी का फिजिटल सुपर ऐप ग्रामीण समुदायों को उनके दरवाजे पर बुनियादी बैंकिंग, भुगतान सेवाओं, वित्तीय सेवाओं, यात्रा सेवाओं और उद्यमी समाधानों के साथ-साथ स्वास्थ्य सेवा और ई-कॉमर्स जैसी आवश्यक सेवाएं प्राप्त करने में मदद करेगा। इस दिशा में स्पाइस मनी के 1 मिलियन से अधिक अधिकारियों द्वारा लोगांे को सहायता प्रदान की जाएगी।

हमे इस बात पर प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है कि पहुंच की कमी को दूर करने की दिशा में हम काफी आगे तक निकल गए हैं। हम इनोवेशन करना जारी रखेंगे और इस तरह देश के लोगांे के बैंकिंग के तौर-तरीकों में क्रांति लाएंगे।’’

मुथूट फाइनेंस लिमिटेड के समेकित परिणाम

कोच्चि, 27 मई, 2022 प्रबंधन के तहत समेकित ऋण परिसंपत्तियां बढ़कर 64,494 करोड़ रुपए हो गईं, वित्त वर्ष 22 के लिए वर्ष-दर-वर्ष 11 फीसदी की वृद्धि

कर पश्चात समेकित लाभ बढ़कर 4031 करोड़ रुपए हो गया, वित्त वर्ष 22 के लिए वर्ष-दर-वर्ष 6 फीसदी की वृद्धि

वित्त वर्ष 2022 के लिए प्रबंधन के तहत स्टैंडअलोन ऋण संपत्ति 58,053 करोड़ रुपए तक बढ़ी, 10 फीसदी सालाना वृद्धि

वित्त वर्ष 2022 के लिए कर के बाद स्टैंडअलोन लाभ 6 फीसदी तक बढ़कर 3,954 करोड़ रुपए हो गया

वित्त वर्ष 2021-22 की प्रमुख उपलब्धियां

ऽ    समेकित ऋण एयूएम वित्त वर्ष 2022 में 64,000 करोड़ रुपए को पार कर गया।

ऽ    कर पश्चात समेकित लाभ वित्त वर्ष 2022 में 4,000 करोड़ रुपए को पार कर गया।

ऽ    समेकित नेटवर्थ वित्त वर्ष 2022 में 18,000 करोड़ रुपए को पार कर गया।

ऽ    200 फीसदी का लाभांश 10 रुपये के शेयरों के अंकित मूल्य पर, इसमें 803 करोड़ रुपए का लाभांश शामिल है।

मुथूट फाइनेंस लिमिटेड के निदेशक मंडल की एक बैठक आज 31 मार्च, 2022 को समाप्त तिमाही के लिए लेखापरीक्षित स्टैंडअलोन और समेकित परिणामों पर विचार और अनुमोदन करने के लिए आयोजित की गई थी।

मुथूट फाइनेंस लिमिटेड के समेकित परिणाम

मुथूट फाइनेंस लिमिटेड प्रबंधन के तहत समेकित ऋण संपत्ति पिछले वर्ष के 58,280 करोड़ रुपए की तुलना में वित्त वर्ष 22 में 11 फीसदी सालाना बढ़कर 64,494 करोड़ रुपए हो गई। वित्त वर्ष 2022 के लिए कर के बाद समेकित लाभ 6 फीसदी सालाना बढ़कर 4031 करोड़ रुपए हो गया, जो पिछले साल 3,819 करोड़ रुपए था।

                                                                                                                                                                                (Rs. in Crore)

Financial Performance

 FY22

FY21

YoY %

Group Branch Network

5581

5,451

2

Consolidated Gross Loan Assets of the Group

64494

58,280

11

Consolidated Profit of the Group

4031

3,819

6

Contribution in the Consolidated Gross Loan Assets of the Group

Muthoot Finance Ltd

58,005

52,394

11

Subsidiaries

6,489

5,886

10

Contribution in the Consolidated Profit of the Group

Muthoot Finance Ltd

3,949

3,700

7

Subsidiaries

82

119

-28

 

परिणामों पर टिप्पणी करते हुए चेयरमैन श्री जॉर्ज जैकब मुथूट ने कहा, ‘मौजूदा भू-राजनीतिक संकट और कोविड से संबंधित बुनियादी चुनौतियों के बावजूद मुथूट फाइनेंस ने इस तिमाही में लगातार बेहतर प्रदर्शन किया है और हम 11 फीसदी की वृद्धि दर्ज करते हुए 64,494 करोड़ रुपए का समेकित एयूएम हासिल करने में सक्षम रहे हैं। हमने वित्त वर्ष 2022 के लिए 4031 करोड़ रुपए के कर के बाद समेकित लाभ का ऐतिहासिक स्तर हासिल किया। जैसे-जैसे अर्थव्यवस्था धीरे-धीरे ठीक हो रही है, गोल्ड लोन की मांग स्थिर रही है और हम आने वाले वित्तीय वर्ष के लिए आशावादी बने हुए हैं। पिछले तीन वर्षों में सोने की कीमतों में लगातार वृद्धि हो रही है और इसने नए ग्राहकों को उत्पाद की ओर आकर्षित किया है और इस क्षेत्र को सकारात्मक रूप से मदद मिली है। भारतीय परिवारों के पास सोने का दुनिया का सबसे बड़ा निजी स्टॉक है, और संगठित स्वर्ण ऋण बाजार में केवल लगभग दस प्रतिशत गोल्ड लोन कंपनियों सहित क्षेत्र में बहुत अनछुए अवसर हैं। हमारा लक्ष्य गोल्ड लोन क्षेत्र में नवाचार करते रहना और अपना नेतृत्व बनाए रखना है।

प्रबंध निदेशक श्री जॉर्ज एलेक्जेंडर मुथूट ने कहा, ‘चूंकि हम अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत दिख रहे हैं, आरबीआई की दर वृद्धि समग्र मांग परिदृश्य को कम नहीं कर सकती है और हम वर्ष के दौरान उधार लेने की लागत में धीरे-धीरे वृद्धि की उम्मीद कर रहे हैं। आर्थिक गतिविधियों में वृद्धि और गिरावट, दोनों समय में गोल्ड लोन एक बढ़िया विकल्प है। जैसे-जैसे अर्थव्यवस्था और समग्र आर्थिक मांग में सुधार आता रहेगा, वैसे-वैसे हमारा ध्यान अवसरों का अधिक से अधिक लाभ उठाने और आगे नवाचार करते रहने पर होगा। वित्त वर्ष 2022 के दौरान गोल्ड लोन एयूएम 11 फीसदी बढ़ा और हम वित्त वर्ष 2023 के लिए गोल्ड लोन एयूएम में 12-15 फीसदी की वृद्धि के बारे में आशावादी बने हुए हैं। एआई-पावर्ड वॉयसबोट प्लेटफॉर्म जैसी डिजिटल पहल ग्राहकों के साथ रियलटाइम संपर्क को सक्षम करती है, वहीं एक नया लॉन्च हुआ मुथूट वॉट्सऐप एक्सपीरियंस में सुधार, पेटीएम, फोनपे, गूगल पे, व्हाट्सएप आदि के माध्यम से डिजिटल भुगतान की सुविधा विकास की दिशा में कारक हैं। हमने हाल ही में अपनी गोल्ड लोन/होम सेवाओं में भी सुधार किया है और भारत में 4600$ शाखाओं में सेवा का विस्तार करने की योजना बना रहे हैं।

उन्होंने आगे कहा, ‘वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही के नतीजों ने इस तिमाही में स्थिर प्रदर्शन को उजागर किया। हमने 4.00 लाख नए ग्राहकों को 4664 करोड़ रुपए और 4.89 लाख अपरोक्ष ग्राहकों को 4759 करोड़ रुपए का ऋण वितरित किया इसके अलावा, कंपनी 31 मार्च, 2022 को समाप्त बारह महीनों के लिए 3,954 करोड़ रुपये के कर पश्चात लाभ में 6 फीसदी की वृद्धि दर्ज कर सकती है और 57,531 करोड़ रुपये के गोल्ड लोन में 11 फीसदी की वृद्धि दर्ज कर सकती है। हमारी सहायक कंपनियों के संबंध में, अर्थव्यवस्था में मांग में वृद्धि के बाद, सूक्ष्म वित्त, वाहन वित्त और गृह ऋण से संग्रह में सुधार हुआ है। हमारा लक्ष्य इन सेगमेंट में अपने कलेक्शन को और बेहतर बनाना है। हालांकि, हम एक संतुलित विकास रणनीति अपनाना जारी रखेंगे और मौजूदा मैक्रो-इकोनॉमिक माहौल को देखते हुए हम माइक्रो फाइनेंस और व्हीकल फाइनेंस बिजनेस को लेकर चौकन्ने रहना जारी रखेंगे।

मुथूट फाइनेंस लिमिटेड और उसकी सहायक कंपनियों के स्टैंडअलोन परिणाम

ऋण पोर्टफोलियो के मामले में भारत की सबसे बड़ी गोल्ड फाइनेंसिंग कंपनी मुथूट फाइनेंस लिमिटेड (एमएफआईएन) ने वित्त वर्ष 2022 में 3,954 करोड़ रुपये का रुपए का शुद्ध लाभ दर्ज किया, जबकि वित्त वर्ष 2021 में यह 3,722 करोड़ रुपए था, यह सालाना 6 फीसदी की वृद्धि है। वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही में शुद्ध लाभ 960 करोड़ रुपए रहा, जबकि वित्त वर्ष 2021 की चौथी तिमाही में यह 996 करोड़ रुपए था। ऋण परिसंपत्तियां पिछले वर्ष के 52,622 करोड़ रुपए की तुलना में 58,053 करोड़ रुपए रही, जो सालाना आधार पर 10 फीसदी की वृद्धि है। गोल्ड लोन एसेट पिछले साल के 51,927 करोड़ रुपए की तुलना में 57,531 करोड़ हो गया, जो कि सालाना 11 फीसदी की वृद्धि है। वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही के दौरान ऋण संपत्ति 3,365 करोड़ रुपए थी, 6 फीसदी की तिमाही-दर-तिमाही वृद्धि है।

पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी मुथूट होमफिन (इंडिया) लिमिटेड (एमएचआईएल), ऋण पोर्टफोलियो 31 मार्च, 2022 को 1,470 करोड़ रुपए था, जो पिछले वर्ष 1704 करोड़ रुपए के मुकाबले 14 फीसदी कम है। वित्त वर्ष 21 और वित्त वर्ष 22 के लिए कुल राजस्व क्रमशः 245 करोड़ और रु. 214 करोड़ रुपए दर्ज हुआ। इसने वित्त वर्ष 2021 और वित्त वर्ष 2022 में क्रमशः 13 करोड़ रुपये और 8 करोड़ रुपये का कर के बाद लाभ हासिल किया। सकल ऋण संपत्ति के प्रतिशत के रूप में चरण 3 संपत्ति 31 मार्च, 2021 के 4 फीसदी की तुलना में 31 मार्च, 2022 को 2.10 फीसदी तक कम हो गई।

मैसर्स बेलस्टार माइक्रोफाइनेंस लिमिटेड (बीएमएल), एक आरबीआई पंजीकृत माइक्रो फाइनेंस एनबीएफसी और एक सहायक कंपनी है जहां मुथूट फाइनेंस की 60.69 फीसदी हिस्सेदारी है। बीएमएल ने अपने ऋण पोर्टफोलियो को पिछले साल के 3,300 करोड़ रुपए के मुकाबले बढ़ाकर 4,366 करोड़ रुपए दर्ज करवाया, सालाना 32 फीसदी की वृद्धि। वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही के दौरान, ऋण पोर्टफोलियो में 530 करोड़ रुपए की वृद्धि हुई। इसने वित्त वर्ष 2021 और वित्त वर्ष 2022 में क्रमशः 47 करोड़ रुपए और 45 करोड़ रुपए का कर पश्चात लाभ हासिल किया। स्टेज 3 एसेट सकल ऋण परिसंपत्ति के प्रतिशत के रूप में 31 मार्च, 2022 तक 5.73 फीसदी थी, जबकि 31 मार्च, 2021 को यह 2.37 फीसदी थी।

इसके अलावा बेलस्टार माइक्रोफाइनेंस ने वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही के दौरान मौजूदा निवेशकों मुथूट फाइनेंस लिमिटेड और मेजर इन्वेस्ट फाइनेंशियल इनक्लूजन फंड के साथ एक नए निवेशक अरुम होलिं्डग्स लिमिटेड से 275 करोड़ रुपये की इक्विटी पूंजी जुटाई। इसके अलावा, मुथूट फाइनेंस ने बेलस्टार माइक्रोफाइनेंस लिमिटेड में अतिरिक्त 5,88,235 इक्विटी शेयरों का अधिग्रहण किया है, जो कुल मिलाकर 20 करोड़ रुपए है। नए फंड जुटाने के परिणामस्वरूप मुथूट फाइनेंस लिमिटेड की शेयरधारिता 70.01 फीसदी से घटकर 60.69 फीसदी हो गई।

मुथूट इंश्योरेंस ब्रोकर्स प्राइवेट लिमिटेड (एमआइबीपीएल), इरडा पंजीकृत बीमा उत्पादों में प्रत्यक्ष ब्रोकर और एक पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी का कुल प्रीमियम संग्रह वित्त वर्ष 2021 और 22 में क्रमशः 406 करोड़ और 479 करोड़ रुपए था। वित्त वर्ष 2021 और 22 के लिए कुल राजस्व क्रमशः 47 करोड़ रुपए और 45 करोड़ रुपये रहा। इसने वित्त वर्ष 21 और 22 में क्रमशः 32 करोड़ रुपए और 28 करोड़ रुपए का कर पश्चात लाभ प्राप्त किया।

एशिया एसेट फाइनेंस पीएलसी (एएएफ) श्रीलंका में स्थित एक सहायक कंपनी है जहां मुथूट फाइनेंस की 72.92 फीसदी हिस्सेदारी है। मुथूट फाइनेंस ने 3,96,87,516 परिवर्तनीय अप्रतिदेय वरीयता की सदस्यता लेकर एशिया एसेट फाइनेंस पीएलसी में श्रीलंकाई मुद्रा में 39.69 करोड़ एलकेआर की राशि का अतिरिक्त निवेश किया है, यह वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान 10 एलकेआर अंकित मूल्य प्रत्येक के अप्रतिदेय वरीयता शेयर हैं। लोन पोर्टफोलियो पिछले साल के 1,400 करोड़ की तुलना में 1,735 करोड़ एलकेआर हो गया, जो कि 24 फीसदी की वार्षिक वृद्धि है। वित्त वर्ष 21 और 22 के लिए कुल राजस्व क्रमशः 295 करोड़ एलकेआर और 318 करोड़ एलकेआर था। इसने वित्त वर्ष 21 और 22 में क्रमशः 5 करोड़ और 12 करोड़ एलकेआर कर के बाद लाभ प्राप्त किया।

मुथूट मनी लिमिटेड (एमएमएल), अक्टूबर 2018 में मुथूट फाइनेंस लिमिटेड की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी बन गई। एमएमएल एक आरबीआई पंजीकृत गैर-बैंकिंग वित्त कंपनी है जो वाणिज्यिक वाहनों और उपकरणों के लिए ऋण देने में लगी हुई है। 31 मार्च, 2022 तक ऋण पोर्टफोलियो 207 करोड़ रुपए था। वित्त वर्ष 21 और 22 के लिए कुल राजस्व क्रमशः 70 करोड़ और 45 करोड़ रुपए था।

Financial Highlights (MFIN): Standalone results for Muthoot Finance Ltd.

                                                                                                                                                                (Rs. in Crore)

Particulars

FY22

FY21

YoY %

Total Income

11,098

10,574

5

Profit Before Tax

5,309

5,007

6

Profit After Tax

3,954

3,722

6

Earnings Per Share(Basic) Rs.

98.55

92.79

6

Loan Assets

58,053

52,622

10

Branches

4,617

4,632

-0.32

 

Particulars

FY22

FY21

Return on Average  Loan assets

7.24%

7.99%

Return on Average Equity

 23.55%

27.77%

Book Value Per Share (Rs.)

 456.98

379.70

 

Particulars

FY22

FY21

Capital Adequacy Ratio

29.97

27.39

Share Capital & Reserves (Rs. in Cr)

18345

15,239

 

Business Highlights (MFIN):

Particulars

FY22

FY21

Growth (YoY % )

Branch Network

4,617

4,632

-0.32

Gold Loan Outstanding (Rs. in Cr)

57,531

51,927

11

Credit Losses (Rs. in Cr)

28.94

11.85

144

% of Credit Losses on Gross Loan Asset Under Management

0.05%

0.02%

150

Average Gold Loan per Branch (Rs. in Cr)

12.46

11.21

11

No. of Loan Accounts (in lakh)

83.70

84.10

-0.48

Total Weight of Gold Jewellery pledged (in tonnes)

187.04

170.61

10

Average Loan Ticket Size

68,739

61,743

11

No. of employees

26,716

25,911

3

 

अन्य हाइलाइट्सः

डिजिटल पहल का व्यापक दायरा

 

कंपनी ने कई ग्राहक-केंद्रित डिजिटल और प्रौद्योगिकी पहलों की शुरुआत के साथ प्रौद्योगिकी और डिजिटल मोर्चों पर अच्छी प्रगति की है।

ऽ     हमने कस्टमर-फर्स्ट डिजाइन थिंकिंगदृष्टिकोण के आधार पर अपनी कॉर्पोरेट वेबसाइट को नया रूप दिया और बहुभाषी समर्थन और आवाज खोज क्षमता के साथ एआई-पावर्ड वर्चुअल असिस्टेंट मट्टूलॉन्च किया।

ऽ     हमने एआई-पावर्ड वॉयसबॉट प्लेटफॉर्म को भी हरी झंडी दिखाई जो ग्राहकों के साथ रीयल टाइम बातचीत को सक्षम बनाता है और ऑटोमेशन के माध्यम से लंबित निर्णयों में तेजी लाता है।

ऽ     हमने अपनी शाखाओं को एक नए जमाने की एआई-सक्षम शाखा सुरक्षा प्रणाली के साथ सशक्त बनाकर, उच्च-स्तरीय ग्राफिक्स प्रोसेसिंग यूनिट्स (जीपीयू) का उपयोग करके अपनी शाखा सुरक्षा को एक नए स्तर तक बढ़ाया है।

ऽ     कंपनी ने एक नया और तात्कालिक मुथूट वॉट्सऐप एक्सपीरियंस भी लॉन्च किया और पेटीएम, फोनपे, गूगल पे, वॉट्सऐप आदि के माध्यम से डिजिटल भुगतान की सुविधा प्रदान की।

बेहतरीन डिजिटल उत्पादः

कंपनी ने हाल ही में घोषणा की थी कि वे भारत में 4600$ शाखाओं में अपनी गोल्ड लोन/होम सेवा का विस्तार करने की योजना बना रहे हैं और ग्राहक घर बैठे 1 लाख या इससे अधिक रुपए के परेशानी मुक्त गोल्ड लोन का लाभ उठा सकते हैं। 1 लाख और उससे अधिक गोल्ड लोन/होम के अंतर्गत प्राप्त ऋणों का औसत टिकट आकार रु. 6.5 लाख है और वर्तमान में इन गोल्ड लोन/होम सेवाओं का लगभग 60-65 फीसदी स्व-नियोजित लोगों द्वारा अपनी व्यावसायिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्राप्त किया जा रहा है।

 

पिरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड ने चौथी तिमाही और वित्त वर्ष 2022 के समेकित परिणाम घोषित किए



मुंबई, भारत, 27 मई, 2022- पिरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड  ने 31 मार्च, 2022 को समाप्त वित्त वर्ष 22 की चौथी तिमाही  और वर्ष के समेकित परिणाम आज घोषित किए।

Consolidated Highlights

ओवरऑल परफॉर्मेंस

क्यू4 एफवाई22 रेवेन्यू ग्रोथ 22 प्रतिशत सालाना के हिसाब से 4,163 करोड़ रुपए पर, एफवाई22 में राजस्व 13,993 करोड़ पर।

क्यू4 एफवाई22 में 151 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ। एफवाई22 शुद्ध लाभ 1,999 करोड़ रुपए।

क्यू4 एफवाई22 में 822 करोड़ रुपए के अतिरिक्त प्रावधान में रिपोर्ट किए गए शुद्ध लाभ कारक और 215 करोड़ रुपए का इंटरेस्ट रिवर्सल (कुल 1,037 करोड़ रुपए)

लाभांश

- बोर्ड ने एजीएम में शेयरधारकों की मंजूरी के अधीन 33 रुपए प्रति शेयर के लाभांश की सिफारिश की है, कुल लाभांश भुगतान 788 करोड़ रुपए (39 प्रतिशत का लाभांश भुगतान अनुपात) होगा।

वित्तीय सेवाएं (एफएस)

- डीएचएफएल का अधिग्रहण वित्त वर्ष 2022 में पूरा हुआ, शाखाएं एकीकृत और फिर से सक्रिय

- क्यू4 एफवाई22 में 1,480 का रिटेल लोन डिस्बर्समेंट 100 प्रतिशत क्यूओक्यू।

- जीएनपीए में सालाना आधार पर 70 बीपीएस से 3.4 प्रतिशत और एनएनपीए में 50 बीपीएस 1.6 प्रतिशत की गिरावट

- चरण -2 में होलसेल नॉन-आरई एसेट्स के लिए अतिरिक्त प्रावधान बनाए गए, एयूएम के 5.7 प्राितशत के बराबर समग्र प्रावधान

- अगले 5 वर्षों में, यानी वित्त वर्ष 2027 के अंत तक, हासिल करने की ख्वाहिश-

 2/3 खुदरा और 1/3 थोक का रिटेल होलसेल मिक्स

 एफएस लेंडिंग बिजनेस को दोगुना करें

 खुदरा संवितरण वृद्धि 40-50 प्रतिशत (5-वर्ष सीएजीआर)

फार्मा व्यवसाय

- अप्रैल 2022 में यापन बायो में अतिरिक्त हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया, कुल हिस्सेदारी 33 फीसदी तक और बायोलॉजिक्स स्पेस में हमारी सेवाओं का विस्तार किया।

- 23 मिलियन डॉलर के विस्तार के बाद ऑरोरा प्लांट ने परिचालन शुरू किया

- मई 2022 में पीथमपुर में ओरल सॉलिड डोसेज फॉर्म के लिए नया प्रोडक्शन ब्लॉक लॉन्च किया गया

- ग्रेंजमाउथ और मोरपेथ में एंटीबॉडी ड्रग कॉन्जुगेट्स और एपीआई के लिए 74 मिलियन डॉलर के विस्तार की घोषणा की

- डेवलपमेंट ऑर्डर बुक में अच्छी वृद्धि दर्ज की गई

- यूएस में प्रमुख जीपीओ के साथ कई अनुबंध एक्सटेंशन निष्पादित

- वित्त वर्ष 2012 में भारत के उपभोक्ता हेल्थकेयर व्यवसाय में 40 नए उत्पाद लॉन्च किए गए

- एफवाई22 राजस्व में लिटल ने 100 करोड़ रुपए का आंकड़ा पार किया और टेटमोसोल 50 करोड़ के पार

पिरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड के चेयरमैन श्री अजय पिरामल कहते हैं, ‘‘हमने महामारी और प्रतिकूल आर्थिक स्थितियों के बावजूद चौथी तिमाही और वित्त वर्ष 22 में वित्तीय सेवाओं और फार्मास्यूटिकल्स के क्षेत्र में एक लचीला प्रदर्शन दिया है। वित्तीय सेवाओं में, हमने डीएचएफएल के साथ एकीकरण पूरा किया और वित्त वर्ष 22 की चौथी तिमाही में खुदरा ऋण संवितरण में तिमाही आधार पर 100 प्रतिशत वृद्धि हासिल की। हमने लगभग सभी शाखाओं को फिर से सक्रिय कर दिया है और न केवल डीएचएफएल के 3,000 से अधिक कर्मचारियों को बनाए रखा है, बल्कि पूरे भारत में विलय की गई इकाई में 3,000 से अधिक नई नौकरियां भी पैदा की हैं। हम टेलेंट और टैक्नोलॉजी में अपेक्षित निवेश करना जारी रखेंगे, ताकि भारत के बाजार में छिपे व्यावसायिक अवसरों का लाभ उठाने की हमारी क्षमता को मजबूत किया जा सके। डीएचएफएल के अधिग्रहण के बाद, अब हम अगले 5 वर्षों में अपने एयूएम को दोगुना करने के लिए अपने बड़े रिटेल लेंडिंग प्लेटफॉर्म का लाभ उठाएंगे, जिससे रिटेल के हमारे मिक्स में काफी सुधार होगा।

तिमाही के दौरान, हमने स्टेज 2 की परिसंपत्तियों के लिए अतिरिक्त प्रावधान करके अपनी बैलेंस शीट को और मजबूत किया। हम महामारी संबंधी जोखिमों के लिए मार्च 2020 में किए गए असाधारण प्रावधानों को भी बरकरार रखते हैं।

फार्मास्यूटिकल्स में, हम अपने सभी व्यवसायों में व्यवस्थित और इनऑर्गेनिक तरीके से निवेश कर रहे हैं। हमारे सभी प्रमुख व्यवसायों के पास अपने विकास के लिए एक बेहतर योजना है और चुनौतीपूर्ण और विपरीत स्थितियों के बावजूद अपनी संबंधित रणनीतिक प्राथमिकताओं के अनुरूप काम करना जारी रखा है। हम वित्त वर्ष 2013 की तीसरी तिमाही तक फार्मास्युटिकल व्यवसाय के डीमर्जर को पूरा करने के लिए मजबूती से ट्रैक पर आगे बढ़ रहे हैं और इसी क्रम में हम अपने हितधारकों के लिए महत्वपूर्ण मूल्य अनलॉक करते हैं।’’      

प्रमुख व्यवसाय हाईलाइट्स

वित्तीय सेवाएं

महत्वपूर्ण एयूएम वृद्धि और विविधीकरण

- मार्च-2022 तक एयूएम सालाना आधार पर 33 फीसदी बढ़कर 65,185 करोड़ रुपये हो गया।

- समग्र ऋण पुस्तिका में खुदरा की हिस्सेदारी मार्च-2021 में 12 प्रतिशत से बढ़कर मार्च-2022 में 36 फीसदी हो गई

- रिटेल लोन बुक सालाना 306 प्रतिशत बढ़कर 21,552 करोड़ रुपए हो गई।

- क्यू4 एफवाई22 में खुदरा ऋण संवितरण तिमाही आधार पर 100 प्रतिशत बढ़कर 1,480 करोड़ रुपए हो गया।

- वित्त वर्ष 2012 की चौथी तिमाही में 132,000 ग्राहकों को अपने साथ जोड़ा गया

- 125के डाउनलोड के साथ लॉन्च किया गया मोबाइल ऐप

- क्यू4 में डिस्बर्समेंट यील्ड्स में सुधार जारी रहा और क्यू4 में यह 12.5 प्रतिशत रहा, जबकि क्यू1 एफवाई21 में यह 11.3 फीसदी था

- क्यू3 एफवाई23 में 2,500-3,500 करोड़ रुपए का डिस्बर्समेंट मार्गदर्शन प्राप्त करने के लिए ऑन-ट्रैक (अर्थात पूर्व-विलय स्तरों का 5-7 गुना)

होलसेल पोर्टफोलियो की बढ़ती ग्रैन्युलैरिटी

- नेट वर्थ के 10 प्रतिशत से ज्यादा कोई एक्सपोजर नहीं, और रियल एस्टेट बुक का 90 प्रतिशत नेट वर्थ से 7 प्रतिशत कम है

- होलसेल लेंडिंग 2.0- छोटे ऋणों और नकदी प्रवाह-समर्थित उधार पर ध्यान देने के साथ कैलिब्रेटेड एप्रोच

हमारे ग्राहकों पर महामारी या वृहद अर्थव्यवस्था में हाल के उतार-चढ़ाव के किसी भी स्थायी प्रभाव का पता लगाने के लिए थोक पोर्टफोलियो का पुनर्मूल्यांकन किया।

- इस आकलन के आधार पर, हमने अपने कुछ गैर-रियल एस्टेट एक्सपोजर को स्टेज 2 में स्थानांतरित कर दिया है और इस प्रकार, हमने कुल 1,037 करोड़ रुपए का अतिरिक्त प्रावधान और ब्याज रिवर्सल किया है। (822 करोड़ रुपए का अतिरिक्त प्रावधान और 215 करोड़  रुपए के ब्याज रिवर्सल सहित।)

- ये ‘होल्डको’ स्ट्रक्चर के तहत किए गए हाई-यील्ड, स्ट्रक्चर्ड मेजेनाइन ऋण थे। हमने इस तरह के सौदे करना बंद कर दिया है।

 

तिमाही आधार पर जीएनपीए और एनएनपीए अनुपात स्थिर

- जीएनपीए अनुपात 3.4 प्रतिशत और एनएनपीए 1.6 प्रतिशत

- 3,735 करोड़ रुपए के कुल प्रावधान, हमारे एयूएम के 5.7 प्रतिशत के बराबर

मजबूत देयता प्रबंधन

- क्यू4 एफवाई22 में एवरेज कॉस्ट ऑफ बॉरोइंग सालाना आधार पर 180 बीपीएस गिरकर 9.1 प्रतिशत हो गई; 79 प्रतिशत बॉरोइंग निश्चित दर पर

21 प्रतिशत के पूंजी पर्याप्तता अनुपात और 2.7 गुना के शुद्ध डेट-टू-इक्विटी को देखते हुए मूल्य अभिवृद्धि अधिग्रहण के साथ-साथ ऑर्गेनिक ग्रोथ के लिए पर्याप्त पूंजी उपलब्ध है

 

फार्मा

- एफवाई 2022 के लिए राजस्व सालाना आधार पर 16 प्रतिशत बढ़कर 6,701 करोड़ रुपए हो गया

- इंडिया कंज्यूमर हेल्थकेयर रेवेन्यू में साल दर साल 48 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई

- कॉम्प्लेक्स हॉस्पिटल जेनरिक रेवेन्यू में साल-दर-साल 20 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई

- सीडीएमओ के राजस्व में सालाना आधार पर 10 प्रतिशत की वृद्धि हुई

- एफवाई 2022 के लिए 1,206 करोड़ रुपए का ईबीआईटीडीए वितरण, ईबीआईटीडीए मार्जिन 18 प्रतिशत पर

- विशिष्ट क्षमताओं आदि में निवेश/क्षमता विस्तार

 

सीडीएमओ

- बायोलॉजिक्स क्षेत्र में सेवाओं का विस्तार करने के लिए यापन बायो में अतिरिक्त हिस्सेदारी हासिल की, अब 33 फीसदी स्वामित्व

- ऑरोरा फेसिलिटी में 23 मिलियन डॉलर के एपीआई के विस्तार के बाद संचालन शुरू हुआ

- मई 2022 में पीथमपुर में ओरल सॉलिड डोसेज फॉर्म के लिए नया प्रोडक्शन ब्लॉक लॉन्च किया गया

- एंटीबॉडी ड्रग कॉन्जुगेट्स और एपीआईएटी ग्रेंजमाउथ और मोरपेथ फेसिलिटी के लिए 74 मिलियन डॉलर के विस्तार की घोषणा की

- रिवरव्यू में एचपीएपीआई सहित ड्रग सब्सटेंसेज के विस्तार की घोषणा

- डेवलपमेंट ऑर्डर बुक में अच्छी वृद्धि और एपीआई सेवाओं में मजबूत मांग

कॉम्प्लैक्स हॉस्पिटल जेनरिक

- कॉम्प्लैक्स हॉस्पिटल जेनरिक व्यवसाय में अमेरिका में प्रमुख जीपीओ के साथ कई अनुबंध एक्सटेंशन क्रियान्वित किए गए

- अमेरिका में इनहेल्ड एनेस्थीसिया की मजबूत बिक्री देखी जा रही है

- इंट्राथेकल पोर्टफोलियो ने यूएस में अपने नेतृत्व की स्थिति को कायम रखा

इंडिया कंज्यूमर हेल्थकेयर

- भारत के उपभोक्ता उत्पाद कारोबार में पावर ब्रांड्स में मजबूत प्रदर्शन

- एफवाई22 में 40 नए उत्पाद लॉन्च किए, अप्रैल-20 से लॉन्च किए गए नए उत्पाद बिक्री में 15 प्रतिशत का योगदान करते हैं

- एफवाई22 राजस्व में लिटल ने 100 करोड़ रुपए का आंकड़ा पार कर लिया। और टेटमोसोल 50 करोड़ रुपए को पार कर गया।

 

वोडाफ़ोन आइडिया फाउन्डेशन ने अपने स्मार्ट एग्री प्रोजेक्ट को यूपी, राजस्थान, असम और तेलंगाना में किया विस्तारित

मुंबई, 27 मई, 2022: वी की सीएसआर शाखा वोडाफ़ोन आइडिया फाउन्डेशन अपने बदलावकारी ‘स्मार्ट एग्री’ प्रोजेक्ट को उत्तर प्रदेश, राजस्थान, असम और तेलंगाना के खेतों में विस्तारित कर रही है। वी की सीएसआर शाखा द्वारा 2020 में शुरू किया गया स्मार्ट एग्री प्रोजेक्ट आध्ुानिक तकनीकों के द्वारा किसानों की आजीविका में सुधार लाने और उन्हें खेती के स्थायी तरीके अपनाने में मदद करता है।

इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी), आर्टीफिशियल इंटेलीजेन्स (एआई) एवं रियल टाईम टेक्नोलॉजी समाधानों के उपयोग से स्मार्ट एग्री प्रोजेक्ट किसानों को खेती से जुड़ी हर महत्वपूर्ण जानकारी देता है- जैसे उन्हें मिट्टी एवं वायु की गुणवत्ता, हवा, कीटों की मौजूदगी एवं फसलों के विकास के बारे में बताता है।

किसानों को अपनी फसलों के लिए महत्वपूर्ण कृषि इनपुट पर रियल-टाईम एवं स्थानीकृत अडवाइज़री दी जाती है, उन्हें बाज़ार, सरकारी नीतियों एवं योजनाओं के बारे में हर खबर मिलती रहती है। उन्हें मोबाइल फोन के माध्यम से उनकी अपनी भाषा में यह जानकारी दी जाती है और अगर वे पढ़ने में सक्षम न हों तो ऑडियो के विकल्प भी होते हैं।

महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में लॉन्च किया गया स्मार्ट एग्री प्रोजेक्ट अब चार और राज्यों में विस्तारित किया जा रहा है। यह प्रोजेक्ट 2.8 लाख से अधिक किसानों की उत्पादकता को 8-12 फीसदी बढ़ाने और लागत में 15-20 फीसदी कमी लाने में मदद कर रहा है।

स्मार्ट एग्री प्रोजेक्ट के विस्तार पर बात करते हुए पी बालाजी, चीफ़ रेग्युलेटरी एण्ड कॉर्पोरेट अफे़यर्स ऑफिसर, वीआईएल एवं डायरेक्टर, वोडाफ़ोन आइडिया फाउन्डेशन ने कहा, ‘‘कृषि आज भी 58 फीसदी भारतीय आबादी के लिए आजीविका का प्राथमिक स्रोत है, 70 फीसदी ग्रामीण परिवार कृषि पर ही निर्भर हैं। वोडाफ़ोन आइडिया फाउन्डेशन का स्मार्ट एग्री प्रोजेक्ट आधुनिक तकनीक के उपयोग द्वारा देश की कृषि प्रथाओं में बदलाव ला रहा है और किसानों को अपनी फसल उत्पादकता बढ़ाने के लिए तकनीक एवं ‘इंटेलीजेन्ट’ समाधानों के उपयोग का आत्मविश्वास दे रहा है। हमारे तकनीकी हस्तक्षेपों के परिणामस्वरूप किसानों की फसल उत्पादकता और मुनाफ़ा बढ़ा है, जिससे भारतीय कृषि क्षेत्र पर सकारात्मक सामाजिक प्रभाव उत्पन्न हुआ है। हमें खुशी है कि अब हम चार राज्यों उत्तर प्रदेश, राजस्थान, असम और तेलंगाना में इस परियोजना का विस्तार कर 2.8 लाख से अधिक किसानों को इस बदलाव का लाभ उठाने में सक्षम बना रहे हैं।’’

वोडाफ़ोन आइडिया फाउन्डेशन अब उत्तर प्रदेश (हरदोई, लखीमपुर), राजस्थान (बूंदी, कोटा, टोंक, बारन), असम (डिब्रुगढ़, जोरहाट, तिनसुकिया, उदलगुड़ी) और तेलंगाना (आदिलाबाद) में किसानों को लाभान्वित करने के लिए आधुनिक तकनीक का विस्तार कर रहा है।

स्मार्ट एग्री छोटे किसानों को उनकी उत्पादकता बढ़ाने के लिए कृषि की स्थायी तरीके अपनाने हेतु भौतिक सहायता प्रदान करता है। इसने किसानों की मदद के लिए 125 टेक-सेवी युवा कृषि उद्यमियों एवं 15 किसान उत्पादक संगठनों को अपने साथ जोड़ा है तथा उन्हें फसलों के बारे में हर जानकारी पाने में मदद करता है।

एलएंडटी एडुटेक ने एआईसीटीई के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए

अन्ना विश्वविद्यालय को उद्योग-उन्मुख (industry Oriented) पाठ्यक्रम भी प्रदान करता है

चेन्नई. लार्सन एंड टुब्रो के हाइब्रिड लर्निंग प्लेटफॉर्म एलएंडटी एडुटेक ने अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर कर यह घोषणा की है यह वर्क प्लेस के लिए तैयार प्रतिभाओं को तैयार करने की है और कहा है कि यह अन्ना विश्वविद्यालय, चेन्नई के छात्रों के लिए संक्षिप्त उद्योग-उन्मुख पाठ्यक्रम भी पूरा कर लिया गया है।

एलएंडटी एडुटेक द्वारा पेश किए गए लर्निंग मॉड्यूल अब एआईसीटीई की वेबसाइट पर प्रदर्शित किए जाएंगे और देश भर के इंजीनियरिंग छात्रों के लिए उनकी वैचारिक शिक्षा (conceptual learning) को सुदृढ़ करने और उन्हें इंडस्ट्री के लिहाज से प्रोफेशनल प्रैक्टिस के सिद्धांतों से अवगत कराने के लिए सुलभ होंगे, जिससे उनके रोजगार पाने की क्षमता में सुधार होगा।

एलएंडटी द्वारा आयोजित एकेडमिक लीडरशिप समिट 2022' में बोलते हुए, एआईसीटीई के सदस्य सचिव, प्रोफेसर राजीव कुमार ने युवा इंजीनियरों को अधिक कुशल बनने में मदद करने के लिए एक उद्योग-उन्मुख पाठ्यक्रम की तत्काल आवश्यकता पर जोर दिया और विश्वविद्यालयों और स्वायत्तसाशी संस्थानों से अपनी स्वायत्तता का अधिक से अधिक उपयोग करने का आग्रह किया ताकि इंजीनियरिंग छात्रों के तकनीकी ज्ञान और रोजगार क्षमता को बढ़ाया जा सके।

एलएंडटी के मुख्य कार्यकारी सब्यसाची दास ने कहा कि हम एक नए इंडस्ट्री लीडरशिप में एप्लिकेशन-आधारित प्रैक्टिकल लर्निंग प्लेटफार्म हैं, जिसका टेक्नोलॉजी में वर्चस्व है और जो इंडस्ट्री की प्रतिभाओ तैयार करने के लिए इंजीनियरिंग और टेक्नोलॉजी के वर्टिकल के पूरे स्पेस में फैला हुआ है। उन्होंने आगे कहा कि अपनी क्षमताओं में इजाफा करते हुए हम ज्यादा से ज्यादा युवाओं को सशक्त बनाने की राह पर निकल पड़े हैं और भारत की ग्रोथ स्टोरी में योगदान करने के लिए बेहतर ढंग से सुसज्जित हैं और इस तरह एलएंडटी के राष्ट्र के निर्माण में कदम दर कदम बढ़ाए जा रहा है।

एलएंडटी एडुटेक ने पहले चरण के रूप में अपने प्री-फाइनल और अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए संक्षिप्त उद्योग-उन्मुख पाठ्यक्रम प्रदान करने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त संस्थान, अन्ना यूनिवर्सिटी (एयू), चेन्नई के साथ भी हाथ मिलाया है।
जैसे-जैसे अधिक से अधिक कंपनियां नौकरी के लिए तैयार उम्मीदवारों की तलाश करती हैं, एलएंडटी एडुटेक कृत्रिम प्रयोगशालाओं और इमर्सिव कार्यक्रमों के माध्यम से लाइव उद्योग प्रदर्शन प्रदान करता है।

अन्ना विश्वविद्यालय के चांसलर डॉ. वेलराज ने कहा कि एल एंड टी एडुटेक ने रोमांचक 'एप्लाइड इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम तैयार किए हैं जो पिछले कई दशकों में एल एंड टी द्वारा विकसित कौशल से प्रतिस्पर्धात्मक लाभ प्राप्त करते हैं , ताकि सीखनेवालों को एक सतत विकसित उद्योग की मांगों को पूरा करने के लिए वास्तविक दुनिया की समस्याओं के साथ आवश्यक कौशल बनाने में मदद मिल सके। उन्होंने कहा कि एलएंडटी की यह नई पहल जो शैक्षणिक संस्थानों से जुड़ती है, आने वाले दिनों में रोजगार और आर्थिक उत्थान में योगदान देने वाली इंजीनियरिंग में कौशल आधारित शिक्षा के लिए सही प्लेटफॉर्म तैयार करेगी।

एलएंडटी एडुटेक मजबूत मूल्यांकन और प्रमाणन प्रक्रियाओं के आधार पर कॉलेज कनेक्ट, प्रोफेशनल और वोकेशनल स्किलिंग के तीन वर्टिकल के तहत पाठ्यक्रम प्रदान करता है। कॉलेज कनेक्ट वर्टिकल कोर इंजीनियरिंग स्ट्रीम जैसे सिविल, इलेक्ट्रिकल, मैकेनिकल और इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में समग्र, बहु-विषयक, उद्योग-प्रासंगिक पाठ्यक्रमों को क्यूरेट करता है, जो मिश्रित मोड में इंटरैक्टिव लर्निंग मॉड्यूल के रूप में पेश किए जाते हैं। ये पाठ्यक्रम इंजीनियरिंग के लिए क्रेडिट सिस्टम के अनुरूप हैं और मौजूदा सेमेस्टर पैटर्न में भी फिट हो सकते हैं।


लार्सन एंड टुब्रो एक भारतीय मल्टीनेशल कंपनी है जो ईपीसी प्रोजेक्ट्स, हाईटेक मैन्यूफैक्चरिंग और सेवाओं को यह प्रदान करती है। इसका परिचालन 50 से ज्यादा देशों में फैला हुआ है। एक मजबूत, ग्राहक-केंद्रित दृष्टिकोण और शीर्ष-श्रेणी की गुणवत्ता के लिए निरंतर खोज ने एलएंडटी को अपने प्रमुख में नेतृत्व प्राप्त करने और बनाए रखने में सक्षम बनाया है। इस सेक्टर में यह आठ दशक से कारोबार कर रही है।

गोदरेज रेनट्रस्ट ने मैटेरियल हैंडलिंग के लिए रेंटल सॉल्यूशंस देने में साल दर साल 23% का वृद्धि का लक्ष्य रखा

मुंबई, 27 मई 2022: गोदरेज समूह की प्रमुख कंपनी गोदरेज एंड बॉयस ने घोषणा की है कि उनका व्यवसाय गोदरेज रेनट्रस्ट ने जटिल सामग्री हैंडलिंग ज़रूरतों के लिए किराये के समाधान प्रदान करने में सालाना 23% की वृद्धि का लक्ष्य रख रहा है। व्यवसाय ने अपनी आय के पूर्व-महामारी स्तर को पार कर लिया है और उनकी आय लगातार बढ़ रही है। गोदरेज रेनट्रस्ट रेंटल सॉल्यूशन प्रदान करने वाली एकमात्र भारतीय कंपनी है जो अपने ग्राहकों के लिए भारत में सामग्री हैंडलिंग उपकरण बनाती है और प्रदान करती है, और इस तरह से यह कंपनी वोकल फॉर लोकल संचालन रणनीति के साथ 'आत्मनिर्भर भारत' के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों को बढ़ावा दे रही है।

जटिल और आधुनिक मटेरियल हैंडलिंग काम को आउटसोर्सिंग करने पर उद्यमों के ज़ोर होने की वजह से इस उद्योग का मूल्य करीबन 600 से 650 करोड़ और बिज़नेस के लिए उपलब्ध कुल मार्केट का मूल्य 200 से 250 करोड़ है।

टियर 3 और टियर 4 बाजारों में ई-कॉमर्स के बढ़ने के साथ-साथ, वेयरहाउसिंग इक्विपमेंट की मांग भी बढ़ रही है। सभी उद्योगों में कंपनियां, विशेष रूप से परियोजना पर आधारित काम करने वाली कंपनियां, अपने संचालन का विस्तार करने और अन्य मुख्य दक्षताओं पर ध्यान केंद्रित कर पाने के लिए उपकरण किराए पर लेने पर ज़ोर देती हैं और सामग्री की आउटसोर्सिंग कर रही हैं। उनकी इस आवश्यकता को पूरा करने के लिए, गोदरेज रेनट्रस्ट ने अपने रेंटल फ्लीट में 1,000 से अधिक सामग्री हैंडलिंग उपकरण शामिल किए हैं। गोदरेज रेनट्रस्ट अपने ग्राहकों के लिए उपकरण और रखरखाव, कुशल ऑपरेटर्स, प्रशासन और मूल्य वर्धित समाधान जैसे परिपूर्ण रेंटल समाधानों को उपभोक्ताओं की ज़रूरतों के अनुसार उपलब्ध कराता है।

गोदरेज मटेरियल हैंडलिंग के कार्यकारी वीपी और बिजनेस हेड, श्री अनिल लिंगायत ने कहा, आज के जटिल मटीरियल हैंडलिंग के दौर में उत्पादकता बढ़ाने, लागत को अनुकूलित करने और ग्राहकों को त्वरित परिणाम दे पाने के लिए उद्योग विशेषज्ञता की आवश्यकता है। मार्केट के 23 फीसदी हिस्से के साथ गोदरेज रेनट्रस्ट एक अग्रणी संगठित कंपनी है, जो पूरे दशक भर से अपने क्लाइंट्स को पूरे भारत में उनकी मैटेरियल हैंडलिंग आवश्यकताओं के लिए रेंटल सॉल्यूशंस दे रही है। वित्तीय वर्ष 25 तक रेंटल फ्लीट में लगभग 2500 मटेरियल हैंडलिंग उपकरणों को शामिल करने का मध्यावधि लक्ष्य हमने रखा है। आगे बढ़ते हुए, हम भारतीय और साथ ही वैश्विक खिलाड़ियों के साथ साझेदारी करने के लिए उत्सुक हैं, ताकि हमारे ग्राहकों को सर्वश्रेष्ठ और शुरूआत से लेकर आखिर तक सभी मटेरियल हैंडलिंग रेंटल समाधान प्रदान किए जा सकें।”   

सीज़नल मांग, भारी वज़न और संबंधित बाज़ारों में अचानक से होने वाली वृद्धि इनकी वजह से कंपनियां रेंटल उद्योग पर काफी ज़्यादा निर्भर होती हैं, साथ ही साथ महामारी की वजह से अत्यावश्यक सेवाओं की प्रक्रियाएं तेज़ हुई हैं, जिसके कारण मटेरियल हैंडलिंग उपकरणों के रेंटल सॉल्यूशंस देने वाली कंपनियों के व्यवसाय में बड़ी उछाल आयी है। 

Thursday, May 26, 2022

डेल्फिक के लोक संगीत कार्यक्रम ‘अलमस्त जोगी’ में गूंजेंगी भपंग की स्वरलहरियां


जयपुर। 
आजादी का अमृत महोत्सव के तहत डेल्फिक काउंसिल ऑफ राजस्थान द्वारा लोक कला, संगीत व संस्कृति संरक्षण एवं संवर्धन के उद्देश्य से 28 मई को राजस्थानी लोक कला को समर्पित कार्यक्रम ‘अलमस्त जोगी’ आयोजित किया जाएगा। कार्यक्रम में प्रसिद्ध भपंग वादक कलाकार जुम्मा जोगी अपने ग्रुप के साथ प्रस्तुति देंगे। यह आयोजन जेकेके के कृष्णायन में शाम 6 बजे से होगा। डेल्फिक काउंसिल ऑफ राजस्थान की अध्यक्ष श्रेया गुहा ने जानकारी देते हुए बताया कि भपंग वाद्ययंत्र मेवाती संगीत संस्कृति की धरोहर एवं राजस्थानी लोक-संगीत की पहचान है। वर्तमान परिवेश में धरातल से लुप्त होती लोककला, लोक गीतों एवं लोक वाद्य यंत्रों जैसे की भपंग आदि की संस्कृति को जीवित रखने एवं नई पीढ़ी के लोगों को इनसे जोड़ने के लिए इस कार्यक्रम का निर्धारण किया गया है। गुहा के आगे बताया कि कार्यक्रम में जुम्मा जोगी द्वारा भपंग वादन की प्रस्तुति में उनके ग्रुप अन्य 5 कलाकार चिमटा, हारमोनियम, ढोलक, भपंग और मंजीरे पर प्रस्तुति देकर इस लोक संगीत कार्यक्रम को और अधिक रोचक एवं प्रभावशाली बनाने में साथ देंगें। अलवर के पिनान गांव से ताल्लुक़ रखने वाले जुम्मा जोगी पारंपरिक गीतों के साथ सामाजिक मुद्दों (भ्रष्टाचार, सामाजिक भेदभाव, अशिक्षा) पर अपने व्यंग्य गीतों के लिए जाने जाते हैं। बालिका शिक्षा पर केंद्रित इनके कई गीत आमजन में काफ़ी लोकप्रिय हैं। 15 वर्ष की उम्र से भपंग वादन शुरू करने वाले जुम्मा के स्वरचित मनभावन संगीत को शहरी एवं ग्रामीण लोगों के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पसंद किया जाता है। जुम्मा जोगी लंदन में आयोजित आईट्यून्स फेस्टिवल में भी प्रस्तुति दे चुके हैं और धरोहर बैंड का हिस्सा भी रह चुके हैं। गौरतलब है की डेल्फिक काउंसिल ऑफ राजस्थान निरंतर कला एवं संस्कृति से जुड़े विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन कर रहा है और प्रतिमाह एक ऑनलाइन एवं एक मंचीय कार्यक्रम इसके बैनर तले आयोजित किए जाते हैं। गत एक वर्ष में 28 ऑनलाइन डेल्फिक डायलॉग्स के अतिरिक्त  कला कार्यशाला, नाट्य मंचन हास्यचूड़ामणि, नृत्य नाटिका गेम ऑफ डाइस एवं मज़ार-ए-लैला मजनू फिल्म स्क्रीनिंग जैसे विभिन्न कार्यक्रमों के सफल आयोजन में अपनी भूमिका बखूबी निभा चुका है।

एमयूजे के 'द स्टार्टअप मेला 1.O' में स्टार्टअप्स ने अपने नवाचारों का किया प्रदर्शन


जयपुर। 
अटल इनक्यूबेशन सेंटर, मणिपाल यूनिवर्सिटी जयपुर ने हाल ही में  'द स्टार्टअप मेला 1.O' की मेजबानी की। यह एक स्टार्टअप एक्सपो था, जहां स्टार्टअप्स ने अपने नवाचारों का प्रदर्शन किया।कार्यक्रम का उद्घाटन मणिपाल यूनिवर्सिटी जयपुर की रजिस्ट्रार, डॉ नीतू भटनागर ने किया। संयोजक पुनीत दत्ता (सीईओ, एआईसी-एमयूजे) और रवींद्र यादव (सामुदायिक प्रबंधक, एआईसी-एमयूजे) थे। इस आयोजन में अहमदाबाद, जयपुर, चेन्नई सहित कई अन्य शहरों के स्टार्टअप्स ने भाग लिया और लाभान्वित हुए। इसमें कई स्टार्टअप आकर्षण का केंद्र थे और बड़ी संख्या में दर्शक शामिल हुए। यह कार्यक्रम युवा उद्यमियों के लिए अपने नवाचारों को शिक्षाविदों, उद्योग विशेषज्ञों, निवेशकों और मेन्टर्स के सामने प्रदर्शित करने और असाधारण नेटवर्क के लिए पुल बनाने में मदद करने का एक अनोखा अवसर था। एक्सपो का लक्ष्य यह देखना था कि हमारे राष्ट्र की युवा भावना को नए और आने वाले उद्योगों में बढ़ने और पावरहाउस बनने के लिए पर्याप्त देखभाल और जीविका प्रदान की जाए।

टूरिज्म और हॉस्पिटैलिटी यूनिट्स के लिए पर्यटन विभाग से प्राप्त होंगे 'एंटाइटलमेंट सर्टिफिकेट'

जयपुर। इंडस्ट्री स्टेटस के लाभ उठाने के लिए टूरिज्म और हॉस्पिटैलिटी यूनिट्स अब पर्यटन विभाग से 'एंटाइटलमेंट सर्टिफिकेट' के लिए आवेदन कर सकती हैं। इसके लिए हाल ही में विभाग की ओर से आदेश जारी किया गया है। राजस्थान सरकार के पर्यटन मंत्री, श्री विश्वेन्द्र सिंह ने कहा कि जो इकाइयां पात्र हैं, वे सभी आसानी से प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकती हैं। गौरतलब है कि राज्य सरकार ने 2022-2023 के वित्तीय बजट में औद्योगिक मानदंडों के तहत टूरिज्म और हॉस्पिटैलिटी क्षेत्र को लाभ प्राप्त करने के लिए मंजूरी दी थी। इन मानदंडों के अनुसार, इस क्षेत्र पर सरकारी शुल्क और अन्य शुल्क उद्योगों के समान होंगे। 'एंटाइटलमेंट सर्टिफिकेट' के लिए राजस्थान पर्यटन इकाई नीति 2015 में सूचीबद्ध इकाइयों की श्रेणी आवेदन के लिए पात्र हैं। उपरोक्त के अलावा अन्य श्रेणियां हैं - राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना में प्रस्तावित इकाइयां; इकाइयां जिन्होंने राजस्थान इन्वेस्टमेंट प्रमोशन स्कीम (आरआईपीएस) के तहत लाभ प्राप्त किया है; जिन इकाइयों ने मुख्यमंत्री लघु उद्योग प्रोत्साहन योजना (एमएलयूपीवाई) के तहत लाभ प्राप्त किया है; राजस्थान पर्यटन विकास निगम (आरटीडीसी) और राजस्थान राज्य होटल निगम की इकाइयां; और केंद्र व राज्य सरकार के अधीन आने वाले सभी राजकीय संग्रहालय। 'एंटाइटलमेंट सर्टिफिकेट' प्राप्त करने की इच्छुक इकाइयां राज्य सरकार के एसएसओ पोर्टल (https://sso.rajasthan.gov.in) के पर्यटन विभाग सेवा ऐप पर ऑनलाइन आवेदन कर सकती हैं। पर्यटन विभाग द्वारा प्राप्त आवेदनों का 30 कार्य दिवसों के भीतर स्थानीय पर्यटन कार्यालयों द्वारा परीक्षण कर निस्तारण किया जाएगा, यदि आवेदन सभी प्रकार से पूर्ण है। फेडरेशन ऑफ हॉस्पिटैलिटी एंड टूरिज्म ऑफ राजस्थान (एफएचटीआर) के अध्यक्ष, अपूर्व कुमार ने कहा कि 'एंटाइटेलमेंट सर्टिफिकेट' प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन आवेदन पत्र भरना आसान है। साथ ही 30 कार्य दिवसों के भीतर इसकी मंजूरी स्पष्ट रूप से पर्यटन क्षेत्र को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए राज्य सरकार की सकारात्मक सोच को दर्शाती है।

एस्सार पोर्ट्स पारादीप टर्मिनल ने 'आत्मनिर्भर' भारत का मार्ग प्रशस्त करते हुए रिकॉर्ड थ्रूपुट और परिचालन उत्कृष्टता दर्ज कराई

मुंबई, 26 मई, 2022: एस्सार पोर्ट्स - पारादीप टर्मिनल ने अप्रैल'22 के लिए 0.8 MMT कार्गो हैंडलिंग दर्ज कराई है, यानी वित्त वर्ष 22 -23 में 9.5 MMT का रन रेट, अर्थात वार्षिक आधार पर ~40% की वृद्धि टर्मिनल ने वित्तीय वर्ष 2021 -22 के दौरान ~ 6.8 MMT का रिकॉर्ड कार्गो भी हैंडल किया है जोकि इसकी कमिशनिंग के बाद से लेकर अब तक का हैंडल किया गया सर्वाधिक वार्षिक कार्गो है। थ्रूपुट में उछाल अर्थव्यवस्था के प्रोत्साहन और पारादीप टर्मिनल के संचालन में उत्कृष्टता को दर्शाता है।

इसने प्रति दिन 1.23 दिनों के औसत बर्थ टर्नअराउंड टाइम (टीएटी) स्कोर के साथ एक दिन में 70,000 टन की उच्चतम लोड दर भी दर्ज की। वित्त वर्ष 2021 -22 का औसत थ्रूपुट 49,500 टन/दिन रहा। यह टर्मिनल अपनी कमिशनिंग के बाद से ~33 MMT कार्गो हैंडल कर चुका है और 556 जहाजों को सेवा प्रदान कर चुका है।

एस्सार के ऑपरेटिंग पार्टनर (इन्फ्रास्ट्रक्चर) और एस्सार पोर्ट्स के प्रबंध निदेशक, श्री राजीव अग्रवाल ने कहा, "बाजार की कठिन परिस्थितियों के बावजूद सर्वश्रेष्ठ कार्गो थ्रूपुट प्राप्त करने के लिए मैं पारादीप टर्मिनल की टीम को बधाई देता हूं। यह शानदार प्रदर्शन हमारे ग्राहकों और व्यापार को स्थिरतापूर्वक बढ़त देने की हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है। हमारा समग्र प्रदर्शन हमारे अभिनव दृष्टिकोण, अत्याधुनिक समाधानों के विकास और नवीनतम प्रौद्योगिकी में निवेश का परिणाम है। टर्मिनल में किए गए सभी निवेश एस्सार की ईएसजी विचारधारा और उस दृष्टिकोण को दर्शाते हैं कि यहाँ मुनाफे से अधिक लोगों को प्राथमिकता दी जाती है।"

एस्सार पोर्ट्स को प्रौद्योगिकी, पर्यावरण के अनुकूल तंत्र और कुशल हैंडलिंग सिस्टम में निवेश करने के लिए जाना जाता है। कंपनी के पारादीप टर्मिनल में पूरी तरह से मशीनीकृत पर्यावरण अनुकूल बुनियादी ढांचा है जिसमें वैगन टिपलर, स्टैकर्स और रिक्लेमर, शिप लोडर और अनलोडर शामिल हैं। गैर-मशीनीकृत हैंडलिंग को समाप्त करके, टर्मिनल इन्फ्रास्ट्रक्चर अपने ग्राहकों को कम लागत पर सेवाएँ प्रदान करता है। इसके अलावा, टर्मिनल के गहरे ड्राफ्ट ने लागत में बचत और बड़े पार्सल में मदद की है, जिसके चलते कार्बन फुटप्रिंट कम करने में मदद मिली है।

एस्सार पोर्ट्स, एस्सार ग्लोबल फंड लिमिटेड (ईजीएफएल) के इंफ्रास्ट्रक्चर एंड लॉजिस्टिक्स पोर्टफोलियो के तहत आता है, जिसका प्रबंधन एस्सार कैपिटल लिमिटेड द्वारा इसके निवेश प्रबंधक के रूप में किया जाता है।

पारादीप बंदरगाह में 16 एमटीपीए ऑल - वेदर डीप - ड्राफ्ट टर्मिनल रणनीतिक रूप से चीन, जापान, म्यांमार और शेष दक्षिण - पूर्व - एशियाई क्षेत्र के करीब बंगाल की खाड़ी में स्थित है। यह टर्मिनल भारत के भीतर इस्पात उद्योग के लिए तटीय मूवमेंट में भी सेवा प्रदान करता है।

होण्डा इंडिया रेसिंग टीम एशिया रोड रेसिंग चैम्पियनशिप 2022 के दूसरे राउण्ड के लिए मलेशिया पहुंची

सेपांग इंटरनेशनल सर्किट (मलेशिया) 26 मई, 2022ः होण्डा रेसिंग इंडिया-होण्डा मोटरसाइकल एण्ड स्कूटर इंडिया (एचएमएसआई) कीएकमात्र भारतीय रेसिंग टीमएशिया रोड रेसिंग चैम्पियनशिप 2022 के दूसरे राउण्ड के लिए पूरी तरह से तैयार है।

मार्च 2022 में थाईलैण्ड में पहले राउण्ड के बाद, एशिया की सबसे मुश्किल मोटरस्पोर्ट रेसिंग चैम्पियनशिप अब मलेशिया के सेपांग इंटरनेशनल सर्किट पहुंच गई है। इस सप्ताहान्त भारतीय राइडरों राजीव सेथु और सेंथिल कुमार की जोड़ी एशिया प्रोडक्शन 250 सीसी (एपी 250) क्लास में 6 देशों (इंडोनेशिया, जापान, मलेशिया, फिलीपीन्स, थाईलैण्ड और वियतनाम) के 16 एशियाई राइडरों के साथ मुकाबला करेगी।

आगामी दूसरे राउण्ड पर बात करते हुए श्री प्रभु नागराज, ऑपरेटिंग ऑफिसर- ब्राण्ड एण्ड कम्युनिकेशन, होण्डा मोटरसाइकल एण्ड स्कूटर इंडिया ने कहा, ‘‘2022 एआरआरसी सीज़न की शुरूआत होण्डा रेसिंग इंडिया के लिए बहुत अच्छी हुई। राजीव और सेंथिल दोनों ने टीम के लिए कीमती पॉइन्ट्स स्कोर किए। सेपांग इंटरनेशनल सर्किट के पूर्व अनुभव एवं पहले राउण्ड के बाद प्रतिस्पर्धा की भावना के साथ, हमारे राइडरों ने और बेहतर परफोर्मेन्स देने का लक्ष्य रखा है। इस सप्ताहान्त हम दूसरे राउण्ड में प्रवेश कर रहे हैं, एसे में हम इस राउण्ड को लेकर बेहद आशावादी हैं और इस राउण्ड का अधिकतम लाभ उठाने के लिए तत्पर हैं।’’

एशिया प्रोडक्शन (एपी250) क्लास में अनुभवी राजीव सेथु एआरआरसी का नेतृत्व करेंगे, जिनके लिए 2022 एआरआरसी का चौथा सीज़न है। सेपांग में ही राजीवने 2019 में एआरआरसी की एपी 250 क्लास में 11 वें स्थान पर सर्वश्रेष्ठ फिनिश करने वाले भारतीय राइडर का रिकॉर्ड बनाया था। अब फिर से सेपांग में शानदार परफोर्मेन्स के लिए तैयार राजीव, अपनी किटी में 8 पॉइन्ट्स के साथ इस राउण्ड में प्रवेश कर रहे हैं।

सेपांग न सिर्फ राजीव के लिए बल्कि उनके साथी सेंथिल कुमार के लिए भी स्पेशल है। आखिरकार यहां उनकी पहली एआरआरसी रेस में ही उन्होंने अपना पहला टॉप 14 स्थान हासिल किया और भारतीय टीम के लिए 2 पॉइन्ट्स हासिल किए। 2022 के पहले राउण्ड के बाद, सेंथिल अभी 3 पॉइन्ट्स के साथ 15वें स्थान पर हैं।

एआरआरसी के दूसरे राउण्ड को लेकर बेहद उत्साहित राजीव सेथु ने कहा, ‘‘मैं सेपांग के मैदान में उतरने के लिए बेसब्री से इंतज़ार कर रहा हूं। ग्रिड बहुत प्रभावशाली है। मैदान पर रेसिंग करने वाला हर राइडर मेरे लिए मुश्किल प्रतियोगी है। अपनी टीम के सहयोग, अपने मेंटर के मार्गदर्शन और कुशल टेकनिशियनों के सहयोग से मुझे विश्वास है कि मैं इस राउण्ड में बेहतर परिणाम हासिल करूंगा।’’

चैम्पियनशिप के दूसरे साल में, सेंथिल कुमार ने कहा, ‘‘सेंपांग में वापस आकर मैं बेहद खुश हूं। यह मैदान मेरे लिए बेहद खास है क्योंकि मैंने इसी सर्किट पर एआरआरसी में सर्वश्रेष्ठ परफोर्मेन्स का रिकॉर्ड बनाया था। इस राउण्ड के लिए मैंने कड़ी मेहनत की है और मैं बेहतर परफोर्मेन्स के लिए तैयार हूं।’’

2022 एफआईएम एशिया रोड रेसिंग चैम्पियनशिप के बारे में

एफआईएम एशिया रोड रेसिंग चैम्पियनशिप का 25वां संस्करण, एशिया की सबसे प्रतिस्पर्धी मोटरसाइकल रोड रेसिंग चैम्पियनशिप है, जिसका आयोजन 1996 से किया जा रहा है। 2022 सीज़न में कुल छह राउण्ड हैं।जिनकी शुरूआत 22 मार्च 2022 को थाईलैण्ड के चैंग इंटरनेशनल सर्किट में सीज़न ओपनर और ऑफिशियल टेस्ट के साथ हुई। अब इस सप्ताहान्त यह प्रतियोगिता मलेशिया के सेपांग इंटरनेशनल सर्किट पहुंच रही है। जुलाई 2022 के तीसरे राउण्ड के लिए वैन्यू की घोषण अभी नहीं की गई है, 2022 एफआईएम एशिया रोड रेसिंग चैम्पियनशिप अगस्त 2022 में जापान के स्पोर्ट्स लैण्डसुगा इंटरनेशनल सर्किट पर अपनी शुरूआत करेगी। सितम्बर 2022 में चीन के झुहाई इंटरनेशनल सर्किट में पेनल्टीमेट राउण्ड होगा और उम्मीद की जा रही है कि इसी साल नवम्बर माह में थाईलैण्ड के चैंग इंटरनेशनल सर्किट पर चैम्पियनशिप का समापन होगा।

एल एंड टी बना दुनिया का दूसरा सबसे मजबूत इंजीनियरिंग एवं कंस्ट्रक्शन ब्रांड

मुंबई, 26 मई 2022:ईपीसी परियोजनाओं, उच्च-प्रौद्योगिकी विनिर्माण और सेवाओं में संलग्न भारतीय बहुराष्ट्रीय कंपनी, लार्सन एंड टुब्रो (एल एंड टी) को दुनिया की अग्रणी ब्रांड वैल्यूएशन कंसल्टेंसी, ब्रांड फाइनेंस द्वारा शीर्ष 50 वैश्विक इंजीनियरिंग एवं कंस्ट्रक्शन (ई एंड सी) कंपनियों में ‘दूसरे सबसे मजबूत ब्रांड' का दर्जा दिया गया है।

एल एंड टी को लंदन स्थित कंसल्टेंसी द्वारा अपनी 'इंजीनियरिंग एंड कंस्ट्रक्शन 50 - 2022' रिपोर्ट में 'थर्ड फास्टेस्ट ग्रोइंग ब्रांड' के रूप में भी स्थान दिया गया है। यह 'सबसे मूल्यवान वैश्विक ई एंड सी फर्मों' में शामिल एकमात्र भारतीय कंपनी है। 50 देशों में अपनी मौजूदगी के साथ एल एंड टी ने पिछले वर्ष की तुलना में अपने ब्रांड मूल्य में 44 प्रतिशत की बढ़त हासिल की है।

इस उपलब्धि पर एल एंड टी के प्रवक्ता ने कहा, "इस ब्रांड की पहचान सिर्फ इसके एक नाम या लोगो तक ही सीमित नहीं है। इसकी पहचान इसके द्वारा अर्जित विश्वास, प्रतिष्ठा, मूल्य प्रणाली और इसके साख से है। हम ब्रांड फाइनेंस द्वारा इंजीनियरिंग और निर्माण क्षेत्र में दूसरे सबसे मजबूत वैश्विक ब्रांड के रूप में पहचान पाकर सम्मानित महसूस कर रहे हैं। यह सम्मान हमारी टीम की उत्कृष्टता के प्रति प्रतिबद्धता और अपने वादों को पूरा करने की हमारी क्षमता में हमारे ग्राहकों के भरोसे का प्रमाण है।"

"हम हमारे ब्रांड और हमारे व्यवसाय के भविष्य को लेकर बेहद आशावान और उत्साहित हैं। नए बाजारों और नए क्षेत्रों में निरंतर विकास और विस्तार के साथ, हमें विश्वास है कि हम अपनी मजबूत नींव पर निर्माण जारी रखेंगे और वैश्विक उद्योग में एक अग्रणी कंपनी के रूप में अपनी स्थिति मजबूत करेंगे।"

एल एंड टी की ब्रांड क्षमता में काफी वृद्धि हुई, एएए की रेटिंग के साथ इसका ब्रांड स्ट्रेंथ इंडेक्स (बीएसआई) 7.1 अंक बढ़कर 83.9/100 हो गया। 'सर्वाधिक मूल्यवान ई एंड सी 50 - 2022' ब्रांडों शामिल एल एंड टी एकमात्र भारतीय ब्रांड है।

ब्रांड एल एंड टी को इन्फ्रास्ट्रक्चर, कंस्ट्रक्शन, हाइड्रोकार्बन, हेवी इंजीनियरिंग और डिफेंस इंजीनियरिंग जैसे प्रमुख क्षेत्रों के लिए तकनीकी प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए जाना जाता है। मुश्किल प्रोजेक्ट्स को पूरा करने में कंपनी की प्रतिष्ठा ने एल एंड टी को उद्योग के उत्कृष्ट वर्ग में स्थान दिलाया है। इसने भारत और दुनिया भर की कुछ सबसे बड़ी, सबसे लंबी और सबसे ऊंची निर्माण परियोजनाएं पूरी की हैं - जो इस बात का सबूत है कि प्रौद्योगिकी संचालित ई एंड सी ब्रांड आसानी से किसी भी चुनौती से निपट सकता है!

ब्रांड फाइनेंस हर वर्ष दुनिया के 5,000 सबसे बड़े ब्रांडों की पड़ताल करता है, और सभी क्षेत्रों एवं देशों के ब्रांड्स की रैंकिंग के लिए लगभग 100 रिपोर्ट प्रकाशित करता है। इंजीनियरिंग और निर्माण उद्योग के दुनिया के शीर्ष 50 सबसे मूल्यवान और मजबूत ब्रांड को वार्षिक ब्रांड फाइनेंस इंजीनियरिंग एंड कंस्ट्रक्शन 50 रैंकिंग में शामिल किया जाता है।

ब्रांड फाइनेंस ने लगातार अपने छठवें वर्ष के अध्ययन में 36 देशों और 29 क्षेत्रों को शामिल किया है। इसमें वार्षिक रूप से 100,000 से अधिक प्रतिक्रियादाताओं को शामिल किया जाता है। ब्रांड वैल्यूएशन कंसल्टेंसी, ब्रांड वैल्यू को विशेष रूप से ब्रांड की प्रतिष्ठा से संबंधित कमाई के वर्तमान मूल्य के रूप में परिभाषित करती है, जबकि ब्रांड को मार्केटिंग से संबंधित अमूर्त परिसंपत्ति के रूप में वर्णित किया जाता है।

ब्रांड फाइनेंस द्वारा प्रत्येक ब्रांड को 100 में से ब्रांड स्ट्रेंथ इंडेक्स (BSI) स्कोर दिया जाता है, जिसे ब्रांड वैल्यू की गणना में शामिल किया जाता है। स्कोर के आधार पर, प्रत्येक ब्रांड को वैल्यूएशन कंसल्टेंसी द्वारा क्रेडिट रेटिंग की तरह एक प्रारूप में एएए + तक ब्रांड रेटिंग दी जाती है।

Wednesday, May 25, 2022

महिंद्रा ने नागपुर में सचल वाहन के जरिए डीजल उपलब्ध कराने के लिए रिपोस एनर्जी और नवांकुर इंफ्रानर्जी के साथ साझेदारी की

नागपुर, 25 मई, 2022: डोरस्टेप ईंधन वितरण मॉडल देश भर में तेजी से बढ़ा है और कोविड काल के बाद यह और भी तेज हुआ है। इसके कई कारण हैं, जैसे वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला और फ्यूल ट्रेड इकॉनमिक्स, मौजूदा वितरण मॉडल की संरचनात्मक बाधाएं, उपभोक्ताओं के खरीद व्यवहार में बदलाव और नवीनतम तकनीक। नागपुर के लक्षित उपभोक्ताओं के जीवन को आसान बनाने के लिए, नवांकुर इंफ्रानर्जी ने अपना मोबाइल फ्यूल पंप-बूस्टर डीजल लॉन्च किया। मोबाइल फ्यूल पंप का उद्घाटन भारत के माननीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गडकरी ने श्री पी. एम. परलेवार निदेशक एमएसएमई, डीआई, महाराष्ट्र के साथ किया।

इस अवसर पर बोलते हुए नचिकेता पांडे, निदेशक, नवांकुर इंफ्रानर्जी  ने कहा, “बूस्टर डीजल – फ्यूल बाउजर विभिन्न लक्षित उपयोगकर्ताओं और उद्योगों की ईंधन मांग को पूरा करने के लिए पूरे नागपुर में उनके दरवाजे पर सेवा उपलब्ध कराएगा। यह डबल डिस्पेंसिंग अल्फा मोबाइल फ्यूल पंप महिंद्रा फ्यूरिओ 11 ट्रक पर बनाया गया है। इस पूर्णतः निर्मित मोबाइल फ्यूल बाउजर की आपूर्ति पुणे स्थित रिपोस एनर्जी द्वारा की गई है। डोर-स्टेप डीजल डिलीवरी कुशल ऊर्जा वितरण बुनियादी ढांचे की ओर ले जाने में सहायक होगी और थोक उपभोक्ताओं को सर्वाधिक कानूनी तरीके से डीजल प्रदान करेगी।"

नवांकुर इंफ्रानर्जी के निदेशक, महेंद्र नीलावर ने बताया, "महिंद्रा और रिपोस के साथ मिलकर, हम इस क्षेत्र में मोबाइल ईंधन वितरण में अपनी उपस्थिति बढ़ाएंगे।"

रिपोस एनर्जी ने महिंद्रा के हल्के और मध्यम वाणिज्यिक वाहनों की फ्यूरिओ रेंज के जरिए डोरस्टेप ईंधन वितरण मांग को पूरा करने के लिए महिंद्रा के साथ करार किया है।

इस अवसर पर बोलते हुए, रिपोस एनर्जी के सह-संस्थापक, चेतन वालुंज  ने कहा, “जहाँ पूरी दुनिया मोबाइल के उपयोग के जरिए चीजों को आसानी से सुलभ बनाने की ओर अग्रसर है, बहीं भारत में डोरस्टेप डीजल डिलीवरी ने देश में ईंधन वितरित करने के तरीके को आसान बना दिया है। मोबाइल पेट्रोल पंपों के माध्यम से सचल तरीके से डीजल उपलब्ध कराना हमारी प्रमुख उपलब्धियों में से एक रही है, और फ्यूल बाउजर एप्लिकेशन के लिए महिंद्रा फ्यूरिओ के उत्पादों की श्रेष्ठता एवं उपयुक्तता के साथ, हम भारत के कोने-कोने तक पहुंचकर भविष्य में सभी तरह की ऊर्जा के वितरण में महत्वपूर्ण बदलाव लाना चाहते हैं।"

इस अवसर पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए, महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड के बिजनेस हेड - कॉमर्शियल व्हीकल्स, जलज गुप्ता ने कहा, “डीजल का एक बड़ा हिस्सा ईंधन-आधारित उद्योगों में उपयोग किया जाता है, जहां इसकी अक्सर बड़े पैमाने पर आवश्यकता होती है। ये उद्योग बैरल और बाउजर जैसे अनुपयुक्त रिसेप्टेकल्स का उपयोग करके फ्युल पंपों से डीजल की खरीद का सहारा लेते हैं जिससे छलकाव, चोरी, डेड माइलेज और मानव बल लागत के रूप में भारी नुकसान होता है। फ्यूल ब्राउजर व्यापार समाधान में रिपोस एनर्जी की विशेषज्ञता के साथ, हम उद्योगों की उभरती जरूरतों को पूरा करने और राष्ट्र निर्माण की दिशा में अपना प्रयास करने के लिए आकर्षक उत्पाद पेश कर रहे हैं। महिंद्रा के हल्के और मध्यम वाणिज्यिक वाहन की रेंज के अपने अंतर्निहित लाभ हैं ताकि इसे फ्यूल बाउजर ऑपरेशन के लिए एकदम उपयुक्त बनाया जा सके और लाभप्रदता सुनिश्चित की जा सके। हम नवांकुर इंफ्रानर्जी के ईंधन उद्यमी होने और भारत के ऊर्जा वितरण क्षेत्र में दक्षता लाने में उनके प्रयास के लिए उन्हें बधाई देते हैं।" 

 

मुथूट फाइनेंस लिमिटेड सिक्योर्ड रिडीमेबल नॉन-कन्वर्टिबल डिबेंचर्स के आईपीओ के जरिए 300 करोड़ रुपये जुटाएगा

कोच्चि, 25 मई, 2022: मुथूट फाइनेंस लिमिटेड ने 1,000 रु. अंकित मूल्य के सिक्योर्ड रिडीमेबल नॉन-कन्वर्टिबल डिबेंचर्स  (" सिक्योर्ड `एनसीडी ") के आईपीओ के अपने 27वें सीरीज की घोषणा की है। यह इश्यू मूल रूप से ₹75 करोड़ का है जिसके साथ ₹225 करोड़ तक के ओवरसब्सक्रिप्शन को बनाए रखने का विकल्प है, जिससे इसका ट्रांचे लिमिट कुल ₹300 करोड़ का है (“इश्यू”)। यह इश्यू 25 मई, 2022 को खुल रहा है और 17 जून, 2022 को बंद होगा। हालांकि, निदेशक मंडल या एनसीडी समिति की राय पर इसके बंद होने की तिथि घटाई-बढ़ाई जा सकती है।

जारी किए जाने हेतु प्रस्तावित सिक्योर्ड एनसीडी को इक्रा द्वारा [ICRA] AA+ (स्टेबल) की रेटिंग दी गई है। इक्रा द्वारा सिक्योर्ड एनसीडी को दी गई रेटिंग "वित्तीय दायित्वों को समयबद्ध तरीके से पूरा किए जाने के संबंध में उच्च स्तर की सुरक्षा" को दर्शाती है।

इन एनसीडी को बीएसई पर सूचीबद्ध करने का प्रस्ताव है। यह आवंटन पहले आओ पहले पाओ के आधार पर होगा।

इन सिक्योर्ड एनसीडी के लिए 7 निवेश विकल्प हैं - 'मासिक' या 'वार्षिक' ब्याज भुगतान आवृत्ति या 7.25% सालाना से 8% सालाना तक के कूपन के साथ 'परिपक्वता पर मोचन' भुगतान।

मुथूट फाइनेंस लिमिटेड के प्रबंध निदेशक, श्री जॉर्ज अलेक्जेंडर मुथूट ने कहा, "हमने खुदरा और उच्च नेटवर्थ वाले व्यक्तिगत निवेशकों के लिए इस इश्यू का 90% आवंटित किया है, जिन्हें संस्थानों और कॉर्पोरेट्स के लिए लागू ब्याज दर से 0.50% सालाना अधिक प्राप्त होगा। इसके अलावा, पिछले इश्यू की तुलना में इस इश्यू में ब्याज दर 0.25 प्रतिशत सालाना बढ़ाई गई है। इस इश्यू में, निवेशकों को बेहतर रेटिंग के साथ - साथ आकर्षक ब्याज दर का दोहरा लाभ मिल रहा है। हमारे पास उन निवेशकों के लिए 7 साल का एनसीडी भी है जो लंबी अवधि के लिए ब्याज दरों को लॉक करना चाहते हैं और साथ ही भविष्य में ब्याज दर में उतार - चढ़ाव की अनिश्चितता को कम करना चाहते हैं।"

इस इश्यू के माध्यम से जुटाई गई धनराशि का उपयोग मुख्य रूप से कंपनी के ऋण संबंधी कार्यों के लिए किया जाएगा।

इस इश्यू का मुख्य प्रबंधक ए.के. कैपिटल सर्विसेज लिमिटेड है। आईडीबीआई ट्रस्टीशिप सर्विसेज लिमिटेड इस इश्यू का डिबेंचर ट्रस्टी है। लिंक इनटाइम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड इस इश्यू का रजिस्ट्रार है।

देहात ने किया ‘न्यूट्री 1’ ब्रांड के नाम से क्रॉप न्यूट्रिशन पोर्टफोलियो लॉन्च

किसानों और कृषि जगत की जरूरतों को देखते हुए जयपुर में देहात कंपनी द्वारा 'न्यूट्री 1' ब्रांड के नाम से क्रॉप न्यूट्रिशन की एक बेहतरीन उत्पाद श्रृंखला का उद्घाटन किया गया। इस उद्घाटन समारोह में कंपनी के डायरेक्टर श्याम सुन्दर सिंह, प्रोडक्ट हेड अभिजीत पाटिल, जोनल बिज़नेस हेड पियूष मिश्रा और साथ ही कंपनी के अन्य अधिकारी उपस्थित थे। श्याम सुन्दर सिंह ने बताया, "आज के कृषि परिवेश में ये बेहद जरूरी है कि हम मिट्टी की जरूरतों को समझें और फसलों की गुणवत्ता को बरकरार रखें। इसलिए नए उत्पाद श्रृंखला को तैयार करते हुए इन बातों का ध्यान रखा गया है।" नए उत्पादों में मुख्य रूप से - वाटर सौल्युबल फ़र्टिलाइज़र, जिंक, बोरोन, सल्फर आदि शामिल हैं। इस मीटिंग में देहात से जुड़े राजस्थान प्रदेश के 100 से अधिक कृषि व्यापारी भी शरीक थे जो श्याम सुन्दर सिंह और पियूष मिश्रा से मुखातिब हुए।

व्यापारियों ने उत्पाद की आवश्यकताओं के ऊपर सहमति जताई और उत्पादों का तहे दिल से स्वागत किया।

राजस्थान के पाली जिले में शिक्षा और अधिकारिता के स्तंभ अंबुजा पब्लिक स्कूल ने पूरे किए 25 साल

मुंबई, 25 मई, 2022- भारत की सबसे सस्टेनेबल सीमेंट कंपनियों में से एक अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड ने सगर्व यह घोषणा की है कि राजस्थान के पाली जिले में स्थापित अंबुजा पब्लिक स्कूल ने अपनी स्थापना के 25 साल पूरे कर लिए हैं और इस साल यह स्कूल रजत जयंती वर्ष का जश्न मना रहा है। कंपनी ने अपने कर्मचारियों और विनिर्माण संयंत्रों के आसपास के समुदायों के बच्चों के लिए इस स्कूल की स्थापना की है।

1996 में राजस्थान के पाली जिले के जैतारण में स्थापित अंबुजा पब्लिक स्कूल इस क्षेत्र का पहला ऐसा स्कूल है जिसने सीबीएसई बोर्ड से संबद्धता हासिल की। आज यह राज्य में सबसे अधिक मांग वाले शैक्षणिक संस्थानों में से एक है, जिसमें 1,000 से अधिक छात्र अध्ययन कर रहे हैं। स्कूल 50 किलोमीटर के दायरे में लोगों की जरूरतों को पूरा करता है, जिसमें कम से कम 16 गांव और छोटे शहर शामिल हैं। यह इस क्षेत्र में रहने वाले लोगों के लिए ज्ञान का नखलिस्तान साबित हुआ है, और आर्थिक रूप से वंचित परिवारों के बच्चों को भी शिक्षा प्रदान करता है।

अंबुजा पब्लिक स्कूल ने समाज में विश्वास व्यक्त किया और इस क्षेत्र में रहने वाले समुदायों ने इस विश्वास के बदले कई गुना भरोसा जताया है। स्कूल में मानविकी, वाणिज्य और विज्ञान के संकायों में शिक्षा प्रदान की जाती है। इसके छात्रों ने लगातार दसवीं और बारहवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं में मेरिट सूची में स्थान हासिल किया है और अनेक छात्रों ने 90 से अधिक पर्सेंटाइल अंक हासिल किए हैं।

अंबुजा पब्लिक स्कूल की प्रिंसिपल सुश्री इप्सिता चौधरी कहती हैं, ‘‘जिस साल स्कूल में मानविकी की शाखा शुरू की गई, तो उसी साल स्कूल की छात्रा सुश्री अंजू राठौड़ ने पाली जिले में पहला स्थान हासिल करके स्कूल को गौरवान्वित किया।’’ स्कूल के होनहार और प्रतिभावान छात्रों की लंबी सूची में शमिता रावल, सौभाग्य सिंह, वैभव माहेश्वरी, सलोनी वैष्णव, नेहा ज्ञानी, मनीष सिरवी, ऋचा कोठारी और इशिता तिवारी के नाम प्रमुख हैं, जिन्होंने अपने-अपने अध्ययन के क्षेत्र में एक खास मुकाम हासिल किया है। सुश्री चौधरी ने कहा, ‘‘इन परिणामों ने माता-पिता को अपने बच्चों को विशेष रूप से अपनी बेटियों को हमारे स्कूल में भेजने के लिए प्रेरित किया है और साथ ही युवाओं को अलग तरीके से सोचने और चुनौतीपूर्ण व्यवसायों को अपनाने के लिए प्रेरित किया है।’’

जिन क्षेत्रों में स्कूल के पूर्व छात्रों ने अपनी एक अलग जगह बनाई है, उनमें सिविल सेवा, फैशन और डिजाइन, वास्तुकला और इंजीनियरिंग, विजुअल आर्ट, चिकित्सा, सूचना प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्र भी शामिल हैं। अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड ने इस बात पर प्रसन्नता जाहिर की है कि स्कूल जैसे माध्यमों से भी कंपनी समाज और राष्ट्र की प्रगति में योगदान करने में सक्षम है।

स्कूल द्वारा अपनाई गई शिक्षण और सीखने की उत्कृष्ट प्रथाओं जैसे सिनेमा, योग, नाटक आदि के कारण यह सब संभव हो पाया है। स्कूल को इस बात पर भी गर्व है कि इसमें शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों का समान अनुपात है, जो उनके बीच विचारों के प्रभावशाली आदान-प्रदान की सुविधा प्रदान करता है।

इंडिया होल्सिम के सीईओ और अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री नीरज अखौरी ने कहा, ‘‘किसी भी समाज में शिक्षा को एक प्रमुख स्तंभ के तौर पर पहचाना जाता है और हम अंबुजा सीमेंट्स में इसके महत्व को अच्छे तरीके से पहचानते हैं। हमारे प्रमुख सीएसआर क्षेत्रों में से एक के रूप में, समुदायों की शिक्षा का अत्यधिक महत्व है। यह जानकर खुशी हो रही है कि अंबुजा पब्लिक स्कूल ने बहुत कम समय में पाली जिले में शिक्षा के स्तर को ऊपर उठाने में उत्कृष्ट योगदान दिया है।’’

साथ ही, स्कूल लड़कियों को शिक्षित करके और सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े क्षेत्रों की लड़कियों को मुफ्त किताबें और यूनिफॉर्म प्रदान करके महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देता रहा है। इसके अलावा, कंपनी ने आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के 54 से अधिक लड़कों और लड़कियों को डेटा पैक के साथ स्मार्ट टैबलेट के प्रावधान की सुविधा प्रदान की, ताकि उनकी शिक्षा में रुकावट न आए।

अंबुजा सीमेंट्स द्वारा शिक्षा पर ध्यान देने का विचार इस तथ्य से उपजा है कि एक सशक्त समाज हमारे देश को विकास के पथ पर ले जा सकता है और शिक्षा इस सशक्तिकरण की कुंजी है।

सनस्टोन ने जयपुर में किया अपना विस्तार, जेईसीआरसी युनिवर्सिटी को अपने नेटवर्क में शामिल किया

जयपुर, 25 मई, 2022ः भारत के अग्रणी उच्च शिक्षा सेवाओं प्रदाताओं में से एक सनस्टोन जिसकी 25 शहरों में 30 से अधिक संस्थानों के साथ सशक्त मौजूदगी है, ने जेईसीआरसी युनिवर्सिटी को अपने साथ जोड़ते हुए राजस्थान के जयपुर में अपने कैम्पस नेटवर्क का विस्तार किया है। नई दिल्ली के युनिवर्सिटी ग्रांट्स कमिशन (यूजीसी) द्वारा मान्यता प्राप्त तथा एनएएसी द्वारा प्रत्यायित जेईसीआरसी युनिवर्सिटी विभिन्न विषयों में कई तरह के प्रोग्राम तथा विभिन्न स्तरों पर यूजी, पीजी एवं पीएचडी प्रोग्राम पेश करती है।

इस विस्तार के साथ सनस्टोन द्वारा उपलब्ध कराए जाने वाले अतिरिक्त फायदे, अब जेईसीआरसी युनिवर्सिटी के एमबीए, बीबीए, बीसीए, बी.कॉम और एमसीए प्रोग्रामों के साथ मिलेंगे। जिससे छात्र युनिवर्सिटी स्तर पर ही इंडस्ट्री की ज़रूरत के मुताबिक शिक्षा एवं कौशल प्रोग्राम पूरे कर नौकरियों के लिए तैयार हो सकेंगे। वे सनस्टोन के 1000 से अधिक रिक्रुटर्स के नेटवर्क के साथ जुड़ेंगे और 2000 से अधिक नौकरियों के अवसरों का लाभ उठा सकेंगे। इस तरह छात्रों को शीर्ष पायदान की कंपनियों में प्लेसमेन्ट के अच्छे अवसर मिलेंगे।
देश भर से छात्र उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए जयपुर आते हैं। सरकार के सतत प्रयासों के चलते राजस्थान की शिक्षा प्रणाली में सुधार हो रहा है, जो आज के दौर में छात्रों की ज़रूरतों को पूरा करने और उन्हें सर्वश्रेष्ठ शिक्षा उपलब्ध कराने में सक्षम है। राजस्थान सरकार, राज्य में छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है और पिछले कुछ सालों में इस दिशा में कई प्रयास किए गए हैं। यही कारण है कि नीति आयोग द्वारा किए गए राष्ट्रीय शिक्षा सर्वेक्षण-2019 (https://www.hindustantimes.com/education/rajasthan-ranks-2nd-in-national-education-survey/story-f5sbccaLKjA2NZxQu1VA1L.html) में राजस्थान दूसरे रैंक पर आ गया है।
इस अवसर पर श्री पीयूष नांगरू, सह-संस्थापक एवं सीओओ, सनस्टोन ने कहा, ‘‘हमें खुशी है कि हम जेईसीआरसी युनिवर्सिटी को ऑनबोर्ड कर जयपुर में अपनी मौजूदगी का विस्तार कर रहे हैं। जयपुर जैसे भारतीय शहर युवाओं की क्षमता को अपार अवसर प्रदान करते हैं। सनस्टोन में हम उच्च-शिक्षा पाने की इच्छा रखने वाले छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराना चाहते हैं, ताकि युवा अपनी पूर्ण क्षमता का उपयोग कर इसका लाभ उठा सकें।’’
सनस्टोन ‘सनस्टोन ऐज’ पेश करती है जिसमें छात्रों का सनस्टोन के माध्यम से एडमिशन लेने पर अतिरिक्त फायदे मिलते हैं। छात्र उद्योग जगत के अनुसार प्रांसगिक कोर्सेज़ करके आधुनिक सर्टिफिकेट पा सकते हैं तथा इंटर्नशिप्स एवं प्रोजेक्ट्स और तकनीकी कौशल के माध्यम से अपने प्रोफेशनल पोर्टफोलियो को मजबूत बना सकते हैं।
व्यापक एवं समग्र शिक्षा के लिए सनस्टोन जीवन कौशल, सॉफ्ट स्किल्स में प्रशिक्षण भी प्रदान करती है, इसक अलावा छात्रों की रूचि के अनुसार क्लब, स्पोर्ट्स मीट, कल्चरल फेस्ट, स्टुडेन्ट एक्सचेंज प्रोग्राम आदि का आयोजन भी करती रहती है और छात्र सनस्टोन की डिजिटल कम्युनिटी के साथ जुड़ सकते हैं।
इस साझेदारी के बारे में बात करते हुए श्री धीमंत अग्रवाल, डायरेक्टर (डिजिटल स्टैªटेजीज़), जेईसीआरसी युनिवर्सिटी ने कहा, ‘‘जेईसीआरसी युनिवर्सिटी में हम छात्रों को रीसर्च-उन्मुख उच्च गुणवत्ता की शिक्षा प्रदान करते हैं, ताकि वे इंटेलेक्चुअल रूप में सक्षम बन सकें और समाज के भावी लीडर के रूप में विकसित होकर समाज पर सकारात्मक प्रभाव उत्पन्न करें। हम पहले ही दिन से छात्रों को उद्योग जगत की ज़रूरतों के अनुसार तैयार करते हैं और उन्हें सफलता के सही मार्ग की ओर बढ़ने के लिए मार्गदर्शन देते हैं। हमें विश्वास है कि सनस्टोन की पेशकश हमारे छात्रों के समग्र विकास के लिए सही मायनों में लाभकारी साबित होगी।’’ 

शिव शिवाकुमार के साथ आर्ट ऑफ मैनेजमेंट पर वार्ता सत्र का आयोजन



जयपुर : 
फिक्की लेडीज ऑर्गनाइजेशन, जयपुर चैप्टर, आदित्य बिड़ला ग्रुप में कॉरपोरेट स्ट्रैटेजी के ग्रुप एग्जीक्यूटिव प्रेसिडेंट शिव शिवाकुमार के साथ आर्ट ऑफ मैनेजमेंट पर एक आकर्षक वार्ता सत्र का आयोजन करता है। इससे पहले, शिव पेप्सिको होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड, भारत में अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी थे। इससे पहले वे नोकिया में उभरते बाजारों के सीईओ थे, आज होटल हॉलिडे इन में। कार्यक्रम में करीब 250 सदस्यों ने भाग लिया। सत्र का संचालन या अध्यक्ष, सुश्री मुद्रिका धोका द्वारा किया गया था। आगे बढ़ने के लिए आगे देखो - शिव शिवाकुमार का एक प्रसिद्ध उद्धरण है। मैनेजमेंट ट्रेनी होने से लेकर बिजनेस ट्रांसफॉर्मेशन कोच होने और नोकिया, फिलिप्स और आदित्य बिड़ला जैसे विशाल ब्रांडों के सीईओ के रूप में सेवा करने तक। उन्होंने अपने स्वयं के करियर पथ के बारे में खोला और बहुत महत्वपूर्ण टेक अवे साझा किए क्योंकि एक कंपनी की सेवा करना एक ऐसी चीज है जो आपको लंबे समय में परिभाषित करेगी। उन्होंने इसे बहुत ही क्यूरेटेड फॉर्मूले के साथ सरल बनाया, इसकी हमेशा कंपनी पहले, दूसरे पर टीम और आखिरी में आप खुद। यदि कोई व्यक्ति इसे अनुष्ठान के रूप में करता है तो चीजें कभी भी खराब नहीं हो सकतीं। इसमें उन्होंने आगे कहा, क्या आप हर दिन काम करते हैं जैसे कि यह काम का आखिरी दिन है, जुनून से प्रेरित काम को कभी भी भारित नहीं किया जा सकता है। उन्होंने नकारात्मक मालिकों के लिए अपने विचार बहुत सावधानी से व्यक्त किए; वे नकारात्मक ऊर्जा का एक ओपेरा बनाते हैं जिससे हर तरफ काम प्रभावित होता है। इसे कम करने के लिए, कंपनी को इसके बारे में अपडेट करें और अगर वहां कुछ भी काम नहीं करता है, तो हमेशा दूर जाना और स्विच करना बेहतर होता है। यह बहुत सारे बदलाव लाएगा, हम डींग मारना या रेंगना नहीं चाहते हैं और केवल अपने करियर के लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं। उनके द्वारा रखे गए प्रबंधन कोष से सदस्यों को बहुत राहत मिली और उन्होंने सदस्यों द्वारा रखे गए सभी प्रश्नों को बहुत सावधानी से और ध्यान से सुना और उनका उत्तर दिया।


गल्फ ऑयल इंडिया ने इलेक्ट्रिक मोबिलिटी को सपोर्ट करने के लिए लॉन्च किए ‘ईवी फ्लुइड्स’

मुंबई ,  , 04  अक्टूबर , 2022 -  हिंदुजा समूह की कंपनी गल्फ ऑयल लुब्रिकेंट्स ने  ‘ ईवी फ्लुइड्स ’  की विशेष श्रेणी के लिए स्विच मोबिलिटी और ...