Wednesday, April 20, 2022

एमयूजे ने एक्टिव रिसर्च कोलेबोरेशन के लिए इंस्टीट्यूट ऑफ नैनो साइंस एंड टेक्नोलॉजी, मोहाली के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किए


जयपुर।
 मणिपाल यूनिवर्सिटी जयपुर (एमयूजे) और इंस्टीट्यूट ऑफ नैनो साइंस एंड टेक्नोलॉजी (आईएनएसटी), मोहाली ने संभावित एक्टिव रिसर्च कोलेबोरेशन और संभावित स्टूडेंट इंटर्नशिप्स, ज्वाइंट वर्कशॉप्स के आयोजन के साथ-साथ फैकल्टी मेंबर्स द्वारा ज्वाइंट रिसर्च प्रोजेक्ट के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर किए। इस संबंध में, प्रोफेसर अमितवा पात्रा, निदेशक, इंस्टीट्यूट ऑफ नैनो साइंस एंड टेक्नोलॉजी (आईएनएसटी), मोहाली ने हाल ही में पोटेंशियल रिसर्च कोलेबोरेशन के लिए एमयूजे का दौरा किया। उन्होंने विज्ञान और इंजीनियरिंग क्षेत्र के एमयूजे फैकल्टी मैबर्स के साथ बातचीत की, जो केमिस्ट्री, फिजिक्स, मटेरियल साइंस, नैनो टेक्नोलॉजी, इन्वायरमेंट और एनर्जी, और बायोलॉजीकल साइंस के क्षेत्र के साथ-साथ इसके संबद्ध विषयों पर काम कर रहे हैं। प्रोफेसर ललिता लेदवानी, डीन, फैकल्टी ऑफ साइंस ने उन्हें विश्वविद्यालय में चल रहे शोध कार्य के बारे में जानकारी दी। उन्होंने विभिन्न हाई-एंड रिसर्च प्रयोगशालाओं और उपकरण केंद्रों का भी दौरा किया। विभिन्न एमयूजे रिसर्च ग्रुप्स ने सामान्य हित के अनुसंधान क्षेत्रों को मजबूत करने के लिए संभावित एक्टिव कोलेबोरेशन के लिए एक सक्रिय इंटरैक्टिव सत्र के दौरान अपने शोध कार्य को साझा किया। प्रो. पात्रा ने आईएनएसटी, मोहाली की विशेषज्ञता और सुविधाओं पर प्रकाश डाला और एमयूजे संकाय सदस्यों को संस्थान का दौरा करने के लिए आमंत्रित किया और एक संयुक्त वैज्ञानिक कार्यशाला आयोजित करने पर ध्यान केंद्रित किया। एमयूजे के अध्यक्ष प्रो. जी के प्रभु ने गर्मजोशी से स्वागत किया और अंतःविषय अनुसंधान के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने इस सफल सहयोग के लिए दोनों संस्थानों के फैकल्टी मेम्बर्स को बधाई दी। उन्होंने कहा कि यह दौरा इन दोनों संस्थानों के बीच एक अंतःविषय अनुसंधान संस्कृति विकसित करने में फायदेमंद होगी और संभावित रूप से राजस्थान के साथ-साथ भारत के भविष्य के अनुसंधान का नेतृत्व करेगी।

No comments:

Post a Comment

अपने दिल के स्वास्थ्य को सुरक्षित रखें केयर हेल्थ इंश्योरेन्स के एक्सक्लुज़िव हार्ट इंश्योरेन्स प्लान के साथ

29 सितम्बर, 2022: इस विश्व हृदय दिवस के मौके पर हर दिल की सुरक्षा के लिए दिल से सोचें। अपने दिल का इस्तेमाल प्रकृति, मानवता के लिए और सबसे ज़...