Friday, April 29, 2022

आईसीआईसीआई बैंक ने एमएसएमई के लिए भारत का पहला कॉम्प्रिहेंसिव, ओपन-फॉर-ऑल डिजिटल इकोसिस्टम लॉन्च किया

मुंबई, 29 अप्रैल 2022 - आईसीआईसीआई बैंक ने आज घोषणा की कि उसने अन्य बैंकों के ग्राहकों सहित देश में सभी माइक्रो, स्मॉल और मीडियम उद्यमों (एमएसएमई) के लिए भारत का पहला व्यापक डिजिटल इकोसिस्टम लॉन्च किया है। इकोसिस्टम के तीन प्रमुख स्तंभ हैं- ए) मौजूदा ग्राहकों के लिए बढ़ी हुई बैंकिंग सेवाएं, बी) ऐसे एमएसएमई के लिए बैंकिंग सेवाओं का एक गुलदस्ता, जो अन्य बैंकों के ग्राहक हैं, सी) सभी के लिए मूल्य वर्धित सेवाओं की एक पूरी रेंज। इंडस्ट्री के सबसे पहले सॉल्यूशंस प्रदान करने वाले इस इकोसिस्टम की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसमें दूसरे बैंकों के ग्राहकों को भी सेवाएं प्रदान की जाती हैं, जबकि आम तौर पर बैंक केवल अपने ग्राहकों को ही सेवाएं उपलब्ध कराते हैं।

बैंक के ऐप ‘इंस्टाबिज़’ के नए संस्करण को डाउनलोड करते हुए कोई भी व्यक्ति आईसीआईसीआई बैंक के डिजिटल समाधानों का लाभ उठा सकता है। व्यवसायों के लिए एक सुपर ऐप ‘इंस्टाबिज़’ को गूगल प्लेस्टोर या एपल ऐप स्टोर अथवा बैंक के कॉर्पाेरेट इंटरनेट बैंकिंग (सीआईबी) प्लेटफॉर्म से डाउनलोड किया जा सकता है।

कॉम्प्रिहेंसिव, ओपन-फॉर-ऑल डिजिटल इकोसिस्टम की लॉन्चिंग के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए आईसीआईसीआई बैंक के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर श्री अनूप बागची ने कहा, ‘‘आईसीआईसीआई बैंक में हम हमेशा मानते हैं कि एमएसएमई सेक्टर भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए मेरूदंड के समान महत्वपूर्ण हैं। एमएसएमई के लिए ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ को बढ़ाना और उनके विकास में भागीदार बनना हमारी फिलॉस्फी भी रही है।

हमें अपने शोध से पता चला है कि एमएसएमई टैक्नोलॉजी से होने वाले लाभों को समझते हैं। वे अपने व्यवसाय करने के तरीके को सरल बनाने के लिए डिजिटल समाधान अपनाने के इच्छुक हैं, ताकि वे विकास पर अधिक ध्यान केंद्रित कर सकें। एमएसएमई को भी एक ऐसे प्लेटफॉर्म की आवश्यकता है जो उनकी सभी आवश्यकताओं को पूरा करता हो। इसके अलावा, हम मानते हैं कि हमारे उत्पादों और सेवाओं का लाभ केवल हमारे ग्राहकों तक ही सीमित नहीं होना चाहिए; जो दूसरों के साथ बैंकिंग करते हैं, उनके पास भी उन्हें अनुभव करने का विकल्प होना चाहिए।

इसी विजन के आधार पर, हमने लगभग छह करोड़ एमएसएमई को सशक्त बनाने के लिए मूल्य वर्धित पेशकशों के साथ बैंकिंग सेवाओं को जोड़ते हुए एक व्यापक डिजिटल सिस्टम लॉन्च किया है। हमें विश्वास है कि एमएसएमई के लिए ये समाधान उनकी कार्यदक्षता में सुधार करेंगे और उनके व्यवसाय को बढ़ावा देने में सहायक साबित होंगे।

ऐसे एमएसएमई, जो अन्य बैंकों के ग्राहक हैं, वे इंस्टाबिज के नए संस्करण में ‘गेस्ट’ के रूप में लॉग इन करके बैंक के डिजिटल इकोसिस्टम से अनेक सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं। इन सेवाओं की सूची में सबसे महत्वपूर्ण है 25 लाख रुपए तक की तत्काल और कागज रहित ओवरड्राफ्ट सुविधा की मंजूरी। ‘इंस्टाओडी प्लस’ नामक यह ऑफर इंडस्ट्री में पहला है, जिसके तहत किसी भी बैंक के ग्राहक इंस्टाबिज या सीआईबी के नए संस्करण पर कुछ ही क्लिक के माध्यम से तुरंत ओवरड्राफ्ट प्राप्त कर सकते हैं। आईसीआईसीआई बैंक के ग्राहक अपने चालू खाते में ओडी को तुरंत सक्रिय कर सकते हैं जबकि अन्य बैंकों के ग्राहक वीडियो केवाईसी के माध्यम से डिजिटल रूप से बैंक के साथ चालू खाता खोलने के बाद ऐसा कर सकते हैं।

एक अन्य महत्वपूर्ण सुविधा डिजिटल रूप से एक चालू खाता खोलने से संबंधित है। एंड-टू-एंड पेपरलेस प्रक्रिया बैंक के उन्नत एपीआई का लाभ उठाती है जो खाता खोलने के फॉर्म को स्वतः भरते हैं और तुरंत पैन/आधार संख्या को मान्य करते हैं और वीडियो केवाईसी के माध्यम से खाता खोलने की प्रक्रिया को पूरा करते हैं।

इसके अतिरिक्त, एमएसएमई के विकास और उनकी दक्षता में और तेजी लाने के लिए, इंस्टाबिज अब एमएसएमई (बैंक के ग्राहकों और गैर-ग्राहकों दोनों) के लिए मूल्य वर्धित सेवाओं की एक श्रृंखला प्रदान करता है। अपनी विविध आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए कई विशेषज्ञों के साथ समन्वय करने के लिए एमएसएमई की जरूरत को समाप्त करने के लिए आईसीआईसीआई बैंक ने विभिन्न भागीदारों के साथ करार किया है। इन साझेदारों में इंडिया फाइलिंग (बिजनेस कंप्लायंस और रजिस्ट्रेशन के लिए), इंडियामार्ट (बिजनेस की लिस्टिंग), एयरटेल (कनेक्टिविटी और बिजनेस कम्युनिकेशन), क्लियरटैक्स (टैक्स फाइलिंग और एडवाइजरी), जोहो बुक्स (अकाउंटिंग सॉल्यूशंस), ग्लोबल लिंकर (बिजनेस नेटवर्किंग और डिजिटल), शर्लाक डॉट एआई (डिजिटल मार्केटिंग और डेटा एनालिटिक्स) शामिल हैं। एमएसएमई अपने प्लेटफॉर्म पर तत्काल ऑनबोर्डिंग के साथ इन विशेषज्ञों की विशेष सेवाएं प्राप्त कर सकते हैं।

इसके अलावा, बैंक के ग्राहक और गैर-ग्राहक दोनों तरह के एमएसएमई व्यापक व्यापार सेवाओं जैसे लेटर ऑफ क्रेडिट, बैंक गारंटी, ट्रेड क्रेडिट, ट्रेड ट्रांजैक्शन और कई अन्य के लिए बैंक के डिजिटल प्लेटफॉर्म ‘ट्रेड इमर्ज’ का उपयोग कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त इंस्टाबिज के माध्यम से, व्यापारी, खुदरा विक्रेता और पेशेवर जैसे डॉक्टर और वकील आदि यूपीआई और कार्ड के माध्यम से तुरंत भुगतान स्वीकार कर सकते हैं। वे क्यूआर कोड जेनरेट कर सकते हैं और प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) डिवाइस के लिए डिजिटल रूप से आवेदन भी कर सकते हैं। वे मूल्य वर्धित सेवाओं का भी लाभ उठा सकते हैं जैसे भुगतानों का तत्काल निपटान, अपनी दुकानों को केवल 30 मिनट में ऑनलाइन स्टोर में बदलना, और वॉयस-मैसेजिंग डिवाइस के लिए आवेदन करना जो भुगतान की प्राप्ति की पुष्टि करता है।

डिजिटल इकोसिस्टम बैंक के मौजूदा ग्राहकों को उन्नत सेवाएं प्रदान करता है। वे अब व्यापार और विदेशी मुद्रा लेनदेन से संबंधित अपनी आवश्यकता के लिए बैंक के ट्रेड ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर सहज ऑनबोर्डिंग का अनुभव कर सकते हैं। वे आसानी से और डिजिटल रूप से जीएसटी का भुगतान भी कर सकते हैं और पीओएस डिवाइस के लिए आवेदन कर सकते हैं। मजबूत तकनीक और एम्बेडेड एनालिटिक्स से लैस, इंस्टाबिज ऐप का नया संस्करण ग्राहक के प्रोफाइल के आधार पर कई तरह के रिमाइंडर देता है। उदाहरण के लिए, जीएसटी का भुगतान करने की प्रवृत्ति वाले ग्राहक को भुगतान की अंतिम तिथि से पहले जीएसटी भुगतान के लिए संकेत मिलेगा; एक निर्यातक/आयातक को ट्रेड ऑनलाइन को सक्रिय करने का अनुरोध करने वाला एक रिमाइंडर मिलेगा, और एक व्यापारी को पीओएस डिवाइस को डिजिटल रूप से लागू करने के लिए एक पॉप-अप मिलेगा।

No comments:

Post a Comment

जेकेके में महाकाव्य महाभारत पर आधारित नाटक 'उरूभंगम' का हुआ मंचन

जयपुर।  जवाहर कला केंद्र (जेकेके) के  रंगायन  में पाक्षिक नाट्य योजना के तहत रंग साधना थिएटर ग्रुप, जयपुर द्वारा शनिवार शाम को नाटक 'उरू...