Sunday, April 24, 2022

जेकेके में ‘जयपुर थियेटर फेस्टिवल’ का कल से होगा आगाज


-जेकेके और तारामणि फाउंडेशन, जयपुर के संयुक्त तत्वावधान में 
29 अप्रेल तक चलेगा यह 5 दिवसीय फेस्टिवल, फेस्टिवल के पांचों दिन टॉक शो ’कलासंबंधी’ का भी आयोजन होगा

जयपुर। जवाहर कला केन्द्र (जेकेके) एवं तारामणि फाउंडेशन, जयपुर के संयुक्त तत्वावधान में परिकल्पित और निर्देशित 5 दिवसीय ’जयपुर थिएटर फेस्ट’ का आगाज जेकेके में सोमवार, 25 अप्रेल से होने जा रहा है। यह थिएटर फेस्टीवल का पहला संस्करण है, जो कि 25 अप्रेल से 29 अप्रेल 2022 तक आयोजित होगा। इस फेस्टिवल के दौरान जयपुरवासियों को देश भर के कुछ बेहतरीन नाटकों को देखने और खुद को रोमांचित करने का अवसर प्राप्त होगा। जयपुर थिएटर फेस्ट मुख्य रूप से कला और संस्कृति मंत्रालय, राजस्थान द्वारा वित्त पोषित है। इस अवसर पर राज्य मंत्री, कला और संस्कृति विभाग, राजस्थान सरकार, जाहिदा खान मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत करेंगीं। वहीं राजस्थान सरकार के कला एवं संस्कृति विभाग की प्रमुख सचिव तथा जेकेके की महानिदेशक, श्रीमती गायत्री राठौड़ विशिष्ट अतिथि होंगी। इसका उद्घाटन जेकेके के रंगायन में शाम 6.45 बजे से होगा। फेस्टिवल के पहले दिन का आगाज़ ’कलासंबंधी’ टॉक शो के साथ होगा। जेकेके के कृष्णायन में जयपुर थियेटर फेस्ट पर सुबह 11 बजे से 11.30 बजे तक टॉक शो होगा। जिसके बाद 11.30 बजे से 12.30 बजे तक टॉक शो में ’संगीत-बारी’ पर चर्चा होगी। वहीं जेकेके के कृष्णायन में जयपुर के वरिष्ठ रंगकर्मी महमूद अली द्वारा ’मुगल बच्चा’ खेला जाएगा। जिसका पहला शो दोपहर 2.30 बजे और दूसरा शो शाम 5.30 बजे होगा। इस नाटक की कहानी इस बारे में है कि कैसे शक्तिशाली शासकों की पत्नियों को अपने पतियों के अहंकार और असफलता का बोझ उठाना पड़ता है। वहीं शाम को 7 बजे जेकेके के रंगायन में काली बिल्ली प्रोडक्शन द्वारा ’संगीत-बारी’ नाटक का मंचन होगा। मुंबई के बहु प्रचलित नाटक ’संगीत-बारी’ के साथ होगा जो की पारंपरिक लावणी कलाकारों की कहानियों और उनके प्रदर्शन के जादू को साझा करने वाला एक अद्वितीय नाटक है। दोनों नाटको के लिए एंट्री टिकट के माध्यम से होगी। 
फेस्टिवल के दूसरे दिन मुंबई की अदाकारा उल्का मयूर पूरी नाटक ’कास्ट ऑफ ऑल शेम’ की प्रस्तुति करेंगी । भावपूर्ण कविताओं और कहानियों से युक्त यह नाटक, सभी के लिए एक मनोरंजक, आकर्षक और सशक्त अनुभव साबित होगा। 26 अप्रेल की दूसरी प्रस्तुति भोपाल अथवा भारत के दिग्गज़ रंगकर्मी आलोक चैटर्जी की होगी जो की अपना नाटक ’ऐसा ही होता है’ पेश करेंगे जो की रंगमंच की दुनिया में उनकी यात्रा पर आधारित है। आलोक चैटर्जी ने अपने स्वयं के जीवन की यात्रा, एक थिएटर कलाकार के जीवन को ठीक उसी समय से चित्रित किया है जब उन्होंने थिएटर को करियर विकल्प के रूप में लेने का फैसला किया था। 
वहीं फेस्टिवल के तीसरे दिन 27 अप्रेल को राजस्थान के चेखोव कहे जानें वाले कथाकार विजय दान देथा द्वारा रचित कहानी ’केंचुली’ का राजस्थानी अथवा हिंदी भाषा में मंचन होगा, वही दूसरी और रंगायन में स्वर्गीय उषा गांगुली निर्देशित तथा महाश्वेता देवी द्वार लिखित लोकप्रिय नाटक बायन की प्रस्तुति नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (Repertory Company)द्वारा दी जायेगी।

जयपुर थियेटर फेस्ट के चौथे दिन, 28 अप्रेल को जबलपुर से समागम रंगमंडल अपने नाटक अगरबत्ती का मंचन करेंगे। महिंद्रा एक्सीलेंस इन थियेटर अवाड्र्स (मेटा) में चार अवॉर्ड जीतने वाला यह नाटक वाकई में अदभुत है।फेस्टिवल का मुख्य आकर्षण, पद्मश्री विदुषी रीटा गांगुली द्वारा निर्देशित नाटक अभिज्ञान शकुंतलम रहेगा। भारतीय नाट्य परंपरा को उजागर करता यह नाटक कालीदास के श्रेष्ठ काव्यों में से एक है । इस नाटक की प्रस्तुति भी नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (Repertory Company) के कलाकारों द्वारा दी जायेगी।

फेस्टिवल के आखिरी दिन थियेटर और फिल्म के सुप्रसिद्ध कलाकार बहरूल इस्लाम अपने नाटक ऊंचाई को प्रस्तुत करेंगे । यह कहानी एक मिथ्याचारी व्यक्ति के बारे में है जो एक बुरे काम के माध्यम से इतिहास बनाने का संकल्प करता है। गौरतलब है की फेस्टिवल के पांचों दिन ’कलासंबंधी’ नाम से टॉक शो का भी आयोजन होगा जिसके तहत कलाकारों के साथ उनके परिवर्तनकारी अनुभव और उनके शिल्प के बारे में चर्चा की जाएगी।

No comments:

Post a Comment

अपने दिल के स्वास्थ्य को सुरक्षित रखें केयर हेल्थ इंश्योरेन्स के एक्सक्लुज़िव हार्ट इंश्योरेन्स प्लान के साथ

29 सितम्बर, 2022: इस विश्व हृदय दिवस के मौके पर हर दिल की सुरक्षा के लिए दिल से सोचें। अपने दिल का इस्तेमाल प्रकृति, मानवता के लिए और सबसे ज़...