Wednesday, April 6, 2022

सिटी पैलेस में शुरू हुआ पीडीकेएफ स्टोर, बिक्री से होने वाली सम्पूर्ण आय फाउंडेशन को दी जाएगी

राजकुमारी गौरवी कुमारी और क्लेयर डेरू द्वारा डिजाइन किए गए और पीडीकेएफ की महिलाओं द्वारा हाथ से बनाए गए उत्पाद,  गुलाबी शहर और राजस्थान के शिल्प से प्रेरित

जयपुर । गुलाबी शहर आने वाले पर्यटकों के साथ-साथ जयपुर के समझदार खरीदारों के लिए अब सिटी पैलेस एक नया आकर्षण- राजकुमारी दीया कुमारी फाउंडेशन का पीडीकेएफ स्टोर है। पीडीकेएफ आउटलेट घरेलू व वैश्विक विजिटर्स के समक्ष फाउंडेशन में प्रशिक्षित महिला शिल्पियों के काम को प्रदर्शित करता है। जयपुर से प्रेरणा लेकर तैयार किए गए ये उत्पाद राजस्थान के पारंपरिक शिल्प के सामयिक रूपांतरण हैं। इस संग्रह को जयपुर की राजकुमारी दीया कुमारी की बेटी, राजकुमारी गौरवी कुमारी और फ्रेंच डिजाइनर क्लेयर डेरू ने डिजाइन किया है। राजकुमारी गौरवी कुमारी बताती हैं— ''पीडीकेएफ स्टोर के प्रत्येक उत्पाद को राजकुमारी दीया कुमारी फाउंडेशन की महिलाओं द्वारा बारीकी से हाथ से तैयार किया गया है। यह स्टोर इन महिलाओं के कलात्मक कौशल, जन्मजात प्रतिभा और कड़ी मेहनत को पूरी दुनिया के लोगों को दिखाने के साथ-साथ राजस्थान व देशभर से और अधिक महिलाओं को जोड़ने का एक प्रयास है। यह उन्हें आर्थिक एवं समग्र सशक्तिकरण का मार्ग भी प्रशस्त करेगा। उत्पादों की बिक्री से होने वाली सम्पूर्ण आय फाउंडेशन को दी जाएगी''। उल्लेखनीय है कि इस स्टोर पर जाने के लिए सिटी पैलेस के एंट्री टिकट की आवश्यकता नहीं है। जंतर—मंतर के पास सिटी पैलेस के गेट नंबर 1 से होते हुए स्टोर पर जाया जा सकता है। स्टोर के उत्पाद राजस्थान, इसकी संस्कृति एवं विरासतकालीन शिल्प के वास्तविक प्रतिबिंब हैं। वे वैश्विक स्तर पर सामयिक डिजाइन संवेदनशीलता के साथ मिश्रित पारंपरिक राजस्थानी विरासत के रूपांकनों का खूबसूरत व आकर्षक अनुकूलन हैं। इस संग्रह में पुरुषों, महिलाओं व बच्चों के परिधानों से लेकर घरेलू सामान के साथ-साथ अन्य सहायक वस्तुएं भी शामिल हैं, जिनकी मुख्य विशेषता आधुनिक व फैशनेबल डिजाइनों के साथ पुरानी तकनीकें हैं। पीडीकेएफ द्वारा महिलाओं को गोटापट्टी, थ्रेड वर्क, एप्लिक, ब्लॉक प्रिंटिंग जैसी विरासतकालीन व पारंपरिक शिल्प तकनीकों का प्रशिक्षण दिया जाता है। यह सात वर्षों से अधिक समय से राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रों की वंचित महिलाओं और बालिकाओं के सशक्तिकरण के लिए काम कर रहा है। पीडीकेएफ सम्पूर्ण राजस्थान में पांच केंद्रों (जयपुर, सवाई माधोपुर व राजसमंद) में काम कर रहा है। अजमेर में एक नया क्लस्टर विकसित किया गया है और शिल्प को समर्पित और क्लस्टर भी तैयार किए जा रहे हैं। फाउंडेशन द्वारा मुख्य रूप से कौशल निर्माण व रोजगार, बालिकाओं की शिक्षा, वित्तीय एवं डिजिटल साक्षरता तथा स्वास्थ्य व स्वच्छता क्षेत्रों में कार्य किए जाते हैं।

No comments:

Post a Comment

टाटा पावर ने भारत में ईवी-चार्जिंग के बुनियादी ढांचे को ऊर्जा प्रदान करने के लिए ह्युंदाई मोटर इंडिया के साथ की साझेदारी

राष्ट्रीय 17 मई 2022 : देश की एक सबसे बड़ी एकीकृत बिजली कंपनी और ईवी चार्जिंग की बुनियादी सुविधाएं प्रदान करने वाली अग्रणी कंपनी टाटा पावर ने...