Friday, April 15, 2022

टाटा पावर बनाएगा भारत का सबसे व्यापक अक्षय ऊर्जा मंच अपने नवीकरणीय ऊर्जा व्यवसाय के विकास के लिए जुटाएगा ₹ 4,000 करोड़ (~ 525 मिलियन यूएस डॉलर्स)

राष्ट्रीय, भारत, 15 अप्रैल 2022] - टाटा पावर कंपनी लिमिटेड ("टाटा पावर") और ब्लैकरॉक रियल एसेट्स के नेतृत्व वाले उद्योग संघ, जिसमें मुबाडाला इन्वेस्टमेंट कंपनी ("मुबाडाला") शामिल हैं, ने टाटा पावर की अक्षय ऊर्जा सहायक कंपनी, टाटा पावर रिन्यूएबल एनर्जी लिमिटेड ("टाटा पावर रिन्यूएबल्स") में निवेश करने के लिए एक बाध्यकारी समझौता किया है। ब्लैकरॉक रियल एसेट्स, मुबाडाला के साथ, टाटा पावर रिन्यूएबल्स में 10.53% हिस्सेदारी के लिए इक्विटी/अनिवार्य रूप से परिवर्तनीय निवेश साधनों के माध्यम से ₹ 4,000 करोड़ (~ यूएस $ 525 मिलियन) का निवेश करेगी, जिसका मूल इक्विटी मूल्यांकन ₹34,000 करोड़ होगा। अंतिम परिवर्तन पर अंतिम शेयरधारिता 9.76% से 11.43% तक होगी।

इस नए प्लेटफॉर्म में पांच अलग-अलग व्यवसाय शामिल होंगे जो दीर्घकालिक, ग्राहक उन्मुख समाधान प्रदान करेंगे। इसमें टाटा पावर के सभी नवीकरणीय ऊर्जा व्यवसाय - यूटिलिटी स्केल सोलर, विंड एंड हाइब्रिड जनरेशन एसेट्स; सोलर  सेल और मॉड्यूल मैनुफैक्चरिंग; इंजीनियरिंग, खरीद और निर्माण (ईपीसी) कांट्रेक्टिंग; रूफटॉप सोलर इंफ्रास्ट्रक्चर; सोलर पंप और इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर शामिल होंगे। परिसंपत्तियों का व्यापक पोर्टफोलियो ग्रिड से जुड़ी यूटिलिटी स्केल की परियोजनाओं के लिए विविध फिर भी स्थिर राजस्व स्त्रोतों को सुनिश्चित करता है जिसमें 25 सालों के निश्चित-कीमत के पीपीए शामिल हैं।

टाटा पावर रिन्यूएबल्स भारत की एक सबसे बड़ी अक्षय ऊर्जा कंपनी है। वर्तमान में इसके एकीकृत संचालन में लगभग 4.9 जीडब्ल्यू अक्षय ऊर्जा संपत्ति हैं।

यह प्रस्तावित निवेश टाटा पावर रिन्यूएबल्स की महत्त्वाकांक्षी विकास योजनाओं को वित्तपोषित करेगा। अगले पांच वर्षों में, 20 गीगावॉट से अधिक नवीकरणीय परिसंपत्तियों का पोर्टफोलियो और पूरे भारत में रूफटॉप और इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग उद्योग में अग्रणी स्थान हासिल करना टाटा पावर रिन्यूएबल्स का लक्ष्य है।

भारत दुनिया का एक सबसे बड़ा अक्षय ऊर्जा मार्किट है और यहां पिछले चार वर्षों में 60% से अधिक नई क्षमता के साथ सबसे तेजी से बढ़ती अक्षय ऊर्जा आपूर्ति दर्ज हुई है। जीडीपी में वृद्धि के साथ बढ़ती हुई भारत की स्थानीय ऊर्जा मांग को पूरा करने और सरकार की डीकार्बोनाइजेशन महत्वाकांक्षा में योगदान करने के साथ-साथ एशिया और दुनिया भर में मैक्रो ऊर्जा संक्रमण प्रवृत्तियों का समर्थन करने के लिए इसकी स्थापित नवीकरणीय क्षमता 2030 तक वर्तमान में 150 गिगावाट से बढ़कर 500 गिगावाट होने की उम्मीद है।  

टाटा पावर कंपनी लिमिटेड के सीईओ और प्रबंध निदेशक डॉ प्रवीर सिन्हा ने कहा, "आधुनिकतम नवीकरणीय व्यवसायों के व्यापक और गहरे पोर्टफोलियो के साथ टाटा पावर रिन्यूएबल्स इस उद्यम की अग्रणी कंपनी है जो साल दर साल अपने मज़बूत और लगातार प्रदर्शन के आधार पर तेज़ी से आगे बढ़ने के लिए तैयार है। अक्षय ऊर्जा कारोबार को विकास के अगले स्तर पर ले जाने के लिए हमारे साथ जुड़ने के लिए ब्लैकरॉक रियल एसेट्स और मुबाडाला का स्वागत करते हुए मुझे खुशी हो रही है। आने वाले दशकों में कई रोमांचक अवसरों का लाभ उठाने में यह सहयोग हमें समर्थन देगा।”

ब्लैकरॉक की ग्लोबल हेड ऑफ रियल एसेट्स, ऐनी वेलेंटाइन एंड्रयूज ने बताया, "इस अच्छी तरह से विविध और लंबवत एकीकृत नवीकरणीय व्यवसाय में टाटा पावर के साथ निवेश करते हुए हमें ख़ुशी हो रही है। देश में सौर और पवन संपत्तियों के एक सबसे बड़े पोर्टफोलियो और एक बहुत ही अनुभवी प्रबंधन टीम के साथ, टाटा पावर रिन्यूएबल्स कम कार्बन वाले भविष्य के लिए अपनी अर्थव्यवस्था की स्थिति के साथ-साथ अपने नागरिकों के लिए अधिक ऊर्जा स्थिरता सुरक्षित करने की भारत की महत्वाकांक्षा को पूरा करने में सबसे आगे है। अपनी ऊर्जा अर्थव्यवस्था में परिवर्तन लाने में भारत की सफलता दुनिया की जलवायु लक्ष्यों को पूरा करने की क्षमता के लिए महत्वपूर्ण होगी।"

मुबाडाला में रियल एस्टेट और इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी खालिद अब्दुल्ला अल कुबैसी ने कहा, "एक जिम्मेदार निवेशक होने के नाते, मुबाडाला ने कई बाज़ारों में नवीकरणीय ऊर्जा पर ध्यान केंद्रित किया है, इसलिए हम भारत में टाटा पावर रिन्यूएबल्स की महत्वाकांक्षाओं को आगे बढ़ाने में मदद करने के लिए ब्लैकरॉक रियल एसेट्स के साथ सह-निवेश करके खुश हैं। हरित और स्वच्छ ऊर्जा निर्माण और एक अनुभवी प्रबंधन टीम के आज तक के ट्रैक रिकॉर्ड के साथ, टाटा पावर भारत की एक सबसे बड़ी एकीकृत बिजली कंपनी है और देश की ऊर्जा स्वतंत्रता और परिवर्तन का समर्थन करने के लिए अच्छी तरह से तैयार है। इस निवेश के साथ भारत के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को दर्शाते हुए हमें गर्व महसूस हो रहा है। भविष्य में भी विकास के अवसरों का लाभ उठाने के लिए हम टाटा पावर के साथ काम करते रहेंगे।"

पूंजी निवेश का पहला दौर जून 2022 तक पूरा होने की उम्मीद है और शेष राशि कैलेंडर वर्ष 2022 के अंत तक डाली जाएगी। मोएलिस एंड कंपनी टाटा पावर के वित्तीय सलाहकार हैं, जबकि जेपी मॉर्गन ब्लैकरॉक रियल एसेट्स के वित्तीय सलाहकार हैं। सिरिल अमरचंद मंगलदास एंड कंपनी टाटा पावर के कानूनी सलाहकार हैं जबकि स्लॉटर एंड मे और एज़ेडबी पार्टनर्स ब्लैकरॉक रियल एसेट्स के कानूनी सलाहकार हैं।

 

लेन-देन पूर्व शर्तों और प्रथागत नियामक अनुमोदन के अधीन है।

No comments:

Post a Comment

जेकेके में महाकाव्य महाभारत पर आधारित नाटक 'उरूभंगम' का हुआ मंचन

जयपुर।  जवाहर कला केंद्र (जेकेके) के  रंगायन  में पाक्षिक नाट्य योजना के तहत रंग साधना थिएटर ग्रुप, जयपुर द्वारा शनिवार शाम को नाटक 'उरू...