Sunday, March 6, 2022

जेकेके में दर्शकों ने मॉर्निंग रागा में मधुर शास्त्रीय संगीत का आनंद लिया


जयपुर।
 जवाहर कला केंद्र (जेकेके) द्वारा आयोजित परफॉर्मिंग आर्ट फेस्टिवल 'रसरंगम' के दूसरे दिन, दर्शकों ने मधुर मॉर्निंग रागा में राजस्थान के लोक कलाकारों द्वारा मधुर म्यूजिकल प्रस्तुति का आनंद लिया। यह फेस्टीवल 13 मार्च तक चलेगा और इसमें शास्त्रीय संगीत, वादन, शास्त्रीय नृत्य और थिएटर प्रस्तुतियों का आयोजन होगा। दूसरे दिन की शुरुआत सुबह जेकेके के लॉन में राजस्थान के टोंक जिले के शास्त्रीय गायक मोहम्मद अमान खान की प्रस्तुति से हुई। 'शास्त्रीय गायन' की अपनी प्रस्तुति में, उन्होंने पारंपरिक शास्त्रीय रचनाओं का प्रतिपादन किया और महाशिवरात्रि के उत्सव को चिह्नित करने के लिए भगवान शिव को समर्पित प्रेरक गीत प्रस्तुत किए। उन्होंने राग ललित विलम्बित ख्याल जिसके बोल थे 'रेन का सपना में का से कहूँ आली' और मध्य लय तीन ताल व गुनकली रूपक ताल जिसके बोल 'हे डमरू हर कर बाजे' प्रस्तुत किया। इसके साथ ही उन्होंने द्रुत तीन ताल प्रस्तुत किया, जिसके बोल 'ऐ करतार पूरी करो मन की इच्छा' थे। उनके साथ हारमोनियम पर पं. आलोक भट्ट, तबले पर मोहम्मद शोएब, सारंगी पर जाकिर हुसैन और तानपुरा पर मोहम्मद इरफान ने साथ दिया। इसके बाद जेकेके के लॉन में डॉ. विकास गुप्ता द्वारा 'सितार वादन' की प्रस्तुति हुई। उन्होंने राग भटियार में आलाप, जोड़ विलंबित और द्रुत गत तीन ताल में निबद्ध राग गौड़सरंग के साथ गत झपताल में अंत में भैरवी की प्रस्तुति के साथ समापन किया। जयपुर में जन्मे, डॉ गुप्ता को श्रीमती अन्नपूर्णा देवी, श्रीमती शरण रानी, श्री दामोदर लाल जी काबरा, उस्ताद अमजद अली खान और पं. विश्व मोहन भट्ट जैसे उस्तादों द्वारा 'सितार-वादन' में कठोर प्रशिक्षण और व्यवस्थित शिक्षा प्राप्त करने का अवसर मिला है। वह एक कुशल सितार वादक हैं और उन्होंने देश और विदेशों में बड़ स्तर पर प्रस्तुतियां दी हैं।

No comments:

Post a Comment

डब्लयूटीपी पर स्टूडेंटस का ऊर्जावान फ्लैश मॉब

जयपुर। जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट , जयपुर का 16 वां राष्ट्रीय युवा उत्सव ‘ अभ्युदय -2022’ आगामी 9-10 दिसंबर को होगा। इस ...