Wednesday, March 2, 2022

मेडवर्सिटी ने एंडोडोंटिक्स में फैलोशिप के लिए क्लव डेंटल के साथ की साझेदारी

हैदराबादः, 02 मार्च, 2022: एंडोडोंटिक्स यानि ‘दातों को बचाने के लिए किया जाने वाला उपचार’ बेहद स्पेशलाइज़्ड विज्ञान है जिसमें अनुमानित एवं सकारात्मक परिणाम पाने के लिए अडवान्स्ड स्किल्स की ज़रूरत होती है। दांतों में कैविटी के बढ़ते मामलों और इसके बारे में जागरुकता की कमी के चलते और भी ज़रूरी हो जाता है कि हर डेंटिस्ट को इन स्किल्स के लिए विशेष प्रशिक्षण दिया जाए।

अग्रणी हेल्थकेयर ऐड-टेक ब्राण्ड मेडवर्सिटी और क्लव डेंटल ने एंडोडोंटिक्स में फैलोशिप कोर्स के लॉन्च के लिए क्लव डेंटल के साथ साझेदारी की है। 6 महीने के इस फैलोशिप प्रोग्राम के तहत भारत के सभी प्रमुख शहरों में क्लव डेंटल के साथ 3 माह का कॉन्टैक्ट प्रोग्राम शामिल होगा। इससे छात्र अपने ज्ञान का उपयोग व्यवहारिक रूप से कर सकेंगे।

लेफ्टिनेन्ट जनरल डॉ विमल अरोड़ा, चीफ़ क्लिनिकल ऑफिसर (पीवीएसएम, एवीएसएम, वीएसएम और बार) क्लव डेंटल ने कहा, ‘‘देश में एंडोडोंटिस्ट्स की संख्या अपर्याप्त है और इनकी ज़रूरत बहुत अधिक है। देश में न सिर्फ एंडोडोंटिक्स में पोस्ट-ग्रेजुएशन में अतिरिक्त सीटों की आवश्यकता है बल्कि इन चिकित्सकों को एंडोडोंटिक्स के क्षेत्र में कौशल विकास देना भी ज़रूरी है ताकि रूट कैनाल, री-रूट कैनाल, सिंगल सिंटिंग रूट कैनाल, सर्जिकल एंडोडोंटिक्स और पोस्ट एंडोडोंटिक्स रीहेबिलिटेशन के उपचार में सुधार लाया जा सके। मेडवर्सिटी के साथ हमारी साझेदारी से इन  सभी मुद्दों का समाधान हो सकेगा और हमारे डेंटल सर्जन्स को अपनी प्रेक्टिस में सुधार लाने एवं मरीज़ों को बेहतर सेवाएं प्रदान करने के लिए प्रशिक्षण का सही प्लेटफॉर्म मिलेगा।’’

क्लव डेंटल देश भर में मेडवर्सिटी के छात्रों को सही बुनियादी सुविधाएं प्रदान करेगा, साथ ही ये युवा डेंटिस्ट अनुभवी एवं प्रशिक्षित फैकल्टी के मार्गदर्शन में उचित प्रशिक्षण भी पा सकेंगे।

जेराल्ड जयदीप, सीईओ मेडवर्सिटी ने कहा, ‘‘भारत में ओरल केयर प्रोफेशन की बात करें, तो इस क्षेत्र में पेशेवर शिक्षा से लेकर, प्रेक्टिस एवं रोज़गार तक कई तरह की चुनौतियां हैं। वर्तमान में हमारे देश में डेंटिंस्ट्स की संख्या दुनिया में दूसरे स्थान पर है, जहां 2.7 लाख रजिस्टर्ड प्रेक्टिशनर हैं। हमारे डेंटिस्ट्स एवं आबादी का अनुपात 1:5000 है जो विश्वस्वास्थ्य संगठन के अुनसार 1:7500 होना चाहिए।’

फिर भी हमारे डेंटल सर्जन्स के लिए औपचारिक शिक्षा के अलावा कोई अन्य प्रोग्राम उपलब्ध नहीं है, जिसने उनकी रोज़गार क्षमता और डेंटल प्रेक्टिस में सुधार लाया जा सके। हमें खुशी है कि 6 माह के इस फैलोशिप प्रोग्राम के लॉन्च के लिए क्लव डेंटल के साथ साझेदारी का मौका मिला है। यह देखकर अच्छा लगता है कि प्रोग्राम के लॉन्च के पहले सप्ताह में ही 110 छात्रों के पहले बैच का एडमिशन हो गया है।

प्रोग्राम के तहत बीडीएस ग्रेजुएट्स को रटने के बजाए व्यवहारिक ज्ञान पाने का मौका मिलेगा, वे क्लिनिकल सैटिंग में अवधारणाओं को बेहतर तरीके से समझ सकेंगे और याद रख सकेंगे। यह प्रोग्राम एंडोडोंटिक्स में उचित निदान, उपचार की योजना एवं प्रबन्धन के लिए भी उचित बुनियादी ढांचा उपलब्ध कराएगा।

 

 

No comments:

Post a Comment

ज्योतिष हमारी वैदिक परंपरा का हिस्सा : राज्यपाल

राज्यपाल ने किया अंतर्राष्ट्रीय एस्ट्रोलॉजी कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन जयपुर. यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी और पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर जोधपु...