Tuesday, March 22, 2022

हिंदुजा लीलैंड फाइनेंस लिमिटेड का एनडीएल में विलय - निदेशक मंडल ने दी सैद्धांतिक मंजूरी

एनएक्सटीडिजिटल लिमिटेड (एनडीएल) के निदेशक मंडल ने आज अपनी बैठक में एक गैर-बैंकिंग वित्त कंपनी (एनबीएफसी) हिंदुजा लीलैंड फाइनेंस लिमिटेड (एचएलएफएल) के एनडीएल में विलय के लिए सैद्धांतिक मंजूरी प्रदान की। यह मंजूरी सभी वैधानिक या नियामक की मंजूरी और शेयरधारकों की के अनुमोदन के अधीन है।

एनडीएल के डिजिटलमीडिया और कम्युनिकेशन संबंधी कारोबार को हिंदुजा ग्लोबल सॉल्यूशंस में ट्रांसफर करने के फैसले (जो आवश्यक नियामक और शेयरधारक अनुमोदन के अधीन है) के बाद यह कदम एनडीएल की ओर से विकास के बेहतर अवसरों को तलाशने के विजन के अनुरूप उठाया गया है। इस दिशा में आगे बढ़ते हुए एनडीएल अपने उद्देश्य के अनुरूप विभिन्न ऐसे प्रस्तावों का मूल्यांकन कर रहा हैजो कंपनी के लिए इन्क्रीमेंटल वैल्यू अर्जित कर सकते हैं। अपने शेयरधारकों के लिए वैल्यू क्रिएट करने की इस प्रतिबद्धता के अनुरूपयह विलय एनडीएल के शेयरधारकों को एचएलएफएल की आक्रामक विकास योजनाओं में भाग लेने और उनका हिस्सा बनने में सक्षम बनाएगा।

एचएलएफएल 29,000 करोड़ रुपए से अधिक के एयूएम और 23 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों में 1,550 स्थानों पर अखिल भारतीय मौजूदगी के साथ भारत की अग्रणी वित्तीय एनबीएफसी में से एक है। शाखाओं के एक व्यापक नेटवर्क के माध्यम से एचएलएफएल कॉमर्शियल और पर्सनल वाहनों के लिए फाइनेंस उपलब्ध कराती है। कंपनी मध्यम और भारी वाणिज्यिक वाहनोंहल्के वाणिज्यिक वाहनों और छोटे वाणिज्यिक वाहनों से लेकर कारोंबहु-उपयोगी वाहनोंतिपहिया और दोपहिया वाहनों के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के उपयोग किए गए वाहनों के लिए फाइनेंस उपलब्ध कराने के काम में जुटी है। एचएलएफएल अशोक लीलैंड लिमिटेड की सहायक कंपनी है।

प्रस्तावित अधिग्रहण के परिणामस्वरूप विलय की गई इकाई के पास 29,000 करोड़ रुपए से अधिक की कुल संपत्ति होगी। शेयरधारकों को शेयर स्वैप मूल्यांकन के अनुसार शेयर प्राप्त होंगे। कंपनी मूल्यांकन अभ्यास करने के लिए स्वतंत्र मूल्यांकनकर्ताओं की नियुक्ति करेगी और शेयर विनिमय अनुपात सहित रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।  

No comments:

Post a Comment

वी बिज़नेस ने एमएमएसई की डिजिटल यात्रा को आसान बनाने के लिए लॉन्च किया ‘रैडी फॉर नेक्स्ट’

मुंबई, 27 जून, 2022ः महामारी के चलते कारोबार पर पड़े प्रभावों, बहुत अधिक लिक्विडिटी और अन्य बदलावों के चलते एमएसएमई संवेदनशील हो गए हैं। इन्ह...