Wednesday, March 2, 2022

टियर 2 और 3 शहरों के 54 प्रतिशत उपयोगकर्ताओं के साथ, अब 12 भारतीय भाषाओं में कर सकते हैं ट्रूली मैडली का उपयोग

जयपुर, 02 मार्च, 2022: भारत के सबसे तेजी से बढ़ते डेटिंग ऐप ट्रूली मैडली ने आज 12 स्थानीय भाषाओं में अपनी सेवाएँ प्रदान करने की घोषणा की। इन भाषाओं में तमिल, तेलुगु, मलयालम, कन्नड़, गुजराती, पंजाबी, बंगाली, उड़िया, मराठी, उर्दू, असमिया और हिंदी शामिल हैं।

ट्रूली मैडली के 10 मिलियन उपयोगकर्ता समुदाय में से 54 प्रतिशत टियर 2 और 3 शहरों से आते हैं। ऑनलाइन डेटिंग ऐप इन बाजारों से 45 प्रतिशत से अधिक राजस्व प्राप्त करता है, जहां केवल कुछ ही मूल रूप से अंग्रेजी या हिंदी भाषी हैं। यह वृद्धि युवा पीढ़ियों में प्यार पाने और कैजुअल रिश्तों से दूर जाने की बढ़ती इच्छा के कारण हुई है।
स्थानीय भाषाओं के जुड़ने से उन लोगों को मदद मिलेगी, जो अंग्रेजी नहीं बोलते हैं या अपनी मातृभाषा का उपयोग करना पसंद करते हैं, ताकि वे सार्थक बातचीत कर सकें।
इस बहुभाषी ऐप में मातृभाषा मिलान, आइसब्रेकर प्रश्न और सोशल बैज जैसी विशेषताएं शामिल होंगी, जिन्हें लक्षित समुदाय और उनकी संस्कृति के अनुसार अनुकूलित किया गया है। यह सिंगल्स को प्यार में जातीय बाधाओं को तोड़ने में मदद करेगा।
ट्रूली मैडली के सह-संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, स्नेहिल खानोर ने बताया, "आपके द्वारा बोली जाने वाली भाषा में आप अपनी भावना को सबसे अच्छी तरह से व्यक्त कर सकते हैं।" उन्होंने आगे कहा, "हमारा ध्यान हमेशा असली भारत के लिए एक डेटिंग प्लेटफॉर्म बनाने पर रहा है। भारत में अनेक भाषाएँ बोली जाती हैं और अक्सर लोग अपनी मातृभाषा में बोलने में अधिक सहज महसूस करते हैं। यह टियर 2 और 3 शहरों के लिए विशेष रूप से सच है, जहां प्रेम विवाह बहुत आकांक्षात्मक हैं। हम इन बाजारों में ऐसी कई सफल कहानियां देखते हैं। यहां अंग्रेजी प्रमुख भाषा नहीं है और इन उपयोगकर्ताओं की डेटिंग जरूरतों को पूरी तरह से पूरा नहीं करती है।"
ट्रूली मैडली, कैज़ुअल डेटिंग ऐप्स और मैट्रिमोनी वेबसाइटों के बीच की खाई को भर रहा है और विभिन्न विषयों जैसे कि पसंद के अनुसार निर्णय लेने, शादी-विवाह, संबंध से जुड़े पहलुओं आदि पर मिलेनियल्स और युवा पीढ़ी को सक्षम करने में सबसे आगे रहा है।

No comments:

Post a Comment

इस्कान मंदिर में गीता जयंती हर्षोल्लास से मनाई गई

जयपुर। इस्कॉन, श्री श्री गिरिधारी दाऊजी मन्दिर, मानसरोवर, जयपुर में 3 दिसंबर को गीता जयंती का कार्यक्रम बड़े हर्सोल्लास से मनाया गया। ओम प्र...