Friday, February 18, 2022

जेकेके में 'राजस्थानी कलाओं का सौंदर्य-शास्त्र' विषय पर संवाद कल

जयपुर। आज़ादी का अमृत महोत्सव के तहत जवाहर कला केंद्र (जेकेके) द्वारा 'राजस्थानी कलाओं का सौंदर्य-शास्त्र' विषय पर संवाद शृंखला का आयोजन शनिवार, 19 फरवरी को शाम 5 बजे से वर्चुअली किया जाएगा। कार्यक्रम में कला समीक्षक, यात्रा वृत्तान्तकार व कवि, डॉ. राजेश कुमार व्यास संवाद करेंगे। वे 'राजस्थानी कलाओं का सौंदर्य-शास्त्र' विषय पर अपने अनुभव व विचार साझा करेंगे। यह कार्यक्रम जेकेके के फेसबुक पेज पर प्रदर्शित किया जाएगा। केन्द्रीय साहित्य अकादमी के सर्वोच्च सम्मान से सम्मानित डॉ. राजेश कुमार व्यास जाने-माने कवि, संस्कृतिकर्मी, कला आलोचक और यात्रावृतान्तकार हैं। डॉ. व्यास भारतीय कला-संस्कृति के अपने मौलिक चिन्तन के लिए भी विशेष रूप से जाने जाते हैं। भारतीय दृष्टि की उनकी मौलिक कला स्थापनाओं के व्याख्यान देश-विदेश में खासे लोकप्रिय हुए हैं। कला आलोचना की उनकी कृति 'रंगनाद', 'कलावाक्', 'रस निरंजन', 'भारतीय कला', 'सांस्कृतिक राजस्थान’,  एनबीटी से प्रकाशित उनके यात्रा संस्मरण ‘कश्मीर से कन्याकुमारी’, ‘नर्मदे हर’, 'आँख भर उमंग' आदि चर्चित पुस्तकें हैं। गौरतलब है कि  राजस्थान सूचना सेवा के वर्ष 1996 बैच के अधिकारी डॉ. व्यास वर्तमान में संयुक्त निदेशक, राज्यपाल, राजस्थान के पद पर कार्यरत हैं।

No comments:

Post a Comment

इस्कान मंदिर में गीता जयंती हर्षोल्लास से मनाई गई

जयपुर। इस्कॉन, श्री श्री गिरिधारी दाऊजी मन्दिर, मानसरोवर, जयपुर में 3 दिसंबर को गीता जयंती का कार्यक्रम बड़े हर्सोल्लास से मनाया गया। ओम प्र...