Thursday, February 24, 2022

आजादी का अमृत महोत्सव के तहत नाट्य लेखक व निर्देशक अशोक राही और डॉ लईक हुसैन करेंगे चर्चा

जेकेके में राजस्थान की लोक नाट्य परंपरा और प्रासंगिकता पर होगी चर्चा

जयपुर। आज़ादी का अमृत महोत्सव के तहत जवाहर कला केंद्र (जेकेके) द्वारा 'राजस्थान की लोक नाट्य परंपरा और प्रासंगिकता' विषय पर संवाद शृंखला का आयोजन शनिवार, 26 फरवरी को शाम 5 बजे से वर्चुअली किया जाएगा। इस संवाद कार्यक्रम में नाट्य लेखक व निर्देशक  अशोक राही और डॉ लईक हुसैन राजस्थान के लोक नाट्य पर अपने विचार और ज्ञान साझा करेंगे। सत्र का प्रसारण जेकेके के फेसबुक पेज https://www.facebook.com/jawaharkalakendra.jaipur/ पर किया जाएगा। जाने-माने नाट्य लेखक, निर्देशक व समीक्षक  अशोक राही ने रावण मिल गया, चम्पाकली का रामरूपैय्या, रंगीली भागमती, जुआ-दा गेम्बल, आसमान में उड़ती गुलाबी चिड़िया, सूरज चमक उठा, द क्रिकेट, हड़ताल हरिकथा जैसे नाटकों पर कार्य किया है। उनके द्वारा लिखे रंग समीक्षा व नाट्यालेख निरन्तर प्रकाशित होते रहे हैं। इसके अतिरिक्त उन्होंन कई नाट्कों का निर्देशन व अभिनय भी किया है। द्वारका साहित्य सम्मान सहित कई पुरस्कारों से सम्मानित  राही ने पिछले उन्नीस वर्षों से बहुचर्चित दैनिक हास्य व्यंग्य कॉलम 'बात करामात' का निरन्तर लेखन किया है। वे सुप्रसिद्ध नाट्य संस्था पीपुल्स मीडिया थियेटर(पीएमटी) के अध्यक्ष भी हैं। वरिष्ठ नाट्य लेखक व निर्देशक डॉ लईक हुसैन ने 25 नाटकों में अभिनय, लगभग 75 नाटकों की परिकल्पना और 60 नाटकों का निर्देशन करने के साथ-साथ 25 नाटक लिखे हैं। उन्होंने गवरी शैली, कुचामणी ख्याल शैली तथा तुर्रा-कलंगी शैलियों पर कई नाटक तैयार किए हैं, जिनका सभी राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय नाट्य समारोहों में मंचन भी हुआ है। डॉ हुसैन को डॉ. लक्ष्मी नारायण दूबे सम्मान, पाटलीपुत्र सम्मान, अमन सम्मान, प्रेमचंद सम्मान, डॉ चतुर्भुज सम्मान के साथ-साथ 14 अगस्त 2015 को तत्कालीन मुख्यमन्त्री द्वारा ‘’एट होम’’ कार्यक्रम में राजकीय सम्मान से सम्मानित भी किया जा चुका है।

No comments:

Post a Comment

ज्योतिष हमारी वैदिक परंपरा का हिस्सा : राज्यपाल

राज्यपाल ने किया अंतर्राष्ट्रीय एस्ट्रोलॉजी कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन जयपुर. यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी और पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर जोधपु...