Saturday, February 12, 2022

सड़कों के विकास से व्यापार एवं पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा- सांसद दीयाकुमारी


केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से की मुलाकात, 
विकास कार्यों की लंबी सूची सौंपने के साथ व्यक्त किया आभार

जयपुर। सांसद दीयाकुमारी ने केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से मुलाक़ात कर संसदीय क्षेत्र के गौमती से ब्यावर फोरलेन हेतु 722 करोड़ एवं चारभुजा से निचली ओडन तक 2 लेन स्वीकृति के लिए 838 करोड़ के लिए आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सड़कों के निर्माण से क्षेत्र में न केवल आवागमन की सुविधा बढ़ेगी अपितु क्षेत्र में व्यापार एवं पर्यटन क्षेत्र को भी बढ़ावा मिलेगा।
मुलाकात के दौरान सांसद ने सीआरआईएफ़ से सड़कों का निर्माण स्वीकृत करवाने, कुछ मार्गों को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करवाने और निर्माणाधीन राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 8 गोमती-ब्यावर फोरलेन के कुछ स्थानों पर आरओबी, आरयूबी, पिलर ब्रिज और सर्विस लेन आदि का निर्माण कार्य करवाने की मांग भी की।
सांसद दीया कुमारी ने सीआरआईएफ़ के अन्तर्गत 7 सड़कों का निर्माण स्वीकृत करवाने की मांग की जिसमें एमडीआर-243 डांगावास से कुडकी डिस्ट्रिक्ट बॉर्डर तक, एमडीआर -244 रेण से पिपाड़ा डिस्ट्रिक्ट बॉर्डर तक, एमडीआर -352 बर से बिराठियांखुर्द, गिरी-बुटिवास से रास रोड तक, एमडीआर -353 झाला की चौकी से काणूजा-कलालिया-बगड़ी वाया कोट किराना से जस्साखेड़ा तक, मादड़ी-आमेट-देवगढ-ताल- लसानी रोड का चौड़ाईकरण एवं सुदृढीकरण और राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 158 मांडल (भीलवाडा) से रास जिला पाली को पादूकलां तक वाया कुड़की रियां बड़ी तक 158E के रूप में बढ़ाते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 89 से जोड़ते हुए-40 किलोमीटर सड़क निर्माण कार्य आदि शामिल है।
इसके साथ ही कांकरोली से चित्तौड और लाम्बिया से पुष्कर सड़कों को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करने की मांग रखी। कांकरोली से चित्तौड जो कि वर्तमान में मुख्य जिला सड़क संख्या 202 है परन्तु क्षेत्रवासियों की मांग है कि इसे राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करवाते हुए स्वीकृत करवाए जिससे कांकरोली से सीधा सम्पर्क चित्तौड एवं मध्यप्रदेश राज्य से हो जाएगा। वहीं राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 158 लाम्बिया से पुष्कर बाईपास एन.एच. 89 को जोडते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करने की मांग की जिससे कि जिला पाली, अजमेर एवं नागौर आपस में जुड सकेंगे। मीरां की जन्मस्थली कुडकी एवं मार्ग में पडने वाले तीर्थ स्थल पुष्कर एवं नागोर जिले के औद्योगिक एवं खनिज क्षेत्र इस सड़क से जुड सकेंगे।
इसके अलावा गोमती-ब्यावर फोरलेन स्थित 10 दुर्घटनाग्रस्त क्षेत्रों में आवश्यक निर्माण की मांग की। जिसमें नेशनल हाईवे 8 पर पुराने आरटीओ कार्यालय ब्यावर से केन्द्रीय विद्यालय तक पिलर ब्रिज निर्माण अथवा सर्किल एवं सर्विस रोड का निर्माण, ग्राम राजियावास के पास कोटिया चौराहे से राजियावास तक आर.ओ.बी. का निर्माण, जस्साखेडा पर आर.ओ.बी या आर.यू.बी का निर्माण, 40 मील चौराहा ताल- देवगढ- लसानी- भीलवाडा मार्ग पर आरओबी का निर्माण, बग्गड चौराहा रीको क्लस्टर पर जंक्शन का निर्माण कार्य। भीम के आबादी क्षेत्र में सड़क की चौडाई 45 मीटर रखते हुए पिलर ब्रिज का निर्माण, दिवेर पर अण्डरपास का निर्माण व ग्राम जवाजा पर प्रस्तावित बाईपास पर ग्राम चिलियावाड एवं बर-सेंदडा सम्पर्क सडक पर आयूबी का निर्माण कार्य कराने की मांग शामिल है।

No comments:

Post a Comment

आईसीआईसीआई डायरेक्ट ने लॉन्च किया आईसीआईसीआई डायरेक्ट आई लर्न

मुंबई - 1 जुलाई, 2022- विभिन्न वित्तीय सेवाओं के लिए एक डिजिटल प्लेटफॉर्म आईसीआईसीआई डायरेक्ट का संचालन करने वाली कंपनी आईसीआईसीआई सिक्योरिट...