Sunday, January 9, 2022

गुरू गोविंद सिंह जयंती- तही प्रकाश हमारा भयो, पटना शहर विखे भव लयो।

"चिड़ियां ते मैं बाज लड़ावागीदड़ा नूं मैं शेर बनावां।

सवा लाख से एक लड़ावातबे गोबिंद सिंह नाम कहावां।"

जयपुर। सरबंसदानीसाहिबे कमालदशमेश पितासिक्ख धर्म के दसवें गुरू और खालसा पंथ के संस्थापक गुरू गोबिंद सिंह जी की जयंती हर्षोउल्लास के साथ मनाई गई। प्रकाश पुरब के तहत सुखमनी सेवा सोसायटीबनी पार्क (रजि.) के सदस्यों ने सहज पाठ किएजिसकी समाप्ति आज गुरूपर्व के दिन गुरूद्वारा नेहरू नगरपानी पेच में गुरूद्वारा सेक्रेटरी गुरमीत सिंह जी व सोसायटी सेक्रेटरी सूर्य उदय सिंह ने की। उपरान्त गुरूद्वारा नेहरू नगर में दरबार साहिबअमृतसर से आए भाई हरदयाल सिंह जीभाई कर्म सिंह जी व जगादरी से आए भाई जसविंदर सिंह जी ने कीर्तन द्वारा संगत को निहाल किया। गुरू का लंगर अतुट बर्ताया गया।

No comments:

Post a Comment

जेकेके में दर्शकों ने शास्त्रीय व लोक संगीत की फ्यूजन प्रस्तुति का आनंद उठाया

जयपुर।  जवाहर कला केंद्र (जेकेके) में शुक्रवार शाम को मध्यवर्ती में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त फ़्यूज़न ‘कहरवा’ की प्रस्तुति ने दर्शकों क...