Monday, May 16, 2022

“वाविन-वेक्टस” की संयुक्तरूप से प्रथम चैनल पार्टनर मीट जश्न के साथ संपन्न हुई

जयपुर। बिल्डिंग और इंफ्रास्ट्रक्चर इंडस्ट्री के ग्लोबल लीडर वाविन ने वॉटर स्टोरेज टैंक्स और पाइपिंग सिस्टम के क्षेत्र में देश की बहुप्रतिष्ठित कंपनी "वेक्टस इंडस्ट्रीज लिमिटेड" - आपसी सहयोग के साथ बिल्डिंग एवं इंफ्रास्ट्रक्चर बिज़नेस भारत के तेजी से बढ़ते जल प्रबंधन उद्योग में आवासीय, वाणिज्यिक, औद्योगिक, इंफ्रास्ट्रक्चर और कृषि क्षेत्रों में ग्राहकों की आपूर्ति में सबसे आगे काम करेंगे। 

"वाविन -वेक्टस" द्वारा जयपुर में चैनल पार्टनर मीट का आयोजन किया गया। यह ख़ास मीट वाविन-वेक्टस ने अपने मुख्य डिस्ट्रीब्यूटर्स के लिए 15 मई 2022 को होटल मैरियट, जयपुर में आयोजित की थी। जिसमें कम्पनी की ओर से आशीष बाहेती, मनीष खंडेलवाल, योगेश कुमार, गुंजन लड्ढा, प्रशांत जीतरवाल एवं राजस्थान के 150 से अधिक डिस्ट्रीब्यूटर्स ने शामिल होकर कंपनी की उपलब्धियां एवं नए प्रोडक्ट्स के बारे में जानकारियां प्राप्त की।

इस विषय में बातचीत के दौरान संयुक्त प्रबंध निदेशक आशीष बाहेती ने कहा, “भारतीय पाइप, फिटिंग और वॉटर टैंक्स का मार्केट पिछले एक दशक से तेजी से बढ़ रहा है। अपने मजबूत डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क और भारतीय मार्केट की गहरी समझ को वाविन की तकनीकी विशेषज्ञता के साथ जोड़कर हम इंडियन मार्केट पर अपनी पकड़ को और मजबूत बनाएंगे और अपने ग्राहकों को और भी बेहतर सर्विस प्रदान करने में सक्षम हो पाएंगे।"

इस विषय में बात करते हुए कमर्शियल डायरेक्टर मनीष खंडेलवाल ने कहा, "जब इनोवेटिव सोल्यूशंस की बात आती है, तब वाविन की ग्लोबल स्ट्रेंथ और फ्रंट-रनर स्टेटस हमें अगले कुछ वर्षों में तेजी से बढ़ने और आर्थिक विकास करने में एक शानदार प्लेटफार्म प्रदान करेगी। हमारी संयुक्त ताकत हमें भारत के महत्वपूर्ण इंफ्रास्ट्रक्चर, बिल्डिंग और पर्यावरणीय जरूरतों को पूर्ण करने के लिए हमें सक्षम बनाएगी।" 

वहीँ वाविन-वेक्टस राजस्थान के रीजनल हेड ने सभी डिस्ट्रीब्यूटर्स एवं चैनल पार्टनर्स को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए सराहा व भविष्य में साथ मिलकर प्रगति करने के लिए मार्गदर्शित भी किया। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि हमारे प्रोडक्ट्स गुणवत्ता में पूर्णतः खरे हैं अतः हमें आशा है कि हम अपनी वर्षों की विशेषज्ञता के साथ ग्राहकों को विभिन्न विकल्प उपलब्ध कराने में निश्चित रूप से सफल होंगे। 

गौरतलब है कि वाविन-वेक्टस देशभर में 4300 वितरकों एवं 37000 से अधिक रिटेलर नेटवर्क, 9 डिपो, 7 रीजनल ऑफिसेस और 19 प्लांट्स का संयुक्त रूप से संचालन करेंगे। वाविन-वेक्टस भारत की अग्रणी और सबसे तेज़ी से बढ़ती वॉटर स्टोरेज और पाइपिंग सिस्टम कंपनी है।

जेकेके में लोकप्रिय 'जूनियर समर प्रोग्राम' का आज से हुआ आगाज


जयपुर।
 आजादी का अमृत महोत्सव के तहत जवाहर कला केंद्र (जेकेके) में  सोमवार से लोकप्रिय 'जूनियर समर प्रोग्राम' का आगाज हुआ। जेकेके परिसर में विभिन्न स्थानों पर अलग-अलग वर्कशॉप्स आयोजित की जा रही हैं, जिसमें थियेटर, तबला, कथक, गिटार, विजुअल आर्ट्स आदि शामिल हैं। समर प्रोग्राम की शुरूआत सुबह थियेटर, तबला, कथक और गिटार वर्कशॉप के साथ हुई। यह वर्कशॉप्स बच्चों के लिए मंनोरंजक एक्टिविटीज के माध्यम से विशेषज्ञों से सीखने पर केंद्रित हैं। समर प्रोग्राम में 8 वर्ष से 18 वर्ष की आयु के बच्चे हिस्सा ले रहे हैं। जेकेके में थिएटर वर्कशॉप 30 दिन तक सुबह 8 बजे से दोपहर 12 बजे तक आयोजित की जा रही है। जिसमें अलग-अलग आयु के बच्चों को 10 ग्रुप्स में बांटा गया है। प्रत्येक ग्रुप के लिए 2 प्रशिक्षक हैं, जो बच्चों को थिएटर की बारीकियां सिखाएंगें। थिएटर वर्कशॉप में करीब 250 बच्चे प्रशिक्षण ले रहे हैं। वर्कशॉप के पहले दिन बच्चों को विभिन्न एक्सरसाइज और गेम्स खिलाए गए। वहीं श्री पवन गोस्वामी द्वारा करीब 27 बच्चे गिटार बजाने का प्रशिक्षण ले रहे हैं। इसके अलावा करीब 13 बच्चे डॉ. तरूणा जांगिड़ से कथक नृत्य की बारीकियां सीख रहे हैं। तबला बजाने का प्रशिक्षण डॉ. अंकित पारीक दे रहे हैं। इस वर्कशॉप में करीब 14 बच्चे प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। इसी प्रकार से बच्चों के लिए विजुअल आर्ट्स की भी वर्कशॉप्स आयोजित की जा रहीं हैं। यह वर्कशॉप्स 20 दिनों तक शाम 4 बजे से शाम 6 बजे तक आयोजित होगीं। जिसमें कैलिग्राफी, कैरिकेचर, वॉटर कलर पेंटिंग का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। कैलिग्राफी का प्रशिक्षण श्री हरीशंकर बलोठिया व रश्मि टपारिया द्वारा दिया जा रहा है, जिसमें करीब 26 बच्चे कैलिग्राफी के गुर सीख रहे हैं। वहीं कैरिकेचर का प्रशिक्षण सुधीर गोस्वामी द्वारा दिया जा रहा है। इस वर्कशॉप में 7 बच्चे प्रशिक्षण ले रहे हैं। इसके अलावा प्रशिक्षक हिम्मत गायरी और सुभाष मावर द्वारा वॉटर कलर पेंटिंग वर्कशॉप में करीब 14 बच्चे प्रशिक्षण ले रहे हैं। गौरतलब है कि समर प्रोग्राम का समापन 18 जून को होगा। 

क्लिक्स कैपिटल वित्तीय वर्ष 2023 के अंत तक लघु एवं मध्यम उद्यमों को देगी रु 1000 करोड़ के अनसिक्योर्ड लोन

16 मई, 2022ः भारत की अग्रणी डिजिटल-लेंडिंग एनबीएफसी क्लिक्स कैपिटल सर्विसेज़ लिमिटेड (क्लिक्स कैपिटल) ने लोन देने की प्रक्रिया को सुगम बनाने और वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के उद्देश्य के साथ देश भर में लोन सेवाओं से वंचित छोटे उद्यमियों को रु 1000 करोड़ के अनसिक्योर्ड एमएसएमई लोन वितरित करने का लक्ष्य तय किया है। 

यह पेशकश दिल्ली, जयपुर, चण्डीगढ़, मुंबई, पुणे, अहमदाबाद, बैंगलोर, हैदराबाद और चेन्नई के लघु एवं मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) के लिए उपलब्ध होगी। हाल ही में कंपनी ने जयपुर और अहमदाबाद में अपना संचालन फिर से शुरू किया है, इस वित्तीय वर्ष के अंत तक कंपनी ने पांच अन्य शहरों में अपने संचालन का विस्तार करने की योजनाएं बनाई हैं। 

‘‘देश भर में एमएसएमई के लिए कार्यशील पूंजी के लिए लोन लेना बड़ी चुनौती है, खासतौर पर महामारी की शुरूआत के बाद से मुश्किलें और भी बढ़ गई हैं। जहां एक ओर महामारी के चलते डिजिटल लेंडिंग को बढ़ावा मिला, वहीं दूसरी ओर देश के छोटे कारोबार आज भी औपचारिक डिजिटल सेवाआंे से वंचित हैं। क्लिक्स कैपिटल में हम इसी अंतर को दूर करने के लिए निरंतर प्रयासरत हैं। हमारे उपभोक्ताओं की कारोबार संबंधी ज़रूरतें चाहे कुछ भी हैं, चाहे उन्हें अपना कारोबार बढ़ाना हो या कार्यशील पूंजी की आवश्यकता हो, हम उनकी सभी ज़रूरतों को पूरा करते हैं। हमारे उपभोक्ताओं में निर्माताओं से लेकर रीटेलर, होलसेलर और यहां तक कि सेवा प्रदाता भी शामिल हैं, क्योंकि हम हर तरह के लघु एवं मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) को अपनी सेवाएं प्रदान करते हैं। हम इन उद्यमों को महामारी के प्रभावों से उबरने में मदद करने के लिए प्रयास कर रहे हैं।’’ राकेश कौल, सीईओ- क्लिक्स कैपिटल ने कहा।

अपनी शुरूआत के बाद से कंपनी ने रु 15,000 करोड़ के वितरण का आंकड़ा पार कर लिया है। कंपनी ने यह भी बताया कि चालू वित्तीय वर्ष में रु 4000 करोड़ से अधिक वितरण का लक्ष्य तय किया है।

क्लिक्स कैपिटल छोटे एवं मध्यम आकार के उद्यमों को अनसिक्योर्ड लोन देने के लिए विशेष बिज़नेस लोन प्रोग्राम पेश करती है, जिसके तहत कारोबारों की ज़रूरत के अनुसार उन्हें रु 5 लाख से रु 50 लाख तक के लोन दिए जाते हैं। क्लिक्स दो प्रकार के अनसिक्योर्ड बिज़नेस लोन देती हैः बिज़नेस टर्म लोन और वर्किंग कैपिटल लोन। बिज़नेस टर्म लोन बड़े खर्चों जैसे कारोबार का विस्तार, उपकरण या मशीनरी की खरीद के लिए दिए जाते हैं। वहीं वर्किंग कैपिटल लोन कारोबार के रोज़मर्रा के संचालन को सुगम बनाने के लिए दिए जाते हैं। इन लोन सेवाओं के कुछ फीचर्स हैं- लोन की बड़ी राशि, कोलेटरल रहित लोन, लोन चुकाने के लिए प्रत्यास्थ विकल्प (12 से 36 महीने), और न्यूनतम दस्तावेजों के साथ जल्द से जल्द अनुमोदन।  


टेकेडा ने भारत में हीमोफीलिया रोगियों के लिए उन्नत प्रोफिलैक्सिस उपचार हेतु एडिनोवेट लॉन्च किया

नई दिल्ली, 16 मई 2022: टेकेडा फार्मास्युटिकल कंपनी लिमिटेड, जो एक वैश्विक मूल्य - आधारित, आर एंड डी - संचालित बायोफार्मास्यूटिकल के क्षेत्र में अग्रणी कंपनी है, ने हीमोफिलिया ए रोगियों के लिए एडिनोवेट लॉन्च करके अपने नवीन दुर्लभ बीमारी पोर्टफोलियो का विस्तार किया। एडिवोनेट, स्थापित तकनीक (नियंत्रित पेगिलेशन) का उपयोग करते हुए इनोवेटिव एक्सटेंडेड हाफ-लाइफ रिकॉम्बिएंट फैक्टर VIII (rFVIII) उपचार है।

पहला और एकमात्र एफडीए मान्यता-प्राप्त एप्लिकेशन, MyPKFiT® के कंबिनेशन के साथ एडिनोवेट व्यक्तिगत और इंटरैक्टिव प्रोफिलैक्सिस उपचार विकल्प प्रदान करता है जो चिकित्सा पेशेवरों (एचसीपी) और रोगियों दोनों को आराम से घर बैठे फोन पर फैक्टर VIII स्तरों की वास्तविक समय में निगरानी में सक्षम बनाता है जिससे उनके गतिविधि निर्णयों को तदनुसार अनुकूलित किया जा सकता है और उनके जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद मिलती है। प्रोफिलैक्सिस पर रोगियों को अलर्ट भेजे जाते हैं जब उनके अनुमानित फैक्टर VIII लेवल कम होते हैं, और उनका इनफ्युजन बाकी होने की स्थिति में उन्हें याद दिलाया जाता है, इस प्रकार शानदार रोगनिरोधी कवरेज प्रदान किया जाता है।

लॉन्च के अवसर पर बोलते हुए, सेरिना फिशर, महाप्रबंधक – भारत, टेकेडा ने कहा, “टेकेडा में हर निर्णय मरीजों को केंद्रबिंदु में रखते हुए लिए जाते हैं औरहम अपने अत्यधिक अभिनव उपचारों की पहुंच बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं जिससे भारत के मरीजों के जीवन की गुणवत्ता बेहतर होगी। एडिनोवेट को इसलिए लॉन्च किया गया ताकि हीमोफिलिया उपचार में आए अंतराल को दूर किया जा सके और चिकित्सा पेशेवरों व रोगियों को स्थिति के बेहतर प्रबंधन में सहायता करने के लिए एक और कदम बढ़ाया जा सके। हमें उम्मीद है कि यह नई उपचार पेशकश भारत में हीमोफीलिया रोगियों के लिए संभावनाओं को फिर से परिभाषित करने में मदद करेगी।"

हीमोफीलिया ए रोगियों के लिए प्रोफिलैक्सिस के लाभों पर टिप्पणी करते हुए, डॉ संदीप अरोड़ा, हेड ऑफ मेडिकल अफेयर्स एंड पेशेंट सर्विसेज - इंडिया, टेकेडा* ने कहा, “गंभीर हीमोफीलिया ए वाले लोगों में बार-बार हेमार्थ्रोसिस, जॉइंट कार्टिलेज का विखंडन, अस्थि क्षय, और क्रिप्लिंग की स्थिति होती है जिसे ऑन-डिमांड थेरेपी के बजाये प्रोफिलैक्सिस के जरिए प्रभावी रूप से कम किया जा सकता है। अध्ययनों से पता चलता है कि नवीन, एक्सटेंडेड हाफ-लाइफ, एडिनोवेट, रोगियों को खुराक और इनफ्युजन आवृत्ति को कम करने में सहायक है जिससे व्यक्तिगत रोगनिरोधी कवरेज प्रदान करते हुए उपचार में सुधार होता है। एडिनोवेट का व्यापक वैश्विक नैदानिक कार्यक्रम में परीक्षण किया गया है जिसमें इसने अनुकूल सुरक्षा और प्रभावकारिता परिणाम प्रदर्शित किए हैं जो प्रभावी रक्तस्राव रिजॉल्यूशन, बेहतर जोड़ स्वास्थ्य और अधिकांश मामलों में लगभग शून्य सहज रक्तस्राव प्रदान करता है।"

बैक्सजेक्ट III™ सिस्टम के साथ तीन चरणों में दिए जाने वाला, एडिनोवेट में शीशी को कीटाणुरहित करने की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि शीशियों को पहले से ही सिस्टम हाउसिंग में एसेम्बल कर दिया जाता है। इसे कमरे के तापमान पर 3 महीने तक 30 डिग्री सेल्सियस (86 डिग्री फारेनहाइट) तापमान पर रखा जा सकता है, हालांकि यह अवधि उसकी समाप्ति तिथि से अधिक नहीं होनी चाहिए जिससे हैंडलिंग और स्टोरिंग प्रक्रिया आसान हो जाती है।

फार्मास्यूटिकल्स में वैश्विक अग्रणी के रूप में, टेकेडा फार्मास्युटिकल कंपनी लिमिटेड व्यापक शोध को बढ़ावा देने पर जो दे रही है ताकि कंपनी के चुने हुए चिकित्सा क्षेत्रों में प्रभावी और अभिनव उपचार के विकास का समर्थन किया जा सके। टेकेडा, टेकेडा फार्मास्युटिकल कंपनी लिमिटेड समूह की कंपनियों का हिस्सा है जिसका मुख्यालय जापान में है। यह कंपनी देश में हेमटोलॉजी, जेनेटिक डिजीज, इम्यूनोलॉजी और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल पोर्टफोलियो पर जोर देती है।

पीएनबी मेटलाइफ डेंटल ओपीडी बेनिफिट्स के साथ डेंटल केयर प्लान लॉन्च करने वाली पहली जीवन बीमा कंपनी बनी

मुंबई, 16 मई, 2022- ग्राहकों को केंद्र में रखते हुए इनोवेषन की दिषा में लगातार कदम उठाते हुए अग्रणी जीवन बीमा कंपनी पीएनबी मेटलाइफ इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पीएनबी मेटलाइफ) ने पीएनबी मेटलाइफ डेंटल केयर प्लान लॉन्च किया है, जो कि आज के ग्राहक की उभरती जरूरतों को पूरा करने के लिहाज से एक अनूठी योजना है।

यह भारत में पहली बीमा योजना है जो निश्चित-लाभ वाले आउट पेशेंट संबंधी खर्चों को कवर करती है और ओवरऑल डेंटल हेल्थ से संबंधित लागतों के साथ वित्तीय सहायता प्रदान करती है। इस बीमा प्लान के साथ पीएनबी मेटलाइफ डेंटल ओपीडी बेनिफिट्स के साथ डेंटल केयर प्लान लॉन्च करने वाली पहली जीवन बीमा कंपनी बन गई है। यह पहला स्टैंडअलोन डेंटल हेल्थ इंश्योरेंस प्लान अस्पताल में भर्ती होने की परेशानी के बिना प्रमुख डेंटल प्रोसीजर्स को कवर करता है।

एलाइड मार्केट रिसर्च के डेटा से संकेत मिलता है कि भारतीय दंत चिकित्सा बीमा उद्योग 2030 तक 3.65 बिलियन अमरीकी डालर का होगा। इंडियन नेशनल ओरल हेल्थ सर्वे के अनुसार, 90 प्रतिषत वयस्कों में ओरल हेल्थ संबंधी समस्याएं हैं और ज्यादातर लोग मसूढ़ों का संक्रमण, क्षय, दांतों का गिरना, दांतों का ढीला होना और महत्वपूर्ण डेंटल इन्फेक्षन और वस्क्युलर डेमेज के उपचार के लिए डेंटिस्ट से संपर्क करते हैं। कई अध्ययनों में दंत स्वास्थ्य को मधुमेह और स्ट्रोक जैसे कुछ पुराने विकारों से भी जोड़ा गया है।

पीएनबी मेटलाइफ का नया डेंटल केयर प्लान ग्राहकों को अपनी डेंटल हेल्थ को मैनेज करने में मदद करेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि उन्हें दंत चिकित्सा के लिए अपने आवश्यक खर्चों में कमी करने और अपनी बचत राषि का इस्तेमाल करने की आवष्यकता नहीं है।

अपने ग्राहकों को सुविधा प्रदान करने के लिए पीएनबी मेटलाइफ ने 340 से अधिक डेंटल क्लीनिकों के साथ करार किया है, जिसमें क्लोव डेंटल और सबका डेंटिस्ट शामिल हैं, जो भारत के प्रमुख शहरों में क्लीनिकों के साथ भारत की दो सबसे बड़ी डेंटल क्लिनिक श्रृंखलाएं हैं, जहां पॉलिसीधारक उन्हें मिलने वाले सभी फायदों का आनंद ले सकते हैं।

लॉन्च पर टिप्पणी करते हुए, पीएनबी मेटलाइफ के एमडी और सीईओ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘जरूरी कौशल, विशेष बुनियादी ढांचे और बढ़ती महंगाई के कारण दंत उपचार लगातार महंगा होता जा रहा है। अपने दांतों का इलाज कराने के लिए लोग बहुत सारा पैसा खर्च करते हैं और जरूरी होने पर अपनी बचत का इस्तेमाल भी करते हैं। ‘सर्किल ऑफ लाइफ’ के अनुरूप पीएनबी मेटलाइफ मे ंहम अपने ग्राहकों की विभिन्न वित्तीय जरूरतों को पूरा करने का लक्ष्य रखते हैं और पीएनबी मेटलाइफ डेंटल केयर इसी दिशा में उठाया गया एक कदम है।’’

डेंटल केयर प्लान की मुख्य विशेषताएं-

  • मेटलाइफ इंक के ग्लोबल डेंटल लीडरषिप द्वारा समर्थित इनोवेटिव प्रोडक्ट।
  • रात भर अस्पताल में भर्ती होने की परेशानी का सामना किए बिना बीमा तक पहुंच
  • प्रति प्रोसीजर 350 से 7500 रुपए तक के निश्चित लाभ और 50,000 रुपए तक की बीमा राशि
  • दंत चिकित्सा सेवा प्रदाताओं का विस्तृत नेटवर्क, और क्लोव डेंटल के साथ गठजोड़
  • कैशलेस सुविधा और सरलीकृत दावा प्रक्रिया
  • धारा 80डी के तहत कर लाभ
  • विशिष्ट आउट पेशेंट और आकस्मिक दंत चिकित्सा प्रक्रियाओं के लिए निश्चित लाभ।

यह प्लान बाजार में किसी भी मौजूदा स्वास्थ्य बीमा प्लान का पूरक है, जैसे मेडिक्लेम या गंभीर बीमारी, जिसमें दंत लाभ या तो बीमाकृत नहीं हैं या 24 घंटे के न्यूनतम अस्पताल में भर्ती होने के बाद भुगतान किया जाता है।

एक प्रमुख वैश्विक जीवन बीमा प्रदाता, मेटलाइफ इंक. की वित्तीय मजबूती और दंत चिकित्सा बीमा विशेषज्ञता और भारत के दूसरे सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक पंजाब नेशनल बैंक की विश्वसनीयता और पहुंच से समर्थित, पीएनबी मेटलाइफ ने इस इनोवेटिव और ग्राहक-केंद्रित दंत चिकित्सा प्लान के साथ भारत का सबसे पसंदीदा डेंटल इंष्योरेंस प्रोवाइडर बनने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

वी पुणे में जारी 5 जी ट्रायल्स के दौरान 5.92 जीबीपीएस की टॉप डाउनलोड स्पीड दर्ज की एरिकसन के नए रेडियो ड्यूल-कनेक्टिविटी (एनआर-डीसी) सॉफ्टवेयर का उपयोग कर स्पीड का यह नया रिकॉर्ड बनाया गया

मुंबई, 16 मई, 2022ः वोडाफ़ोन आइडिया (वी) और एरिकसन ने 5.92 जीबीपीएस की पीक डाउनलोड स्पीड का प्रदर्शन कर वर्तमान में चल रहे 5 जी ट्रायल के दौरान टेकनोलॉजी की नई उपलब्धि की घोषणा की है। वी द्वारा स्पीड का नया रिकॉर्ड इसके 5 जी ट्रायल के दौरान एकमात्र टेस्ट डिवाइस पर हासिल किया गया, यह ट्रायल स्टैण्डअलोन आर्कीटेक्चर एवं एनआर-डीसी (न्यू रेडियो-ड्यूल कनेक्टिविटी) सॉफ्टवेयर के लिए एरिकसन मैसिव रेडियोज़, एरिकसन क्लाउड नेटिव ड्यूल मोड 5 जी कोर का उपयोग कर मिड-बैण्ड एवं हाई बैण्ड 5 जी ट्रायल स्पैक्ट्रम के संयोजन पर किया गया।

5 जी स्टैण्डअलोन एनआर-डीसी सॉफ्टवेयर के साथ वी, लेटेंसी सेंसिटिव एवं हाई परफोर्मेन्स ऐप्लीकेशनस जैसे एआर/वीआर और 8 के वीडियो स्ट्रीमिंग को डिलीवर कर सकता है, साथ ही कमर्शियल नेटवर्क पर 5 जी की तैनाती के बाद उपभोक्ताआंे एवं उद्यमों के लिए नए यूज़ केसेज़ उपलब्ध कराता है।
इससे पहले पुणे में दर्शाए गए यूज़ केसेज़ और 5 जी ट्रायल के दौरान वी ने 4 जीबीपीएस से अधिक स्पीड का प्रदर्शन किया है। 5.92 जीबीपीएस की नई स्पीड का रिकॉर्ड सरकार द्वारा ट्रायल के लिए आवंटित 5 जी स्पैक्ट्रम का उपयोग करते हुए किया गया है।
इस उपलब्धि पर अपने विचार व्यक्त करते हुए जगबीर सिंह, चीफ़ टेक्नोलॉजी ऑफिसर, वी ने कहा, ‘‘ट्रायल में दर्शाया गया है कि किस तरह से वी नए 5 जी आधारित एप्लीकेशन्स के लिए अपने नेटवर्क की टेस्टिंग कर इसे तैयार कर रहा है, जो 5 जी की हाई स्पीड, भरोसे और लो लेटेंसी पर आधारित हो। इमर्सिव मीडिया एवं वीडियो स्ट्रीमिंग सर्विसेज़ की बढ़ती मांग को देखते हुए हमने जिस 5 जी स्पीड का प्रदर्शन किया है, वह हमें उपभोक्ताओं की ज़रूरत के अनुसार मोबाइल ब्रॉडबैण्ड स्पीड एवं बेहतर नेटवर्क क्षमता के लिए तैयार करेगी, क्योंकि हम भारत में ‘एक बेहतर कल के लिए 5 जी’ के लिए तैयार हैं।’’
अपने यूज़र्स के बेहर कल को सुनिश्चित करने के लिए नई तकनीकों एवं साझेदारियों पर ध्यान केन्द्रित करते हुए वी ने पुणे एवं गांधीनगर में 5 जी ट्रायल के दौरान 5 जी यूज़ केसेज़ की व्यापक रेंज का प्रदर्शन किया, ताकि एंटरप्राइज़ेज़ एवं नागरिकों को स्मार्ट बनाया जा सके।
अमरजीत सिंह, वाईस प्रेज़ीडेन्ट एव ंहैड ऑफ कस्टमर युनिट वी, एरिकसन ने कहा, ‘‘एरिकसन के 5 जी स्टैण्डअलोन एनआर-डीसी सॉफ्टवेयर एवं क्लाउड नेटिव ड्यूल मोड 5 जी कोर का उपयोग कर 5.92 जीबीपीएस डाउनलोड स्पीड की उपलब्धि एमएमवेव के साथ 5 जी के विकास में भारत की उपलब्धि की पुष्टि करती है। 121 लाईव नेटवर्क्स में हमारी विश्वस्तरीय 5 जी तैनाती के आधार पर हमें विश्वास है कि हम उपभोक्ताओं को वी के 5 जी पर सहज अनुभव प्रदान करने के लिए तैयार हैं।’’
नवम्बर 2021 में जारी एरिकसन मोबिलिटी रिपोर्ट के अनुसार उम्मीद है कि 2027 तक भारत में 5 जी सभी मोबाइल सब्सक्रिप्शन्स का 39 फीसदी हिस्सा बनाएगा। 5 जी 2027 तक दुनिया भर में अपनाई जाने वाली सबसे प्रमुख मोबाइल एक्सेस टेक्नोलॉजी होगी। इस समय तक, 5 जी दुनिया के सभी मोबाइल सब्सक्रिप्शन्स में तकरीबन 50 फीसदी योगदान देगा- तथा दुनिया की 75 फीसदी आबादी को कवर करते हुए ग्लोबल स्मार्टफोन टैªफिक का 62 फीसदी हिस्सा बनाएगा।

मुथूट फाइनेंस ने बनाई ‘गोल्ड लोन एट होम’ सेवाओं का विस्तार करने की योजना

कोच्चि, 16 मई, 2022- भारत की सबसे बड़ी गोल्ड लोन कंपनी मुथूट फाइनेंस लिमिटेड ने अपनी 5400 से अधिक और शाखाओं में गोल्ड लोन एट होमसेवाओं का विस्तार करने की योजना बनाई है। फिलहाल कंपनी देश में 100 से अधिक स्थानों पर गोल्ड लोन एट होमसेवाएं प्रदान कर रही है। गोल्ड लोन एट होमसेवाएं अब दक्षिण भारत के सभी स्थानों और उत्तर भारत के अधिकांश प्रमुख शहरों में पेश की जा रही हैं। मुथूट फाइनेंस की सभी 5400 से अधिक शाखाओं में इस सेवा को और बढ़ाने की योजना बनाई गई है।

मुथूट फाइनेंस गोल्ड लोन एट होम या लोन एट होम नामक सेवा को महामारी के दौरान 2020 में लॉन्च किया गया था, ताकि ऐसेे ग्राहकों को सुविधा मिले, जो अपने घरों पर रहते हुए ही 1 लाख और उससे अधिक की राशि के परेशानी मुक्त गोल्ड लोन का लाभ उठाना चाहते थे। मुथूट फाइनेंस ने इस फिट-फॉर-पर्पस इनोवेशन को लॉन्च किया था और इस तरह महिला कर्जदारों, मजदूर वर्ग, स्वरोजगार और एचएनआई ग्राहकों को अपने घरों से बाहर निकले बिना उनकी वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद की।

गोल्ड लोन एट होम के तहत प्राप्त ऋणों का औसत टिकट आकार 6.5 लाख रुपए था और वर्तमान में लोन एट होम सर्विसेज का लगभग 60-65 प्रतिशत भाग स्व-नियोजित लोगों द्वारा अपनी व्यावसायिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्राप्त किया जा रहा है।

उद्योग में मौजूद अन्य डायरेक्ट सेलिंग एजेंटों (डीएसए) सेवा प्रदाताओं के विपरीत, मुथूट फाइनेंस लोन एट होम का एक अद्वितीय ट्रैक रिकॉर्ड और 800 वर्षों की पारिवारिक व्यवसाय विरासत है। कंपनी हर दिन 2.5 लाख से अधिक ग्राहकों की सेवा करने वाली एनबीएफसी के बीच गोल्ड लोन के क्षेत्र में अग्रणी है। कंपनी के पास कुल मिलाकर 72 करोड़ से अधिक ग्राहक हैं, जिनमें दोबारा आने वाले ग्राहक भी शामिल हैं।

गोल्ड लोन एट होम सर्विस का लाभ उठाते समय ग्राहक निम्नलिखित फायदे उठा सकते हैं-

ऽ ग्राहक मुथूट फाइनेंस से पेशेवरों की एक प्रशिक्षित टीम को बुलाने के लिए टोल फ्री नंबर 1800 102 1212 पर कॉल कर सकते हैं, ताकि टी सोने की शुद्धता की जांच कर सके और वहां ऋण राशि का वितरण कर सके।

ऽ पारदर्शी और परेशानी मुक्त प्रक्रिया- मुथूट फाइनेंस के लिए, ग्राहक का स्वर्ण अत्यंत महत्वपूर्ण है और इसलिए वे केवल अपने प्रशिक्षित कर्मचारियों को भेजते हैं, न कि किसी अन्य एजेंट या फ्रेंचाइजी प्रतिनिधियों को अपना सोना इकट्ठा करने और ऋण वितरित करने के लिए अपने ग्राहक के घर भेजते हैं। उपभोक्ताओं द्वारा गिरवी रखे गए सोने को बहुत ही सुरक्षित तरीके से पैक किया जाता है और इसे केवल मुथूट फाइनेंस शाखा में ले जाया जाता है, न कि किसी अन्य भागीदार वित्तीय संस्था की शाखा में - इस प्रकार प्रक्रिया पारदर्शी होती है और ग्राहक को इस बात की पूरी जानकारी होती है कि उनका सोना सुरक्षित रूप से कहां रखा है।

ऽ सुरक्षा और मुफ्त बीमा- ग्राहक द्वारा सौंपे गए सोने को एक मुफ्त बीमा पॉलिसी के माध्यम से सुरक्षित किया जाता है और इसके अलावा, प्रत्येक मुथूट फाइनेंस शाखा को 7-परतों वाली, अत्याधुनिक सुरक्षा और सुरक्षा बुनियादी ढांचे द्वारा संरक्षित किया जाता है। इस तरह यह सुनिश्चित किया जाता है कि ग्राहक का सोना उनके बीमित लॉकर में बिल्कुल सुरक्षित है।

ऽ सुविधा- इसके अलावा, भविष्य में ब्याज भुगतान या टॉप-अप लोन या शेष राशि की जांच के लिए, मुथूट फाइनेंस का लोन एट होम मोबाइल ऐप (आईओएस और एंड्रॉइड डिवाइस दोनों के लिए उपलब्ध), ग्राहक के अपने हाथों में पूर्ण 24Û7 नियंत्रण प्रदान करता है।

ऽ इसके अतिरिक्त, ब्याज राशि जमा कराने के लिए कई भुगतान विकल्प उपलब्ध हैं, जिनमें पेटीएम, गूगल पे और फोनपे जैसे प्लेटफॉर्म भी शामिल हैं। अक्सर पूछे जाने वाले सवालों के जवाब के साथ मुथूट चैटबॉट और एक समर्पित व्हाट्सएप बिजनेस चैनल भी उपलब्ध है।

गोल्ड लोन एट होम सर्विस के बारे में बोलते हुए मुथूट फाइनेंस के ज्वाइंट मैनेजिंग डायरेक्टर श्री एलेक्जेंडर जॉर्ज मुथूट ने कहा, ‘‘हमारी गोल्ड लोन एट होम सर्विस को जबरदस्त रेस्पॉन्स मिल रहा है क्योंकि ग्राहक ट्रस्टपर अत्यधिक जोर देते हैं - जो कि मुथूट फाइनेंस का पर्यायवाची बन चुका है। खास तौर परघरेलू आभूषणों पर ऋण प्राप्त करते समय यह बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है, क्योंकि ये आभूषण लोगांे के लिए एक किस्म की भावनात्मक संपत्ति है। ग्राहकों की प्राथमिकताएं बदल रही हैं और श्रमिक वर्ग और एचएनआई सहित ग्राहक अपने घरों के आराम, सुरक्षा और गोपनीयता से गोल्ड लोन प्राप्त करना चाहते हैं। 2020 के लॉकडाउन के दौरान अपनी मामूली शुरुआत से यह सेवा पूरे दक्षिण और उत्तर भारत में 100 से अधिक स्थानों पर पेश की गई है। बदलते ग्राहक रुझानों को देखते हुए, हम अपनी सभी 5400 से अधिक शाखाओं में इस सेवा को बढ़ाने के लिए उत्साहित हैं। विस्तार योजनाओं को देखते हुए प्रशिक्षित पेशेवरों की और भी भर्ती होगी। कंपनी निकट भविष्य में अन्य टेलर मेड सॉल्यूशंस जैसे गोल्ड-सिक्योर्ड कार्ड और वॉलेट को फिर से लॉन्च करने की दिशा में भी काम कर रही है। फिलहाल गोल्ड लोन की मांग स्थिर बनी हुई है और जैसे-जैसे आर्थिक गतिविधियां तेज हो रही हैं, हम गोल्ड लोन सेक्टर में बड़े अप्रयुक्त अवसर का दोहन करने को लेकर भी बहुत आशावादी बने हुए हैं।’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘इस क्षेत्र में एक अग्रणी कंपनी के रूप में हम नए जमाने के पुनर्भुगतान विकल्पों के माध्यम से एक मजबूत डिजिटल सिस्टम कायम करनेे पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। इसके तहत, नए डिजिटल वितरण विकल्पों और एक मजबूत मोबाइल एप्लिकेशन, मुथूट चैटबॉट और मुथूट व्हाट्सएप बिजनेस आदि का उपयोग किया जा रहा है, ताकि ग्राहकों के सामने अनेक विकल्प मौजूद रहें। मुथूट फाइनेंस ने आम लोगों के जीवन में बदलाव लाकर लंबे समय में जो विश्वास अर्जित किया है, वह अपार है। इसलिए, इन स्मार्ट, आधुनिक और टैक्नोलॉजी से जुड़ी सेवाओं के साथ हम ऐसे प्रोडक्ट, सर्विसेज और ऑफर्स पेश करते हैं, जिनमें ग्राहकों को हमेशा कंेद्र में रखा जाता है।’’

महिंद्रा इलेक्ट्रिक ने प्रदूषण मुक्त लास्ट माइल डिलीवरी के लिए टेरागो लॉजिस्टिक्स के साथ साझेदारी की

मुंबई, 16 मई, 2022- भारत में नंबर 1* इलेक्ट्रिक 3-व्हीलर कंपनी महिंद्रा इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लिमिटेड (एमईएमएल) ने दिल्ली स्थित स्टार्ट-अप टेरागो लॉजिस्टिक्स के साथ साझेदारी की है। टेरागो के पास वर्तमान में 65 महिंद्रा ट्रीओ ज़ोर कार्गाे वाहनों का बेड़ा है, जो 3 शहरों में प्रमुख ऑनलाइन किराना कंपनी बिग बास्केट और अग्रणी लॉजिस्टिक कंपनी पोर्टर के साथ तैनात हैं। आने वाले महीनों में, महिंद्रा इलेक्ट्रिक अपने जीरो-पॉल्यूशन वाले बेड़े के विस्तार के लिए टेरागो को अतिरिक्त ईवी की आपूर्ति करेगी।

महिंद्रा ट्रीओ ज़ोर 3-व्हीलर कार्गाे को भारत में 2020 में पेश किया गया था और इसमें बॉडी टाइप के आधार पर कई तरह के एप्लिकेशन हैं। 8 kW की उत्कृष्ट शक्ति और 42 Nm के हाईटॉर्क के साथ, जोर का निर्माण ट्रेओ प्लेटफॉर्म पर किया गया है और यह अपनी श्रेणी में 550 किलोग्राम के उच्चतम पेलोड के साथ आता है। अब तक महिंद्रा ने पैसेंजर और कार्गाे सेगमेंट में 18,000 से अधिक ट्रीओ 3-व्हीलर्स की बिक्री की है और इलेक्ट्रिक 3-व्हीलर सेगमेंट में 73.4 प्रतिशत मार्केट शेयर* हासिल किया है। ट्रीओ को यूके और नेपाल के बाजारों में भी निर्यात किया जाता है। ट्रीओ ज़ोर के साथ, ग्राहक डीजल कार्गाे 3-व्हीलर्स की तुलना में 5 वर्षों में ईंधन लागत में ₹5 लाख**  से अधिक की बचत कर सकते हैं।

सुमन मिश्रा, सीईओ, महिंद्रा इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लिमिटेड ने कहा, ‘‘टेरागो कंपनी ने हमारे महिंद्रा ट्रीओ ज़ोर इलेक्ट्रिक 3-व्हीलर्स को शुरुआती दिनों में ही अपना लिया था। ट्रीओ ज़ोर की उच्च बचत और जीरो टेलपाइप एमिशन इसे अंतिम छोर तक वितरण के लिए परिवहन के कुशल और टिकाऊ साधनों की तलाश करने वाली कंपनियों के लिए अनुकूल बनाता है। हमें विश्वास है कि यह साझेदारी न केवल हमारे कार्बन न्यूट्रल संबंधी लक्ष्यों को गति देगी, बल्कि दूसरों के लिए इलेक्ट्रिक मोबिलिटी अपनाने की नींव भी रखेगी।’’

एक फिजिटल कंपनी टेरागो लॉजिस्टिक्स एफएंडबी, उपभोक्ता वस्तुओं, औद्योगिक सामान, कागज और पैकेजिंग उद्योगों को इलेक्ट्रिक वाहनों के माध्यम से मल्टी-मोडल ट्रांसपोर्ट, वेयरहाउसिंग और लास्ट माइल डिलीवरी में एंड-टू-एंड लॉजिस्टिक्स समाधान प्रदान करती है।

मोहन रामास्वामी, को-फाउंडर, टेरागो लॉजिस्टिक्स ने टिप्पणी की, ‘‘हमें इस बात पर गर्व है कि हमने महिंद्रा ट्रीओ ज़ोर के साथ लास्ट माइल कार्गाे मोबिलिटी के लिए इलेक्ट्रिक 3-व्हीलर्स को अपनाया है। इस तरह हम डिलीवरी संबंधी कामकाज में क्लीन मोबिलिटी सुनिश्चित करते हैं, जिससे सिटी लॉजिस्टिक्स पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इलेक्ट्रिक वाहनों की पहुंच में तेजी लाने के लिए महिंद्रा के साथ टेरागो का जुड़ाव, देश में कार्बन फुटप्रिंट को अपने छोटे से तरीके से कम करने के प्रति हमारी सामाजिक जिम्मेदारी को पूरा करने में मदद करता है।’’ 

Sunday, May 15, 2022

श्री कृष्ण बलराम मंदिर में नरसिंह चतुर्दशी महोत्सव मनाया गया


जयपुर
 | हरे कृष्ण मूवमेंट जयपुर के जगतपुरा स्थित श्रीकृष्ण बलराम मंदिर में नरसिंह चतुर्दशी महोत्सव मनाया गया। इस मौके पर मंदिर अध्यक्ष अमितासना दास ने बताया  कि इस उपलक्ष्य में विशेष नरसिंह यज्ञ का आयोजन किया गया । इस मौके पर भक्तों द्वारा हरिनाम संकीर्तन गया ,नरसिंह आरती की गईतथा भक्तों ने उपवास रखा एवं विशेष प्रार्थना की। भगवान को आकर्षक फूलों एवं नवीन पोशाक से सजाया गया।  शाम को महाआरती के बाद भगवान की पालकी यात्रा निकली गईइस अवसर पर महा संकीर्तन का आयोजन किया गया यह सभी कार्यक्रम मंदिर के सोशल मीडिया चैनलों पर लाइव दिखाया गया  अंत में मंदिर में आये सभी भक्तो के लिए प्रसादी वितरण किया गया  | मंदिर अध्यक्ष अमितासना दास ने बताया  हिरण्यकश्यप के आतंक से भक्त प्रहलाद की रक्षा करने के लिए भगवान नरसिंह देव आज ही के दिन खंभे से प्रकट होते हैंवही भगवान श्री कृष्ण इस कलयुग में हम सबकी रक्षा करने के लिए और हमारा उद्धार करने के लिए उनके नाम के रूप में अवतरित हुए हैं। अतः आप सभी से निवेदन है कि भगवान के पवित्र नाम हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरेहरे राम हरे राम राम राम हरे हरे का प्रतिदिन कम से कम 108 बार जाप करें।

जेकेके में लोक संगीत की मधुर प्रस्तुति ने दर्शकों को किया मंत्रमुग्ध


जयपुर।
 जवाहर कला केंद्र (जेकेके) और जाजम फाउंडेशन द्वारा रविवार को लोक संगीत की जाजम के अंतर्गत 'हरिजस - लोक भजन' प्रस्तुति का आयोजन हुआ। कार्यक्रम में लोक कलाकार बरकत खान और जलाल खान मांगणियार ने लोक संगीत की प्रस्तुति देकर दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। इस दौरान उन्होंने देवसी, मीरा बाई, रामानंद, माधव, तुलसी दास, कबीर दास, गोरखनाथ और जसनाथ द्वारा रचित कई भजनों की प्रस्तुति दी। कलाकारों ने 'दिन दस्यूं रा पीर पधारिया', 'म्हारा जूना जोशी, रामजी मिल कद होसी', 'सपने में परणी गोपाल','कोरी कोरी मटकी में ठंडो', 'कारीगर मत ना भटके रे', 'पूरी अयोध्या राजा दशरथ घर', 'म्हारे मरम रो साधू ना मिले', 'रमते जोगी ने आदेश देणा' और 'भर्तहरि होई सफल कमाई' आदि लोक भजनों की प्रस्तुति देकर दर्शकों का मन मोह लिया।
प्रस्तुति देने वाले कलाकारों नें श्री जलाल खान मांगणियार (हार्मोनियम व गायन), श्री बरकत खान (वीणा/तंदूरा), श्री अब्दे खान (ढोलक), श्री सेनु मांगणियार व श्री सांवरमल (मंजीरा) शामिल थे।
 

किशनगढ़ रेनवाल के लोगों ने परमार्थ सेवा में फिर की मिसाल पेश

 


-- पूर्व में भी कांस्टेबल भर्ती परीक्षा और अन्य मौकों पर कस्बे में दिखा सेवाभाव

नवीन कुमावत
किशनगढ़ रेनवाल। रेनवाल कस्बे में राजस्थान कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के तहत 12 मई से शुरू हुआ हजारों अभ्यर्थियों का जमावड़ा 16 मई तक रहेगा। करीब 12 हजार से अधिक अभ्यर्थी इस भर्ती परीक्षा में हिस्सा ले रहे हैं। पूर्व की तरह इस बार भी रेनवाल के सेवाभावी लोगों ने परमार्थ सेवा की मिसाल पेश की है। कस्बे में व्यापारियों, सामाजिक संगठनों एवं अन्य सेवाभावी लोगों ने जगह जगह इन अभ्यर्थियों के लिए ठंडे पानी की प्याऊ और बैठकर खाना खिलाने की निशुल्क की व्यवस्था की हैं। इसके साथ ही कई शिक्षण संस्थानों और समाज की धर्मशालाओं में इनके रात्रि को सोने, ठहरने के साथ ही अल्पाहार की व्यवस्था भी की है। यहां परीक्षा देने आए भरतपुर के राजेश मीणा का कहना है कि रेनवाल कस्बेवासियों के जैसा सेवाभाव उन्होंने अन्यत्र कहीं नहीं देखा। बिना किसी स्वार्थ के अपनेपन से सभी अभ्यर्थियों के लिए रहने खाने और ठहरने की व्यवस्था करना कबीले तारीफ है। दौसा से आई एक महिला अभ्यर्थी का कहना था कि अभ्यर्थियों की सेवा के साथ ही रेनवाल के सेवाभावी लोगों ने दूर दराज से आई महिला पुलिसकर्मियों सहित सभी पुलिसकर्मियों की भी मन से हर प्रकार की सहायता की। कस्बे की मदर टेरेसा महिला कॉलेज में 12 मई की रात से ही महिला एवं पुरुष अभ्यर्थियों के लिए रामेश्वर प्रसाद ऐचरा की देखरेख में रहने खाने और सुबह के नाश्ते की व्यवस्था की गई। यहां वीरेंद्र सिंह शेखावत, वीरेंद्र आर्य, विनोद काला, बनवारी ऐचरा और सुरेंद्र वर्मा सहित कई सेवाभावी सेवाकार्य में लगे हुए हैं। वहीं इसके अलावा एकलव्य फाउंडेशन, बलाई धर्मशाला, कुमावत धर्मशाला आदि कई स्थानों पर सेवाकार्य जारी रहा।

महात्मा गांधी विद्यालय में प्रवेश लॉटरी निकाली, 255 सीट आवंटित



नवीन कुमावत

किशनगढ़ रेनवाल। कस्बे के पत्थर मंडी स्थित महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय अंग्रेजी माध्यम में प्रवेश के लिए शनिवार को लॉटरी निकाली गई। प्रधानाचार्य अवधेश कुमार ने बताया कि शनिवार को नगर पालिका अध्यक्ष अमित ओसवाल की उपस्थिति में लॉटरी द्वारा प्रवेश प्रक्रिया पूरी की गई। चयनित विद्यार्थियों की सूची रविवार को चस्पा की जायेगी। अवधेश कुमार ने बताया कि लॉटरी प्रक्रिया पूरी पारदर्शिता के साथ संपन्न की गई। विद्यालय में प्रवेश के लिए कुल 343 आवेदन आए थे, इनमें से 28 आवेदन त्रुटि एवं अन्य कारणों से निरस्त कर दिए गए। वहीं 255 सीट आवंटित की गई है। प्रवेश प्रक्रिया के प्रभारी खेमचंद वर्मा ने पूरी प्रक्रिया पूर्ण करवाई। इस दौरान विद्यालय प्रभारी भगवती यादव एवं अन्य स्टाफ मौजूद रहा।

अधिशाषी अधिकारी के आदेश की उड़ी धज्जियां, कर्मचारी बेखौफ

 


द पब्लिक साइड
किशनगढ़ रेनवाल। रेनवाल नगर पालिका क्षेत्र में इन दिनों नए आए अधिशासी अधिकारी मनीष सोनी के आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है। एक सफाई कर्मचारी ड्यूटी लगाने के बावजूद निर्धारित स्थान पर नहीं मिला।
गौरतलब है कि कस्बे में पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा को लेकर रेनवाल के अधिशासी अधिकारी मनीष सोनी ने आदेश जारी कर दो सफाई कर्मियों को सुलभ शौचालय पर सफाई व्यवस्था बनाए रखने और वहीं रहने के आदेश दिए थे, लेकिन सफाई कर्मी प्रह्लाद ताकर नगरपालिका कार्यालय में ही बैठा रहता है। इसकी शिकायत मिलने पर सफाई प्रभारी द्वारका प्रसाद वाल्मिकी ने औचक निरीक्षण किया। इस पर वहां ये सफाईकर्मी नदारद मिला। इसको लेकर जमादार ने उच्च अधिकारियों को सफाईकर्मी द्वारा लापरवाही बरतने की शिकायत कर दी है। स्थानीय लोगों ने बताया कि कुछ सफाई कर्मचारियों की लापरवाही के चलते शौचालय गंदगी से अटा हुआ है। शौचालय से आने वाली दुर्गंध से आमजन को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में लोगों ने लापरवाह सफाईकर्मी के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

लोक अदालत में 440 प्रकरणों का निराकरण

 


द पब्लिक साइड
सांभरलेक। सांभरलेक न्यायालय परिसर में शनिवार को तालुका विधिक सेवा समिति के तत्वावधान में आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में 440 प्रकरणों का आपसी राजीनामा के जरिए निस्तारण करवाया गया। आंफलाईन राष्ट्रीय लोक अदालत में मोटर दुर्घटना में वाद के 16 प्रकरणों में राजीनामा से फैसला दिया गया। मोटर दुर्घटना के मामलों में अदालत की तरफ से 82,02,000/- (बयासी लाख दो हजार) रुपए का अवार्ड पारित किया गया। इसके अलावा 48 प्री लिटिगेशन के मामलों में 7,27,900/- (सात लाख सताईस हजार नौ सौ) दोनों मिलाकर कुल राशि 89,29,900/- (नवासी लाख उनतीस हजार नौ सौ रुपए) का निस्तारण करवाया गया।
इस मौके पर अपर जिला एवं सैशन न्यायाधीश, क्र.स.1, बृजेश कुमार शर्मा सांभर लेक, अपर जिला एवं सैशन न्यायाधीश, क्र.स.-2, नीरज भामू, सांभरलेक न.न्यायिक मजिस्ट्रेट, सांभरलेक राहुल शर्मा, ग्राम न्यायाधिकारी पूजा मीना, उपखण्ड अधिकारी सांभरलेक जयन्त कुमार लोक अदालत बैंच के सदस्य अधिवक्ता लक्ष्मण सिंह, पवन कुमावत, अत्ताउल्लाह खान, प्रकाश माचिवाल, बार एसोसिएशन के अध्यक्ष दीपेन्द्र सिंह, सचिव सुरेश कुमार शर्मा, कोषाध्यक्ष युगराज माथुर, सुरेश परिहार, गोपीचंद कुमावत, आशीष कुमावत, मुकेश अजमेरा, शौहरत अली, हेमराज कुमावत, एस.बी.आई रेनवाल शिव चन्देल, यूको बैंक मण्डाभीम सिंह से राजकुमार, यूनियन बैंक ऑफ आसलपुर से चन्दा लाल मीणा, पी.एन.बी. फुलेरा से अर्जुन वर्मा, एस.बी.आई. सांभरलेक से राजेंद्र, बैंक आफ इंडिया किशनगढ़ रेनवाल से विजय मीणा, एस.बी.आई. फुलेरा से से प्रतीक शर्मा, आई.सी.आई.सी.आई बैंक फुलेरा से मुकेश तालुका विधिक सेवा समिति प्रभारी चान्दमल सांभरिया पैरा लीगल वांलेन्टीयर्स रामस्वरूप जाट, अंजलि गेहनोलिया, होमगार्ड प्रकाश सैनी वह काफी संख्या में आम नागरिक उपस्थित रहे।

Saturday, May 14, 2022

सिग्नेचर ग्लोबल ने एचडीएफसी कैपिटल से 400 करोड़ रुपये जुटाए

नेशनल, 14 मई 2022: भारत की अग्रणी अफोर्डेबल हाउसिंग रियल एस्टेट कंपनी में से एक, सिग्नेचर ग्लोबल ने एचडीएफसी कैपिटल अफोर्डेबल रियल एस्टेट फंड 3 (एच-केयर 3)(एचडीएफसी कैपिटल द्वारा प्रबंधित एक फंड )से 400 करोड़ रुपये की लंबी अवधि की पूंजी जुटाई है । सिग्नेचर ग्लोबल मुख्य रूप से तैयार इकाइयों की गुणवत्ता और समय पर डिलीवरी सुनिश्चित करते हुए राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में अफोर्डेबल आवास परियोजनाओं के विकास पर केंद्रित है।

सिग्नेचर ग्लोबल की रियल एस्टेट विकास रणनीति के एक हिस्से के रूप में, सरकार के "सभी के लिए आवास" के मिशन के अनुरूप हरियाणा में भूमि अधिग्रहण और अफोर्डेबल आवास परियोजनाओं के विकास के लिए पूंजी का उपयोग किया जाएगा। सिग्नेचर ग्लोबल की आने वाले वर्षों में अच्छी गुणवत्ता वाले अफोर्डेबल घर बनाने की मजबूत योजनाएं हैं। कंपनी हरियाणा की अफोर्डेबल आवास नीति ("एचएएचपी") के तहत अफोर्डेबल आवास परियोजनाओं को विकसित करने और डीडीजेएवाई ("दीन दयाल जन आवास योजना") अफोर्डेबल प्लॉटिंग नीति के तहतइंडिपेंडेंट फ्लोर विकसित करने पर केंद्रित है।

रणनीतिक गठबंधन पर टिप्पणी करते हुए, सिग्नेचर ग्लोबल के संस्थापक और चेयरमैन श्री प्रदीप अग्रवाल ने कहा, “हमारे पास अपने ग्राहकों को अफोर्डेबल कीमतों पर गुणवत्ताके घर उपलब्ध कराने की मजबूत साख है। अफोर्डेबल आवास में अग्रणी डेवलपर्स में से एक के रूप में, हमारा ध्यान एक मजबूत नींव बनाने पर रहा है जिसके माध्यम से हम उत्तर भारत में कई और अफोर्डेबल आवास परियोजनाएं शुरू कर सकते हैं। एचडीएफसी कैपिटल का निवेश हमारे लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है क्योंकि यह हमारी निष्पादन क्षमताओं में विश्वास को दर्शाता है। हम हरित, किफायती और विश्व स्तरीय रियल एस्टेट विकास को जारी रखने के लिए प्रतिबद्ध और प्रेरित हैं।

कंपनी ग्राहकों के लिए सर्वोत्तम-इन-क्लास सुविधाओं के साथ स्थायी रियल एस्टेट प्रोजेक्ट बनाने की अवधारणा को दृढ़ता से बढ़ावा देती है। कंपनी को कई एज ग्रीन बिल्डिंग सर्टिफिकेशन के साथ-साथ कई आईजीबीसी गोल्ड सर्टिफिकेशन प्राप्त हुए हैं, जो एक उन्नत वैश्विक प्रमाणन है। जो जल दक्षता, ऊर्जा दक्षताऔर पर्यावरणीय लाभों के मामले में हरित भवनों के प्रति प्रतिबद्धता प्रदर्शित करता है।

सिग्नेचर ग्लोबल निर्माण की गति, गुणवत्ता और दक्षता पर ध्यान देने के साथ अपनी सभी परियोजनाओं के लिए नवीनतम नवीन तकनीकों का उपयोग करता है। अफोर्डेबल हाउसिंग सेगमेंट में आईजीबीसी गोल्ड रेटेड प्रोजेक्ट सर्टिफिकेशन के तहत निर्मित अपनी कई परियोजनाओं के साथ कंपनी निर्माण के लिए एल्यूमीनियम फॉर्मवर्क तकनीक लाने के लिए एक ट्रेंडसेटर बन गई है। इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल (IGBC) के सदस्य के रूप में, सिग्नेचर ग्लोबल निर्माण के लिए CO2 उत्सर्जन को कम करने के लिए पर्यावरण के अनुकूल और गैर-विषैले पदार्थों का उपयोग करता है।

गोदरेज लॉक्स ने स्मार्ट फीचर्स युक्त 100% मेड इन इंडिया डिजिटल लॉक, स्पेसटेक प्रो को लॉन्च किया

14 मई, 2022: गोदरेज लॉक्स, जो नवीन लॉकिंग समाधानों का 125 साल का युवा अग्रणी निर्माता है, ने 100% 'मेड इन इंडिया' डिजिटल लॉक - स्पेसटेक प्रो को लॉन्च किया। स्पेसटेक प्रो, नवीनतम हाई - टेक और आकर्षक तरीके से डिज़ाइन किया गया कीलेस होम सेफ्टी सॉल्यूशन है जो 360 - डिग्री फिंगरप्रिंट रिकग्निशन और  ऑटो - लॉकिंग जैसी सर्वाधिक उन्नत फीचर्स युक्त है। यह डाइनैमिक ताला आधुनिक घरों के लिए बिल्कुल उपयुक्त है, जो घर के लिए सर्वोत्तम कोटि की सुरक्षा सुनिश्चित करता है। स्मार्टफोन उपयोगकर्ताओं को ध्यान में रखते हुए डिजाइन की गई कुछ अनूठी विशेषताएं अग्रलिखित हैं गोपनीयता मोड- जो यह सुनिश्चित करता है कि फिंगरप्रिंट या पिन,  एडजस्टेबल स्पाई कोड की मदद से भी बाहर से प्रवेश नहीं किया जा सकता है - जिससे आप किसी अजनबी की मौजूदगी में पासकोड से पहले और/या बाद में यादृच्छिक (रैंडॅम) अंक जोड़ सकते हैं, गेस्ट पिन - मेहमानों के लिए एक बार का पिन जेनरेट होता हैउपस्थिति - मेहमानों के लिए उत्पन्न एक बार पिन। यह आधुनिक घरों और वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों की सुंदरता के अनुरूप सिर्फ 19.2 मिमी के बॉडी वाले स्लीक डिजाइन में आती है। 

अतिरिक्त फीचर्स में निम्नलिखित शामिल हैं:

  1. आपातकालीन बैटरी (माइक्रो यूएसबी):

यदि बैटरी पूरी तरह से खत्म हो जाती है, तो लॉक को संचालित करने के लिए आपातकालीन विद्युत आपूर्ति प्रदान करने के लिए बाहरी पावर बैंक का उपयोग किया जा सकता है

  1. डिजिटल कीपैड:

सहज अनुभव के लिए अत्यधिक रिस्पांसिव कीपैड

  1. कंपैटिबिलिटी:

यह ताला रिमोट और वीडियो डोर फोन के साथ कंपैटिबल है ताकि आसानीपूर्वक इसे चलाया जा सके

  1. ऑटोलॉकिंग:

मैनुअल तरीके से दरवाजा बंद करने की झंझट खत्म

  1. कम बैटरी के लिए संकेत

बैटरी कम होने पर आपको बीप ध्वनि का संकेत सुनाई देगा ताकि आप अपनी बैटरी बदल सकें

  1. पैसेज मोड:

स्विच ऑन कर दिए जाने के बाद, डेडबॉल्ट फ़ंक्शन अक्षम हो जाता है और केवल कुंडी चलती है

  1. बहु-स्तरीय वॉल्यूम नियंत्रण:

वॉल्यूम को 7 लेवल्स तक एडजस्ट कर सकते हैं और साइलेंट परिचालन के लिए इसमें म्यूट फंक्शन दिया गया है

  1. EXS तकनीक के साथ यांत्रिक ओवरराइड:

आपात स्थिति में, लॉक को EXS मैकेनिकल कुंजी से खोला जा सकता है जो दूसरों की तुलना में उच्चतर तकनीक है

  1. एंटी-कोरोसिव

लैच बॉडी पर बेहतर कोटिंग है जो संक्षारण से बचाता है। नमी को अवशोषित करने के लिए सिलिका जेल पाउच दिया गया है

आज के मिलेनियल्स उच्च तकनीक वाले उपकरणों को पसंद करते हैं जो न केवल उनके घर को सुरक्षित रखें बल्कि उनके इंटेरियर डिजाइन की शोभा भी बढ़ाए। यह डिजिटल लॉक न केवल उपयोग करने में आसान है, बल्कि यह घर को आकर्षक, आधुनिक स्टाइल भी प्रदान करता है। यह किसी भी घर की सुंदरता के अनुरूप डिज़ाइन किया गया है, इसकी आकर्षक और स्लीक स्टाइल मिनिमलिस्टिक से लेकर क्लासिकल और अपस्केल फ्युचरिस्टिक वाइब तक के लिए सर्वोत्तम है। स्पेसटेक प्रो इंजीनियरिंग, प्रौद्योगिकी और अनुप्रयोगों का एक संयोजन है, जो उपयोग में आसानी के लिए सर्वोत्तम फंक्शंस से सुसज्जित है और यह पावर-हाउस 100% मेड इन इंडिया उत्पाद है। नया इलेक्ट्रॉनिक मोर्टिज़ लॉक मैकेनिकल ताले की तुलना में बेहतर घर सुरक्षा प्रदान करता है।

यह लॉक उन महत्वाकांक्षी परिवारों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है जो अपने घरों को विशिष्ट स्टाइल देने के साथ घर की सुरक्षा को बेहतर बनाना चाहते हैं। स्पेसटेक आपके स्थानीय हार्डवेयर की दुकान और Amazon.in पर 47,250 रु. पर उपलब्ध होगा।

वेदांता ग्रुप लगातार दूसरे साल ‘ग्रेट प्लेस टू वर्क’ के रूप में प्रमाणित

मई 14, 2022, नई दिल्ली, भारत- देष में धातुओं और तेल और गैस के प्रमुख उत्पादक वेदांता ग्रुप को अपनी व्यावसायिक इकाइयों के साथ लगातार दूसरे साल ‘ग्रेट प्लेस टू वर्क’ के रूप में मान्यता प्रदान की गई है।

केयर्न ऑयल एंड गैस, बाल्को, टीएसपीएल, ईएसएल, आयरन ओर बिजनेस, वेदांता झारसुगुडा और हिंदुस्तान जिंक सहित वेदांता ग्रुप के व्यवसायों को भी ग्लोबल सर्टिफिकेषन प्राप्त हुआ है। यह सर्वेक्षण वेदांता की सभी व्यावसायिक इकाइयों में किया गया था, जिसमें कर्मचारियों के जुड़ाव को भी दर्षाया गया और इसके आधार पर स्कोर तय किया गया।

वेदांता ग्रुप के सीईओ श्री सुनील दुग्गल ने कहा, ‘‘हम लगातार दूसरे वर्ष ग्रेट प्लेस टू वर्क की इस वैश्विक मान्यता को प्राप्त करके खुशी का अनुभव कर रहे हैं। दुनिया भर में मोस्ट एस्पिरेषनल ऑर्गनाइजेषंस के बीच पहचाना जाना बेहद उत्साहजनक है। हम अपने कर्मचारियों को अपनी सबसे बड़ी संपत्ति मानते हैं और हम जो कुछ भी करते हैं उसमें उत्कृष्टता और नवीनता लाने के लिए हम उन्हें सशक्त बनाने का प्रयास करते हैं।’’

द ग्रेट प्लेस टू वर्क सर्टिफिकेषन वेदांता ग्रुप की ऐसी कार्य संस्कृति का प्रमाण है जो विश्वास के साथ हाई-परफॉर्मेंस पर आधारित एक इकोसिस्टम को बढ़ावा देता है और अपने कर्मचारियों के बीच विश्वसनीयता, सम्मान, निष्पक्षता, गौरव और सौहार्द के पहलुओं को निरंतर आगे बढ़ाने का प्रयास करता है। ‘ग्रेट प्लेस टू वर्क’ होने का यह सर्टिफिकेषन वैश्विक स्तर पर हजारों संगठनों के बीच ऐसे संगठनों की पहचान करता है, जो कर्मचारियों की भर्ती, संगठन के साथ उनके जुड़ाव, पुरस्कार और मान्यता, प्रतिभा और प्रदर्शन प्रबंधन के क्षेत्र में निरंतर इनोवेषन के लिए तत्पर रहता है।

वेदांता ग्रुप की सीएचआरओ सुश्री मधु श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘वेदांता ग्रुप में लोग हमारे लिए सबसे बड़ी पूंजी हैं, और हमें अपने उद्योग में विश्व स्तर पर बेंचमार्क लोगों की प्रथाओं में अग्रणी होने पर बहुत गर्व है। लगातार दूसरे साल ‘ग्रेट प्लेस टू वर्क’ के रूप में प्रमाणित होना हमारे मजबूत मानव संसाधन कार्यक्रमों और वेदांता के प्रति हमारे लोगों के विश्वास और स्नेह का प्रमाण है। हम इस सम्मान के लिए अपने सभी कर्मचारियों और व्यापार भागीदारों को हार्दिक बधाई देते हैं और वेदांता को पसंद का नियोक्ता बनाने की उनकी प्रतिबद्धता के लिए भी धन्यवाद करते हैं।’’

कड़े मूल्यांकन के आधार पर ग्रेट प्लेस टू वर्क ने 2022 में भारत के सर्वश्रेष्ठ कार्यस्थलों में से शीर्ष संगठनों की पहचान की है। ये ऐसे संगठन हैं, जो अत्यंत उच्च विष्वास की संस्कृति बनाने के लिए कार्य करते हैं। संगठनों में इस संस्कृति को अपने कर्मचारियों के लिए डिज़ाइन किया गया है। ग्रेट प्लेस टू वर्क सर्टिफिकेशन को दुनिया भर में कर्मचारियों और नियोक्ताओं द्वारा समान रूप से मान्यता प्राप्त है और ग्रेट वर्कप्लेस कल्चर को पहचानने में इसे ‘गोल्ड स्टैंडर्ड’ माना जाता है।
[3:53 PM, 5/14/2022] Jitendra Ji Adf: एलएंडटी कंस्ट्रक्शन के वाटर एंड एफ्लुएंट ट्रीटमेंट बिजनेस के लिए हासिल हुए महत्वपूर्ण अनुबंध

मुंबई, 13 मई, 2022- एलएंडटी कंस्ट्रक्शन के वाटर एंड एफ्लुएंट ट्रीटमेंट बिजनेस ने राजीव गांधी लाइंड कैनाल (आरजीएलसी फेज थ्री) के समानांतर कैरियर सिस्टम को तैयार करने के लिए जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, जोधपुर राजस्थान से एक डिजाइन और निर्माण आदेश प्राप्त किया है। यह आदेष एकल बिंदु जिम्मेदारी आधार पर हासिल हुआ है।

इस कार्य के दायरे में 213 किलोमीटर रॉ वाटर के हल्के स्टील ट्रांसमिशन मेंस और 4 पंप हाउस के साथ-साथ संबंधित इलेक्ट्रिकल, मैकेनिकल और इंस्ट्रूमेंटेशन कार्य शामिल हैं।

यह परियोजना जोधपुर, पाली और बाड़मेर जिलों की पानी की मांग को पूरा करेगी और दिल्ली मुंबई औद्योगिक कॉरिडोर (डीएमआईसी) और राजस्थान राज्य औद्योगिक विकास और निवेश निगम लिमिटेड (आरआईआईसीओ) को रॉ वाटर भी उपलब्ध कराएगी।

एलएंडटी कंस्ट्रक्शन के वाटर एंड एफ्लुएंट ट्रीटमेंट बिजनेस के लिए हासिल हुए महत्वपूर्ण अनुबंध

मुंबई, 14 मई, 2022- एलएंडटी कंस्ट्रक्शन के वाटर एंड एफ्लुएंट ट्रीटमेंट बिजनेस ने राजीव गांधी लाइंड कैनाल (आरजीएलसी फेज थ्री) के समानांतर कैरियर सिस्टम को तैयार करने के लिए जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, जोधपुर राजस्थान से एक डिजाइन और निर्माण आदेश प्राप्त किया है। यह आदेष एकल बिंदु जिम्मेदारी आधार पर हासिल हुआ है।

इस कार्य के दायरे में 213 किलोमीटर रॉ वाटर के हल्के स्टील ट्रांसमिशन मेंस और 4 पंप हाउस के साथ-साथ संबंधित इलेक्ट्रिकल, मैकेनिकल और इंस्ट्रूमेंटेशन कार्य शामिल हैं।

यह परियोजना जोधपुर, पाली और बाड़मेर जिलों की पानी की मांग को पूरा करेगी और दिल्ली मुंबई औद्योगिक कॉरिडोर (डीएमआईसी) और राजस्थान राज्य औद्योगिक विकास और निवेश निगम लिमिटेड (आरआईआईसीओ) को रॉ वाटर भी उपलब्ध कराएगी।

प्रूडेंट कॉरपोरेट एडवाइजरी सर्विसेज ने आईपीओ के जरिए एंकर निवेशकों से 159 करोड़ रुपये जुटाए

खुदरा संपत्ति प्रबंधन फर्म, प्रूडेंट कॉरपोरेट एडवाइजरी सर्विसेज ने सोमवार को कहा कि उसने अपने आईपीओ बिक्री से पूर्व एंकर निवेशकों से 159 करोड़ रुपये जुटाए हैं।

बीएसई पर अपलोड किए गए सर्कुलर के अनुसार, कंपनी ने एंकर निवेशकों को 630 रुपये प्रति शेयर पर कुल 25,30,651 इक्विटी शेयर आवंटित करने का फैसला किया है, जिसकी कुल राशि 159.43 करोड़ रुपये है।

एंकर निवेशकों में सोसाइटी जेनरल, कुबेर इंडिया फंड, डीएसपी म्यूचुअल फंड (एमएफ), एचडीएफसी एमएफ, एक्सिस एमएफ, एलएंडटी एमएफ, यूटीआई एमएफ, केनरा रोबेको एमएफ, मोतीलाल ओसवाल एमएफ, आदित्य बिड़ला सन लाइफ एमएफ, कोटक एमएफ और एचएसबीसी एमएफ शामिल हैं।

85,49,340 इक्विटी शेयरों की प्रारंभिक शेयर बिक्री में वैगनर लिमिटेड के 82,81,340 इक्विटी शेयर और शिरीष पटेल के 2,68,000 इक्विटी शेयर का ऑफर फॉर सेल शामिल है।

वर्तमान में, निवेशक वैगनर की 39.91 प्रतिशत हिस्सेदारी है, और कंपनी के पूर्णकालिक निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, शिरीष पटेल की 3.15 प्रतिशत हिस्सेदारी है। आईपीओ 595 -630 रुपये प्रति शेयर के प्राइस बैंड के साथ 10 -12 मई को पब्लिक सब्सक्रिप्शन के लिए खुलेगा। प्राइस बैंड की ऊपरी सीमा पर, फर्म आईपीओ के माध्यम से लगभग 538.61 करोड़ रुपये जुटाएगी।

प्रूडेंट कॉरपोरेट एडवाइजरी सर्विसेज भारत में अग्रणी स्वतंत्र खुदरा धन प्रबंधन सेवा समूहों (बैंकों को छोड़कर) में से एक है और प्रबंधन एवं प्राप्त कमीशन के तहत औसत संपत्ति के मामले में शीर्ष म्यूचुअल फंड वितरकों में से एक है। यह समग्र समाधान के साथ तकनीकी सक्षम, व्यापक निवेश और वित्तीय सेवा मंच प्रदान करता है जो वित्तीय उत्पाद वितरण के लिए महत्वपूर्ण है और ऑनलाइन एवं ऑफ़लाइन दोनों चैनलों में इसकी उपस्थिति है। इश्यू का आधा हिस्सा क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल बायर्स (क्यूआईबी) के लिए, 15 फीसदी हिस्सा नॉन इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर्स के लिए और 35 फीसदी हिस्सा रिटेल इन्वेस्टर्स के लिए आरक्षित किया गया है। इसके अलावा, कर्मचारियों के लिए 6.5 करोड़ रुपये तक के इक्विटी शेयर आरक्षित किए गए हैं।

निवेशक कम से कम 23 इक्विटी शेयरों और उसके बाद इसके गुणकों में बोली लगा सकते हैं।

31 दिसंबर, 2021 तक, कंपनी की म्यूचुअल फंड वितरण व्यवसाय की प्रबंधनाधीन परिसंपत्ति 48,411.5 करोड़ रुपये थी, जिसमें उनके कुल एयूएम का 92.14 प्रतिशत इक्विटी में निवेशित था। कंपनी ने अपने बिजनेस - टू - बिजनेस - टू - कंज्यूमर (B2B2C) प्लेटफॉर्म पर 23,262 म्यूचुअल फंड वितरकों के माध्यम से 1,351,274 विशिष्ट खुदरा निवेशकों को धन प्रबंधन सेवाएं प्रदान कीं और यह 20 राज्यों के 110 स्थानों में मौजूद है।

इसके अलावा, उनके पैनल में शामिल एएमएफआई पंजीकरण संख्या (एआरएन) धारकों की संख्या 23,262 रही, जो उद्योग के 18.46 प्रतिशत हैं।

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, एक्सिस कैपिटल और इक्विरस कैपिटल इस इश्यू के बुक रनिंग लीड मैनेजर हैं।

 

Friday, May 13, 2022

जिस हॉटल में चिंतन शिविर, वह नदी के बहाव क्षेत्र में अवैध रूप से बना: किरोड़ी

होटल मालिक से गहलोत परिवार के आर्थिक संबंध, कानूनों को ताक में हुआ निर्माण  

2017 में जिस हॉटल को अनुमति नहीं मिली, कांग्रेस सरकार बनते ही अवैध निर्माण की मंजूरी

जयपुर। राज्यसभा सांसद किरोड़ीलाल मीणा ने शुक्रवार को पत्रकार वार्ता कर एक बार फिर सरकार की कार्यशौली पर सवाल खड़े किए हैं। किरोड़ी ने आरोप लगाया है कि गहलोत परिवार से हॉटल मालिक के आर्थिक संबंध हैं। उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी और कांग्रेस अगर गरीब आदिवासियों की सच्ची सेवक है तो इस होटल में चिंतन शिविर का कार्यक्रम तुरन्त बन्द कर अन्यत्र करें। यह अवैध होटल आदिवासियों की जमीन हड़प कर बनाई है।  उन्होंने पत्रकार वार्ता में बताया कि मुम्बई की एक कम्पनी ईंशान क्लब एण्ड होटल ने उदयपुर में अरावली ताज नाम की विशाल होटल का निर्माण किया है। इसके मालिक राजीव आनन्द हैं। आनन्द 2012 से होटल बनाने की कोशिश कर रहे थे, किन्तु जमीन पर आने-जाने का रास्ता नहीं था। इसलिए प्रोजेक्ट अटका हुआ था। 2014 से 2017 तक होटल निर्माण की फाइल लगाई, किन्तु रास्ता नहीं होने के कारण यूआईटी उदयपुर ने होटल बनाने को लेकर रेफ्यूज कर दिया।  इसके बाद 2015 में संभागीय आयुक्त कोर्ट ने पुराने साविक नक्शे के आधार पर इस होटल के लिए 900 हेयर पगडंडीनुमा रास्ते की अनुमति दी थी। यह कानून संगत नहीं थी। क्योंकि यह रास्ता अमरजोक नदी का है, जो सिसारमा नदी में मिलती है। इसका पानी पिछोला झील में जाता है। इस प्रकार संभागीय आयुक्त कार्यालय उदयपुर ने होटल व्यवसाई को लाभ पहुंचाने की दृष्टि से नदी में रास्ता देकर नियम विरूद्घ आदेश पारित किया था। इस रास्ते की तहसीलदार गिर्वा ने 2015 में एक रिपोर्ट दी थी कि यह रास्ता पगडंडीनुमा है। नदी में पानी नहीं बहने की स्थिति में गांव वाले आने जाने के लिए इसका उपयोग करते हैं। 2017 में यूआईटी उदयपुर के सचिव रामनिवास मेहता ने भी इस होटल के भूमि रूपांतरण के लिए मना कर दिया था। बीच में नदी, वन विभाग और सरकारी भूमि होने के कारण होटल को रास्ता नहीं मिलने के कारण निर्माण की यूआईटी की ओर से स्वीकृति दिया जाना संभव ही नहीं था। 

यह है नियम

उच्च न्यायालय जोधपुर की ओर से अब्दुल रहमान बनाम राज्य के प्रकरण में दिए गए निर्णय की पालना में जिस भू-भाग पर पानी बहता है, उस पर से पानी के बहाव को अवरूद्ध नहीं करना है। राजस्थान नगरीय क्षेत्र (यदि भूमि का गैर-कृषिक प्रयोजन के लिए) आयोग की अनुझ्ञा और आवंटन नियम 2012 नियम... के उपनियम-12 "भूमि जल निकायों, या डीलों, जलाशयों जलमग्नता के अधीन आने वाली भूमि को सम्मिलित करते हुए बांध और तालाब या नदी या नाले या झील इत्यादि के बहाब क्षेत्र की भूमि के कृषि भूमि से गैर कृषि प्रयोजनों के लिए उपयोग की अनुझ्ञा एवं भूमि आवंटन का निर्बम्धन है। 

मुख्यमंत्री कार्यालय ने दिलाई अनुमति

2018 में सरकार बदलने के साथ ही 2019 में ईशान क्लब के होटल मालिक ने पुनः एक साधारण एप्लीकेशन लगाते हुए संभागीय आयुक्त कोर्ट के 2015 के आदेश का हवाला देते हुए रूपांतरण के लिए आवेदन किया। जब 2017 में यूआईटी सचिव ने भूमि रूपांतरण की स्वीकृति नहीं दी तो 2015 को संभागीय आयुक्त के एक आदेश की आड़ में सरकार ने स्वीकृति किस आधार पर दी समझ से बाहर है। होटल निर्माण की फाइल प्रकिया के तहत लगनी चाहिए थी। मुख्यमंत्री कार्यालय ने सारी प्रकियाओं को ताक में रखकर होटल निर्माण की अनुमति प्रदान करा दी, इसमें मुख्यमंत्री के ओएसडी की अहम भूमिका रही है। इससे स्पष्ट है कि इस होटल के गहलोत परिवार के आर्थिक सम्बन्ध है। यह रास्ता जो चौड़ा करके बनाया है, वह होटल के राजस्व रिकार्ड में अब भी दर्ज नहीं है। आज भी यह नदी है। उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद भी सारे कानूनों को ताक में रखकर सीएमओ के निर्देश के बाद यूआईटी सचिव उज्जवल राठौड़ ने 2019 में गैर कानूनी रूप से नदी मार्ग का होटल निर्माण के लिए भूमि का रूपांतरण कर दिया।

होटल का नक्शा वैध नहीं है फिर भी निर्माण 

इस होटल से पीछे जुड़ती हुई बिलानाम (सरकारी) भूमि पर होटल मालिक ने अतिक्रमण कर लिया। जबकि यहां गोगमाल गांव का बोजडा नाका नाई पर वन विभाग सालों से वृक्षारोपण कर रहा था। उन सारे पेड़ों को होटल मालिक ने काट दिया और जमीन को अपने कब्ने में होटल का विस्तार कर दिया। 250 करोड की होटल का नक्शा होटल मालिक ने गैर कानूनी रूप से सम्बन्धित ग्राम पंचायत से 2012 में पास करवाया। 2012 से 2014 तक कोई निर्माण नहीं कराए जाने के कारण ग्राम पंचायत की स्वीकृति का आदेश स्वतः ही निष्प्रभावी हो गया। वैसे अकेली ग्राम पंचायत इतनी बडी होटल के निर्माण की स्वीकृति के लिए अधिकृत नहीं थी। इसके लिए एक कमेटी निर्णय करती है। 2014 में यह क्षेत्र उदयपुर के पैराफेरी एरिया में गया। होटल का नक्शा वैध नहीं है फिर भी होटल का निर्माण करा दिया गया।

उदयपुर में कांफ्रेंन्स से रोका तो जयपुर की

किरोड़ी ने कहा कि मैं उदयपुर में कांफ्रेंन्स करना चाहता था। लेकिन मुझ पत्रकार वार्ता हीं करने दी। मुझे उदयपुर से गिरफ्तार कर दूसरी जगह छोड़ दिया। इसीलिए मुझे पत्रकार वार्ता जयपुर में करनी पड़ी। 

2018 के बाद उदयपुर में बढ़े अपराध, 1172 केस

किरोड़ी ने कहा कि 2018 के बाद उदयपुर में अपराध बढ़े हैं। कुल 1172 केस हुए हैं। इनमें हत्या, लूट, रेप, डकैती आदि शामिल हैं। 2018, 2019 और 20 में 862 केस आए हैं, इनमें से 515 में पुलिस ने चालान पेश किया हैं। एक भी मामले में एससी और एससी को देयराशि नहीं दी गई। किरोड़ी ने सरकार से एक्ट के अनुसार आर्थिक सहायता देने की मांग की है। 

आखिर सत्य की जीत हुई मैं मेरे आदिवासी भाई बहनों से मिलने धरियावाद रहा हूं कल दोपहर 1:00 बजे आदिवासी सम्मेलन में उपस्थित रहूंगा अभी पुलिस सुरक्षा के साथ जयपुर से सड़क मार्ग होते हुए रहा हूँरात्रि विश्राम आज वंडर सीमेंट गेस्ट हाउस ,निम्बाहेड़ा में करूंगा।-राज्यसभा सांसद किरोड़ीलाल मीणा

“वाविन-वेक्टस” की संयुक्तरूप से प्रथम चैनल पार्टनर मीट जश्न के साथ संपन्न हुई

जयपुर। बिल्डिंग और इंफ्रास्ट्रक्चर इंडस्ट्री के ग्लोबल लीडर वाविन ने वॉटर स्टोरेज टैंक्स और पाइपिंग सिस्टम के क्षेत्र में देश की बहुप्रतिष्ठ...