Thursday, December 23, 2021

राष्ट्र की प्रगति के स्तम्भ किसानों का ‘देहात’ ने जताया आभार, देश के अन्नदाता को सलाम

भारत, 23 दिसंबर 2021: भारत के 5वें प्रधानमंत्री चौधरी चरणसिंह की जयंती के उपलक्ष्य में प्रतिवर्ष 23 दिसंबर को राष्ट्रीय किसान दिवस मनाया जाता है। इस अवसर पर देश के उत्थान में किसानों के मूक लेकिन अथक प्रयासों को स्वीकार करने और उन्हें सम्मान देने का कार्य किया जाता है। देश के विभिन्न राज्यों में प्रगतिशील किसानों को सम्मानित करने के लिए केंद्र एवं राज्य सरकारों द्वारा भी अनेकों कार्य किये जा रहे हैं। इसी बीच तकनीक के माध्यम से खेती-किसानी की जरूरतों को आसान बनाने और किसानों की प्रगति के लिए पिछले एक दशक से भी ज्यादा समय से अन्नदाता के साथ कदम से कदम मिलाकर काम करने वाली एग्रीटेक कंपनी ‘देहात’ ने भी उन लोगों के काम को सामने लाने का प्रयास किया जिनकी वजह से पूरे देश की जनता की थाली में भोजन पहुँचता है। किसान दिवस के अवसर पर ‘देहात’ के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और सह-संस्थापक शशांक कुमार ने किसानों का आभार व्यक्त करते हुए तकनीक के माध्यम से कृषि के क्षेत्र में अतुल्यनीय कार्य करने वाले देहात किसान एवं किसान सेवा केंद्र संचालकों की सराहना की।

इस दौरान उन्होंने कहा कि "किसान राष्ट्र के सबसे महत्वपूर्ण स्तम्भ हैं, जिन पर एक सफल राष्ट्र का निर्माण होता है। हमारे देश में 14 करोड़ से अधिक किसान हैं और देश की 68% जनसंख्या प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से कृषि अथवा कृषि आधारित कार्य एवं व्यापार में शामिल है। भारतीय अर्थव्यवस्था में कृषि का हिस्सा 15% से अधिक है। बावजूद इसके यह प्रणाली बहुत सी अक्षमताओं और खामियों से भरी हुई है जो किसानों के विकास को प्रतिबंधित करती है। इन परिस्थितियों में परिवर्तन की क्रांति लाने के उद्देश्य से ही ‘देहात’ की शुरुआत की गई। हमने तकनीक के माध्यम से किसानों की जीवनशैली को आसान बनाने के लिए ‘बीज से बाज़ार’ तक उनकी यात्रा में हर सम्भव सहायता प्रदान करने का लक्ष्य रखा है। देहात के साथ जुड़कर खेती करने वाले किसानों ने अपनी फसल पैदावार में 15 से 20 फीसदी तक बढ़ोतरी दर्ज की है। आने वाले समय में हम देश के अधिकतम किसानों के जीवन में तकनीक के माध्यम से सकारात्मक बदलाव करने के लिए तत्पर हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हम देश के इन सभी गुमनाम चैंपियनों के प्रयासों को तहे दिल से सलाम करते हैं और उन्हें किसान दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएं देते हैं।"
ज्ञात हो कि ‘देहात’ किसानों के लिए काम करने वाला एक प्रौद्योगिकी-आधारित प्लेटफॉर्म है जो किसानों को फुल-स्टैक कृषि सेवाएं प्रदान करता है। देहात भारत में किसान और अत्याधुनिक तकनीकों के प्रयोग के बीच की दूरी को कम करने में सहायक रहा है। किसानों की उन्नति और एक ही जगह सभी प्रकार की कृषि जरूरतों को पूरा करने तथा उनकी परेशानियों को हल कराने के उद्देश्य से देहात ने कृषि बाजार एवं किसान सुविधा केन्द्रों के डिजिटल नेटवर्क का निर्माण किया है, जो देहात मोबाइल एप के माध्यम से किसानों तक विभिन्न सुविधाओं की सीधी पहुंच प्रदान कर रहा है। वर्तमान में, उन्होंने उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, झारखंड, ओडिशा, मध्य प्रदेश और राजस्थान में 700,000 किसानों और 3000 सूक्ष्म उद्यमियों का एक विशाल नेटवर्क तैयार किया है। इसके अलावा 2024 तक 50 लाख किसानों को अपनी सुविधाओं से जोड़ने का इरादा रखते हुए, देहात वर्तमान में अपनी तकनीकी क्षमताओं के निर्माण और विभिन्न पेशकशों का विस्तार करने की प्रक्रिया में अग्रसर है। पिछले सात महीनों में, देहात का नेटवर्क लगभग 5 गुना बढ़ा हैं। देहात की विभीन टीमें भारत के सभी प्रमुख कृषि समूहों में प्रखर इस सफलता को आगे दोहराने के लिए प्रयासरत हैं।

No comments:

Post a Comment

श्री कृष्ण बलराम मंदिर में नरसिंह चतुर्दशी महोत्सव मनाया गया

जयपुर  |  हरे कृष्ण मूवमेंट जयपुर के जगतपुरा स्थित श्रीकृष्ण बलराम मंदिर में नरसिंह चतुर्दशी महोत्सव मनाया गया। इस मौके पर मंदिर अध्यक्ष अमि...