Wednesday, November 3, 2021

30 सितंबर 2021 को समाप्तह तिमाही / छमाही के लिए वित्तीपय परिणाम

प्रमुख बिन्‍दु दूसरी तिमाही वित्‍तीय वर्ष 2022

 

  • वित्‍तीय वर्ष 2022की दूसरी तिमाही में रु. 1,051करोड़ का शुद्ध लाभ हुआ है जो वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 89 % की बढ़ोतरी है।
  • आस्तियों पर प्रतिफल (आरओए) 53% रहा, जो वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 25बीपीएस कासुधार है।
  • एनआईएम 42%रहा जो क्रमिक आधार पर 26 बीपीएस का सुधार है।
  • एनआईआई रु 3,523करोड़ के स्‍तर पर रही जो क्रमिक आधार पर 06% का सुधार है।
  • अग्रिमों पर प्रतिफल 01%है, जिसमें क्रमिक आधार पर 34 बीपीएस की वृद्धि हुई है।
  • सकल एनपीए अनुपात 12%है, जो क्रमिक आधार पर 151 बीपीएस कम हुआ है।
  • निवल एनपीए अनुपात 79% है , जो क्रमिक आधार पर 56 बीपीएस कम हुआ है।
  • प्रावधान कवरेज अनुपात (पीसीआर) 87.81% रहा है।
  • सीआरएआर 05% है जो मार्च'21 और जून'21, इनदोनों की तुलना मेंअधिकहै।
  • रिटेल, कृषि और एमएसएमई (RAM)अग्रिमों में वर्ष दर वर्ष आधार पर 45% की वृद्धि हुई हैतथा ये कुल अग्रिमों का 53.65% है।
  • कासा जमाराशियों में वर्ष-दर-वर्ष आधार पर12.31% की वृद्धि हुई है तथा कासाप्रतिशत11%रहा है।
  • ऋण की लागत 26%रहीहै, जो वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 207 बीपीएस कम हुई है।
  • स्लिपेज अनुपात 36%रहाहै, जो क्रमिक आधार पर 75बीपीएस कम हुआ है।

लाभप्रदता:

तिमाही 2-वित्‍तीय वर्ष 22:

  • वित्‍त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही में रु.1,051 करोड़ का निवल लाभ हुआ जो वित्‍त वर्ष 21 की दूसरी तिमाही में रु. 526 करोड़ था। यह वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 89 प्रतिशत की उछाल है। क्रमिक आधार पर शुद्ध लाभ में 45.97% का सुधार हुआ जो रु.720 करोड़ था। 
  • वित्‍त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही के लिए परिचालन लाभ रु.2,678 करोड़ रहा है।
  • वित्‍त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही के निवल ब्‍याज आय (एन.आई.आई) रु.3,523 करोड़ रही है। क्रमिक आधार पर इसमें 12.06% की बढ़ोतरी हुई जो वित्‍त वर्ष 22 की प्रथम तिमाही में रु.3,144 करोड़ थी।
  • वर्ष-दर-वर्ष आधार पर गैर ब्‍याज आय में 71% वृद्धि हुई तथा यह वित्‍त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही में रु.2,136 करोड़ रही जो वित्‍त वर्ष 21 की दूसरी तिमाही में रु.1,346 करोड़ थी।

प्रथम छमाही- वित्‍तीय वर्ष 22:

  • वित्‍त वर्ष 22 की प्रथम छमाही के लिए निवल लाभ में वर्ष दर वर्ष आधार पर 29.33% का सुधार हुआ है तथा यह वित्‍त वर्ष 21 की प्रथमछमाही के लिए रु 1,369 करोड़ के विरुद्ध वित्‍त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही में रु 1,771 करोड़ के स्‍तर पर रहा है।
  • वित्‍त वर्ष 22 की प्रथम छमाही के लिए परिचालन लाभ रु.5,427 करोड़ रहा है।
  • वित्‍त वर्ष 22 की प्रथम छमाही के लिए निवल ब्‍याज आय (एन.आई.आई) रु.6,668 करोड़ रही है।
  • वर्ष-दर-वर्ष आधार पर गैर ब्‍याज आय में 03% वृद्धि हुई तथा यह वित्‍त वर्ष 22 की प्रथम छमाही में रु.4,456 करोड़ रही है।

अनुपात:

  • वित्‍त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही में एन.आई.एम. (ग्‍लोबल) रु.2.42% रहा है। क्रमिक आधार पर इसमें 26 बी.पी.एस सुधार हुआ है जो वित्‍त वर्ष 22 की प्रथम तिमाही में 2.16% था।
  • वित्‍त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही एन.आई.एम. (घरेलू) रु.2.65% रहा। क्रमिक आधार पर इसमें 30 बी.पी.एस सुधार हुआ है जो वित्‍त वर्ष 22 की प्रथम तिमाही में 2.35% था।
  • वित्‍त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही में आस्तियों पर प्रतिफल सुधरकर 0.53% हो गया जो वित्‍त वर्ष 22 की प्रथम तिमाही में 0.37% था।
  • वित्‍त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही में लागत-आय अनुपात (ग्‍लोबल)69% रहा है।
  • अग्रिमों पर प्रतिफल (ग्लोबल) वित्तीय वर्ष 2022 की प्रथम तिमाही में 67% था, जो वित्तीय वर्ष 2022 की द्वितीय तिमाही में सुधरकर 7.01% हो गया।
  • जमाराशियों पर लागत(ग्लोबल) वित्तीय वर्ष 2022 की प्रथम तिमाही के 75% की तुलना में वित्तीय वर्ष 2022 की द्वितीय तिमाही में सुधरकर 3.79% हो गई।

कारोबार

  • वैश्विक कारोबार सितंबर 2020 में रु. 10,15,400 करोड़ था, जो सितंबर 2021 में बढ़कर रु. 10,31,856 करोड़ हो गया।
  • वैश्विक जमाराशियां सितंबर 2020 में रु. 6,07,529 करोड़ थीं, जो सितंबर 2021 में बढ़कर 6,12,961 करोड़ हो गईं।
  • वैश्विक अग्रिम जो सितंबर 2020 में रु. 4,07,871 करोड़ थे, सितंबर 2021 में बढ़कर रु. 4,18,895 करोड़ हो गए।
  • घरेलू जमाराशियाँ सितंबर 2020 के रु. 5,32,095 करोड़ से बढ़कर सितंबर 2021 में रु. 5,45,734 करोड़ हो गईं।
  • घरेलू कासा वर्ष-दर-वर्ष 31% की वृद्धि के साथ सितंबर 2021 में रु. 2,32,797 करोड़ हो गई तथा कासा प्रतिशत 43.11% रहा।
  • घरेलू अग्रिम सितंबर 2020 के रु. 3,62,666 करोड़ से बढ़कर सितंबर 2021 में रु. 3,68,573 करोड़ हो गए।
  • आरएएम अग्रिम वर्ष-दर-वर्ष 45% की वृद्धि के साथ रु. 197,757 करोड़ रहे, जो अग्रिमों का 53.65% है।
  • रिटेल ऋण में वर्ष-दर-वर्ष 28% की वृद्धि के साथ सितंबर 2021 में रु. 70,887 करोड़ हो गए।
  • कृषि ऋण वर्ष-दर-वर्ष 72% की वृद्धि के साथ सितंबर 2021 में रु. 61,886 करोड़ हो गए।
  • एमएसएमई ऋण वर्ष-दर-वर्ष 65% की वृद्धि के साथ रु. 64,984 करोड़ हो गया।

आस्ति गुणवत्‍ता

  • सकल एनपीए तिमाही-दर-तिमाही आधार पर जून’ 21 की तिमाही के रु. 56,042 करोड़ से 30% घटकर सितंबर’ 21 में रु. 50,270 करोड़ हो गया है।
  • निवल एनपीए तिमाही-दर-तिमाही आधार पर जून’ 21 के रु. 12,424 करोड़ से 87% घटकर सितंबर’ 21 में रु. 10,576 करोड़ हो गया।
  • सकल एनपीए अनुपात जून’ 21 के 51% और सितंबर’ 20 के 13.79% से सुधरकर सितंबर’ 21 में 12.00% हो गया।
  • निवल एनपीए अनुपात जून’ 21 के 35% और सितंबर’ 20 के 2.89% से सुधरकर सितंबर’ 21 में 2.79% हो गया।
  • प्रावधान कवरेज अनुपात (पीसीआर) जून’ 21 के 17% की तुलना में सितंबर’ 21 में 87.81% रहा।

पूंजी पयाप्‍तता

  • यथा दिनांक 09.2021, बैंक की कुल पूंजी पर्याप्तता अनुपात (सीआरएआर) जून’ 21 के 15.07% की तुलना में 17.05% था। बैंक ने रु. 2,550 करोड़ के क्यूआईपी और रु. 1,800 करोड़ के टियर-II बॉन्ड को जुटाकर अपने पूंजी आधार को बढ़ाया है।
  • सीईटी-1 अनुपात जून’ 21 के 52% की तुलना में यथा सितंबर’ 21,13.43% रहा।

प्राथमिकता प्राप्‍त क्षेत्र 

  • प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र आग्रिमोंमें वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 62%की वृद्धि हुई है और यथा सितंबर’ 21 के एएनबीसी के 41.27% को प्राप्त कर लिया है।
  • वित्तीय समावेशन के क्षेत्र मेंकार्य-निष्‍पादन:
  • पीएमएसबीवाई: पूरे वर्ष के 30% लक्ष्य की तुलना में, 10% प्राप्त किया है।
  • पीएमजेजेबीवाई: पूरे वर्ष के 15% लक्ष्य की तुलना में, 60% प्राप्त किया है।
  • एपीवाई, प्रति शाखा: 70 (वित्तीय वर्ष) के लक्ष्य की तुलना में, 43 प्राप्त किया है।
  • डिजिटल बैंकिंग:
  • इंटरनेट बैंकिंग प्रयोक्ता: सितंबर’ 20 के 2 मिलियन से बढ़कर 7.9 मिलियन हो गए।
  • मोबाइल बैंकिंग प्रयोक्ता: सितंबर’ 20 के 4 मिलियन से बढ़कर 5.1 मिलियन हो गए।
  • यूपीआई प्रयोक्ता: सितंबर’ 20 के 3 मिलियन से बढ़कर 11.4 मिलियन हो गए।

 

No comments:

Post a Comment

टाटा मोटर्स ने एक्सक्लूसिव इलेक्ट्रिक वाहन डीलर फाइनेंसिंग की पेशकश करने के लिए इंडसइंड बैंक के साथ की साझेदारी

  मुंबई, 01 दिसंबर, 2022- देश में इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने की दिशा में लोगों के रुझान को बढ़ाने के अपने प्रयास में, भारत की अग्रणी ऑटोमोटि...