Tuesday, November 30, 2021

फैशन शो और डांस परफॉरमेंस में मूख बघिर बच्चें मंच पर दिखाएंगे हुनर



- कार्यक्रम 'एक शाम मानवता के नाम 2021' का आयोजन 3 दिसंबर 

- राजयपाल कलराज मिश्रा मुख्य अतिथि के तौर पर करेंगे शिरकत

जयपुर। विशेष योग्यजन बच्चें रैंप पर फैशन शो के साथ ही डांस परफॉरमेंस के जरिए अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करते दिखेंगे। अंतर्राष्ट्रीय विश्व विकलांगता दिवस 3 दिसंबर के अवसर पर अभिव्यक्ति वेलफेयर सोसाइटी, हैनिमैन चैरिटेबल मिशन सोसाइटी और राजकीय सेठ आनंदी लाल पोद्दार वरिष्ठ उच्च माध्यमिक मूक बघिर विद्यालय जयपुर के संयुक्त तत्वावधान में कार्यक्रम 'एक शाम मानवता के नाम 2021' का आयोजन होगा। इसी सन्दर्भ में मंगलवार को गोपालपुरा स्थित होटल ग्रैंड सफारी में प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। इस दौरान अभिव्यक्ति वेलफेयर सोसाइटी की अध्यक्ष संगीता गौड़, डॉ अतुल गुप्ता व मोनिका गुप्ता, फैशन डिज़ाइनर अमिका हल्दिया, होटेलियर पवन गोयल, डॉ अरविन्द अग्रवाल और फैशन फोटोग्राफर रमेश कुमार ने शो से जुड़ी तैयारियों का जायज़ा दिया।

इस दौरान संगीता गौड़ ने बताया कि 7 साल से आयोजित हो रहे इस कार्यक्रम का आठवां अध्याय उसी जोश और आत्मीयता के साथ फिर से प्रस्तुत किया जा रहा है। जिसके लिए इस साल सभी मूख बघिर बच्चें अपना टैलेंट और आत्मविश्वास के साथ जीवन का जज़्बा दिखाएंगे। मंगलवार को राजस्थान के राजयपाल कलराज मिश्रा ने पोस्टर विमोचन किया साथ ही कार्यक्रम की मुहीम से जुड़ते हुए वे 3 दिसंबर को कार्यक्रम के दौरान मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत करेंगे। 

साथ ही आयोजक डॉ. अतुल गुप्ता ने बताया कि कार्यक्रम के दौरान सभी स्टूडेंट्स फैशन शो में रैंप पर अपना कॉन्फिडेंस बिखेरेंगे। जिसमें फैशन डिज़ाइनर अमिका हल्दिया के ट्रेडिशनल और इंडो वेस्टर्न डिज़ाइनर गारमेंट्स में बच्चें वॉक करेंगे। वहीं डांस परफॉरमेंस के दौरान बच्चें मंच पर अपने हुनर का परचम भी लहरायेंगे।

बिहार के मुख्यमंत्री एवं केन्द्रीय विद्युत मंत्री ने एनटीपीसी बरौनी और बाढ़ में पावर युनिट्स का किया ‘लोकार्पण’

बिहार/ नई दिल्ली, 30 नवम्बर, 2021: श्री नीतिश कुमार, माननीय मुख्यमंत्री, बिहार ने आज श्री आर.के. सिंह, माननीय केन्द्रीय मंत्री, विद्युत, नवीन एवं नवीकरणीय उर्जा, भारत सरकार की गरिमामय उपस्थिति में एनटीपीसी बाढ़ सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्ट की युनिट-1 (660 मेगावॉट) और एनटीपीसी बरौनी थर्मल पावर स्टेशन की स्टेज-2 (2X250 मेगावॉट) के पावर स्टेशनों का किया ‘लोकार्पण’ ।

एनटीपीसी बाढ़ पावर प्रोजेक्ट के लोकार्पण समारोह में श्री राजीव रंजन, सांसद, लोकसभा, मुंगेर, श्री नीरज कुमार, विधान परिषद के सदस्य, बिहार, श्री ज्ञानेन्द्र कुमार सिंह, विधानसभा सदस्य, बाढ़ मौजूद थे।
बरौनी पावर प्रोजेक्ट में श्री राम रतन सिंह, विधानसभा सदस्य, तेघरा, बिहार, श्री राज कुमार सिंह, विधानसभा सदस्य, मटीहानी, बिहार ने अपनी उपस्थिति के साथ समारोह की शोभा बढ़ाई।
बिहार सरकार से वरिष्ठ अधिकारी, भारत सरकार के अधिकारी भी दोनों कार्यक्रमों में मौजूद रहे।
इस अवसर पर श्री आलोक कुमार, सचिव (विद्युत), भारत सरकार, श्री गुरदीप सिंह, सीएमडी, एनटीपीसी, श्री दिलीप कुमार पटेल, निदेशक (एचआर) एनटीपीसी, श्री उज्जवल कांति भट्टाचार्य, निदेशक (परियोजनाएं) तथा एनटीपीसी के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

एंजेल ब्रोकिंग ने स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के आईपीओ को सब्सक्राइब करने की सिफारिश की

एंजेल ब्रोकिंग ने लंबी अवधि के नजरिए से स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (स्टार हेल्थ) को सब्सक्राइब करने की सिफारिश की है। एंजेल ब्रोकिंग का मानना है कि राकेश झुनझुनवाला समर्थित स्टार हेल्थ कंपनी अपने आकार और मजबूत विकास दर (वित्त वर्ष 18-21 के दौरान 32 प्रतिशत ग्रोस रिटन प्रीमियम सीएजीआर) के मामले में दूसरे स्टैंडअलोन स्वास्थ्य बीमाकर्ताओं (एसएएचआई) के बीच मजबूती से खड़ी है। साथ ही, कंपनी का परिचालन प्रदर्शन काफी बेहतर है, जो कंपनी के कोविड पूर्व आंकड़ों को दर्शाता है (~93 प्रतिशत संयुक्त अनुपात)।

एक्सिस कैपिटल आईपीओ नोट के अनुसार, 30 सितंबर, 2021 तक स्टार हेल्थ 11,778 से अधिक अस्पतालों के साथ भारत में सबसे बड़े स्वास्थ्य बीमा अस्पताल नेटवर्क में से एक है। एक्सिस कैपिटल आईपीओ नोट में कहा गया है कि स्टार के नेटवर्क में शामिल अस्पतालों की कुल संख्या में से 7,741 से अधिक अस्पतालों (नेटवर्क के कुल अस्पतालों की संख्या का 65.7 प्रतिशत हिस्सा) के साथ कंपनी ने पूर्व-सहमति व्यवस्था में प्रवेश किया है।

एक अन्य शोध फर्म चॉइस सिक्योरिटीज ने अपने आईपीओ नोट में कहा है कि व्यापक तौर पर स्वास्थ्य बीमा सेगमेंट का परिदृश्य बहुत सकारात्मक है। इसके अलावा, महामारी के कारण, स्वास्थ्य बीमा के बारे में लोगों के बीच जागरूकता का दौर अब तक के लिहाज से सबसे अधिक है। इसका मानना है कि खुदरा स्वास्थ्य बीमा पर ध्यान केंद्रित करने वाली एक प्रमुख कंपनी होने के नाते स्टार हेल्थ बाजार में संभावित विस्तार का फायदा उठाने के लिए अच्छी स्थिति में है।

बीएंडके सिक्योरिटीज ने प्रबंधन के साथ अपनी बातचीत के आधार पर तैयार किए गए अपने फ्लैश नोट में स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड को एक ऐसे स्वास्थ्य बीमा बाजार में एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में करार दिया है, जहां लोगों के बीच स्वास्थ्य बीमा की पैठ अभी बहुत कम है। 15.8 प्रतिशत (वित्त वर्ष 21) की बाजार हिस्सेदारी के साथ भारत में सबसे बड़े स्वास्थ्य बीमाकर्ता के रूप में स्टार हेल्थ का उल्लेख करते हुए बीएंडके सिक्योरिटीज के आईपीओ नोट में कहा गया है कि स्टार हेल्थ महामारी से पूर्व की अवधि में प्रदर्शित विकास गति को बनाए रखने के लिए आश्वस्त है और एक बॉटम-लाइन केंद्रित कंपनी होने के नाते, स्टार हेल्थ यह सुनिश्चित करती है कि अंडरराइटिंग की क्वालिटी नियंत्रण में रहे और  लाभप्रदता की कीमत पर विकास हासिल नहीं किया जाए।

एसबीआई और कैपरी ग्लोबल कैपिटल ने एमएसएमई ऋण की प्रक्रिया को तेज करने के लिए किया समझौता

मुंबई, 30 नवंबर, 2021- एमएसएमई के लिए ऋण देने की प्रक्रिया को बढ़ावा देने के उद्देश्य से, देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने कैपरी ग्लोबल कैपिटल लिमिटेड (सीजीसीएल) के साथ एक को-लेंडिंग एग्रीमेंट किया है। इस रणनीतिक समझौते के तहत आरबीआई के दिशा-निर्देशों के अनुरूप ऐसे एमएसएमई के लिए फाइनेंस सुविधा संबंधी बेहतर सॉल्यूशंस पेश किए जाएंगे, जिन्हें इस बारे में पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं।

हाल के दौर में एसबीआई ने विभिन्न एनबीएफसी के साथ जुड़ने की दिशा में लगातार प्रयास किए हैं, ताकि एमएसएमई को वित्तीय तौर पर मजबूत बनाने के लिए को-लेंडिंग के अनेक अवसर पैदा किए जा सकें। एसबीआई का मानना है कि यह पहल देश में वित्तीय समावेशन को और गति प्रदान करेगी।

एसबीआई के चेयरमैन श्री दिनेश खारा ने कहा, ‘‘देश के आर्थिक विकास में बैंक मेरूदंड की भूमिका निभा रहे हैं और जैसे-जैसे देश सतत विकास की ओर अग्रसर होता है, बैंकिंग क्षेत्र को एमएसएमई ऋण देने में तेजी लानी होगी। पर्याप्त सुविधाएं हासिल नहीं करने वालों के लिए ऋण में सुधार करने के लिहाज से हमें कैपरी ग्लोबल कैपिटल के साथ जुड़कर खुशी हो रही है। हमें विश्वास है कि इस साझेदारी के माध्यम से आबादी के सही समूह को गुणवत्तापूर्ण ऋण प्रदान किया जा सकेगा और इस तरह अंतिम छोर तक खड़े उद्यमों तक पहुंचने से एमएसएमई को ऋण देने की प्रक्रिया का और विस्तार हो सकेगा। हमें यह भी विश्वास है कि आने वाले दिनों में को-लंेडिंग के सहारे एमएसएमई के माध्यम से रोजगार के अवसर भी उत्पन्न हो सकेंगे, जो देश की जीडीपी वृद्धि में तब्दील हो सकते हैं।’’

समझौता ज्ञापन का आदान-प्रदान एसबीआई के चेयरमैन श्री दिनेश खारा की उपस्थिति में किया गया। इस अवसर पर श्री सीएस सेट्टी, एमडी (खुदरा और डिजिटल बैंकिंग), एसबीआई; श्री एस साली, डीएमडी (एसएमई, एग्री और एफआई), एसबीआई; और श्री राजेश शर्मा, मैनेजिंग डायरेक्टर, कैपरी ग्लोबल कैपिटल लिमिटेड भी मौजूद रहे।

आरबीआई ने बैंकों और एनबीएफसी के लिए प्राथमिकता-प्राप्त क्षेत्र को उधार देने के लिए को-लेंडिंग योजना पर दिशा-निर्देश जारी किए थे ताकि अर्थव्यवस्था के कम सेवा वाले क्षेत्रों में ऋण के प्रवाह में सुधार किया जा सके और उधारकर्ताओं को सस्ती कीमत पर धन उपलब्ध कराया जा सके। को-लेंडिंग मॉडल का उद्देश्य उधारकर्ता को सर्वाेत्तम ब्याज दर और बेहतर पहुंच प्रदान करना है।

अंबुजा सीमेंट्स और एसीसी ने की आईआईटी दिल्ली के साथ साझेदारी

मुंबई, 30 नवंबर 2021- अंबुजा सीमेंट्स और एसीसी ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली (आईआईटीडी) के साथ साझेदारी की है ताकि टिकाऊ निर्माण को बढ़ावा देने के लिए उन्नत तकनीक वाली कम कार्बन सामग्री कैलक्लाइंड क्ले सीमेंट्स को विकसित की जा सके। अंबुजा और एसीसी, अपनी मूल कंपनी, होल्सिम के साथ कदम मिलाते हुए भारत में कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए हरित और दायित्वपूर्ण उत्पादों की एक श्रृंखला बनाने के लिए लगातार इनोवेशन कर रहे हैं और इस क्षेत्र में होने वाले अनुसंधान और विकास का लाभ उठा रहे हैं।

भारत के सर्वाधिक प्रतिष्ठित संस्थानों में से एक भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली के साथ इस अकादमिक सहयोग को होल्सिम इनोवेशन सेंटर, ल्यों, फ्रांस के वित्तीय सहयोग से संचालित एक शोध परियोजना के माध्यम से कार्यान्वित किया जाएगा। इसमें कैलक्लाइंड क्ले सीमेंट्स की परफॉर्मेंस के बारे में क्लिंकर, कैलक्लाइंड क्ले और लाइमस्टोन के प्रभाव का गहन वैज्ञानिक अध्ययन शामिल होगा। इस सहयोग का उद्देश्य भारतीय और अंतरराष्ट्रीय उपभोक्ताओं के लिए 50 प्रतिशत से अधिक कम कार्बन उत्सर्जन के साथ अगली पीढ़ी के कम कार्बन वाले सीमेंट का निर्माण करना है।

श्री नीरज अखौरी, सीईओ होल्सिम इंडिया, और प्रबंध निदेशक और सीईओ, अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड ने कहा, ‘‘अपने व्यापक आरएंडडी सेट अप के माध्यम से, हम निर्माण उद्योग के लिए नई कम कार्बन वाली सामग्री विकसित करने का लगातार प्रयास करते हैं। कैलक्लाइंड क्ले सीमेंट उद्योग में महत्वपूर्ण बदलाव लाने और हमारे ‘सस्टेनेबिलिटी ड्राइव’ को और तेज करने का एक महत्वपूर्ण तरीका है। आईआईटी दिल्ली के साथ हमारी अकादमिक साझेदारी एक हरित भविष्य के निर्माण की दिशा में एक बड़ा कदम है और हम देश के सर्वश्रेष्ठ प्रतिभाशाली लोगों के साथ सहयोग करने के लिए उत्साहित हैं।’’

आईआईटी दिल्ली के निदेशक प्रो. रामगोपाल राव ने कहा, ‘‘आईआईटी दिल्ली का प्रयास है कि वह अपने शोध को उद्योग और समाज के लिए प्रासंगिक बना सके। लाइमस्टोन कैलक्लाइंड क्ले सीमेंट को दुनिया भर में उद्योगों की ओर से व्यापक तौर पर स्वीकार किया जाता है। इसी सिलसिले में कैलक्लाइंड-क्ले सीमेंट की अगली पीढ़ी को विकसित करने के लिए होल्सिम के साथ यह सहयोग उस भरोसे को प्रदर्शित करता है जो आईआईटी दिल्ली ने उद्योग के साथ बनाया है। हमें विश्वास है कि यह साझेदारी हमें ऐसे टिकाऊ निर्माण के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करेगी जो जनता के लिए सुलभ हो।’’

होल्सिम इनोवेशन सेंटर लगातार एक विशिष्ट शैक्षणिक नेटवर्क के साथ जुड़ा हुआ है और सेंटर ने ‘सस्टेनेबल’ और ‘स्मार्ट’ बिल्डिंग सॉल्यूशंस के माध्यम से नवाचार उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए 40 से अधिक प्रमुख विश्वविद्यालयों के साथ सफलतापूर्वक सहयोग किया है।

दोनों कंपनियों ने पहले भी भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटीएम) और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान हैदराबाद (आईआईटीएच) के साथ साझेदारी की है। यह साझेदारी स्मार्ट सेंसिंग टैक्नोलॉजी और ऑप्टिमाइज्ड यूज ऑफ लो कार्बन से संबंधित है। ये अकादमिक सहयोग कंपनी के इस विजन से उपजा है कि कैसे दुनिया को हरित, स्मार्ट और अधिक टिकाऊ बनाया जाए।

यूपीएल दूसरे वर्ष में अपने प्रतिस्पर्धियों के बीच सस्टेनेबिलिटी परफॉर्मेंस में पहले नंबर पर रहा

मुंबई, 30 नवंबर 2021: यूपीएल लिमिटेड (एनएसई: यूपीएल और बीएसई: 512070) को 2021 ईएसजी जोखिम रेटिंग में समग्र स्थिरता प्रदर्शन के लिए उच्चतम प्रदर्शन करने वाली शीर्ष स्तरीय वैश्विक फसल संरक्षण कंपनी के रूप में सस्टेनेलिटिक्स द्वारा रैंकिंग दी गयी है। कई श्रेणियों में महत्वपूर्ण सुधारों के साथ, यह उपलब्धि उस कार्य को मान्यता देती है जो यूपीएल वैश्विक खाद्य प्रणाली के भीतर स्थिरता को फिर से परिभाषित करने के लिए कर रहा है।

सस्टेनेलिटिक्स निवेशकों और कंपनियों को पर्यावरण, सामाजिक और शासन (ESG) अनुसंधान, रेटिंग और डेटा प्रदान करता है, और कई क्षेत्रों में काम करने वाली कंपनियों के स्थिरता प्रदर्शन में एक वार्षिक रिपोर्ट तैयार करता है। सस्टेनेलिटिक्स द्वारा मूल्यांकन किए गए मानदंड में कॉर्पोरेट प्रशासन, सामुदायिक संबंध, व्यावसायिक नैतिकता और कार्बन पदचिह्न के प्रबंधन में यूपीएल की सफलताएँ शामिल हैं।

यूपीएल का 24.9 का ईएसजी जोखिम स्कोर वैश्विक फसल सुरक्षा कंपनियों के एक सहकर्मी समूह के बीच सर्वश्रेष्ठ ईएसजी जोखिम को दर्शाता है। यूपीएल की 2021 की रैंकिंग, पिछले साल के सूचकांक में 6% का सुधार, सस्टेनेलिटिक्स कंपनी रैंकिंग में साल-दर-साल महत्वपूर्ण प्रगति का अनुसरण करती है।

यूपीएल लिमिटेड के ग्लोबल सीईओ जय श्रॉफ ने कहा:

“हमें खुशी है कि यूपीएल की कड़ी मेहनत और दृढ़ संकल्प को सस्टेनलिटिक्स द्वारा पहचाना और स्वीकार किया गया है। हमने जो कुछ भी किया है उसमें स्थिरता की फिर से कल्पना करने के लिए हमने इसे अपना मिशन बना लिया है - यह हमारे द्वारा शुरू की जाने वाली प्रत्येक परियोजना, हमारे द्वारा डिजाइन की जाने वाली प्रत्येक प्रक्रिया और हमारे द्वारा लॉन्च किए जाने वाले प्रत्येक व्यवसाय का आधार है। यूपीएल के प्रत्येक व्यक्ति को बधाई देता हूँ- और इसमें सभी ने भूमिका निभाई है और इस उत्कृष्ट परिणाम में योगदान दिया है। लेकिन हम जानते हैं कि हमारा काम खत्म नहीं हुआ है और अभी और भी बहुत कुछ करने की जरूरत है। हम सभी के लिए एक बेहतर दुनिया सुनिश्चित करने के लिए कृषि में नई स्थिरता पहल के साथ आगे बढ़ना जारी रखेंगे।"

यूपीएल लिमिटेड के सीओओ कार्लोस पेलिसर ने कहा:

“यूपीएल के ओपनएजी उद्देश्य के लिए सहयोग और स्थिरता केंद्रीय हैं। दुनिया को हमारे ग्रह पर 7.7 बिलियन लोगों को भोजन प्रदान करने के तरीके में ठोस, स्थायी सुधार प्रदान करने के लिए हमारी तात्कालिकता की आवश्यकता है। यूपीएल के लिए यह एक अविश्वसनीय वर्ष रहा है, बायोसॉल्यूशन के लिए हमारी एनपीपी (नेचुरल प्लांट प्रोटेक्शन) बिजनेस यूनिट के लॉन्च के साथ, हमारे nurture.farm डिजिटल ऑफरिंग का पैमाना बढ़ा है, और क्लाइमेट प्लेज, फीफा फाउंडेशन, गिगाटन चैलेंज का और के साथ हमारी साझेदारी हुई है। इनमें से प्रत्येक पहल के केंद्र में स्थिरता है, और हम आने वाले वर्षों में इस रास्ते पर एक साथ जारी रखने के लिए बहुत उत्साहित हैं।

यह रैंकिंग 2021 में अन्य वैश्विक स्थिरता सूचकांकों में हाल की सफलताओं का अनुसरण करती है: द वर्ल्ड बेंचमार्किंग एलायंस, कृषि इनपुट सेगमेंट में यूपीएल को 55 कंपनियों में दूसरे स्थान पर, और डब्ल्यूबीए खाद्य और कृषि बेंचमार्क श्रेणियों में 350 कंपनियों में पंद्रहवें स्थान पर है। इसके अतिरिक्त, यूपीएल ने हाल ही में मजबूत प्रदर्शन दर्ज किया डॉव जोन्स सस्टेनेबिलिटी इंडेक्स (2018 के स्कोर पर 61% सुधार) और एफटीएसई रसेल (उद्योग के औसत से 68% अधिक) का प्रदर्शन किया है।

साइबर सिक्योरिटी फर्म इंस्पायरा एंटरप्राइज ₹300 करोड जुटायेगी

साइबर सिक्योरिटी फर्म इंस्पायरा एंटरप्राइज इंडिया भौगोलिक विस्तार को आगे बढ़ाने के लिए आईपीओ के माध्यम से ₹300 करोड़ की नई पूंजी जुटाने की योजना बना रही है। कंपनी यूरोपीय, पश्चिम एशियाई और दक्षिण एशियाई देशों में अपने विस्तार करने की योजना बना रही है।

कंपनी जो अपने वैश्विक वितरण मॉडल के माध्यम से नौ देशों में ग्राहकों को सेवाएं प्रदान करती है, पश्चिम एशिया को अगली पीढ़ी की प्रौद्योगिकियों और खर्च करने की क्षमता के प्रति क्षेत्र की प्राथमिकता के कारण कई साइबर सुरक्षा कंपनियों के लिए एक निवेश गंतव्य के रूप में उभरती हुई देखती है।

सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात जीसीसी में सबसे बड़े बाजार हैं और कतर धीरे-धीरे अपना साइबर सुरक्षा पर फोकस बढ़ा रहा है।

कंपनी पश्चिमी यूरोप पर भी ध्यान दे रही है, जो पूर्वी यूरोप की तुलना में साइबर सुरक्षा उत्पादों और सेवाओं का एक प्रमुख उपभोक्ता रहा है। फाइलिंग के अनुसार, यूके, जर्मनी और फ्रांस भी मजबूत विकास क्षमता के साथ साइबर सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण बाजार हैं।

यूरोप एक महत्वपूर्ण और मार्जिन बढ़ाने वाला बाजार है जो आगे बढ़ रहा है। फर्म अपनी क्षमताओं को बढ़ा रही है और इन देशों में भाषा क्षमता, ऊर्ध्वाधर विशेषज्ञता, तकनीकी विशेषज्ञता और भौगोलिक कवरेज में अंतराल को दूर कर रही है।

फर्म ने कहा कि वह एक 'हब-एंड-स्पोक' मॉडल का पालन करेगी जिसका डिलीवरी सेंटर भारत में केंद्रित होगा। समर्पित टीमों के साथ संचालन केंद्र विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में स्थित होंगे जहां ग्राहक वास्तविक समय के आधार पर अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम होंगे।

इंस्पायरा का लक्ष्य अपने प्रबंधित सुरक्षा संचालन का विस्तार करना और उभरते बाजारों में सुरक्षा बुनियादी ढांचे के सेवा प्रदाता से उच्च लक्षित सेवाओं और समाधानों के प्रदाता के रूप में जुड़ाव को बदलना है।

यह विश्व स्तर पर अपनी सफल घरेलू प्लेबुक की नकल करने पर भी विचार कर रहा है। प्रबंधित सुरक्षा सेवाओं के संचालन का विस्तार करने और वार्षिकी राजस्व धाराओं को बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा।

कंपनी अपनी पेशकश को सुरक्षा बुनियादी ढांचे के प्रदाता से लेकर उभरते बाजारों में उच्च स्तरीय सेवाओं और समाधानों के प्रदाता तक बढ़ाने की भी योजना बना रही है।

इसमें कहा गया है कि इंस्पायरा डोमेन और स्थान-विशिष्ट अनुभव वाले कर्मियों को नियुक्त करके संयुक्त राज्य में अपने संचालन को मजबूत करने का इरादा रखती है।

Sunday, November 28, 2021

मंत्रिमंडल के पुनर्गठन पर समीक्षात्मक बैठक, नए मंत्रिमंडल के लिए मुख्यमंत्री को बधाई

जयपुर। राजस्थान कंप्यूटर कांग्रेस के तत्वावधान में प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक हुई जिसमें मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा मंत्रिमंडल में फेरबदल कर नए मंत्रियों के लिए सभी पदाधिकारियों द्वारा बधाई एवं शुभकामनाएं दी गई। बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रदेशाध्यक्ष पुरुषोत्तम पारीक ने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार फिर अपने कुशल नेतृत्व एवं सफल राजनीतिज्ञ होने का परिचय दिया है उन्होंने बहुत ही सूझबूझ और सुनियोजित तरीके से आगामी विधानसभा चुनाव को मध्य नजर रखते हुए सभी वर्गों को महत्व देते हुए राजस्थान की कांग्रेस सरकार को और अधिक मजबूत करने के उद्देश्य सोच-विचार करके प्रदेश की जनता के सर्व कल्याण के लिए नए मंत्रिमंडल का गठन किया है। इसके लिए कंप्यूटर कांग्रेस द्वारा बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं बैठक में प्रेषित की गई। इस अवसर पर डॉ अमर सिंघल राजस्थान विश्वविद्यालय के पूर्व राजनीतिक शास्त्र के प्रोफेसर डॉ वीरेंद्र सिंह व्यवसाई मनीष शर्मा, किसान आंदोलन से जुड़े रामलाल चौधरी, जवाहरात व्यापार मंडल के सदस्य शिवराज सोनी एवं आह्वान संस्था के सचिव नफीस अफरीदी ने अपने-अपने समीक्षात्मक बयान देते हुए मुख्यमंत्री को नए मंत्रिमंडल के लिए सराहा। कंप्यूटर कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष एवं ग्रामीण विकास नरेगा के राज्य निदेशक सर्वे घनश्याम बरतिया ने सभी कंप्यूटर कांग्रेस के पदाधिकारियों से आह्वान किया कि आगामी विधानसभा चुनाव में मात्र 2 वर्ष शेष बचे हैं। कंप्यूटर कांग्रेस के प्रतिनिधि गांव-गांव जाकर सरकार की जनकल्याणकारी योजना एवं ग्रामीण विकास एवं नरेगा के सफलतम कार्यक्रमों का प्रचार प्रसार किया जाएगा और योजनाओं की लोगों को जानकारी दी जाएगी। पंचायतों में अच्छा कार्य करने वाले कर्मचारियों को प्रशंसा पत्र प्रदान किए जाएंगे। उल्लेखनीय है कि अभियान की शुरुआत निरंजन आर्य मुख्य सचिव ने गांधी जयंती पर सचिवालय से हरी झंडी दिखाकर की गई थी। आज की बैठक में मुख्य अतिथि गिरिराज बाढदार, हाईकोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता विशिष्ट अतिथि सूरज खटोरिया समाजसेवी एवं उद्योगपति थे।

Saturday, November 27, 2021

अखिल भारतीय जांगिड ब्राह्मण महासभा, दिल्ली के प्रधान पद के चुनाव हेतु श्री रामपाल शर्मा, सोडावास ने भरा नामांकन

आज शनिवार, दिनांक 27 नवम्बर, 2021 को अखिल भारतीय जांगिड ब्राह्मण महासभा, दिल्ली के प्रधान पद हेतु नामांकन के अंतिम दिवस को कर्मठ व्यक्तित्व,सोम्य स्वभाव मृदुभाषी, स्वच्छ छवि, समाज के चहुंमुखी विकास के सपनों से ओतप्रोत, दानवीर एवं सबको साथ लेकर चलने के लिए कृत संकल्पित श्री रामपाल शर्मा(सोडावास-हाल निवासी बैंगलोर) ने समाज के अनेकों गणमान्य समाज बन्धुओं की उपस्थिति में अखिल भारतीय जांगिड ब्राह्मण महासभा, दिल्ली के प्रधान पद की उम्मीद्वारी हेतु अपना नामांकन पत्र मुख्य चुनाव अधिकारी श्री देवमणि शर्मा, पंचशील एनक्लेव, नई दिल्ली के समक्ष प्रस्तुत किया।

नामांकन प्रस्तुत करते समय पूर्व प्रधान श्री कैलाश बरनेला, श्री रविशंकर शर्मा, श्री संजय हर्षवाल, प्रदेशाध्यक्ष, राजस्थान श्री सुशील कुमार, प्रदेशाध्यक्ष पश्चिम बंगाल,श्री प्रभू बरनेला, प्रदेशाध्यक्ष, मध्य प्रदेश ,श्री अमराराम चोयल, श्री घनश्याम शर्मा, श्री बी.सी.रावत, श्री मदनलाल, श्री प्रदीप शर्मा, मध्य प्रदेश, श्री लीलूराम, दिल्ली, श्री नवीन शर्मा, राजस्थान,श्री कृष्ण आसोदा, श्री सुरेन्द्र जांगिड, श्री नीरज जांगिड, श्री ओम प्रकाश जांगिड, श्री कान्ति प्रसाद टाईगर, दिल्ली, श्री नरेश जांगिड, बेैगलोर, श्री रवि जांगिड, बैंगलोर, श्री अनिल जांगिड, सी.ए., दिल्ली, श्री बलराम सीलक, इन्दोर, ओमप्रकाश जांगिड, दिल्ली, श्री गंगादीन शर्मा, दिल्ली एवं समाज के सेंकडों गणमान्य समाज बन्धु उपस्थित रहे।

वी ने किया एक बेहतर कल के लिए 5 जी का प्रदर्शन

जयपुर, 27 नवम्बर, 2021ः जाने-माने दूरसंचार सेवा प्रदाता वोडाफ़ोन आइडिया लिमिटेड ने आज पुणे, महाराष्ट्र और गांधीनगर, गुजरात में सरकार द्वारा आवंटित 5 जी स्पैक्ट्रम पर वर्तमान में चल रहे 5 जी ट्रायल्स के तहत 5 जी-आधारित टेक्नोलॉजी समाधानों की व्यापक रेंज का प्रदर्शन किया।

रविन्दर टक्कर, एमडी एवं सीईओ, वोडाफ़ोन आइडिया लिमिटेड के अनुसार, ‘‘हमारे 5 जी ट्रायल जारी हैं, वी भारत को पांचवीं पीढ़ी की वायरलैस मोबाइल कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी की अगली यात्रा पर ले जाने के लिए तैयार है। हमारे 5 जी ट्रायल विभिन्न क्षेत्रों में दुनिया के समक्ष नई संभावनाएं लेकर आए हैं, जो भारत में तकनीकी उन्नति के नए दौर का वादा करते हैं। मुझे विश्वास है कि 5 जी एक ऐसे बेहतर कल का निर्माण करेगा जो उपभोक्ताओं, कारोबारों एवं समाज को लाभान्वित कर देश में डिजिटल अर्थव्यवस्था के विकास को प्रोत्साहित करेगा।’’

एक बेहतर कल के प्रयोजन केे साथ वी 5 जी ट्रायल कर रहा है और इसने भारत में उपभोक्ताओं एवं उद्यमों के लिए प्रासंगिक यूज़ केसेज़ की व्यापक रेंज विकसित की है। वी ने दो लोकेशनों पर यूज़ केसेज़ के ट्रायल के लिए उद्योग जगत के दिग्गजों जैसे एल एण्ड टी स्मार्ट वर्ल्ड एण्ड कम्युनिकेशन, एथोनेट, भारतीय स्टार्ट-अप्स जैसे विज़बी एवं ट्वीक लैब्स तथा टेक्नोलॉजी लीडर्स- एरिकसन एवं नोकिया के साथ साझेदारी की है।

उपभोक्ताओं की मदद करने और एक बेहतर कल के निर्माण को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध वी विभिन्न सेगमेन्ट्स जैसे इंडस्ट्री4.0, स्मार्ट सिटीज़, स्मार्ट हेल्थकेयर, स्मार्ट वर्कप्लेस, स्मार्ट एजुकेशन, स्मार्ट कृषि, गेमिंग आदि में 5 जी टेक्नोलॉजी की क्षमता का उपयोग कर रहा है। वी के ट्रायल्स ने साबित कर दिया है कि 5 जी टेक्नोलॉजी की उंची डेटा स्पीड, लो लेटेन्सी और विश्वसनीयता कारोबार के प्रदर्शन में सुधार ला सकती है और उपभोक्ताओं की जीवनशैली में बदलाव लाकर, दूर-दराज के लोगों के जीवन में सकारात्मक प्रभाव उत्पन्न कर उपभोक्ताओं को बेजोड़ अनुभव प्रदान कर सकती है।

वी ने 5 जी नेटवर्क ट्रायल्स एवं यूज़ केसेज़ के लिए दूरसंचार विभाग द्वारा एमएम वेव बैण्ड में 26 GHzऔर 3.5 GHz स्पैक्ट्रम आवंटित किया है। वी ने ई-बैण्ड्स के बैकहॉल स्पैक्ट्रम पर 9.8 Gbps तक तथा 26 GHz पर 4.2 Gbps से अधिक, 3.5 GHz पर 1.5 Gbps की अतिरिक्त पीक स्पीड हासिल की है।

पुणे में वी द्वारा स्थापित 5 जी ट्रायल नेटवर्क ने 5G SA, 5G NSA & LTE पैकेट कोर फंक्शन्स से युक्त क्लाउड नेटिव टेक्नोलॉजी पर आधारित एरिकसन रेडियोज़ एवं एरिकसन ड्यूल मोड कोर तैनात किए हैं। पुणे में दर्शाए गए सभी यूज़ केसेज़ को एरिक्सन के 5 जी टेक्नोलॉजी समाधानों पर विकसित किया गया है।

गांधीनगर में वी ट्रायल के लिए नोकिया के एयर स्केल रेडियो पोर्टफोलियो और माइक्रोवेव ई-बेण्ड सोल्युशन का उपयोग कर रहा है, जो भरोसेमंद कनेक्टिविटी के साथ छोटे, मध्यम और बड़े सभी तरह के कारोबारों को लाभान्वित करेगा। गांधीनगर में वी के यूज़ केसेज़ का प्रदर्शन पुणे में आयोजित विशेष मीडिया प्रीव्यू के दौरान एक लाईव टेलीकास्ट के ज़रिए किया गया।

पुणे और गांधीनगर में वी 5 जी यूज़ केसेज़ की सूची के लिए अनुलग्नक देखें।

Friday, November 26, 2021

जयपुर के बजाजनगर में हुआ "खादी ग्रामोद्योग प्रदर्शनी" का भव्य आगाज





गाँधीवादी मुख्यमंत्री की खादी पर 50 % की छुट की घोषणा निश्चित ही खादी संस्थाओं हेतु संजीवनी बनी 

आशा पटेल 

जयपुर . राजस्थान खादी ग्रामोद्योग संस्था संघ, बजाज नगर  में 25 नवंबर 2021 से 13 जनवरी 2022 तक आयोजित खादी ग्रामोद्योग प्रदर्शनी का  उद्घाटन मुख्य अतिथि कुमार प्रशांत अध्यक्ष गांधी शांति प्रतिष्ठान  एवं बसंत भाई सदस्य उत्तरी क्षेत्र खादी ग्रामोद्योग आयोग भारत सरकार के कर कमलों से किया गया |अतिथियों ने कहा कि  उलेखनीय बात यह है कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने  खादी की माली हालत को समझते हुए   गाँधी जयंती से  ही खादी के उत्पादों पर 50 प्रतिशत तक की छूट की घोषणा कर दी थी  | निश्चित ही यह  छूट खादी संस्थाओं के लिए  संजीवनी का कम करेगी | युवा वर्ग भी अब  खादी से जुड़ने लगा है ,इसलिए खादी का भविष्य उज्जवल है |प्रदर्शनी के संयोजक और संस्था संघ के  मंत्री अनिल कुमार शर्मा ने बताया की पूरे प्रदेश की खादी संस्थाओं ने अपने अपने उत्पादों की स्टालें लगाई हैं | प्रदर्शनी में आने वाले लोगों को सभी प्रकार के खादी उत्पाद एक ही छत के नीचे मिलेंगे |सम्मानित अतिथि के रूप में रामदास शर्मा, पूर्व अध्यक्ष राजस्थान खादी ग्रामोद्योग संस्था संघ एवं   पूर्व सदस्य खादी ग्रामोद्योग आयोग , राम भरोसी लाल गुप्ता पूर्व अध्यक्ष केंद्रीय प्रमाण पत्र समिति खादी ग्रामोद्योग आयोग भी सम्बोधित किया  |इस दौरान राजस्थान खादी ग्रामोद्योग संस्था संघ जयपुर के अध्यक्ष इंदु भूषण गोईल अस्वस्थता के चलते नहीं आ सके, वरिष्ठ गाँधीवादी रामवल्लभ अग्रवाल ,  उपाध्यक्ष राजेंद्र भंडारी ,सहायक मंत्री राजेंद्र कुमार अग्रवाल, आलम सिंह नेगी, महेश चंद गोयल, आदि मौजूद रहे | हर बार की तरह इस बार भी प्रदेश भर की खादी संस्थाओं ने अपने अपने स्टाल सजाये है .इस बार अच्छी सर्दी के चलते  ऊनी खादी वस्त्रों, खादी सिल्क,कोटन ,दरी- कम्बल,शोल  की जमकर खरीददारी होगी .तरह तरह के ग्रामोउद्योग ,कच्ची घानी तेल ,गुड की गजक ,आयुर्वेदिक दवा,ड्रायफ़ूड, एकूप्रेषर ओजार ,बीकानेरी नमकीन ,पापड़ जेसे अनेक उत्पादों की जम कर खरीददारी  होगी .यहाँ आपको गाँधी साहित्य ,गाँधी डायरी भी उपलब्ध होगी .

साबरी सूफी ब्रदर्स द्वारा प्रस्तुत की गई कव्वाली



जेकेके में 'शाम-ए-कव्वाली' कार्यक्रम में कव्वालों ने सजाई महफिल

जयपुर। जवाहर कला केंद्र (जेकेके) में शुक्रवार को 'शाम-ए-कव्वाली' का आयोजन किया गया। जेकेके के मध्यवर्ती में कव्वालों ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियां देकर समां बांध दिया। यह आयोजन जेकेके और कला एवं संस्कृति विभाग, राजस्थान सरकार द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव के तहत किया गया था। कार्यक्रम में साबरी सूफी ब्रदर्स द्वारा कव्वाली पेश की गई। इस दौरान कव्वालों ने विभिन्न कव्वालियां प्रस्तुत की, जिनमें 'हम सब का मालिक एक', 'छाप तिलक', 'मेरे तकदीर के मालिक मेरी पहचान लिख देना, मेरे तन के हर हिस्से पर हिंदुस्तान लिख देना' आदि कव्वाली शामिल थीं। कार्यक्रम में कव्वाली प्रस्तुत करने वाले गायकों में इकबाल शाद कव्वाल के साथ मोहम्मद नौशाद साबरी, मोहम्मद समीर और मोहम्मद जावेद भी शामिल थे। इसके साथ ही अन्य कलाकारों में इकबाल गनी ने बेंजो पर, वसीम शाह ने कीबोर्ड पर, शाहिद मिरासी ने तबले पर, इमरान ने पैड पर, फरहान हुसैन ने ढोलक पर और दरबार जी ने बाजे पर साथ दिया। कार्यक्रम की संरचना और निर्देशन श्री इकबाल शाद, कव्वाल, अजमेर ने की थी।

गैंगस्टर के रूप में दिखाई देंगी आर्या 2 में एक्ट्रेस सुश्मिता सेन

 

- सीरीज के दूसरे हिस्से का धमाकेदार ट्रेलर हुआ लॉन्च

- 10 दिसंबर, 2021 से केवल डिज़्नी+ हॉटस्टार पर

जयपुर। 
जयपुर में शूट हुई सर्वश्रेष्ठ ड्रामा सीरीज़ के लिए अंतर्राष्ट्रीय एमी नॉमिनेटेड दिलचस्प थ्रिलर्स आर्या अपने सीज़न 2 के साथ डिजिटल स्क्रीन पर वापसी कर रही है। डिज़्नी+ हॉटस्टार, एंडेमोल शाईन इंडिया और राम मधवनी फिल्म्स द्वारा निर्मित आर्या सीज़न 2 में सुश्मिता सेन एक अनिच्छुक गैंगस्टर की भूमिका में दिखाई देंगी। डिज़्नी+ हॉटस्टार पर 10 दिसंबर को रिलीज़ किया जा रहा आर्या 2 उस मां के सफर के आगे शुरू होगा, जो उसके परिवार और बच्चों की ओर बढ़ते दुश्मनों एवं अपराध की काली दुनिया से संघर्ष कर रही है। दूसरे सीज़न में अपने किरदार पर रोशनी डालते हुए, सीरीज का मुख्य किरदार एक्ट्रेस सुष्मिता सेन ने बताया कि पिछले सीज़न के अंतर्राष्ट्रीय एमी अवार्ड्स में नामांकित होने के बाद, हम दूसरे सीज़न के लिए ऊर्जा से भरे हुए हैं। सीज़न 2 केवल एक मजबूत महिला आर्या के बारे में नहीं है, बल्कि यह एक योद्धा के बारे में है। यह नया चैप्टर किरदार का अद्भुत खुलासा करेगा और इसने मुझे भी अभिनेत्री के रूप में बहुत कुछ सिखाया है। 

राष्ट्रीय कार्यशाला "सम्मान" का आयोजन

जयपुर. 24 नवंबर से 26 नवंबर 2021 तक, सेंट जेवियर्स कॉलेज, जयपुर के जेंडर स्टडी एंड वूमेन सेल और एंटी-सेक्सुअल हैरेसमेंट सेल ने प्रज्ञा ट्रस्ट के सहयोग से उत्पीड़न पर एक राष्ट्रीय कार्यशाला "सम्मान" का आयोजन किया। कार्यशाला की विशेषज्ञ डॉ स्वर्णा राजगोपालन, भारतीय राजनीति विज्ञानी और प्रज्ञा ट्रस्ट की संस्थापक और निदेशक रहीं, जिन्होंने कथित रूप से एक वर्जनीय विषय पर स्पष्ट और रोचक व्याख्यान दिया और पारस्परिक संवाद किया। कार्यशाला में देश भर से अच्छी संख्या में विद्यार्थियों ने सक्रिय रूप से भाग लिया और कार्यशाला में देश में उत्पीड़न के मुद्दे के समाधानों पर प्रकाश डाला गया। संपूर्ण सत्र दर्शकों के लिए एक विचारोत्तेजक और ज्ञानवर्धक अनुभव था।

राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति, झारखंड की 77वीं त्रैमासिक बैठक का आयोजन

आज दिनांक 26 नवंबर,2021 को राज्य स्तरीय बैंर्कस समिति की 77वीं त्रैमासिक समीक्षा बैठक आयोजित की गई। पूर्व के कार्य संपादन रिपोर्ट की संपुष्टि के बाद राज्य में कार्यरत विविध बैंकों की उपलब्धियों  और भारत सरकार की अनेकानेक योजनाओं के अतंर्गत मद्दवार विकास पर राज्य स्तरीय बैंर्कस समिति के द्वारा प्रस्तुति की गई।  तत्पश्चात राज्य स्तरीय बैंर्कस समिति के संयोजक बैंक आफ इंडिया के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्री अतनु कुमार दास ने अपने मुख्य उदबोधन में राज्य और भारत सरकार के विभिन्न विभागों के प्रतिनिधि उच्चाधिकारियों का स्वागत करते हुए कहा कि सभी हितधारकों के सम्मिलित प्रयासों से चालू तिमाही में अपेक्षित लक्ष्यों को निसंदेह साधा जा सकता है। साथ ही राज्य स्तरीय बैंर्कस समिति के संयोजक बैंक आफ इंडिया के विशेष भूमिका पर मार्गदर्शन किया और 19 आकांक्षी जिलों के संबंधित अग्रणी जिला प्रबंधकों के सकारात्मक नेतृत्व में शत प्रतिशत लक्ष्य उपलब्धि की आशा रखी। श्री दास ने CD ratio में वृद्धि हेतु  सरकार द्वारा प्रायोजित योजनाओं तथा केसीसी इत्यादि पर विशेष कार्य योजना तैयार करने की बात कही तथा इन कार्य योजनाओं के क्रियान्वयन हेतु आगामी सभी बैठकों में विस्तृत परिचर्चा  की आवश्यकता बताई। बैठक में उपस्थित राज्य सरकार के शीर्ष अधिकारी श्री अजय कुमार सिंह, प्रधान सचिव, वित्त विभाग एवं श्री अबु बक्कर सिद्दिकी, सचिव, कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग, भारतीय रिजर्व बैंक के महाप्रबंधक श्री संजीव सिन्हा, नाबार्ड के मुख्य महाप्रबंधक डा. जी. के. नायर और बैंक आफ इंडिया के कार्यपालक निदेशक श्री स्वरूप दासगुप्ता ने भी अपने-अपने विचार सभा से साझा किये और राज्य में सक्रिय बैंकों के सार्थक सम्मिलित प्रयास की सराहना की।  श्री बिक्रम केशरी मिश्र महाप्रबंधक राष्ट्रीय बैंकिंग समूह ने जानकारी दी कि एसएलबीसी झारखंड को पीएफ़आरडीए द्वारा Award of Par Excellence” से सम्मानित किया गया है और एलडीएम पाकुड़ को पीएफआरडीए द्वारा संचालित APY CITIZEN CHOICE अभियान के तहत Award of Par Excellence” मिला है। साथ ही एसएलबीसी झारखंड ने मध्यम राज्यों की श्रेणी में पहला स्थान हासिल किया है तथा उन्होने सभी बैंकों से यह भी अपील किया कि जिन क्षेत्रों में आशातीत उपलब्धि अभी नहीं हुई है वहां सभी हितधारकों को अपने प्रयास में गति लाने की आवश्यकता है। अंत में सभा का समापन यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के महाप्रबंधक श्री बिनोद कुमार पटनायक के धन्यवाद ज्ञापन द्वारा किया गया।

गोदरेज सिक्योरिटी सोलयूशंस ने सेफ डिपॉजिट लॉकर्स के लिए आरबीआई के नए दिशा-निर्देशों के अनुसार गोदरेज इंटेली ऐक्सेस लॉन्च करने की घोषणा की

मुंबई, 26 नवंबर 2021 : गोदरेज ग्रुप की फ्लैगशिप कंपनी गोदरेज एंड बॉयस ने आज यह घोषणा की कि कंपनी के बिजनेस डिविजनों में से एक, गोदरेज सिक्योरिटी सोल्यूशंस ने नए युग का लॉकर सिस्टम, गोदरेज-इंटेली एक्सेस लॉन्च किया है। यह नए जमाने का लॉकर सिस्टम है, जो बैकिंग संस्थाओं को बदलने के लिए पूरी तरह तैयार है।

भारत के सबसे विश्वसनीय और प्रमुख सिक्योरिटी ब्रांड्स में से एक, गोदरेज सिक्योरिटी सोल्यूशंस ने बैंकों में उच्च तकनीक से लैस सेफ्टी लॉकर्स लॉन्च किए हैं। इन सेफ डिपाजिट लॉकर्स को अगस्त 2021 में जारी भारतीय रिजर्व बैंक के संशोधित दिशा-निर्देशों की पृष्ठभूमि में लॉन्च किया गया है।

संशोधित इंफ्रास्ट्रक्चर और सुरक्षा मानकों के अनुसार नए लॉन्च किए गए गोदरेज इंटेली-ऐक्सेस को सिस्टम की कमियों को दूर करने और इंटेंजिलेंट ऑटोमेशन से उपभोक्ताओं का अनुभव बढ़ाने के लिहाज से डिजाइन किया गया है। उच्च तकनीक से लैस सुरक्षित डिपॉजिट लॉकर मुहैया कराकर उपभोक्ताओं को लॉकर तक बिना चाभी की मदद से पहुंचने की सुविधा दी गई है। इससे मानवीय दखल पर निर्भरता कम से कम करके जालसाजी और धोखाधड़ी की आशंका खत्म कर दी गई है। इस प्रॉडक्ट के कुछ प्रमुख फीचर्स में अंगूठे के निशान से वेरिफिकेशन शामिल है, जो बायो-सिग्नेचर की पुष्टि करती है। इंटरएक्टिव नेटवर्क वास्तविक उपभोक्ताओं को प्रमाणित करती है। इससे उन्हें तत्काल बिना चाभी के अपने लॉकर्स तक पहुंच की सुविधा दी जाती है, जिससे लॉकर तक किसी को अनधिकृत ढंग से पहुंचने की इजाजत नही मिलती। स्मार्टकार्ड या बायोमीट्रिक से अनलॉकिंग काफी आसान हो जाती है।

गोदरज सिक्योरिटी सोल्यूशंस के मार्केटिंग और सेल्स विभाग के वाईस प्रेसिडेंट और ग्लोबल हेड, श्री पुष्कर गोखले ने कहा कि, आरबीआई के नए संशोधित दिशा-निर्देश से सुरक्षा का एक संपूर्ण इकोसिस्टम बनाने और भारत में बैंकिंग के भविष्य को बदलने के लिए पूरी तरह तैयार है। हमारा विश्वास है कि यह सभी हितधारकों की जीत की स्थिति को सुनिश्चित करने में प्रमुख भूमिका निभाएगा। गोदरज सिक्योरिटी सोल्यूशंस में हम सुरक्षा संबंधी समाधान प्रदान करने की दिशा में सबसे बड़े सप्लायर हैं। हम देश भर के सभी प्रतिष्ठित बैंकों में उपभोक्ताओं को सेफ डिपॉजिट लॉकर्स उपलब्ध कराते हैं। आरबीआई के संशोधित दिशा-निर्देशों के साथ गोदरेज सिक्युरिटी सोल्यूशंस में इंडस्ट्री में कंपनी के पास मजबूती से अपना स्थान बनाने और मार्केट में अपने शेयर बढ़ाने की असीम संभावनाएं हैं। हमें इस प्लेटफॉर्म पर हाई-फाई तकनीक से लैस स्मार्ट सेफ्टी लॉकर्स, गोदरेज इंटेली एक्सेस को लॉन्च करने की घोषणा से बहुत खुशी हो रही है। यह नए तरीके का बैंक लॉकर है, जों बैंकों में आपकी मूल्यवान संपत्ति की सुरक्षा को और पुख्ता बनाएगा।  साइबर क्रिमिनल्स को धोखाधड़ी के नए तरीके आजमाने से रोकने और बैंकों के कामकाज में लचीलापन आने के साथ गोदरेज सिक्युरिटी सोल्यूशंस 120 से ज्यादा सालों से लगातार बैंकों को नए-वित्तीय समाधान मुहैया करा रहा है। इस समय यह ब्रैंड देश मे बैंकिंग संस्थाओं को 100 से ज्यादा प्रॉडक्ट्स ऑफर कर रहा है, जिसमे सिक्योनेक्स और ऑटो वॉल्ट जैसे स्मार्ट सेफ्टी डिपॉजिट लॉकर शामिल है। इसे यूजर्स की जरूरतों और इच्छाओं को ध्यान में रखकर बिल्कुल नई प्रक्रिया से बनाया गया है। 

इस लॉन्चिंग का जश्न “सिक्योर स्पेसेज” के नाम से विख्यात सालाना कॉन्क्लेव में मनाया गया। इस वर्ष की थीम “फ्यूचर ऑफ बैंकिंग-बिल्डिंग अ सिक्य़ोर इकोसिस्टम” थी। 

इस अवसर पर बैंकिंग इंडस्ट्री के कई दिग्गज मौजूद थे, जिसमें स्टेट बैक ऑफ इंडिया के चीफ सिक्युरिटी ऑफिसर प्रवीण शिंदे, पजाब नेशनल बैंक के सीएसओ कर्नल तेजिंदर सिह शाही, बैंक ऑफ इंडिया के सीएसओ कर्नल अखिलेश, यूको बैंक के सीएसओ सुजीत मंडल तथा बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व सीएसओ कैप्टन राकेश पटनी शामिल थे। इन दिग्गजों ने रिजर्व बैंक की ओर से जारी नई गाइलाइंस पर विचार विमर्श किया, जिससे पूरी बैंकिंग इंडस्ट्री और बैंकों के उपभोक्ताओं पर काफी गहरा प्रभाव पड़ेगा।

चर्चा से अलग-अलग विचारों के साथ महत्वपूर्ण विविध जानकारी सामने आई

इस वर्चुअल पैनल में हुई चर्चा अलग-अलग पहलुओं पर आधारित थी, जिससे भारत में बैंकिंग का भविष्य पूरी तरह से बदल जाएगा। पैनल में इस बात पर चर्चा की गई कि इससे उपभोक्ताओं के लिए किस तरह ज्यादा सुरक्षित इको सिस्टम बनाया जा सकता है। बैंकिंग के सरल, समग्र और सुरक्षित अनुभव की तलाश कर रहे उपभोक्ताओं में यह ट्रेंड प्रमुख रूप से नजर आता है। पैनल डिस्कशन के माध्यम से इंडस्ट्री के अलग-अलग विशेषज्ञों ने इस विषय पर अपने विचार साझा किए कि किस तरह आज बैंकों को संचालन के लिए ज्यादा चुस्त-दुरुस्त प्रणाली अपनाने की जरूरत है। इसके साथ ही विशेषज्ञों ने यह भी बताया कि किस तरह उपभोक्ताओं की बढ़ती उम्मीदों और नियामक जरूरतों को पूरा करने के लिए बैंक अपने कामकाज में ज्यादा लचीलापन ला सकते हैं। (यह बदलाव के अधीन हैं।)

बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व सीएसओ और सेशन मॉडरेटर कप्ट पटनी ने कहा कि, जहां तक डिजिटल बैंकिंग के अनुभव की बात है, हम उपभोक्ताओं की उम्मीदों में बदलाव होते हुए देख रहे हैं। मौजूदा समय में डिजिटल टेक्नोलॉजी जिदगी के हर पहलू में प्रमुख भूमिका निभा रही है। बैंकों का उपभोक्ताओं को डिजिटाइज और हाई टेक सिक्योरिटी सोल्यूशंस प्रदान करना बहुत जरूरी हो गय़ा है। यह इंडस्ट्री के सभी दिग्गजों के लिए एक साथ आकर उपभोक्ताओं के लिए सुरक्षित इकोसिस्टम बनाने का बिल्कुल सही मौका और परफेक्ट टाइम है। हाल में कई गई विलय के नतीजे के तौर पर बैंकों के साथ उपभोक्ताओं की उम्मीदें भी काफी अलग-अलग हैं। यह ट्रेंड खासतौर से विलय किए गए बैंकों में साफ नजर आ रहा है। इन बैंकों के सप्लायर और ओईएम को इस पहलू को महसूस करना चाहिए और उपभोक्ताओं की उम्मीदों को पूरा करने के लिए आगे आना चाहिए।

गोदरेज सिक्युरिटी सोल्यूशंस का लक्ष्य डिजिटल टेक्नोलॉजी बेस्ड प्रॉडक्ट्स में 12-15 प्रतिशत निवेश करना बरकरार ऱखना है। कंपनी आवासीय, इंडस्ट्रियल और बिजनेस संस्थानों में संपूर्ण हाईटेक सिक्युरिटी सोल्यूशंस मुहैया कर देश में सुरक्षा संबंधी गैप को पाटने में प्रमुख भूमिका निभा रही है।

1990 से पहले के दशक के दरवाजों के लिए स्मार्ट लॉकर्स और मजबूती के समाधान उपलब्ध कराने और मौजूदा लॉकर्स के लिए रेट्रोफिटिंग सोल्यूशंसकी लॉन्चिंग से बैंक को अपने सुरक्षा के आधारभूत ढाँचे को अपग्रेड करने में मदद मिलेगी, जिससे वह रिजर्व बैंक की ओर से जारी दिशा-निर्देशों का उचित ढंग से पालन कर सकेंगे और भविष्य के लिए तैयार रह सकेंगे। 

प्रमुख स्कूल एडटेक कंपनी लीड वर्ष 2022 में 40000 टीचर्स के कौशल को बेहतर बनायेगी और हर टीचर के लिये 150 घंटे खाली समय निकालेगी

मुंबई, 26 नवंबर, 2021: देश में सर्वश्रेष्‍ठ श्रेणी की कम खर्चीली शिक्षा देने के लक्ष्‍य से भारत की अग्रणी स्‍कूल एडटेक कंपनी लीड ने एक नई पहल की घोषणा की है। इस पहल का लक्ष्य वर्ष 2022 में देश के 40,000 टीचर्स का कौशल उन्नयन (अपस्किल) करने और हर टीचर के लिये 150 टीचिंग आवर्स की बचत करेगा। यह घोषणा 19 नवंबर को 4,000 से ज्‍यादा स्‍कूलों के लिये वर्चुअल विधि से आयोजित लीड इनोवेशन कॉन्‍फरेन्‍स में की गई थी।

लीड ने लीड इनोवेशन कॉन्‍फरेन्‍स 2022 का आयोजन स्‍कूलों, स्‍टूडेंट्स और टीचर्स के लिये अग्रणी नवाचारों पर चर्चा के लिये किया था, जिनसे भारत में स्‍कूलिंग को नया आयाम मिलेगा। अपने नवाचारों के माध्‍यम से लीड कक्षा में स्‍टूडेंट की पढ़ाई को बेहतर करना, घर पर स्‍टूडेंट की पढ़ाई को बढ़ाना और टीचर्स को सुपर पावर देकर उनका जीवन बेहतर करना चाह रहा है। कॉन्‍फरेन्‍स में देशभर से लीड के पार्टनर स्‍कूल और टीचर्स मौजूद थे।

लीड अपनी लीड एकेडमी के माध्‍यम से अपने पार्टनर स्‍कूलों के टीचर्स की लगातार अपस्किलिंग कर रहा है और यह पहल स्‍कूल एडटेक में अपने प्रकार की पहली है। लीड टीचर एप से टीचर पढ़ाने की पद्धतियों, प्रक्रियाओं और व्‍यवहार कुशलताओं, जैसे  कि संवाद, कार्यनीति, अंतरव्‍यक्तिगत कुशलता और अनुकूलन होने की योग्‍यता पर 200 से ज्‍यादा घंटों की प्रशिक्षण और प्रमाणन सामग्री तक पहुँच सकते हैं।

इस प्रमुख स्‍कूल एडटेक कंपनी ने आईहोमवर्क के लॉन्‍च की घोषणा भी की है, जिससे टीचर्स का हर दिन एक घंटा बचेगा, यानि एक साल में हर टीचर के वे 150 घंटे बचेंगे, जिन्‍हें टीचर्स अब किसी ज्‍यादा उत्‍पादक काम के लिये इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

टीचर रोजाना होमवर्क की तैयारी और मूल्‍यांकन में बहुत समय खर्च करते हैं। आईहोमवर्क टीचर्स को होमवर्क के तैयार विकल्‍पों (एमसीक्‍यू, वीडियो, क्विज़, रिक्‍त स्‍थानों की पूर्ति, आदि) की विभिन्‍न किस्‍मों का ऐक्सेस देकर इसमें बदलाव करता है और ऐप पर केवल ए‍क क्लिक करने से रोजाना निर्देश भेजता है। इस नवाचार से उन्‍हें यह जानने में मदद मिलती है कि होमवर्क किसने पूरा किया है, किसने नहीं और इसके हिसाब से वे रिमाइंडर दे सकते हैं। इसमें वस्‍तुनिष्‍ठ प्रश्‍नों (ऑब्‍जेक्टिव क्‍वेश्‍चंस) और छोटे उत्‍तरों को सही करने की क्षमता भी है, क्‍योंकि यह लगभग हर प्रकार की हैण्‍डराइटिंग को पढ़ सकता है। दूसरे मामलों में, टीचर पढ़ने और ऐपप पर सही करने के लिये जूम-इन कर सकते हैं और स्‍टूडेंट्स को उनके प्रदर्शन के लिये पुरस्कृत कर सकते हैं। यह फीचर स्‍टूडेंट्स की पढ़ाई की कमियाँ भी बताता है और टास्क के आधार पर सुधार करने की योजना बताता है।

 लीड के को-फाउंडर और सीईओ, सुमीत मेहता ने कहा कि, “लीड में हम लगातार नवाचार कर रहे हैं, ताकि स्‍कूल एडटेक स्‍पेस के हर साझीदार को सशक्‍त कर सकें, जैसे कि कक्षा और घर में स्‍टूडेंट्स के लिये बेहतर पढ़ाई, टीचर्स के लिये प्रासंगिक कुशलताएं और संसाधन और स्‍कूलों के लिये अपनी भर्तियों के प्रभावी प्रबंधन हेतु जरूरी टूल्‍स।

टीचर्स के लिये वर्ष 2022 में हमारा लक्ष्‍य है उन्‍हें प्रासंगिक कुशलताओं से अपस्किल करना और हर टीचर के लिये 150 घंटे खाली समय निकालना, जिनका इस्‍तेमाल किसी ज्‍यादा उत्‍पादक और मायने रखने वाले काम के लिये किया जा सके। अपने आगामी नवाचारों से हमें उन्‍हें सुपर टीचर बनने के लिये सशक्‍त करने की उम्‍मीद है, जिससे स्‍टूडेंट्स को भी भविष्‍य का लीडर बनने में मदद‍ मिलेगी।”

 लीड के विषय में

लीड स्‍कूल एडटेक कैटेगरी में भारत की सर्वश्रेष्‍ठ कंपनी है और इसे लीडरशिप बुलेवार्ड प्रमोट करता है। लीड की शुरूआत वर्ष 2012 में सुमीत मेहता और स्मिता देवड़ा ने भारत में स्‍कूली शिक्षा का कायाकल्‍प करने के मिशन से की थी। यह कंपनी टेक्‍नोलॉजी, पाठ्यक्रम और अध्‍यापन को पढ़ाने और पढ़ने की एक एकीकृत प्रणाली में मिलाती है, जिससे देश के स्‍कूलों में स्‍टूडेंट्स की पढ़ाई के परिणाम बेहतर होते हैं और टीचर्स का परफॉर्मेंस भी। लीड आज 400 से ज्‍यादा शहरों के 2000 से ज्‍यादा स्‍कूलों को सेवा दे रहा है, 8 लाख से ज्‍यादा स्‍टूडेंट्स तक पहुँच चुका है और 10 हजार से ज्‍यादा टीचर्स को सशक्‍त कर रहा है। लीड का खोजपरक और अत्‍यंत प्रभावी ‘इंटीग्रेटेड लर्निंग सिस्‍टम’ उच्‍चतम गुणवत्‍ता की शिक्षा प्रदान कर हर बच्‍चे की समग्र वृद्धि और विकास को बढ़ावा देने में स्‍कूलों, टीचर्स और पेरेंट्स की भूमिका को उल्‍लेखनीय ढंग से मजबूती देता है।

भारतीय स्टेट बैंक का वक्तव्य

मुंबई, 26 नवंबर, 2021- भारतीय स्टेट बैंक के पास वर्तमान में 16 करोड़ से अधिक बेसिक सेविंग्स  बैंक डिपॉजिट (बीएसबीडी) खातों का एक व्यापक आधार है, जिसमें से वित्तीय समावेशन (एफआई) ग्राहकों की संख्या लगभग 14 करोड़ है। इन एफआई ग्राहकों को प्रतिदिन लगभग 30 लाख लेनदेन के साथ 70,193 बैंक मित्रों (सीएसपी) के बिजनेस कॉरेस्पोंडेंट (बीसी) चैनल नेटवर्क के माध्यम से सेवाएं प्रदान की जाती हैं। ये बैंक मित्र ग्राहकों को, विशेष रूप से कम समृद्ध लोगों को घर-घर/घर के पास सेवाएं प्रदान करते हैं।

बुनियादी बैंकिंग सेवाओं को उपलब्ध कराने के अलावा, बैंक मित्र सामाजिक सुरक्षा योजनाओं (एपीवाई/ पीएमजेजेबीवाई/ पीएमएसबीवाई) के तहत नामांकन जैसी सेवाएं भी प्रदान करते हैं। पिछले तीन वर्षों में बैंक मित्रों ने इन सामाजिक सुरक्षा योजनाओं में 4 करोड़ से अधिक ग्राहकों का नामांकन किया है। बैंक ने अपने ग्राहकों के लिए सभी डिजिटल लेनदेन को 01.01.2020 से निशुल्क कर दिया है। इसके अलावा, बैंक ने अपने सभी बचत बैंक खाताधारकों के लिए एसएमएस सेवाओं और न्यूनतम शेष राशि के रखरखाव पर शुल्क भी माफ कर दिया है।

22.11.2021 को प्रकाशित एक समाचार में आरोप लगाया गया था कि एसबीआई ने डिजिटल लेनदेन पर अप्रैल 2017 से दिसंबर 2019 के बीच ग्राहकों से वसूले गए शुल्क को वापस नहीं किया है। इस संबंध में हम निम्नानुसार कथन प्रस्तुत करते हैं-

बीसी चैनल एक आउटसोर्स मॉडल है जहां ग्राहकों को सभी सेवाएं बैंक मित्रों द्वारा असिस्टेड मोड में प्रदान की जाती हैं। ग्राहक इन सीएसपी आउटलेट्स पर आधार आधारित लेनदेन (एईपीएस), माइक्रो एटीएम पर कार्ड और पिन आधारित लेनदेन और फंड ट्रांसफर लेनदेन कर सकते हैं। बीसी/सीएसपी को मासिक नियत कमीशन के अलावा प्रति लेनदेन कमीशन का भुगतान किया जा रहा है। इसके अलावा, बैंक को एईपीएस के लिए इंटरचेंज शुल्क, माइक्रो एटीएम आधारित लेनदेन पर कार्ड $ पिन और एनपीसीआई को फंड ट्रांसफर लेनदेन का भुगतान करना आवश्यक है। ऐसे लेनदेन की औसत लागत 12.72 रुपए आती है, जिसे बैंक द्वारा वहन किया जाता है।

बैंक ने बीसी चैनल में बीएसबीडी खातों में पहली चार निकासी के बाद लागू शुल्क की शुरुआत 15.06.2016 से की थी। यह शुल्क भारतीय रिजर्व बैंक के दिशानिर्देशों के अनुरूप ग्राहकों को पूर्व सूचना के साथ लागू किया गया था। एक बीएसबीडी ग्राहक को आम तौर पर एक महीने में चार से अधिक निकासी करने की आवश्यकता नहीं होती, और फिर भी यदि आवश्यक हो तो बिना किसी लागत के शाखा से लेनदेन किया जा सकता है।

सीबीडीटी ने 30.08.2020 को बैंकों सलाह दी थी कि डिजिटल लेनदेन पर 01.01.2020 को या उसके बाद एकत्र किया गया शुल्क, यदि कोई हो, तो उसे वापस किया जाए। साथ ही, भविष्य में ऐसे लेनदेन पर शुल्क नहीं लगाने की सलाह भी दी गई। तदनुसार, बैंक ने 01.01.2020 से 14.09.2020 के दौरान ग्राहकों से वसूले गए 90.20 करोड़ रुपए के शुल्क को वापस कर दिया। बैंक बीसी चैनल में केवल चार मुफ्त नकद निकासी से अधिक शुल्क ले रहा है, जबकि डिजिटल चैनलों का उपयोग करने पर कोई शुल्क नहीं है। इसका उद्देश्य ‘कम नकदी’ वाली अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ते हुए डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देना है।

हम दोहराते हैं कि बीएसबीडी ग्राहक यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) और रुपे डेबिट कार्ड का उपयोग करने वाले लेनदेन सहित डिजिटल लेनदेन के लिए किसी भी शुल्क का भुगतान नहीं करते हैं।

 

 

 

आईआईएफएल सिक्योरिटीज ने निवेशकों और व्यापारियों को टैक्स प्लानिंग और फाइलिंग सेवाएं प्रदान करने के लिए क्विको के साथ साझेदारी की

मुंबई 26 नवंबर, 2021- भारत की सबसे बड़ी ब्रोकिंग और निवेश सलाहकार फर्मों में से एक आईआईएफएल सिक्योरिटीज लिमिटेड ने आज अहमदाबाद स्थित फिनटेक फर्म क्विको डॉट कॉम के साथ साझेदारी का एलान किया। कंपनी ने कहा कि निवेशकों और व्यापारियों के लिए परेशानी मुक्त कर योजना और फाइलिंग सेवाएं प्रदान करने के लिए यह साझेदारी की गई है।

इस साझेदारी के माध्यम से आईआईएफएल सिक्योरिटीज मिलेनियल्स और जेन जेड सहित सभी रिटेल  निवेशकों पर ध्यान केंद्रित करने के साथ-साथ कर योजना और फाइलिंग प्लेटफॉर्म की पेशकश करेगा। कंपनी का मानना है कि युवा निवेशक अधिक व्यावहारिक हैं, वे नवीन उत्पादों को पसंद करते हैं, वे आर्थिक रूप से स्वतंत्र हैं और फाइनेंस संबंधी निर्णय खुद अपने स्तर पर लेना चाहते हैं। इसी तरह अधिकांश अनुभवी निवेशकों के लिए टैक्स प्लानिंग एक महत्वपूर्ण विषय हो सकता है, शुरुआती लोगों की तो बात ही छोड़ दीजिए।

अब आईआईएफएल सिक्योरिटीज के प्लेटफॉर्म पर व्यापारी और निवेशक अपने कुल कर लाभ और हानि की कल्पना कर सकेंगे। साथ ही वे कर व्यवस्थाओं की तुलना कर सकेंगे, कर बचाने के अवसरों के बारे में जानकारी हासिल कर सकेंगे, अग्रिम कर की गणना और भुगतान कर सकेंगे, अपने आईटीआर को तुरंत ई-फाइल कर सकेंगे और इन सुविधाओं के अलावा भी बहुत कुछ कार्य आसानी से कर पाएंगे।

आईआईएफएल सिक्योरिटीज के चीफ डिजिटल ऑफिसर नंदकिशोर पुरोहित ने इस साझेदारी पर टिप्पणी करते हुए कहा, ‘‘टैक्स फाइलिंग सीजन के दौरान कई बार ग्राहकों की ओर से बहुत सारे प्रयास छूट जाते हैं, जैसे पूंजीगत लाभ, लाभ और हानि, खाता बही और अनुबंध जैसे विवरणों से युक्त कई रिपोर्टें हासिल नहीं हो पाती हैं। साथ ही उनकी कर देयता का पता लगाने के बारे में पूरे वर्ष के लिए जिस जानकारी की जरूरत होती है, वह भी छूट जाती है।

‘‘अब हमारे प्लेटफॉर्म के माध्यम से ग्राहक कुछ ही क्लिक में अपनी छोटी अवधि के साथ-साथ लंबी अवधि की कर देनदारियों की गणना कर सकते हैं, साथ ही वे अपना रिटर्न भी दाखिल कर सकते हैं और आगामी वर्ष के लिए कर योजना की तलाश भी कर सकते हैं। इस सुविधा के साथ ग्राहक अब अपनी रिटर्न ई-फाइलिंग करते समय कई रिपोर्टों का उपयोग करके कर देयता की गणना के बारे में सोचे बिना व्यापार या निवेश कर सकते हैं। उपयोगकर्ता विभिन्न अन्य खातों से भी रिपोर्ट प्राप्त कर सकते हैं।’’

क्विको के फाउंडर और सीईओ विश्वजीत सोनागरा ने कहा, ‘‘हम आईआईएफएल सिक्योरिटीज जैसी अग्रणी कंपनी के साथ साझेदारी करके खुश हैं और इसके साथ ही भारत में लोगों के लिए क्विको डॉट कॉम के अत्याधुनिक टैक्स प्लानिंग और फाइलिंग प्रोडक्ट्स तक पहुंच प्रदान करते हैं।’’

महिंद्रा लॉजिस्टिक्स ने कैटापल्ट के सैकंड एडिशन का किया एलान

मुंबई, 26 नवंबर, 2021- भारत के सबसे बड़े थर्ड-पार्टी लॉजिस्टिक्स (3पीएल) समाधान प्रदाताओं में से एक महिंद्रा लॉजिस्टिक्स लिमिटेड (एमएलएल) ने कैटापल्ट के दूसरे संस्करण की घोषणा की है। स्टार्ट-अप्स के लिए यह रोमांचक प्लेटफॉर्म 30 नवंबर तक प्रविष्टियां स्वीकार करेगा जबकि मूल्यांकन प्रक्रिया 1 दिसंबर से 30 दिसंबर तक चलेगी। प्रीमियर दिवस 30 अप्रैल, 2022 के लिए निर्धारित है।

कैटापल्ट का दूसरा संस्करण लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन और मोबिलिटी के क्षेत्र में टैक्नोलॉजी पर आधारित नवीन समाधानों की पहचान करने पर केंद्रित होगा। फोकस के तकनीकी क्षेत्रों में शामिल हैं- आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), मशीन लर्निंग (एमएल), ब्लॉकचैन, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी), रोबोटिक्स और ऑटोमेशन, वर्चुअल रियलिटी (वीआर) और ऑगमेंटेड रियलिटी (एआर), ड्रोन, बिग डेटा और एनालिटिक्स, कम लागत वाला हार्डवेयर/कनेक्टिविटी/जीपीएस आधारित समाधान और ई-मोबिलिटी समाधान।

महिंद्रा लॉजिस्टिक्स लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ श्री रामप्रवीन स्वामीनाथन ने कहा, ‘‘एमएलएल में हमारा उद्देश्य कारोबार संबंधी गतिविधियों में तेजी लाना और विभिन्न समुदायों को और मजबूत बनाना है, ताकि वे तेजी से आगे बढ़ सकें। इस सिलसिले में टैक्नोलॉजी एक महत्वपूर्ण आधार है जिसे हमने वर्षों से हासिल किया है। कैटापल्ट के माध्यम से, हम एक अनूठा प्लेटफॉर्म पेश कर रहे हैं जो लॉजिस्टिक्स स्टार्ट-अप समुदाय को उत्थान के लिए समर्थन देते हुए उन्हें सक्षम, तेज और सशक्त बनाता है। कैटापल्ट का उद्देश्य स्टार्ट-अप इकोसिस्टम के साथ भारतीय आपूर्ति श्रृंखला और गतिशीलता क्षेत्र को बदलना और भविष्य के लिए तैयार तकनीक-संचालित समाधानों का सह-निर्माण करना है।’’

कैटापल्ट के पहले संस्करण को सप्लाई चेन और मोबिलिटी इकोसिस्टम से 300 से अधिक स्टार्टअप की तरफ से जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली थी। एक मजबूत मूल्यांकन प्रक्रिया के बाद, 16 स्टार्ट-अप्स को कोहोर्ट के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया था। फिर कोहोर्ट के प्रतिभागियों ने बाजार के लिए तैयार समाधान विकसित करने के लिहाज से 3 महीने की अवधि के लिए कुछ वास्तविक मामलों के साथ महिंद्रा की कंपनियों के साथ सहयोग किया।

अधिक जानकारी और आवेदन करने के लिए कृपया विजिट करें-

www.mahindralogistics.com/catapult

एनटीपीसी ने उत्तराखण्ड में राहत एवं पुनर्निर्माण कार्यों के लिए रु 8 करोड़ का योगदान दिया

 

नई दिल्ली, 26 नवम्बर, 2021: भारत की सबसे बड़ी एकीकृत विद्युत कंपनी एनटीपीसी ने उत्तराखण्ड के आपदा प्रभावित क्षेत्रों में राहत, पुनर्वास और बहाली के कार्यों के लिए रु 8 करोड़ का आर्थिक सहयोग प्रदान किया है। 

रु 22.5 करोड़ की इस परियोजना की लागत का भारवहन सीएसआर पहल के तहत संयुक्त रूप से सार्वजनिक क्षेत्र के सात उपक्रमों द्वारा किया जाएगा। इस राशि का उपयोग सरकारी स्कूलों एवं स्वास्थ्य केन्द्रों में पुनर्निर्माण और पुनर्वास कार्यों के लिए किया जाएगा, जो इसी साल अक्टूबर में आई भारी बारिश में तबाह हो गए थे।

विद्युत क्षेत्र के सभी सीपीएसई की ओर से श्री आर.के. सिहं, माननीय केन्द्रीय मंत्री (विद्युत, नवीन एवं नवीकरणीय उर्जा) द्वारा श्री धान सिंह रावत, माननीय शिक्षा, स्वास्थ्य और आपदा प्रबन्धन के माननीय मंत्री, उत्तराखण्ड को रु 22.5 करोड़ का चैका सौंपा गया। इस अवसर श्री पुष्कर सिंह, धामी, उत्तराखण्ड के माननीय मुख्यमंत्री, श्री कृष्ण पाल, राज्य के लिए माननीय केन्द्रीय विद्युत मंत्री, श्री आलोक कुमार, सचिव-विद्युत, भारत सरकार भी मौजूद थे।

माननीय मंत्री जी ने उत्तराखण्ड राज्य में आपदा से प्रभावित इमारतों के पुनर्निर्माण में एनटीपीसी और सीपीएसई के प्रयासों के सराहना की।

श्री गुरदीप सिंह, सीएमडी, एनटीपीसी तथा एनटीपीसी के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी वर्चुअल रूप से समारोह में हिस्सा लिया।

एक ज़िम्मेदार कॉर्पोरेट होने के नाते एनटीपीसी सिर्फ भरोसेमंद एवं किफ़ायती विद्युत  की उपलब्धता को सुनिश्चित करती है बल्कि अपने सीएसआर प्रयासों के माध्यम से समाज कल्याण की दिशा में भी प्रतिबद्ध है। 

 

“वाविन-वेक्टस” की संयुक्तरूप से प्रथम चैनल पार्टनर मीट जश्न के साथ संपन्न हुई

जयपुर। बिल्डिंग और इंफ्रास्ट्रक्चर इंडस्ट्री के ग्लोबल लीडर वाविन ने वॉटर स्टोरेज टैंक्स और पाइपिंग सिस्टम के क्षेत्र में देश की बहुप्रतिष्ठ...