Monday, October 18, 2021

यूपीएल का ''उलाला'' ब्लैक एफिड मैनेजमेंट के लिए उम्मीद की नयी किरण

मुंबई, 18 अक्टूबर, 2021:यूपीएल लिमिटेड, जो टिकाऊ कृषि उत्‍पादों एवं समाधानों में दुनिया में अग्रणी है, के उत्‍पाद ''उलाला'' ने कपास जैसी फसलों में कीट प्रबंधन (जैसे कि एफिड्स) के मामले में बेहतरीन परिणाम प्रदर्शित किये हैं। किसानों को ''उलाला'' के उपयोग से कई गुना अधिक लाभ मिले हैं, जैसे कि लक्षित फसलों में अनुपचारित नियंत्रण के मुकाबले ''उलाला'' के दो राउंड उपयोग से विभिन्‍न फसलों में लगभग 10,000 - 34,000 रु. प्रति एकड़ की अतिरिक्‍त आमदनी।

"उलाला" हर साल कपास की खेती का एक आंतरिक हिस्सा है, क्योंकि कम मात्रा में इसके उपयोग, उत्कृष्ट नियंत्रण, अनुकूल लागत लाभ अनुपात और किसानों एवं पर्यावरण के लिए सुरक्षा प्रोफ़ाइल के कारण, "उलाला" चूसने वाले कीटों के लिए पसंदीदा समाधान बन गया है।

हाल के दिनों में, जीरा, सौंफ, और इसबगोल जैसी अन्य फसलों पर ब्लैक एफिड के उपचार पर प्रभावकारिता के स्तर की कुछ खोज ने शानदार परिणाम दिखाए हैं!

यूपीएल ने उलाला के लिए इन फसलों पर पंजीकरण के लिए आवेदन किया है, जो इसे देश भर के किसानों के लिए इस खोज के परिणाम ले जाने की अनुमति देगा। उचित प्रक्रिया के अनुसार पंजीकरण प्राप्त होने के बाद, यूपीएल का उद्देश्य "उलाला" का उपयोग करके ब्लैक एफिड प्रबंधन पर किसानों को शिक्षित करना और जीरा, सौंफ और इसबगोल जैसी फसलों पर इसके उपयोगके बारे में बताना है। ये फसलें भारतीय किसानों के लिए उच्च आय के अवसर खोलने और निर्यातकों और खाद्य श्रृंखला कंपनियों को अवशेष मुक्त फसल प्रदान करने की कुंजी रखती हैं। ऐसा करने के लिए यूपीएल हितधारकों के साथ मिलकर काम कर रहा है।

यूपीएल लिमिटेड के मार्केटिंग हेड - भारत क्षेत्र, श्री राहुल पांडेय ने इस बारे में बताया, ''उत्पाद की वृद्धि कंपनी की किसानों के साथ मिलकर काम करने, उनकी समस्याओं को सुनने और किफायती और प्रभावी समाधान के साथ वापस आने की अदम्य क्षमता से प्रेरित है। अपने आकार और प्रसार के बावजूद, यूपीएल ने किसान की नब्ज पर निरंतर स्पर्श करके "किसान पहले" के आदर्श वाक्य का पालन किया है।''

यूपीएल लिमिटेड के निदेशक - भारत क्षेत्र, श्री आशीष डोभाल ने बताया, ''हम, यूपीएल में, किसानों के कल्याण और समृद्धि के लिए समर्पित हैं, जो हमारे प्रमुख हितधारक हैं। नवोन्मेष के माध्यम से, हमारा लक्ष्य किसानों को स्थायी उत्पाद प्रदान करना है जो उनके जीवन को आर्थिक रूप से बेहतर बनाते हैं। उदाहरण के लिए, "उलाला" ने चूसने वाले कीटों को खत्म करके कपास किसानों को अतिरिक्त आय प्रदान की है। विभिन्न फसलों, विशेष रूप से ब्लैक एफिडो में कीट प्रबंधन में लागू होने पर उत्पाद गेम-चेंजर हो सकता है।'' 

No comments:

Post a Comment

सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में अंबुजा के स्कूलों ने किया शानदार प्रदर्शन

मुंबई, 19 अगस्त, 2022- सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में अंबुजा के संयंत्रों के आसपास स्थित पांच अंबुजा स्कूलों के 739 छात्रो...