Tuesday, October 5, 2021

राजस्थान में बढ़ रहे हैं स्टार्टअप्स




 जयपुर के स्टार्टअप को भारत सरकार ने दी 30 लाख रुपयों की ग्रांट 

- लॉकडाउन में आया था आइडिया, जयपुर के हिमिश अग्रवाल ने पोर्तो विजुअल नाम से शुरु किया है वर्चुअल प्लेटफॉर्म 
- जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी के इनक्यूबेशन सेल की मदद से तीन स्टार्टअप्स को मिली एक करोड़ रुपयों की ग्रांट 
- अनुभवी एडवाइजरी बोर्ड के मार्गदर्शन से 45 से अधिक स्टार्टअप्स को कर रहे हैं इनक्यूबेट, मिल चुकी है दो करोड़ रुपयों की ग्रांट 
जयपुर : जयपुर के रहने वाले 22 वर्षीय हिमिश अग्रवाल ने पोर्तो विजुअल नाम से वर्चुअल प्लेटफॉर्म बनाया। इसे स्टार्टअप के रूप में शुरु किया। अब उनके स्टार्टअप को भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक्स, सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय की ओर से 30 लाख रुपयों की ग्रांट मिली है। यह सब संभव हुआ है जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी के इनक्यूबेशन सेल (जेआईसी) की मदद से। जेआईसी की ओर से भेजे गए छह स्टार्टअप्स में से तीन को ग्रांट के लिए चुना गया। इन तीनों स्टार्टअप्स को एक करोड़ रुपयों की ग्रांट मिली है। 
जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी के इनक्यूबेशन सेल के सीईओ धीमंत अग्रवाल ने बताया कि 45 से अधिक स्टार्टअप्स को 2 करोड़ रुपयों की ग्रांट मिल चुकी है। अब आने वाला समय एकेडमिक इनक्यूबेटर का है। उन्होंने बताया कि भविष्य में हम इसे नई ऊंचाइयों तक ले जाएंगे ताकि आने वाली पीढ़ी को अपनी शिक्षा के दौरान ही रोजगार मिल सके और वह दूसरों के लिए भी अवसर तैयार कर सकें। 
वहीं जेईसीआरसी इनक्यूबेशन सेल की हेड कोमल जोशी ने बताया कि पूरे देश से 28 इनक्यूबेशन सेल ने 172 स्टार्टअप्स को ग्रांट के लिए भेजा था। इसमें जेआईसी की ओर से छह स्टार्टअप्स शामिल थे। 172 में से ग्रांट के लिए 44 स्टार्टअप्स को चुना गया। इन 44 स्टार्टअप्स में से जेआईसी की ओर से भेजे गए छह में से तीन को एक करोड़ रुपयों की ग्रांट मिली है। 
फाउंडर्स का किया सम्मान, आगे बढ़ने को किया प्रेरित 
स्टार्टअप के सम्मान समारोह में भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक्स, सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के स्टार्टअप हब के सीईओ जीत विजयवर्गीय बतौर मुख्यातिथि पहुंचे। उन्होंने स्टार्टअप्स के फाउंडर्स का मार्गदर्शन किया। वहीं, जेआईसी के एडवाइजरी बोर्ड के सदस्य और एसेंचर वेंचर्स एंड ओपन इन्नोवेशन के एमडी अवनीश सभरवाल, पीएचडी के इंडस्ट्री अफेयर्स कमेटी के चेयरमैन अनिल खेतान और अन्य अनुभवी सदस्यों ने फाउंडर्स को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। इस दौरान स्टार्टअप्स के फाउंडर्स ने अपने विचार साझा किए और उन्हें सम्मानित किया गया। 
पोर्तो विजुअल : आभासी मंच पर मिलेगा वास्तविक दुनिया का अनुभव 
जयपुर के 22 वर्षीय हिमिश अग्रवाल को लॉकडाउन के दौरान ये आइडिया आया कि ऐसा प्लेटफॉर्म तैयार किया जाए जिससे लोगों को उस जगह का वास्तविक अनुभव हो जहां पर वो काम करते हैं। इसके लिए उन्होंने कई शोध किए और फिर पोर्तो विजुअल नाम से वर्चुअल प्लेटफॉर्म तैयार किया। हिमिश ने बताया कि अब तक वह 300 से अधिक संस्थानों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं। अब उन्हें भारत सरकार की ओर से 30 लाख रुपयों की ग्रांट हासिल हुई है। 
कार्गो एक्सचेंज : ट्रांसपोर्टेशन एक्सचेंज प्लेटफॉर्म बनाकर हासिल की 30 लाख रुपयों की ग्रांट 
श्री हरि और दिलीप ने लोगों के ट्रांसपोर्टेशन से जुड़ी समस्या का अध्ययन किया। इसके बाद उन्होंने कार्गो एक्सचेंज के नाम से ट्रांसपोर्टेशन एक्सचेंज प्लेटफॉर्म बनाया। इस स्टार्टअप को जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी के इनक्यूबेशन सेल की ओर से भेजा गया। इसे भी 30 लाख रुपयों की ग्रांट हासिल हुई। 
एलॉय ई-सेल : एलोवेरा से तैयार की इको-फ्रेंडली बैटरी 
लखनऊ की रहने वाली निमिशा ने एलोवेरा से इको फ्रेंडली बैटरी तैयार की है। इसके लिए सरकार की ओर से उन्हें 40 लाख रुपयों की ग्रांट मिली है। उन्होंने बताया कि पहले 20 से अधिक हर्बल उत्पादों पर शोध किया। इसके बाद ही इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि इको फ्रेंडली बैटरी बनाने के लिए एलोवेरा ही सबसे उपयुक्त है। उन्होंने बताया कि इस बैटरी का उपयोग रेडियो, दीवाल घड़ी आदि में किया जा सकता है। 

No comments:

Post a Comment

उत्कर्ष : तिरंगा थीम पर आयोजित विशाल रक्तदान शिविर का उत्साहपूर्ण समापन

जोधपुर।  उत्कर्ष क्लासेस द्वारा शिक्षाविद एवं समाजसेवी तथा संस्था के संस्थापक व निदेशक डॉ. निर्मल गहलोत के 44वें जन्मदिवस के अवसर पर शनिवार,...