Sunday, October 3, 2021

महामारी के दौरान शूटिंग करना बड़ा मुश्किल है : शिवानी चक्रवर्ती


शिवानी चक्रवर्ती भारत के गांव प्रेमियों के पहले मनोरंजन चैनल आज़ाद के नए शो 'पवित्रा भरोसे का सफरमें रेखा ठाकुर के रोल में दर्शकों का दिल जीत रही हैं। वो ठाकुर परिवार की बड़ी बहू का रोल निभा रही हैं। वो बहुत ही सरल और सकारात्मक किरदार हैजो ठाकुर परिवार में ब्याही गई हैं। वो दहेज नहीं दे सकी थींइसलिए घर में उनकी कोई नहीं सुनता और उन्हें हमेशा चुप रहना पड़ता है। एक मां होते हुए भी वो अपने बेटे को प्यार नहीं दे सकतीं या अपना अधिकार नहीं जता सकतीं। उन्हें वो प्यार और सम्मान नहीं मिलताजो एक बड़ी बहू को मिलना चाहिए।

आपने किस बात से प्रेरित होकर आज़ाद का नया शो पवित्रा स्वीकार किया?

मैंने पवित्रा भरोसे का सफर इसलिए चुना क्योंकि मुझे इस शो का कॉन्सेप्ट वाकई पसंद आया। यह महिला सशक्तिकरण के बारे में एक बहुत ही प्रगतिशील और अच्छा विषय है। एक महिला होने के नाते मैं इसे आज के समय में बहुत अच्छा टॉपिक मानती हूं। दर्शकों तक इस संदेश को पहुंचाने के लिए पवित्रा को एक बहुत मजबूत किरदार के रूप में दिखाया गया है। पवित्रा में मेरा किरदार भी दमदार और सकारात्मक है। अगर हमारा शो और हमारे किरदार लोगों को प्रेरित कर सकें तो अच्छा होगा। आज भीकई घरों में लड़कियों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया जाता हैऔर समाज के लिए यह जरूरी है कि लोग अपनी मानसिकता बदलें और महिलाओं को शिक्षितआर्थिक रूप से स्वतंत्र और अपने एवं अपने परिवार की देखभाल करने में सक्षम बनाएं।

शो में अपने रोल के बारे में बताएं?

रेखा ठाकुर, ठाकुर परिवार की बड़ी बहू हैं। वो बहुत ही सरल और सकारात्मक किरदार है जो एक गरीब परिवार से हैं और ठाकुर परिवार में ब्याही गई हैं। वो दहेज नहीं दे सकी थींइसलिए घर में उनकी कोई नहीं सुनता और उन्हें हमेशा चुप रहना पड़ता है। यहां तक कि उन्हें खरी-खोटी सुनाई जाती है। एक मां होते हुए भी वो अपने बेटे को प्यार नहीं दे सकतीं या अपना अधिकार नहीं जता सकतीं। उन्हें वो प्यार और सम्मान नहीं मिलताजो एक बड़ी बहू को मिलना चाहिए।

आज़ाद गांव प्रेमी दर्शकों के लिए हैइस कहानी में ऐसा क्या हैजो बाकी शोज़ शो से अलग है?

इस शो और आज़ाद की खास बात यह है कि यह गांव प्रेमी दर्शकों से जुड़ेगा। यह शो हमारे समाज की हकीकत दर्शाता है और हमें बताता है कि क्या सही नहीं है और हम कैसे और ज्यादा प्रगतिशील हो सकते हैं। आज़ाद भारतीय मूल्यों और परंपराओं का प्रतीक है और ऐसी कहानियां दिखाता हैजो हमें जड़ से जोड़े रखते हुए भी प्रेरित और शिक्षित करती हैं। आज़ाद के शोज़ विशेष रूप से गांव प्रेमी दर्शकों के लिए बनाए गए हैं और बाकी चैनलों से बिलकुल अलग हैंजिनमें सिर्फ शहरी नजरिए से कहानियां दिखाई जाती हैं।

आपने शो के लिए कैसे तैयारी की?

अपने शो के लिए तैयारी करना हर एक्टर के लिए बहुत जरूरी होता है। जैसे ही मुझे अपनी भूमिका के बारे में पता चलामैं उत्साहित हो गई और इसे लेकर काम शुरू कर दियाक्योंकि यह पहली बार है जब मैंने इतना शांत और शालीन किरदार निभाया है। मैं हमेशा अपने निर्देशक के निर्देशों का पालन करने की कोशिश करती हूं और चूंकि मैं नीलू वाघेला जी जैसी बेहतरीन अदाकारा के साथ स्क्रीन शेयर कर रही हूं तो वे मुझे बेहतर काम करने में भी मदद करती है।

अपने अब तक किए गए काम के बारे में बताएं?

मैंने 2005 में मिस नाशिक का खिताब जीताबूगी वूगी में दो बार फाइनलिस्ट रही और मेरे कुछ बेहतरीन कामों में निमकी मुखियानिमकी विधायकशक्तिमिसेज़ कौशिक की पांच बहुएंजुगनी चली जालंधरऐसे करो ना विदातारक मेहता का उल्टा चश्मा और अजब गजब घर जमाई शामिल हैं। 

No comments:

Post a Comment

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वी 5 जी डिजिटल ट्विन पर दिल्ली मेट्रो टनल साईट के मजदूरों से की बातचीत; इस डिजिटल ट्विन को भारत में मजदूरों की सुरक्षा के लिए डिज़ाइन किया गया है

03   अक्टूबर ,2022:   भविष्य   की   ओर   कदम   बढ़ाते   हुए   वोडाफ़ोन   आइडिया   लिमिटेड   ने   आज   देश   की   राजधानी   में   इंडिया   मोबा...