Thursday, October 7, 2021

“में थॉं सूँ दूर कोनी“कहने वाले मुख्यमंत्री को पटाखा व्यापारियों का दर्द क्यों नहीं दिखाई दे रहा : अनीष कुमार नाडार

-अधिकारियों ने ग़लत तथ्य देकर पटाखों पर प्रतिबंध लगवाया जिसके चलते कांग्रेस सरकार को हो रहा नुक़सान


जयपुर। ट्रेड लाइसेंस प्रकरण के बाद दीपावली पर सभी प्रकार के पटाखों पर प्रतिबंध को सरकार के लिए घातक बताते हुए ऑल कोचिंग इंस्टिट्यूट महासंघ के अध्यक्ष अनीष कुमार नाडार ने कहा कि लगातार तीन वर्षों से पटाखा बिक्री नहीं होने के कारण पटाखा व्यापारियों में भारी निराशा व्याप्त है ,आश्चर्य इस बात का है कि मैं थॉं सूँ दूर कोनी जैसे नारे से हमेशा जनता के पास रहने का दावा करने वाले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को भी पटाखा व्यापारियों का यह दर्द महसूस नहीं हो रहा हैं . अनीष कुमार नाडार  ने इस संबंध में प्रशासनिक अधिकारियों पर मुख्यमंत्री को ग़लत तथ्य पेश कर सम्पूर्ण प्रतिबंध करवाने को पूर्ण तरीक़े से ग़लत तथा अमानवीय क़रार देते हुए कहा है कि सुप्रीम कोर्ट ने बोरियम साल्ट का पटाखों में उपयोग ख़तरनाक माना है वहीं छोटे पटाखों जिनको की ग्रीन क्रैकर्स कहा जाता है के उपयोग पर प्रतिबंध नहीं लगाया है ! लेकिन इस मामले में राजस्थान के कुछ प्रशासनिक अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को ग़लत  तथ्य पेश कर प्रदेश में पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध लगवा दिया है जिससे सरकार की साख को नुक़सान हो रहा हैं . अनीष कुमार ने इस संबंध में प्रदेश के सभी पटाखा व्यापारियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर संघर्ष करने का वादा करते हुए अन्य सामाजिक तथा व्यापारिक संगठनों से अपील की है कि प्रदेश के करोड़ों नागरिकों को पटाखा चलाने का सु अवसर प्रदान करने के लिए पटाखा व्यापारियों द्वारा इस संबंध में चलाए जा रहे आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभायें . ऑल कोचिंग इंस्टिट्यूट महासंघ के महासचिव अजय अग्रवाल तथा राजस्थान कोचिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष जितेंद्र गोरसी तथा अन्य पदाधिकारियों ने इस दिशा में शीघ्र ही राजस्थान के कोचिंग संस्थानों में पढ़ने वाले 30 लाख छात्रों तथा उनके अभिभावकों को पटाखा चलाने की अनुमति के लिए चलाए जा रहे आंदोलन में जोड़ने की रणनीति पर कार्य शुरू करने का भरोसा दिलाया है इन पदाधिकारीयों ने यह भी बताया है कि लगातार कोरोना प्रभाव के चलते राज्य के स्कूल कॉलेज  तथा कोचिंग संस्थानों में पढ़ने वाले छात्र डरे सहमे हैं मनोवैज्ञानिक रूप से उनके इस डर से उन्हें मुक्त करने के लिए जोर शोर से पटाखा युक्त दीपावली मनाना ज़रूरी है लेकिन सरकार के बुद्धिजीवियों को प्रदेश के निराशा में जी रहे करोड़ों नागरिकों को निराशामुक्त करने का यह शुभ अवसर दिखाई नहीं दे रहा हैं

No comments:

Post a Comment

जेईसीआरसी इनक्यूबेशन सेंटर ने किया वेंचर कैटेलिस्ट के साथ एमओयू साइन

स्टार्टअप कॉन्क्लेव इवेंट का हुआ आयोजन ,40+ स्टार्टअप ने लिया हिस्सा जयपुर। जेआईसी, जेईसीआरसी ने स्टार्टअपस और उभरते एंटरप्रेन्योरस के एक्सप...