Tuesday, September 7, 2021

एक्सिस बैंक ने ’कम एज यू आर’ की घोषणा की; एलजीबीटीक्यूआईए+ समुदाय के कर्मचारियों और ग्राहकों के लिए नीतियों और व्यवहारों का चार्टर

मुंबई, 07 सितंबर, 2021- एक्सिस बैंक ने अपने ’दिल से ओपन’ विचार के अनुरूप आज ‘कम एज यू आर’ की घोषणा की, जो एलजीबीटीक्यूआईए+ समुदाय के अपने कर्मचारियों और ग्राहकों के लिए नीतियों और प्रथाओं का एक चार्टर है। इस नर्इ्र पहल के साथ एक्सिस बैंक विविधता, समानता और समावेश को बढ़ावा देने और लागू करने के लिए इस तरह के कदम उठाने वाले भारत के पहले बैंकों में से एक बन गया है।

6 सितंबर 2018 को धारा 377 पर एक ऐतिहासिक फैसले में, भारत के माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने फैसला सुनाया था कि निजी तौर पर सहमति देने वाले वयस्कों के बीच सभी यौन संबंधों को अपराध से मुक्त कर दिया जाना चाहिए। माननीय न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा, जो 5 सदस्यीय खंडपीठ का एक हिस्सा थी ने कहा, ‘इस समुदाय के सदस्यों और उनके परिवारों को सदियों से जिस अपमान और बहिष्कार का सामना करना पड़ा है, उसके निवारण में देरी के लिए अतीत कसूरवार है। इस समुदाय के सदस्यों को प्रतिशोध और उत्पीड़न के भय से भरा जीवन जीने के लिए मजबूर किया गया था।’

सर्वोच्च न्यायालय की भावना और बैंक की व्यापक ईएसजी गठबंधन प्रतिबद्धताओं को ध्यान में रखते हुए बैंक ने ‘कम एज यू आर‘ - नीतियों और प्रथाओं का एक चार्टर शुरू किया है जो संगठन के भीतर और अपने ग्राहकों के लिए विविधता, समानता और समावेश को अपनाता है।

कर्मचारियों के लिए समावेशी पहल हैं--

.      कर्मचारी मेडिक्लेम लाभों के लिए अपने भागीदारों को सूचीबद्ध कर सकते हैं

सभी कर्मचारी लिंग, लिंग या वैवाहिक स्थिति पर ध्यान दिए बिना मेडिक्लेम लाभों के लिए अपने भागीदारों को सूचीबद्ध कर सकते हैं

.      कर्मचारी अपने जेंडर/सेक्स की अभिव्यक्ति के अनुसार कपड़े पहन सकते हैं

हम मानते हैं कि कर्मचारियों की जो जन्म के समय उनके लिंग से अलग उनकी लैंगिक अभिव्यक्ति हो सकती है। वे अपने जेंडर/सेक्स अभिव्यक्ति के अनुसार पोशाक का चुनाव कर सकते हैं

.      कर्मचारी अपनी पसंद के शौचालय का उपयोग कर सकते हैं

कर्मचारी अपनी लिंग अभिव्यक्ति/लिंग पहचान के अनुसार अपनी पसंद के शौचालय का उपयोग करना चुन सकते हैं। हमने अपने बड़े कार्यालयों में सभी जेंडर टॉयलेट शुरू कर दिए हैं

.      कर्मचारियों के पास एक निवारण प्रक्रिया होगी

एक्सिस बैंक की विविधता, समानता और समावेश नीति और एक मानवाधिकार नीति है जो इस समुदाय के कर्मचारियों के सामने आने वाली चुनौतियों का समाधान प्रदान करती है।

ग्राहकों के लिए, बैंक ने अपनी समावेशी बैंकिंग पेशकशों का विस्तार करने के लिए अपनी यात्रा शुरू की है, और चरणबद्ध तरीके से इस तरह की और पहल शुरू करेगा।

 

20 सितंबर 2021 से प्रभावी, ग्राहक हमारी शाखाओं में निम्नलिखित का विकल्प चुन सकेंगे-

.      अपने समान यौन साथी के साथ संयुक्त बचत बैंक खाता या सावधि जमा खोल सकते हैं

.      टाइटल के रूप में ’एमएक्स’ जोड़ सकते हैंः जो ग्राहक जेंडर नॉन बाइनरी, जेंडर फ्लूइड या ट्रांसजेंडर व्यक्ति हैं, उनके पास अपने बचत या सावधि जमा खाते में ’एमएक्स’ के विकल्प से अपना शीर्षक चुनने का विकल्प होगा।

.      एक्सिस बैंक में अपने सेविंग या टर्म डिपॉजिट अकाउंट में अपने सेम सेक्स पार्टनर को नॉमिनी बना सकते हैं

इस पहल पर टिप्पणी करते हुए एक्सिस बैंक के कार्यकारी निदेशक राजेश दहिया ने कहा, ‘एक्सिस बैंक में हमने विविधता, समानता और समावेश पर अपना ध्यान केंद्रित किया है जो जीवन का सम्मान लिंग के प्रतिमानों से परे रहते हुए करता हैं। हम हर किसी को समान सम्मान देना चाहते हैं। हमारा विश्वास है कि यह नवाचार की संस्कृति को बढ़ावा देगा और प्रतिभा को अपने अनुसार आगे बढ़ने का मौका मिलेगा।’

उन्होंने कहा, ‘हमारे बैंक की व्यापक ईएसजी गठबंधन प्रतिबद्धताएं, ’विविधता और समावेश’ एजेंडा एक रणनीतिक फोकस रहा है। इस दिशा में हमारा काम आंतरिक रूप से समान प्रक्रियाओं और नीतियों को बनाने पर केंद्रित है जो हमें सभी के अस्तित्व को पूरी पूर्णता में स्वीकार करता हो। हम इसमें शामिल होने के लिए आपका स्वागत करते हैं। यह परिवर्तन की यात्रा ’कम अस यू आर’ है, क्योंकि हम ’दिल से ओपन’ हैं।’

No comments:

Post a Comment

जेकेके में दर्शकों ने शास्त्रीय व लोक संगीत की फ्यूजन प्रस्तुति का आनंद उठाया

जयपुर।  जवाहर कला केंद्र (जेकेके) में शुक्रवार शाम को मध्यवर्ती में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त फ़्यूज़न ‘कहरवा’ की प्रस्तुति ने दर्शकों क...