Tuesday, September 7, 2021

अंबुजा सीमेंट ने अपनी कंक्रीट फ्यूचर्स लेबोरेटरी के माध्यम से अनुसंधान, विकास और नवाचार पर किया फोकस

मुंबई, 07 सितंबर, 2021- स्थापना के बाद से ही नवाचार और अनुसंधान एवं विकास अंबुजा सीमेंट की की एक खास पहचान रही है और कंपनी ग्राहकों को बेहतर सेवा देने के लिए नए उत्पादों और सेवाओं को विकसित करने के लिए इस विशेषज्ञता का लाभ उठाने के लिए हमेशा तत्पर रहती है। इसी दिशा में अपने प्रयासों को आगे बढ़ाते हुए अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड ने अपनी तरह की एक अनूठी पहल कंक्रीट फ्यूचर्स लेबोरेटरी (सीएफएल) शुरू की है, जो आर्किटेक्ट, इंजीनियर और निर्माण पेशेवरों (एईसी) समुदाय के लिए वन-स्टॉप सॉल्यूशन है। सीएफएल विशेषज्ञों और उभरते पेशेवरों को सीमेंट और कंक्रीट के विभिन्न पहलुओं का परीक्षण, सीखने और अनुभव करने में सक्षम बनाती है।

श्री नीरज अखौरी, सीईओ इंडिया होल्सिम और एमडी और सीईओ, अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड ने कहा, ‘‘अनुसंधान और विकास और इनोवेशन की दिशा में हमारी मजबूत साख ने हमें अपने ग्राहकों की जरूरतों के अनुरूप नए उत्पादों और सेवाओं को विकसित करने में मदद की है। हम लगातार अपने हितधारकों के लिए अत्याधुनिक समाधान विकसित करने की दिशा में काम करते हैं और कंक्रीट फ्यूचर्स प्रयोगशाला हमारे इन्हीं प्रयासों का एक नवीनतम परिणाम है। हमारा लक्ष्य एक ऐसी प्रणाली विकसित करना है जो एक बेहतर और टिकाऊ कल के निर्माण के लिए सहयोग और समावेशी विकास पर केंद्रित होकर काम करे।’’

सीएफएल में दो श्रेणियों के परीक्षण किया जाता है - निर्माण सामग्री की फिजिकल टेस्टिंग, जिसमें आईएस के मानकों के अनुसार सीमेंट और अन्य सामग्री का परीक्षण शामिल है और नॉन-डिस्ट्रक्टिव टेस्टिंग जो अल्ट्रासोनिक पल्स वेलोसिटी और रिबाउंड हैमर परीक्षण पर केंद्रित है। इसके अतिरिक्त, सीएफएल आर्किटेक्ट्स, इंजीनियरों और निर्माण पेशेवरों को कंक्रीट मिक्स डिजाइन सेवाएं भी प्रदान करती  है।

अनुसंधान एवं विकास और नवाचार पर अपना ध्यान केंद्रित करने के लिए, प्रयोगशालाएं ग्राहकों और एईसी समुदाय के लिए कस्टमाइज ठोस समाधान भी पेश करने का काम करती हैं। इनमें सेल्फ-कॉम्पैक्टिंग कंक्रीट, फाइबर रीइनफोर्स्ड कंक्रीट, लाइट वेट कंक्रीट और हैवी डेन्सिटी कंक्रीट, ड्राई-लीन कंक्रीट और पेवमेंट क्वालिटी कंक्रीट जैसी डिजाइन सेवाएं भी एईसी समुदाय के लिए उपलब्ध हैं। सीएफएल निर्माण उद्योग में नए उत्पादों/समाधानों को स्थायी रूप से विकसित करने में भी सक्षम बनाती है।

No comments:

Post a Comment

जेकेके में महाकाव्य महाभारत पर आधारित नाटक 'उरूभंगम' का हुआ मंचन

जयपुर।  जवाहर कला केंद्र (जेकेके) के  रंगायन  में पाक्षिक नाट्य योजना के तहत रंग साधना थिएटर ग्रुप, जयपुर द्वारा शनिवार शाम को नाटक 'उरू...