Friday, September 3, 2021

महिंद्रा फाइनेंस को मांग में जबरदस्त उछाल की उम्मीद, त्योहारी सीजन में कंपनी की ग्रोथ को मिलेगा बूस्ट

 

मुंबई, 03 सितंबर, 2021- महिंद्रा समूह का एक हिस्सा और ग्रामीण व अर्ध-शहरी क्षेत्र पर केंद्रित भारत की एक प्रमुख गैर-बैंकिंग वित्त कंपनी महिंद्रा फाइनेंस को उम्मीद है कि पिछले वर्षों की तुलना में इस वर्ष ऋण वितरण अधिक होगा। कंपनी को ऑटो ऋण, ट्रैक्टर, पूर्व स्वामित्व वाले वाहनों की मांग बढ़ने का अनुमान है। महिंद्रा फाइनेंस को उम्मीद है कि ऋण का वितरण अधिक होगा जबकि एनपीए (गैर-निष्पादित परिसंपत्तियां) में गिरावट आएगी।

महिंद्रा फाइनेंस के वाइस प्रेसिडेंट और मैनेजिंग डायरेक्टर रमेश अय्यर ने कहा- इस महामारी के दौरान भी, हमने बहुत अधिक कैंसिलेशन नहीं देखा, लेकिन डीलरशिप बंद थीं। जून में खुलने के साथ, हमने वॉल्यूम में तेजी देखी और यह जुलाई में भी जारी रहा। आम तौर पर जुलाई और अगस्त वाहन खरीदने के लिए अच्छे महीने नहीं होते हैं क्योंकि लोग त्योहारों के मौसम का इंतजार करते हैं। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही से दबी हुई मांग सामने आ सकती है। हमें उम्मीद है कि कोई गंभीर तीसरी लहर नहीं आई तो अच्छे मानसून के साथ सितंबर और अक्टूबर दोनों में अच्छी मांग हो सकती है। खासकर, बुनियादी ढांचे के काम में तेजी आने के कारण। ग्रामीणों के बीच में यह उत्साह की बड़ी वजह हो सकती है, जिसका हम विकास की नई कहानी लिख सकते हैं।

जुलाई 2021 के महीने के दौरान, महिंद्रा फाइनेंस ने सामान्य स्थिति लौटने के साथ मैक्रो सेंटीमेंट को सकारात्मक रूप से बदलते देखा। महीने के दौरान ऋण का संवितरण 2,400 करोड़ रुपए रहा जो जुलाई 2020 के एक छोटे आधार पर दोगुने से अधिक था। संग्रह दक्षता में और सुधार हुआ और यह 95 फीसदी रहा जो जून 2021 में 90 फीसदी था। कंपनी को उम्मीद है कि यह प्रवृत्ति बनी रहेगी, भावनाओं में काफी सकारात्मकता देखी गई है। अधिकांश क्षेत्रों में लोग सामान्य गतिविधियों में लौट आए हैं। एक नई उछाल साफ दिख रही है।

अय्यर ने आगे कहा, ‘हमारे दृष्टिकोण से आगे के विकास के लिए तीन क्षेत्रों पर कब्जा करना महत्वपूर्ण है। हमने एक बहुत ही मजबूत एसएमई (छोटे और मध्यम आकार के उद्यम) वर्टिकल बनाया है, जहां हम एक बड़े महिंद्रा इकोसिस्टम और अन्य ओईएम (ओरिजिनल इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरर) इकोसिस्टम के साथ काम कर रहे हैं, जहां हम आपूर्तिकर्ताओं को उनके कैपेक्स या कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं के लिए समर्थन देंगे। हमने काम करने के लिए तीन उद्योगों को चुना है - ऑटो, कृषि और इंजीनियरिंग - जहां तक हमें लगता है कि एसएमई कंपनियों के लिए यहां बहुत संभावनाएं हैं।

महिंद्रा फाइनेंस वाहन खंड में पूर्व स्वामित्व वाले वाहनों को एक अच्छा विकास खंड माना जाता है। जैसे-जैसे बुनियादी ढांचा खुलेगा, ट्रैक्टर की मात्रा बढ़ने की उम्मीद है। कारों में कई ओईएम अपने लॉन्च के साथ ग्रामीण बाजारों में भी पहुंच रहे हैं और यह कंपनी के लिए वॉल्यूम हासिल करने के लिए एक स्वाभाविक तालमेल बन सकता है। महिंद्रा फाइनेंस को उम्मीद है कि अगले तीन वर्षों में लीजिंग कारोबार एक प्रमुख खेल बन जाएगा। कंपनी ने स्मॉल-टिकट कंज्यूमर ड्यूरेबल और पर्सनल लोन के लिए एक डिजिटल फिनको की स्थापना की है। जबकि कंपनी ने कुछ ऋण किए हैं, आगे चलकर इस व्यवसाय में बहुत अधिक बढ़त देखने की उम्मीद की जा सकती है।

 

No comments:

Post a Comment

अजय पीरामल को ब्रिटेन की महारानी ने प्रदान किया मानद ब्रिटिश पुरस्कार

पीरामल ग्रुप के चेयरमैन अजय गोपीकिषन पीरामल को ब्रिटेन की महारानी ने मानद कमांडर ऑफ द ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एम्पायर (सीबीई) से सम्मानित किया है...