Saturday, September 25, 2021

थोलू पेंटिंग शैली की विशेषता इसका जुलोकु पैटर्न होता है


 

-- सेलिब्रेटिंग इंडिया एट 75 के तहत आयोजित
-- आर्टिस्ट कम्यूनिटी ‘द सर्किल‘ के लिये निःशुल्क आयोजित
-- दिल्ली की वरिष्ठ कलाकार सुजाता अरोडा ने किया वर्कशॉप का संचालन
-- थोलू बोम्मालाटा शैली में ऑनलाईन पेंटिंग वर्कशॉप का हुआ आयोजन

जयपुर. थोलू पेंटिंग शैली की विशेषता इसका जुलोकु पैटर्न होता है जो आन्ध्र प्रदेश की एक अन्य आर्ट फार्म कलमकारी में भी देखने को मिलता है। थोलू शैली में वॉटरप्रूफ इंक का उपयोग होता है जबकि कलमकारी में पोस्टर एवं ऐक्रेलिक कलर का उपयोग होता है। यह बात दिल्ली की वरिष्ठ कलाकार सुजाता अरोडा ने शनिवार को थोलू बोम्मालाटा शैली पर आयोजित ऑनलाईन पेंटिंग वर्कशॉप में कही। वर्कशॉप में सुजाता ने कार्यशाला में प्रतिभागियों को थोलू शैली में ‘ट्री ऑफ लाईफ‘ (जीवन वृक्ष) का स्केच बना कर इसमें रंग भरे। वर्कशॉप में उन्होंने बेहद आकर्षक फुल बनाये और इनकी पंखुड़ियों के चारों ओर पत्तियां बनाई। ये पत्तियां थोलू पेंटिंग की खास विशेषता होती है जो इसे कलमकारी से भिन्न बनाता है। वर्कशॉप के दौरान सुजाता ने थोलू शैली में गणेश, हनुमान जी, हाथी, पक्षी, जंगल, मछलियां की पेंटिंग एवं पेंटेंड लैम्प भी दिखाये। भारत और राजस्थान की आर्टिस्ट कम्यूनिटी ‘द सर्किल‘ के लिये आयोजित इस निःशुल्क ऑनलाईन सैशन में लगभग 20 प्रतिभागियों ने भाग लिया। वर्कशॉप का आयोजन आजादी का अमृत महोत्सव - सेलिब्रेटिंग इंडिया एट 75 के तहत राजस्थान स्टूडियो की सहायता से किया गया।
सुजाता ने आगे बताया कि ‘थोलू बोम्मालाटा‘ भारत में आंध्र प्रदेश राज्य की शैडो पपेट थिएटर परंपरा है। इसके कलाकार घुमंतु होते हैं। ये कलाकार शैडो पपेट के माध्यम से रामायण एवं महाभारत की गाथाओं का मंचन करते हैं। इसमें पपेट ट्रांसलुसेंट लेदर के बने होते हैं। थिएटर प्रस्तुति के दौरान तेज रोशनी का बल्ब जला कर इन पपेट की छाया पर्दे पर प्रोजेक्ट की जाती है। उन्होंने आगे कहा कि ‘थोलू बोम्मालाटा‘ के  कलाकार वर्ष भर यात्रा के दौरान विभिन्न गावों से गुजरते हैं। ये कलाकार अपनी कलाबाजियों से लोगों का मनोरंजन करते हैं, गाथागीत सुनाते हैं, उनके भाग्य बताते हैं, ताबीज, सांप एवं फिशनेट बेचते हैं, टैटू बनाते हैं और बर्तनों की मरम्मत करते हैं।
उल्लेखनीय है कि सुजाता ने 200 से अधिक कला कार्यशालाओं का संचालन किया है। इसके अतिरिक्त, उन्होंने दुनिया भर के विद्यार्थियों के साथ 150 से अधिक ऑफ़लाइन कार्यशालाएँ भी आयोजित की हैं।

No comments:

Post a Comment

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वी 5 जी डिजिटल ट्विन पर दिल्ली मेट्रो टनल साईट के मजदूरों से की बातचीत; इस डिजिटल ट्विन को भारत में मजदूरों की सुरक्षा के लिए डिज़ाइन किया गया है

03   अक्टूबर ,2022:   भविष्य   की   ओर   कदम   बढ़ाते   हुए   वोडाफ़ोन   आइडिया   लिमिटेड   ने   आज   देश   की   राजधानी   में   इंडिया   मोबा...