Thursday, September 9, 2021

माननीय रेल मंत्री ने एल एंड टी-निर्मित फुल स्पैन लॉन्चिंग इक्विपमेंट को झंडी दिखाकर रवाना किया

 

चेन्नई (कांचीपुरम), 09 सितंबर, 2021- माननीय केंद्रीय रेल, संचार और इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव ने आज चेन्नई से लगभग 50 किमी दूर कांचीपुरम में एल एंड टी की विनिर्माण सुविधाओं में एल एंड टी-निर्मित फुल स्पैन लॉन्चिंग इक्विपमेंट को हरी झंडी दिखाई। इस फुल स्पैन लॉन्चिंग इक्विपमेंट को मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल परियोजना के लिए विकसित किया गया है। वर्चुअल फ्लैग-ऑफ समारोह में श्री सतीश अग्निहोत्री, प्रबंध निदेशक, नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पाेरेशन लिमिटेड, श्री मियामोतो शिंगो, माननीय आर्थिक अनुभाग मंत्री, जापान दूतावास, नई दिल्ली, श्री एस एन सुब्रह्मण्यन, मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक, एलएंडटी और एलएंडटी प्रबंधन टीम के अन्य वरिष्ठ सदस्य भी शामिल हुए।

508 किलोमीटर लंबी, मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल कॉरिडोर परियोजना, जिसमें एलएंडटी की हिस्सेदारी 63 प्रतिशत है, के निर्माण में शामिल विशाल पैमाने के कंस्ट्रक्शन को ध्यान में रखते हुए, नवीन, अत्याधुनिक निर्माण तकनीकों को अपनाने की आवश्यकता है ताकि इसे जल्द से जल्द पूरा किया जा सके। डबल ट्रैक के लिए अपनी तरह के पहले स्ट्रैडल कैरियर्स और गर्डर ट्रांसपोर्टर्स से युक्त फुल स्पैन लॉन्च उपकरण सिंगल पीस के रूप में फुल स्पैन गर्डर्स को ट्रांसपोर्ट और इरेक्ट करेंगे। 975 मीट्रिक टन वजन वाले 40 मीटर लंबे गर्डर भारत के निर्माण उद्योग में प्रीकास्ट और खड़े होने वाले सबसे भारी पीएससी बॉक्स गर्डर होंगे।

श्री एस एन सुब्रह्मण्यन, मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक, एलएंडटी ने कहा, ‘‘यह इक्विपमेंट आत्मानिर्भर भारत के निर्माण की भावना के अनुरूप है। इन दोनोंउपकरणों को पूरी तरह से इन-हाउस डिजाइन और विकसित किया गया है और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इन्हें हाई स्पीड रेल परियोजना के लिहाज से अनुकूलित किया गया है। हाई स्पीड रेल परियोजना भारत में अब तक की सबसे बड़ी ईपीसी परियोजना है। इतनी गति और पैमाने पर निर्माण करने के लिए कई चुनौतियां हैं, लेकिन हम भारत की पहली हाई स्पीड रेल परियोजना को समय पर और गुणवत्ता के साथ पूरा करने के लिए इस विशाल चुनौती सामना करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’

एलएंडटी के पूर्णकालिक निदेशक और वरिष्ठ कार्यकारी उपाध्यक्ष (सिविल इंफ्रास्ट्रक्चर) श्री एस वी देसाई ने कहा, ‘‘हालांकि इस तरह के उपकरण कई वैश्विक बाजारों में आसानी से उपलब्ध हैं, लेकिन हमने महसूस किया कि एमएसएमई (सूक्ष्म लघु मध्यम उद्यम) के साथ साझेदारी में इसे स्वदेशी रूप से बनाना हमारे लिए रणनीतिक रूप से अधिक फायदेमंद होगा, और भारत को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में भी यह एक महत्वपूर्ण कदम होगा। हमारी विनिर्माण सुविधाओं को ऐसे महत्वपूर्ण उपकरण देने के लिए पर्याप्त रूप से तैयार किया गया है जो डिलीवरी के लिए महत्वपूर्ण हैं, और इस प्रतिष्ठित परियोजना को समय पर पूरा करने में हमारी सहायता करने के लिए इस तरह के और भी नवाचार हैं।’’

फुल स्पैन लॉन्चिंग उपकरण के बारे में कुछ तकनीकी बिंदु-

ऽ इस उपकरण को विश्व स्तर के डिजाइन मानक को बनाए रखते हुए और कड़े अंतरराष्ट्रीय कोड का पालन करते हुए इन-हाउस फुल स्केल मॉडल विकसित करके अत्याधुनिक फाइनाइट एलीमेंट एनालिसिस सॉफ्टवेयर का उपयोग करके डिजाइन किया गया है।

ऽ विभिन्न महत्वपूर्ण लोडिंग मामलों के लिए मशीनों की जाँच की जाती है और न्यूनतम परिचालन लागत पर, लंबे और कुशल संचालन को सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न सामग्री ग्रेड के संयोजन का उपयोग करके अनुकूलित किया जाता है।

ऽ लॉन्चिंग गर्डर मशीनें कर्व ट्रैक्स और विभिन्न ग्रेडिएंट्स के लिए उपयुक्त हैं।

ऽ मशीनें अत्यधिक मशीनीकृत और प्रमाणित विश्व स्तरीय और सबसे विश्वसनीय घटकों से लैस हैं और इन-बिल्ट प्रोग्राम लॉजिक का उपयोग करके स्वचालित मोड में काम कर सकती हैं।

ऽ आईओटी के माध्यम से रिमोट मॉनिटरिंग का प्रावधान है।

No comments:

Post a Comment

जेकेके में महाकाव्य महाभारत पर आधारित नाटक 'उरूभंगम' का हुआ मंचन

जयपुर।  जवाहर कला केंद्र (जेकेके) के  रंगायन  में पाक्षिक नाट्य योजना के तहत रंग साधना थिएटर ग्रुप, जयपुर द्वारा शनिवार शाम को नाटक 'उरू...