Thursday, September 16, 2021

apna ने टाइगर ग्लोबल के नेतृत्व में INR 8000 करोड़ के मूल्यांकन पर INR 734 करोड़ सीरीज-सी फंडिंग हासिल की; दुनिया के बढ़ते कार्यबल को मजबूत बनाने का लिया संकल्प

 

अमेरिका | भारत, 16 सितंबर, 2021: भारत के तेजी से बढ़ते वर्कफोर्स को समर्पित सबसे बड़े प्रोफेशनल नेटवर्किंग और जॉब्स प्लेटफॉर्म, apna ने टाइगर ग्लोबल के नेतृत् में सीरीज सी फंडिंग में लगभग INR 734 करोड़ प्राप्त किये हैं। इस राउंड में OWL वेंचर्स, इनसाइट पार्टनर्स, सिकोइया कैपिटल इंडिया, मैवरिक वेंचर्स और GSV वेंचर्स ने भी हिस्सा लिया। इस राउंड के साथ, apna ने कुल INR 8000 करोड़ का मूल्यांकन हासिल कर लिया है। 'मेड इन इंडिया, फॉर द वर्ल्' के साथ, apna का उद्देश्य बेरोजगारी, गरीबी और अपस्किलिंग की गंभीर चुनौती को स्थायी रूप से हल करना है।

apna, ने पिछले 15 महीनों में 125 गुना बढ़ोतरी करी है और वर्तमान में, यह हर महीने में 1.8 करोड़  इंटरव्यूज कराने  में मदद कर रही है। भविष्य में कंपनी की योजना यह है कि, प्राप्त होने वाली आय के उपयोग  से वर्ष 2021 के अंत तक पूरे भारत में अपना विस्तार करेगी, ताकि भारत की अर्थव्यवस्था की गति बढ़ाने में प्रमुख हिस्सेदार बन सके। टीम की योजना है कि यह स्किलिंग के लिए अपने लर्निंग प्लेटफॉर्म को और अधिक मजबूत बनायेगी एवं हुनरमंद प्रतिभाओं को हायर करने व विश्वस्तरीय इंजीनियरिंग और प्रोडक्ट क्षमताओं के निर्माण में निवेश करेगी। apna ने वर्ष 2022 के शुरू से अमेरिका, दक्षिण पूर्व एशिया, और मध्य पूर्व एवं अफ्रीका जैसे नये बाजारों में कदम रखकर एक वैश्विक एंटरप्राइस स्थापित करने की योजना बनायी है।

apna के फाउंडर एवं सीईओ (CEO), निर्मित पारिख ने अपनी राय जाहिर करते हुए कहा, ''apna का एक गहरा सामाजिक उद्देश् है - निरंतर रोजगार के अवसर प्रदान करना जिससे हम विभिन् क्षेत्रों के एक अरब लोगों के लिए आजीविका प्रदान कर सके। हमारे पार्टनर्स से मिल रहे निरंतर सहयोग के साथ, हमारा लक्ष् दुनिया की समस्याओं के हल की दिशा में हमारी गति को तेज करते रहना है।''   

apna का जॉब प्लेटफॉर्म ऐसे उन्नत गणितीय विधि को उपयोग में लाता है जो युज़र्स के कौशल, अनुभव एवं रूचियों का मेल सीधे एम्प्लॉयर्स से कराता है। ऐप् में कार्पेंटर्स, पेंटर्स, टेलीकॉलर्स, फिल् सेल् एजेंट्स, डिलिवरी पर्सनल अन् कुशल पेशेवरों की 70 से अधिक कम्यूनिटीज शामिल है। apna की  कम्यूनिटीज ने युज़र्स को उनके प्रोफेशनल नेटवर्क को बढ़ाने, पीयर लर्निंग के जरिए अपस्किलिंग करने और गिग अवसरों को तलाशने में सक्षम बनाया है। apna के कम्यूनिटीज के जरिए पिछले महीने 1.7 करोड़  पीयर टू पीयर प्रोफेशनल संवाद हुए।

बहुत कम समय में ही, apna सही प्रतिभा को काम पर रखने के लिए एम्प्लॉयर्स  का पसंदीदा विकल्प बन गया है। भारत की कई प्रमुख कंपनियां, जैसे Zomato, Bharti AXA, Urban Company, BYJU’S, PhonePe, Burger King, Delhivery, Teamlease and G4S Global अपनी सबसे जरूरी और महत्वपूर्ण हायरिंग जरूरतों को पूरा करने के लिए apna पर भरोसा करती हैं। इसने दो साल से भी कम समय में ऐप के माध्यम से लगभग 10 करोड़ इंटरव्यूज की सुविधा प्रदान की है।

टाइगर ग्लोबल के पार्टनर, ग्रिफिन श्रोएडर ने कहा, ''apna को इसलिए तेजी से अपनाया जा रहा है क्योंकि यह सरल, सामाजिक एवं संवादात्मक एप्रोच के जरिए रोजगार तलाशने वालों और रोजगार प्रदान करने वालों को जोड़ती है। हम उम्मीद करते हैं कि सार्थक संपर्क एवं अवसरों की तलाश करने वाले  युज़र्स, भारत और दुनिया भर में apna को बेहद आगे बढ़ायेंगे।''

दुनिया के सबसे बड़े एजुकेशन टेक्नोलॉजी निवेशकर्ता, OWL वेंचर्स के साथ साझेदारी से स्किलिंग जगत में apna को अपनी वैश्विक महत्वाकांक्षाएं मजबूत करने में मदद मिलेगी। OWL वेंचर्स के मैनेजिंग डाइरेक्टर, अमित पटेल ने कहा, ''हमारा मानना है कि apna में एक मौलिक रूप से बदलाव  लाने की क्षमता रखता है - की कैसे कंपनियां कुशल प्रोफेशनल्स को हायर करने के लिए संपर्क करती हैं और यह कैंडिडेट्स कैसे अपनी नेटवर्किंग और अपस्किलिंग करते हैं। apna टीम एक इनोवेटिव टेक्नोलॉजी पर आधारित समाधान तैयार कर रही है जिसने लगभग दो वर्षों में करीब 10 करोड़  इंटरव्यूज की सुविधा अपनायी जा चुकी है और यह तो सिर्फ शुरुआत है। अपने युज़र्स को अपस्किलिंग द्वारा दमदार परिणाम देते हुए, apna एक पूर्णत: सम्पन्न समाधान तैयार कर रहा है .'' 

इस पूरे महामारी काल के दौरान, apna ने एम्प्लॉयर्स  को उनके निकटतम रहने वाले कैंडिडेट्स से जोड़ कर व्यावसायिक निरंतरता प्रदान करने में मदद की है। भारत को वापस पटरी पर लाने हेतु ठोस कदम उठाने के साथ साथ, कंपनी अब दुनिया भर में रोजगार एवं कौशल संबंधी समस्याओं को हल करने के प्रति संकल्पित है। apna ने नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन (NSDC), यूनिसेफ युवाह (UNICEF Yuwaah), ट्रूकॉलर, एक्जोनोबेल जैसे संगठनों और भारतीय अल्पसंख्यक मामला मंत्रालय के साथ साझेदारी की है ताकि उसके युज़र्स के लिए बेहतर कौशल एवं रोजगार अवसर उपलब्ध कराये जा सकें।

No comments:

Post a Comment

बीते कल में आज की परछाई

बीते हुए कल में आज भी झांक कर देखता हूं तो बाबूजी की स्मृतियां और उनके साथ बीते अनेकों और अनगिनत पल आज भी मुझे अपने आस-पास घिरे जीवन से लड़ने...